WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions and रचना संवाद-लेखन to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

एक व्यक्ति का दूसरे से बातचीत करना ‘संवाद’ कहलाता है। एक आदर्श संवाद में निम्नलिखित विशेषताएँ होनी चाहिए –

  • संवाद में किसी प्रकार का छिपाव नहीं होना चाहिए।
  • संवाद में मस्तिष्क के स्थान पर दिल का प्रयोग होना चाहिए।
  • संवाद में रिश्तों की पहचान बनी रहनी चाहिए।
  • संवाद अवसर तथा विषय के अनुसार ही होना चाहिए।
  • एक कुशल संवाद के द्वारा पराए अपने बनाए जा सकते हैं।
  • सही संवाद से दोनों पक्षों के विचार की सही जानकारी मिल जाती है।
  • संवाद सष्ट होने के साथ-साथ छोटे हों।
  • संवाद को रोचक बनाने के लिए अनेक शब्दों के बदले एक शब्द, मुहावरे या लोकोक्ति का प्रयोग किया जा सकता है।
  • संवाद वक्ता की योग्यता, मनःस्थिति तथा स्तर के अनुरूप हो।
  • संवाद किसी निष्कर्ष पर समाप्त होने चाहिए।

प्रश्न 1.
देश में चल रही महामारी पर दो मित्रो के बीच संवाद लिखें।
उत्तर :
राहुल : मित्र, ये कोरोना वायरस तो बहुत ज्यादा फैल रहा है, मुझे तो बड़ा डर लग रहा है ।
रोहित : डरने की तो बात है ही । आखिर कब तक हम यूँ घर में दुबक कर बैठे रहेंगे।
राहुल : पता नहीं अब क्या होगा आगे ?
रोहित : राहुल, भले ही अब तक इसका कोई पक्का ईलाज नहीं है और सब तक वैक्सीन पहुँचने में समय लगेगा। परंतु इसके संक्रमण से तो बचा ही जा सकता है।
राहुल : सही कह रहे हो, जब तक दवाई नहीं है तब तक मास्क, सेनेटाइजर एवं सामाजिक दुरी जरूरी है।
रोहित : दोस्त जब तक वैक्सीन सब तक नहीं पहुंचती है, तब तक मास्क ही वैक्सीन है।
राहुल : अब तो बस यही कामना है कि जल्दी ये महामारी पूरे विश्व से समाप्त हो जाए और हम फिर से अपनी पहले वाली जिंदगी जी सकें।
रोहित : हाँ, मैं भी स्कूल और दोस्तों को बहुत मिस कर रहा हूँ। बस जल्दी से स्कूल में सब सामान्य हो जाए। मुझे बहुत पढ़ाई और मस्ती करनी है ।
राहुल : रोहित तु बस अपने एग्जाम पर ध्यान दे। देखना नए सेशन से हम स्कूल में होंगे और कोरोना गायब हो जाएगा।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 2.
‘मातृभाषा शिक्षा का माध्यम हो या न हो’ प्रस्तुत विषय को दृष्टि में रखते हुए दो मित्रों के मध्य वार्तालाप लिखिए।
उत्तर :
दिवाकर : कहो मोहित, कैसे हो ?
मोहित : मजे में हूँ। मैं तुमसे मिलना ही चाह रहा था। चलो आज मुलाकात हो गई।
दिवाकर : क्या बात है ?
मोहित : दरअसल मैं तुमसे यह जानना चाहता था कि मातृभाषा शिक्षा का माध्यम हो या न हो ?
दिवाकर : बहुत अच्छा सवाल है। दरअसल हमारी शिक्षा का माध्यम तो मातृभाषा ही होनी चाहिए-ऐसा मेरा मानना है।
मोहित : क्यों ?
दिवाकर : आज बच्चे अपनी मातृभाषा में गिनती करना तक भूल चुके हैं। उन्हें चाहिए कि वे मातृभाषा को धरोहर की तरह संभाल कर रखें।
मोहित : तुम ठीक कहते हो। पूरी दुनिया को ‘ट्विंकल द्विंकल लिटिल स्टार’ या ‘बा-बा ब्लैक शीप’ गुनगुनाने की बिल्कुल ही जरूरत नहीं है।
दिवाकर : सही बात है। अपनी मातृभाषा में ही कितने ही लोकगीत, बाल कविताएँ, दोहे, छंद तथा चौपाइयाँ हैं जिन्हें हम प्राय: भूलते जा रहे हैं।
मोहित : हाँ, हमारी मातृभाषा अपने-आप में काफी समृद्ध है।
दिवाकर : एक जर्मन बच्चा अपनी मातृभाषा जर्मन में ही गणित सीखता है न कि अंग्रेजी में। इसी प्रकार इटली में रहने वाला बच्चा भी गिनती इटालियन में तथा सेन का बच्चा स्पेनिश भाषा में सीखता है जबकि हम भारतीयों के साथ ऐसा नहीं है।
मोहित : अब मेरी समझ में आ गया कि वास्तव में हमारी शिक्षा का माध्यम मातृभाषा में ही होना चाहिए।

प्रश्न 3.
आतंकवाद पर दो मित्रों के बीच संवाद लिखें।
उत्तर :
राहुल : कल जम्मू स्टेशन पर जो आंतकवादी हमला हुआ, उसे सुनकर तुम्हें कैसा लगा?
मनुज : यह समाचार तो दिल दहलाने वाला है। मासूम एवं निर्दोष लोगों पर गोलियाँ चलाकर आंतकवादियों ने चालीस आदमियों को मौत के घाट उतार दिया।
राहुल : आतंक फैलानेवालों को बच्चों, विधवाओं तथा महिलाओं पर भी तरस नहीं आता है।
मनुज : इन्हें किसी से कोई मतलब नहीं। इनका एक ही उद्देश्य है कि दहशत फैलाई जाए।
राहुल : इन हमलों के पीछे आई. एस. आई. का हाथ है। इन आतंकवादियों को पाकिस्तान में ट्रेनिंग दी जाती है। इन हमलावारों का न कोई धर्म होता है, न कोई मज़हब।
मनुज : मैं तो कहता हूँ ऐसे जो भी आंतकवादी पकड़े जायं उन्हें फाँसी दे देनी चाहिए।
राहुल : पाकिस्तान इन आतंकी कार्यवाही को भी जेहाद का नाम देता है।
मनुज : मैं तो कहता हूँ कि पाकिस्तान पर हमला करके इस समस्या को हमेशा के लिए मिटा देना चाहिए।
राहुल : ठीक कहते हो। अब फैसले का सही समय आ गया है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 4.
बढ़ती महँगाई के बारे में दो मित्रों के बीच संवाद लिखें।
उत्तर :
रहीम : सुरेश, तुम चिंतित क्यों लगते हो? तुम्हें क्या हो गया है?
सुरेश : क्या तुम नहीं देखते कि कीमतें किस तरह बढ़ रही है?
रहीम : हाँ, तुम ठीक कहते हो। जीवन-यापन का खर्च नए शिखर पर पहुँच चुका है।
सुरेश : और कहना कठिन है कि क्या होगा ? कुछ चुने हुए लोग चाँदी काट रहे हैं और हम गरीबी तथा मूल्यवृद्धि के कारण पिसे जा रहे हैं।
रहीम : सचमुच यह नेताओं तथा व्यापारियों का युग है।
सुरेश : और अफसरों का भी। वे अपना ही सुख-साधन देख रहे हैं।
रहीम : हाँ, भ्रष्टाचार का बाजार गर्म है और ईमानदारी की कोई पूछ नहीं।
सुरेश : हम किधर जा रहे हैं? क्या हमारा देश एक भयंकर संकट की ओर सरपट नहीं दौड़ रहा हैं?
रहीम : तुम ठीक कहते हो। यही तो दु:ख की बात है अपार धन के देश में निर्धनता है।

प्रश्न 5.
मोबाईल फोन की अच्छाई और बुराई विषय पर दो मित्रों के वार्तालाप लिखिए।
उत्तर :
दीपक : कहो आकाश कैसे हो ?
आकाश : अच्छा हूँ । मैं एक मोबाईल फोन खरीदने जा रहा हूँ । अगर तुम्हारे पास समय हो तो मेरे साथ चलो।
दीपक : हाँ-हाँ, क्यों नहीं ?
आकाश : अभी तक मैं मोबाईल को समय और पैसे की बर्बादी समझता था लेकिन वास्तव में यह बहुत उपयोगी है ।
दीपक : हाँ सही कह रहे हो । अगर पास में मोबाईल फोन हो तो समझो सारे विश्वकोष तुम्हारे पास हैं । पाठ्यक्रम से जुड़ी इतनी चीजें इसमें मिल जाती है कि उतना तो पुस्तकालयों में भी प्राप्त नहीं हो सकता और वे भी घर बैठे, जब चाहो।
आकाश : इन्हीं कारणों से तो मैं भी अब पढ़ाई में सहायता के लिए मोबाईल फोन खरीदना चाह रहा हूँ।
दीपक : लेकिन एक बात और भी ध्यान में रखने को है – हर चीज के दो पहलू होते हैं अगर हम मोबाइल फोन का सही इस्तेमाल करें तो यह हमारे भविष्य को स्वर्णिम बना सकता है और गलत इस्तेमाल करें तो भविष्य अधंकारमय भी हो सकता है ।
आकाश : हाँ, तुमने बिल्कुल सही कहा । सर कार को भी चाहिए कि इण्टरनेटे पर गलत और अश्लील चीजों के प्रसार पर रोक लगाए तथा इण्टरनेट पर ऐसी चीजों को डालनेवाले के लिए सजा देने का प्रावधान भी करे ।
दीपक : अगर ऐसा हुआ तो मोबाईल का शिक्षा के ही नहीं, जीवन के अन्य क्षेतों में भी काफी बड़ा योगदान होगा। आकाश : सच कहें तो मोबाईल वैश्वीकरण में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। मुझे तो ऐसा लगता है कि आनेवाले दिनों में हमें पुस्तकों का बोझ लेकर नहीं चलना होगा – एक मोबाईल फोन ही काफी होगा।
दीपक : अरे, बात-बात में पता ही न चला कि हमलोग कब दुकान पर पहुँच गए । चलो, अंदर चलकर देखते हैं।
आकाश : हाँ, तुमने ठीक कहा। चलो।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 6.
दो विद्यार्थियों के मध्य ‘पुस्तकालय के महत्व’ विषय पर वार्तालाप लिखिए।
उत्तर :
राजेश : हाय रवि, क्या हाल है ?
रवि : ओ, राजेश ! कैसे हो, कहाँ जा रहे हो ?
राजेश : मैं पुस्तकालय जा रहा हूँ! रवि।
रवि : क्या तुम प्रतिदिन पुस्तकालय जाते हो ?
राजेश : नहीं, मैं सप्ताह में एक दिन, यानी मंगलवार को पुस्तकालय जाया करता हूँ। क्या तुम नहीं जाते?
रवि : नहीं, मैं पुस्तकालय नहीं जाता, मुझे वहाँ जाना अच्छा नहीं लगता।
राजेश : क्या कहते हो रवि, हम छात्रों को तो पुस्तकालय अवश्य जाना चाहिए, पुस्तकालय से सम्बन्ध रखना चाहिए । यह हम छात्रों के लिए बहुत ही उपयोगी है।
रवि : पुस्तकालय से सम्बन्ध रखने की क्या आवश्यकता है, राजेश । यह क्यों उपयोगी है ?
राजेश : पुस्तकालय से विभिन्न विषयों से सम्बन्धित पुस्तकों की उपलब्धि आसान है जो हमारी ज्ञान वृद्धि में सहायक हैं।
रवि: ऐसा है क्या ? मैं तो इस पर कभी ध्यान ही नहीं दिया।
राजेश : मैं प्रत्येक मंगलवार को पुस्तकालय जाता हूँ, वहाँ से एक पुस्तक लाता हूँ और उसे पढ़कर वापस कर देता हूँ । इससे हमारी पाठ्यपुस्तक की कमी की पूर्ति भी हो जाती है ।
रवि : ठीक है राजेश, आगामी मंगलवार से मैं भी तुम्हारे साथ पुस्तकालय जाया करूँगा ।

प्रश्न 7.
परीक्षा में अनुत्तीर्ण हुए पुत्र तथा पिता के बीच संवाद लिखें ।
उत्तर :
पिता : रमेश! बेटे रिजल्ट निकल गया ? क्या बात है बेटे ? रिजल्ट ठीक नहीं रहा क्या ?
रमेश : पिताजी!
पिता : हाँ, हाँ, बोल ! क्या हुआ ? इतना परेशान क्यों है ?
रमेश : पिताजी, मैं फेल हो गया हूँ।
पिता : क्या कहा ? फेल!
रमेश : पेपर अच्छे नहीं हुए थे ।
पिता : लेकिन तूने तो कभी बताया नहीं ?
रमेश : मेरा पहला पेपर ही खराब हो गया था, पिताजी । दूसरे पेपर्स भी उतने अच्छे नहीं हुए।
पिता : परन्तु बेटे ! हमारे खानदान में आज तक कोई फेल नहीं हुआ। यह तो हमारे लिए बड़े कलंक की बात है।
रमेश : पिताजी! मैं लज्जित हूँ।
पिता : बेटे ! पढ़ाई में तू कमजोर था, तो बताया क्यों नहीं ? मैं अच्छे शिक्षक का प्रबन्ध कर देता जोतुझे घर पर पढ़ाते, मैं तुझे खुद पढ़ाता । तूने बताया क्यों नहीं ।
रमेश : पिताजी ! मुझे बड़ा दुःख है । मुझे माफ कर दें । अबकी बार मैं खूब पढूँगा ।
पिता : खैर ! ठीक है बेटे ! जो हुआ सो हुआ । अब मैं स्वयं तुझे पढ़ाऊँगा ।
रमेश : क्षमा करें पिताजी ! इस बार मैं खूब परिश्रम करूँगा।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 8.
‘रक्तदान’ पर दो मित्रों के बीच संवाद लिखें ।
उत्तर :
सोहन कहाँ की तैयारी है ?
सुरजीत : कॉलेज की।
सोहन : क्या कोई विशेष प्रयोजन है ?
सुरजीत : हाँ, मेडिकल कॉलेज के ब्लड बैंक में रक्तदान देना है।
सोहन : पागल तो नहीं हो गये हो ! इस उम्र में रक्तदान !
सुरजीत : पागल तो नहीं, शुभचिन्तक अवश्य हो गया हूँ।
सोहन : शुभचिन्तक ! अपने या पराये के ?
सुरजीत : अपनी चिन्ता तो सभी करते हैं, लेकिन जो पराये की चिन्ता करता है वही सच्चा शुभेच्छु माना जाता है।
सोहन : रक्तदान से खून कम हो जायेगा, कमजोरी के शिकार हो जाओगे ? घर कैसे लौटोगे ?
सुरजीत : वहाँ डॉक्टर हैं। बाकायदा डॉक्टरी परीक्षा होती है। रक्त की जाँच की जाती है। रक्तचाप देखा जाता है। रक्त लेने के बाद खाने-पीने के लिए फल और दूध दिया जाता है ताकि कमजोरी न रहे।
सोहन : आखिर तुम ऐसा क्यों कर रहे हो ?
सुरजीत : हमारे देश में लाखों मरीज ऐसे हैं, जिन्हें रक्त की नितान्त आवश्यकता होती है। यदि हम जैसे स्वस्थ नवयुवक रक्तदान न करें तो रोगियों की जीवन-रक्षा कैसे होगी ?
सोहन : तुम्हें यह प्रेरणा कहाँ से मिली ?
सुरजीत : कल के समाचार-पत्र में एक समाचार छपा था। एक नवयुवती रक्त न मिलने के कारण असमय ही मौत की गहरी नींद में सो गयी। यदि उस समय उसके रक्तमुप का खून रहता तो उसे अवश्य बचा लिया जाता।
सोहन : तब तो यह बड़े पुण्य का कार्य है ।
सुरजीत : पाप-पुण्य की बात तो नहीं जानता, पर यह अवश्य जानता हूँ कि यदि मेरे रक्त से किसी को नया जीवन मिलता है तो मेरी जिन्दगी कृतार्थ हो जायेगी । जानते हो अब तो अस्सतालों में लोग रक्तदान की तरह नेत्रदान भी कर रहे हैं। मरनेवाला अपना नेत्रदान कर देता है। इससे किसी की अंधेरी दुनिया रोशन हो जाती है ।
सोहन : अब मुझे तुम्हारी बात समझ में आ गयी। चलो, मैं भी तुम्हारे साथ रक्तदान करूँगा, ताकि किसी की प्राण-रक्षा में सहायक बनने का सौभाग्य हासिल कर सकूँ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 9.
राष्ट्रीय एकता के महत्व पर दो मित्रों के बीच संवाद लिखें ।
उत्तर :
वैभव : आज राष्ट्रीय एकता दिवस है।
अभिषेक : एकता से क्या तात्पर्य है ?
वैभव : एकता का अर्थ है-संगठन । अर्थात् एक ही लक्ष्य को लेकर, एकजुट होकर कार्य करना।
अभिषेक : यदि ऐसी बात है तो कुछ लोग क्षेत्रेयता, प्रान्तीयता, जाति, धर्म, सम्प्रदाय आदि की बातें क्यों करते हैं ?
वैभव : भारत विविधताओं से भरा हुआ है। इसमें विभिन्न भाषा-भाषी और धर्मावलम्बी निवास करते हैं। भारत का हदयय एक है, आत्मा एक है । जो संकीर्ण विचार वाले हैं, वही क्षेत्र, प्रान्त, धर्म, जाति, वर्ग, भाषा तथा सम्रदाय की बातें करते हैं।
अभिषेक : क्या हम हमेशा से एक हैं ?
वैभव : यह कहना तो मुश्किल है, पर हमने राष्ट्र-हित के हानि-लाभ को सामूहिक हानि-लाभ माना है । धर्म, जाति, सम्पदाय, वर्ग, प्रान्त, भाषा आदि के नाम पर हममें जो वैमनस्य एवं भेदभाव उत्पन्न होते रहे हैं, समय आने पर इन सब बातों से उठकर एकजुट होकर सब प्रकार के संकट का सामना करने के लिए हम सभी तैयार रहे हैं। चीन और पाकिस्तान के आक्रमण इसके पक्के सबूत हैं।
अभिषेक तब तो राष्ट्रीय जन-जीवन में एकता अत्यधिक महत्वपूर्ण है।
वैभव : राष्ट्रीय जन-जीवन की रक्षा के लिए एकता जितनी जरूरी है, राष्ट्रीय नैतिकता के लिए भी उतनी ही आवश्यक है । आज हमारा देश विकास के संघर्षपूर्ण क्षणों से गुजर रहा है । बाह्य आक्रमणों तथा दबावों के भय भी बने हुए हैं । इनका सामना हम अपनी नैतिकता को ऊँचा उठा कर ही कर सकते हैं।
अभिषेक : अब मैं समझ गया। अपनी नैतिकता को ऊँचा उठा कर ही हम राष्ट्रीय एकता की सार्थकता सिद्ध कर सकते हैं और सर्वगुण सम्पन्न राष्ट्र के रूप में उभर सकते हैं।

प्रश्न 10.
सरकार द्वारा चलाए जा रहे साक्षरता अभियान के बारे में दो मित्रों के बीच संवाद लिखें।
उत्तर :
रवि : नमस्कार दिवाकर ! आजकल किस काम में व्यस्त हो ? दिखाई नहीं देते ।
दिवाकर : नमस्कार, आजकल मैं साक्षरता-अभियान से जुड़ा हुआ हूँ। अपना अतिरिक्त समय लोगों को साक्षर बनाने में बिताता हूँ।
रवि : यह तो राष्ट्रीय महत्त्व का कार्य है । निरक्षरता सबसे बड़ा अभिशाप है ।
दिवाकर : हमारा देश बहुत बड़ा है । इसकी जनसंख्या भी बहुत बड़ी है। अधिकांश लोग किसान, मजदूर और निर्धन हैं । निर्धनता के कारण वे विद्यालय और पाठशाला तक पहुँच नहीं पाते और निरक्षर ही रह जाते हैं ।
रवि : सच है मित्र, बहुतों के लिए काला अक्षर भैंस बराबर है । बहुतों को अपना नाम तक लिखना नहीं आता।
दिवाकर : हाँ, इसीलिए मेरे मुहल्ले के कुछ युवकों ने साक्षरता अभियान-कार्यक्रम चलाया है । उसमें मैं भी शामिल हूँ । साक्षरता लोगों के आत्म-विश्वास और स्वाभिमान को जगायेगी एवं उन्हें हीनताबोध से मुक्त करेगी ।
रवि : इतना ही नहीं साक्षरता रूढ़ियों, कुरीतियों और अन्धविश्वासों से अनपढ़-अशिक्षितों को मुक्ति दिलायेगी । यह सामाजिक उत्थान का कारगर तरीका है।
दिवाकर : बिल्कुल ठीक कहते हो, साक्षरता से समाज-सुधार और राष्ट्र का उत्थान होगा। जब लोग साक्षर रहेंगे तो उनको बरगलाया या फुसलाया नहीं जा सकेगा। उनके साथ किसी प्रकार की धोखाधड़ी नहीं की जा सकेगी ।
रवि : दिवाकर, इससे निर्धनों को नि:शुल्क शिक्षा मिल सकेगी। प्रत्येक नागरिक का यह कर्त्तव्य है कि वह निरक्षरों को पढ़ना-लिखना सिखाये । तुम्हारे इस अभियान में में भी सम्मिलित होना चाहता हूँ।
दिवाकर : अच्छी बात है रवि ! यदि तुम्हारे जैसे युवक भी इस कार्यक्रम में स्वेच्छा से सहयोग करें, तो वह दिन दूर नहीं, कि देश में कोई निरक्षर नहीं रहेगा ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 11.
सहशिक्षा के बारे में दो छात्रों के बीच संवाद लिखें ।
उत्तर :
विजय : तुमने किस शिक्षण संस्था में प्रवेश लिया है?
गौरव : मैंने जयपुरिया कॉलेज में प्रवेश लिया है।
विजय : अरे, यह तो सहशिक्षा वाला कॉलेज है ।
गौरव : इसमें आश्चर्य की कौन-सी बात है । आजकल विश्वविद्यालयों, अधिकांश महाविद्यालयों तथा विद्यालयों में सहशिक्षा के रूप में शिक्षा दी जा रही है।
विजय : सहशिक्षा चारित्रिक पतन का प्रमुख कारण है ।
गौरव : मैं इस प्रावीन विचारधारा से सहमत नहीं हूँ । एक साथ पढ़ने तथा रहने से रूप लिप्सा समाप्त हो जाती है तथा यौन-आकर्षण जन्य विकारों का दमन हो जाता है । अत: चारित्रिक पतन का अवकाश ही नहीं रहता ।
विजय : प्राचीन भारत में सहशिक्षा की व्यवस्था किसी खास सोच या कारणवश ही नहीं की गयी थी ?
गौरव : इतिहास साक्षी है कि प्राचीन भारत में स्त्री व पुरुषों को समान रूप से शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार था। गार्गी, मैन्रेयी तथा मदालसा आदि विदुषियों ने अच्छे-अच्छे विद्वानों को शास्त्र-ज्ञान में परास्त किया था।
विजय : सहशिक्षा पाश्चात्य सभ्यता की देन है। पश्चिमी देशों में स्त्री-पुरुष बचपन से ही एक साथ रह कर विद्याध्ययन करते हैं तथा यौन-सम्बन्धों में स्वेच्छाचारी होते हैं। भारतीय संस्कृति ऐसी स्वतंत्रता के सर्वथा विपरीत है।
गौरव : यदि सहशिक्षा दी जाय तो न स्वेच्छाचारिता होगी, न भारतीय संस्कृति के विपरीत कार्य होगा। आज का युग परिवर्तन का युग है, जिसमें सहशिक्षा नितान्त आवश्यक है।
विजय : शरीर-भेद के साथ-साथ प्रारम्भ से ही स्री-पुरुषों के कर्त्तव्यों में भिन्नता रही है। अतः अपने-अपने क्षेत्र से सम्बन्धित सक्रिय ज्ञान के लिए जरूरी है कि दोनों की प्रशिक्षण व्यवस्था भी भिन्न हो।
गौरव : भारतीय संविधान ने स्र्री-पुरुष को समानता का अधिकार दिया है, क्योंकि प्रजातांत्रिक प्रणाली को न्यायोचित तरीके से चलाने के लिए पुरुषों के समान स्त्रियों को भी उच्च शिक्षा देना नितान्त आवश्यक है । सहशिक्षा के परिवेश में शिक्षाप्राप्त कर स्री नारी सुलभ दुर्बलताओं को तिलांजलि देकर पुरुषों के साथ प्रत्येक क्षेत्र में अपने व्यक्वि का विकास कर सकती हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना संवाद-लेखन

प्रश्न 12.
बेरोजगारी की समस्या पर दो मित्रों के संवाद को अपने शब्दों में लिखें।
उत्तर :
मानव : क्या बात है? तुम इधर कई दिनों से कुछ परेशान से नज़र आ रहे हो?
शुभम : क्या करूँ कुछ समझ में नहीं आता। तीन साल से नौकरी की तलाश में हूँ लेकिन निराशा ही हाथ लगी है।
मानव : यह आज की बड़ी कठिन समस्या है। यह समस्या भारत में बहुत वर्षों से चली आ रही है।
शुभम : अब तो इस बेरोजगारी की दौड़ में अध्यापक भी पीछे नहीं रहे। प्रशिक्षित अध्यापक भी घर पर बैठने को विवश हैं।
मानव : बेरोजगारी के कारण अपराध भी दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे,हैं।
शुभम : इस बेकारी का सारा दोष वर्तमान शिक्षा-प्रणाली तथा उद्योग-धंधों का अभाव है।
मानव : एक समय था, जब पंडित नेहरू कहा करते थे – “हमें देश के लिए वैज्ञानिक एवं तकनीकी विशेषज्ञ चाहिए न कि बी. ए.।’ हमारी विवेकशील सरकार के प्रयासों से अब यह समस्या हल होती नज़र आ रही है।
शुभम : हाँ, प्रानममंत्री के ‘मेक इन इण्डिया’ के नारे से तो ऐसा लगता है कि अब इस समस्या का कुछ समाधान जरूर निकलेगा।
मानव : हाँ, तुम ठीक कह रहे हो। बहुत ज्यादा निराश होने की जरूरत नहीं है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions and रचना प्रतिवेदन-लेखन to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 1.
प्रतिवेदन क्या है ?
उत्तर :
परिभाषा : ‘प्रतिवेदन’ अंग्रेजी शब्द ‘Report’ का पर्याय है । किसी घटना का वास्तावक या यथातथ्य संक्षेप में जन साधारण के समक्ष मौखिक या लिखित रूप से प्रस्तुत कर देना ही प्रतिवेदन है । इसका विषय विस्तृत है अर्थात् प्रतिवेदन का विषय कुछ भी हो सकता है जैसे, कोई घटना, समारोह, उत्सव, उद्घाटन, सभा-जुलूस, कोई बैठक आदि का संक्षिप्त चिट्ठा।

प्रतिवेदन का उद्देश्य यह होता है कि जिस व्यक्ति या जिन व्यक्तियों का किसी विषय से वास्ता या सरोकार हो जाये और जो उनके सारे तथ्यों की जानकारी रखता हो, उनके लिये यथावश्यक सूचना प्रस्तुत कर दी जाये ।

इस प्रकार यह छोटा-सा शब्द अनेक प्रकार के भावों/अर्थो से भरा हुआ है । इस शब्द का प्रयोग विधि, पुलिस, प्रशासन, पत्रकारिता तथा साहित्य में होता है । प्रशासन में इसके लिये ‘प्रतिवेदन’ शब्द का प्रयोग मान्य है । विभिन्न संस्थानों, संगठनों, समितियों, विभागों, अनुभागों, आयोगों की साधारण (General) तथा विशेष बैठके होती रहती है। इन बैठकों में किये गये निर्णय/विवेचन को तो कार्यवृत्त (Minutes) के रूप में प्रस्तुत किया जाता है, किन्तु समय-समय पर अथवा अन्त में पूरा विवरण प्रतिवेदन या रिपोर्ट के रूप में प्रस्तुत किया जाता है । प्रशासनिक रिपोर्ट तथा संसद में प्रस्तुत की जाने वाली रिपोर्ट द्विभाषिक (Bilingual) बनानी होती है, अर्थात् उसे हिन्दी एवं अंग्रेजी दोनों भाषाओं में जारी करना होता है ।

साहित्य में तो इसके लिये एक अलग शब्द ‘रिपोर्ताज’ फ्रान्सीसी शब्द पर बना लिया गया है। जिसमें किसी घटना का यथातथ्य वर्णन किया जाता है । घटना का यथातथ्य वर्णन कलात्मक तथा रससम्बंधात्मक रूप में दिया जाता है । इस प्रकार ‘रिपोर्ताज’ ही रिपोर्ट का कलात्मक तथा साहित्यिक रूप है ।

समितियों और उपसमितियों के प्रतिवेदन का अपना एक अलग वर्ग है । यदि कोई मामला ऐसा है कि उस पर कई लोगों का मिलजुल कर विचार और अन्वेषण करना आवश्यक हो, तो जाहिर है कि जो प्रतिवेदन आयेगा वह निश्चय ही महत्वपूर्ण होगा ।

आजकल अधिकतर समाचार-पत्र में प्रकाशित किसी घटना के विवरण को प्रतिवेदन कहा जाता है क्योंकि समाचारपत्र में ही किसी घटना का यथातथ्य विवरण रहता है । अन्य प्रतिवेदनों से समाचार-पत्रों के प्रतिवेदन में अंतर आ जाता है । समाचार-पत्रों के प्रतिवेदन वास्तविक घटनाओं के साक्ष्य होते हैं । संवाद-पत्र के लिये प्रतिवेदन लिखते समय विषयवस्तु की समघ्टि पर ध्यान रखना चाहिए । यह घटना की समालोचना प्रस्तुत करता है । इसकी भाषा जनसाधारण की समझ में आने वाली होनी चाहिए । इसमें किसी प्रकार का व्यक्तिगत आक्षेप न हो ।
उपरोक्त चर्चाओं से यह स्पष्ट होता है कि प्रतिवेदन कई प्रकार के हो सकते हैं, जैसे :-

  • व्यक्ति द्वारा प्रतिवेदन
  • विभाग/मंत्रालय का वार्षिक प्रतिवेदन
  • संस्था/संस्थान द्वारा प्रस्तुत प्रगति-विवरण भी प्रतिवेदन के रूप में हो सकता है
  • समिति/आयोग/क्लब आदि द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन
  • किसी भी प्रकार के सम्मेलन की समाप्ति पर तैयार किया गया प्रतिवेदन

प्रतिवेदन का ढँचा :-
प्रतिवेदन का ढाँचा इस प्रकार होता है –

  • शीर्षक
  • रूपरेखा-विषय-सूची
  • रिपोर्ट का संक्षेप
  • आमुख
  • आभार प्रदर्शन
  • मूल प्रतिवेदन :
    • बड़ी होने पर अध्याओं में विभक्त, साथ ही सुविधा के लिये तारतम्य के दशमलव प्रणाली में प्रस्तुतीकरण ।
    • प्रमुख सिफारिशें :
  • तालिकाएँ : मूल रिपोर्ट के साथ भी महत्वपूर्ण हो सकती है अथवा उनको परिशिष्ट में लगाया जा सकता है
  • संदर्भ सूची
  • अनुक्रमणिका

उद्देश्य : प्रतिवेदन का उद्देश्य सिर्फ विवरण प्रस्तुत करना ही नहीं, वरन् समस्याओं का समाधान प्रस्तुत करना भी है। इसका उद्देश्य बड़ा व्यापक होता है। प्रत्येक विभाग को अब वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत करनी पड़ती है। प्रतिवेदन तैयार करने की प्रक्रिया अब विकसित हो गयी है। अब यह एक तकनीकी विषय बन गया है । अत: इस विद्या की पग-पग पर आवश्यकता पड़ती है।

यह बात उल्लेखनीय है कि भिन्न-भिन्न प्रकार के प्रतिवेदनों की प्रक्रिया भी भिन्न-भिन्न हो सकती है । किसी सभा/ संगोष्ठी का प्रतिवेदन पत्रकारिता के क्षेत्र में अधिक किया जाता है। प्रतिवेदन में आज सबसे आवश्यक बात यह है कि महत्वपूर्ण विषयों को सापेक्षिक दृष्टि से दिखाया जाय । कभी-कभी इसकी ओर ध्यान नहीं दिया जाता है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 2.
‘क्रिकेट विश्वकप’ 2019 पर समाचार पत्र में छपने के लिए एक प्रतिवेदन लिखिए।
उत्तर :

30 मई से क्रिकेट विश्वकप का फाइनल मुकाबला

इंग्लैंड एवं वेल्स में 30 मई से क्रिकेट के महाकुंभ विश्वकप की शुरुआत होने जा रही है। इस बार का विश्वकप कई मायनों में दिलचस्प होने वाला है। इंग्लैण्ड और वेल्स में खेले जाने वाले इस टूर्नामेंट में 10 टीमें हिस्सा लेने वाली हैं। सभी टीमें एक-दूसरे से मुकाबला खेलेंगी और पूरे दूर्नमेंट में 48 मैच खेले जाएंगे। इस बार विश्वकप में पहली बार 10 टीमें हिस्सा ले रही हैं। इससे पहले 1975,1979,1983 और 1987 में 8 टीमों ने भाग लिया था जबकि विश्वकप 2007 में सबसे ज्यादा 16 टीमों ने भाग लिया था। इस बार विश्वकप में कई ऐसी चीजें हो सकती हैं जो हमने इससे पहले कभी नहीं देखी। फाइलन मुकाबला 14 जुलाई को लाड्सर्स में खेला जायेगा।

प्रश्न 3.
सरकारी अस्पतालों की दुर्दशा का उल्लेख करते हुए समाचार-पत्र के लिए प्रतिवेदन लिखिए।
उत्तर :
सरकारी अस्पताल की बदहाली – 7 जुलाई 2017 ज्ञानपुर संत रविदास नगर भदोही, गत रविवार को मैं एक रोगी को लेकर जिला अस्पताल ज्ञानपुर पहुँचा जहाँ की बदहाली या दुरवस्था वर्णन के परे है । अस्पताल में न तो पर्याप्त बिस्तर है, न दवायें, न नर्सें और न डाक्टर, चारों और गन्दगी का आलम है । पानी के नल टूटे हुए और बंद पड़े हैं। शैचालय साक्षात् नरक प्रतीत होता है । नालियों में गन्दा पानी सड़ रहा है जिसमें कीड़े बिलबिला रहे हैं। अस्पताल की वर्तमान अवस्था में यदि कोई रोगी चिकित्सा हेतु आयेगा तो उसे यमलोक पहुँचने में तनिक भी सन्देह नहीं है । सार्वजनिक हित और लोककल्याण को ध्यान में रखते हुए यह अति आवश्यक है कि सरकार के बड़े अधिकारियों एवं स्वास्थ्यमंत्री का अस्पताल की इस बदहाली की ओर ध्यान आकर्षित कराया जाये लाकि इसका जीवन प्रदान करने में उपयोग हो सके ।

प्रश्न 4.
शहर कोलकाता के पुस्तक मेला पर समाचार पत्र में छपने के लिए एक प्रतिवेदन लिखिए।
अथवा
विगत वर्ष आयोजित ‘कोलकाता पुस्तक-मेला’ पर स्थानीय समाचार-पत्र में छपने के लिए एक प्रतिवेदन लिखिए ।
उत्तर :
कोलकाता – अन्य वर्ष की तरह इस वर्ष भी ‘कोलकाता पुस्तक मेला’ लोगों के आकर्षण का केन्द्र बना रहा। इसमें विभिन्न राज्यों के विभिन्न भाषाओं की पुस्तकों के आकर्षक स्टॉल लगाए गए थे । बंगला और हिन्दी के स्टॉलों की संख्या सबसे अधिक थी । इस अवसर पर कुछ विदेशी प्रकाशनों ने भी अपने स्टॉल लगाए थे । हर पाठकों की रुचि के अनुसार पुस्तकें उपलब्ध थी। विभिन्न लेखकों, कवियों की उपस्थिति पाठकों को अपनी ओर आकर्षित करती रही।

इस पुस्तक मेला में प्रिंटिंग मीडिया के भी कई स्टॉल लगाए गए थे । बच्चों तथा युवावर्ग की संख्या इस मेले में अन्य वर्षों की अपेक्षा अधिक थी।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 5.
अपने विद्यालय में मनाए गए वार्षिकोत्सव पर समाचार-पत्र के लिए प्रतिवेदन लिखिए।
उत्तर :
कोलकाता : आदर्श माध्यमिक विद्यालय के प्रांगण में 10 फरवरी 2007 को वार्षिक पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न हुआ । समारोह के अध्यक्ष विद्यालय प्रबन्धकारिणी समिति के सचिव श्री श्याम नारायण राय शर्मा जी थे। मुख्य अतिथि के रूप में पश्चिम बंगाल एवं सिक्किम राज्य के एन०सी०सी० के ग्रुप कैप्टन श्री आर०एस० कटारिया जी समारोह में उपस्थित थे । इसके अतिरिक्त कोलकाता म्युनिसिपल कॉरपोरेशन के क्रीड़ा, जनसम्पर्क, सूचना और पार्क एवं बागवानी विभाग के प्रभारी मंत्री जनाब फैयाज अहमद, छपते-छपते समूह के सम्पादक श्री विश्वम्भर नेवर, सनातन धर्म विद्यालय के प्रधानाध्यापक श्री एम एम. तिवारी, आर्य विकास विद्यालय के प्रधानाध्यापक श्री जयशंकर सिंह जी और अनेक गणमान्य व्यक्ति थे।

समारोह का संचालन विद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक श्री जे०पी॰पाण्डेय ने किया। विद्यालय के प्रधानाध्यापक डॉ०ए०पी० राय जी ने सभी अतिथियों का स्वागत किया । उपस्थित अविभावकों, अतिथियों एवं शिक्षकों के प्रति आभार व्यक्त किया । उनके स्वागत भाषण से समारोह का प्रारम्भ हुआ । विद्यालय के छात्रों द्वारा समारोह में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया । विद्यालय के सचिव श्री श्याम नारायण राय शर्मा, एन०सी०सी० के ग्रुप कैप्टन श्री कटारिया एवं श्री विश्वम्भर नेवर के कर-कमलों द्वारा छात्रों को पुरस्कार वितरण किया गया। समारोह के अन्त में विद्यालय के सचिव महोदय ने जीवन में शिक्षा और अनुशासन के महत्त्व पर प्रकाश डाला ।

प्रश्न 6.
अपने इलाके में आयोजित ‘रक्तदान शिविर’ पर समाचार-पत्र में छपने के लिए एक प्रतिवेदन लिखिए ।
उत्तर :
अपने इलाके में आयोजित ‘रक्तदान शिविर’ – 18 अप्रैल को बड़ाबाजार क्षेत्र के पथुरिया घाट स्ट्रीट में एक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया, जिसका उद्घाटन ‘माहेश्वरी विद्यालय’ के प्रधानाध्यापक श्री रामबहादुर पाण्डेय के कर कमलों से हुआ । इस शिविर में भाग लेने वाले नवयुवकों में काफी उत्साह देखा गया । उन्होंने देश के पीड़ित रोगियों की जीवन-सुरक्षा के लिए अपना रक्तदान किया । शिविर आयोजकों ने उन्हें दूध, अंडे तथा पौष्टिक पदार्थ खाने के लिए दिये । यह आयोजन प्रात: 10 बजे से शुरू हुआ और सायंकाल 5 बजे सम्पन्न हुआ। इसके बाद माहेश्वरी बालिका विद्यालय की प्रधानाध्यापिका श्रीमती रूपालीदास गुप्ता और श्री कृष्णावतार त्रिपाठी ‘राही’ के प्रभावी भाषण उपरान्त शिविर का समापन किया गया ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 7.
अपने इलाके में आयोजित ‘बाल श्रम विरोधी अभियान’ विषय पर सामाचार-पत्र में छपने के लिए एक प्रतिवेदन लिखिए ।
उत्तर :
कोलकाता, 18 फरवरी : बाल मजदूरी स्वतंत्र राष्ट्र की ही नहीं, बल्कि पूरी मानवता के माथे का कलंक है। इसके बावजूद भी बहुत से बच्चे को अति गरीबी के कारण साथ ही पढ़ाई में मन न लगना या फेल हो जाने पर मार के डर से घर से दूर भाग जाना अथवा माँ या पिता के कठोर व्यवहार से पीड़ित होकर तथा बुरी आदतों और बुरे लोगों की संगत में आ जाने के कारण मजदूरी करने के लिए विवश हो जाना पड़ता है । इसी उद्देश्य से बालश्रम विरोधी एक रैली बागबाजार से श्यामबाजार पाँच मुहानी मोड़ तक आज निकाली गयी, जिसमें भारी संख्या में समाज के विभिन्न वर्ग के लोगों ने भाग लिया ।

रैली के अन्त में एक सभा का आयोजन किया गया जिसमें विभिन्न वक्ताओं ने बालश्रम को समूची मानवता के माथे का कलंक माना । बालश्रम पर अपने विचारों को व्यक्त करते हुए वक्ताओं ने कहा कि देश का भविष्य कहे जाने वाले बच्चों को किसी भी कारण से मजदूरी करनी पड़े, इसे मानवीय नहीं कहा जा सकता। सरकार को बालश्रम से सम्बन्धित नियम को कड़ाई से लागू करने पर बल दिया गया । साथ ही गरीब बच्चों के पढ़ाई और देखभाल करने की सुविधाएँ प्रदान करने की माँग सरकार से की गई । सामूहिक प्रयास से ही इस समस्या का समाधान सम्भव है, अत: इस समस्या के समाधान के लिए समाज के सभी वर्ग के लोगों से एकजुट होने और आगे आने का आह्बान किया गया ।

प्रश्न 8.
विद्यालय-पत्रिका में प्रकाशन के लिये अपने विद्यालय द्वारा आयोजित ‘वार्षिक क्रीड़ा प्रतियोगिता’ पर एक प्रतिवेदन लिखिये ।
उत्तर :
विद्यालय द्वारा आयोजित वार्षिक क्रीड़ा प्रतियोगिता गत 5 फरवरी को धर्मतल्ला स्थित मोहन बगान क्लब ग्राउण्ड संलग्न मैदान में बहुत ही उत्साह और आनन्द के साथ सम्पन्न हुआ।

विद्यालय के प्रधानाचार्य श्री रघुवीर पाठक ने उपस्थित सभी शिक्षार्थियों, शिक्षकों, अतिथियों एवं क्रीड़ा में भाग लेनेवाले प्रत्याशियों का स्वागत करते हुए आयोजन का शुभारंभ किया। खेल-कूद में विभिन्न वर्ग के छात्रों ने विभिन्न खेलों में सउत्साह भाग लिया । प्रतियोगिता में 7 प्रकार के खेलों का आयोजन किया गया था।

प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय विभाग में सफल कुल 21 प्रत्याशियों को आयोजन के मुख्य अतिथि रवीन्द्र भारती विश्वविद्यालय के प्रोफेसर श्री अमल राय चौधरी द्वारा पुरस्कृत किया गया । इसके साथ ही 7 अन्य प्रत्याशियों को भी सानत्वना पुरस्कार प्रदान किये गये ।

प्रश्न 9.
विद्यालय-पत्रिका में प्रकाशन के लिए अपने विद्यालय में आयोजित कविता-पाठ प्रतियोगिता पर एक प्रतिवेदन लिखिए ।
उत्तर :

कविता-पाठ प्रतियोगिता संपन्न

दुर्गापुर, कल लाला लाजपत राय विद्यालय में कविता-पाठ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता के मूल में विद्यालय-पत्रिका के लिए स्तरीय कविता का चयन करना तो था ही, इसके साथ-साथ बच्चों में अपने भावों को नवीन रूप में व्यक्त करने की प्रतिभा का विकास करना भी था । कविता-पाठ प्रतियोगिता के इस अवसर पर विद्यालय के शिक्षकों के अतिरिक्त शहर के गणमान्य साहित्येयीमी भी उपस्थित थे । उन सबों ने बच्चों के प्रतिभा की खुलकर सराहना की तथा कविता-पाठ प्रतियोगिता का नियमित रूप से आयोजन करने में अपना पूर्ण सहयोग देने की भी बात कही। इस कविता-पाठ प्रतियोगिता को संपन्न कराने में छात्र संपादक आशुतोष, तुहिन, दीपांकर आदि का योगदान सराहनीय रहा।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 10.
विद्यालय-पत्रिका में प्रकाशन के लिए अपने विद्यालय द्वारा आयोजित प्रेमचन्द-जयन्ती पर एक प्रतिवेदन प्रस्तुत कीजिए ।
उत्तर :

प्रेमचंद जयन्ती मनाई गई

पानागढ़, 1 अगस्त को बनवारीलाल विद्यालय में धूमधाम से प्रेमचंद जयंती मनाई गई । इस अवसर पर श्री धर्मनाथ विद्यालंकार, प्रसिद्ध समाजसेवी व साहित्यकार भी उपस्थित थे । उन्होंने कहा कि प्रेमचंद एक गंभीर विचारक एवं चिन्तनशील व्यक्ति थे । उन्होंने उत्तरी भारत के समाज की विभिन्न समस्याओं पर अपने गंभीर विचार प्रकट किए हैं। उन्होंने बाल-विवाह, बेमेल विवाह, विधवा-विवाह, नारी-शिक्षा आदि अनेक सामाजिक समस्याओं को अपनी कृतियों मे उठाया है और उनका समाधान प्रस्तुत करके अपने को एक सुधारक के रूप में स्रस्तुत किया है। प्रेमचंद ने हिन्दू-मुस्लिम साम्पदायिकता पर भी गहरा आघात किया है । उनका कहना था – “यदि हिन्दू-मुस्लिम समस्या को हल नहीं किया गया, तो स्वराज का कोई अर्थ नहीं होगा।”

इस अवसर पर अन्य कई वक्ताओं ने भी प्रेमचंद के योगदान पर अपने-अपने विचार प्रकट किए। श्री योगेश ने कहा कि हमें यह न भूलना चाहिए कि प्रेमचंद उन साहित्यकारों में से है, जो साहित्यकार होने के साथ-साथ एक स्वतंत्रतासेनानी भी थे ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना प्रतिवेदन-लेखन

प्रश्न 11.
अपने इलाके में आयोजित “वृक्षारोपण अभियान” विषय पर स्थानीय समाचार-पत्र में छपने के लिये एक प्रतिवेदन लिखिये।
उत्तर :
कोलकाता, 10 जुलाई । गत रविवार, 7 जुलाई को हमारे इलाके में प्रदूषण मुक्त पर्यावरण के मद्दे नजर वृक्षारोपण अभियान चलाया गया जिसमें स्थानीय एक क्लब के सदस्यों के साथ ही इलाके के नवयुवकों ने भारी संख्या में 11 बजे तक चलता रहा। इस दौरान इलाके में करीबन दो सौ शीी्र पनपने और विकसित होनेवाले पौधों का रोपण किया गया। पौधे स्थानीय पार्षद के तत्वावधान में कोलकाता नगर नगम की ओर से आपूर्ति की गई।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions and रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

दिए गए अवतरणों का हिन्दी में अनुवाद करें :-

1. Hard work is the key to success. Nothing can be achieved without hard work. Work, wrok, ever work is a great panacea, Edison worked for twenty-one hours a day. He slept only for two or three hours on the laboratory tables with his books as his pillow.

हिन्दी अनुवाद : कठिन परिश्रम सफलता की कुंजी है। बिना कठिन परिश्रम के कोई कुछ प्राप्त नहीं कर सकता। काम, काम एवं हमेशा काम एक महान संजीवनी है। एडीसन दिन में इक्कीस घंटे काम करते थे। वे केवल दो या तीन घंटे हो अपनी प्रयोगशाला में किताबों का तकिया बनाकर सोते थे।

2. The Ramayna, as you know, is the story of Ramchandra and Sita and of their fight against Ravana. King of Lanka, that is now cyclone. The original story is written in Sanskrit by Valmiki, Many other versions were written later in other languages. The best known is Tulsidas’s in Hindi called the “Ramacharitmanas”.
उत्तर :
रामायण, जैसा कि आप जानते हैं, रामचंद्र और सीता और रावण के खिलाफ उनकी लड़ाई की कहानी है। लका के राजा, वह अब चक्रवात है। मूल कहानी वाल्मीकि द्वारा संस्कृत में लिखी गई है, कई अन्य संस्करण बाद में अन्य भाषाओं में लिखे गए थे। तुलसीदास की हिन्दी में सबसे प्रसिद्ध ‘रामचरितमानस’ कहलाती है।

3. We can not live without oxygen. Trees give out oxygen and keep up the level of oxygen in the air. Trees give us many others useful things. They give us Fruit, Wood, Cotton, Gum, Oil, Medicines and Spices. Forests keep the air cool and bring rain. We must save trees to save ourselves.

हिन्दी अनुवाद : हम बिना ऑक्सीजन के नहीं रह सकते। पेड़ आक्सीजन उत्सर्जित करते हैं तथा वायु में आक्सीजन की मात्रा को संतुलित रखते हैं। पेड़ हमें अन्य बहुत सी उपयोगी चीजें देते हैं। वे हमें फल, लकड़ी, कपास, गोंद, तेल, दवाइयाँ और मसाला देते हैं। जंगल हवा को ठंडा रखते हैं और वर्षा लाते/कराते हैं। हमें अपने-आप को सुरक्षित रखने के लिए पेड़ों की रक्षा करनी चाहिए।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

4. With education, the girl child will grow up and be a better mother. She wil be better able to understand the importance of her own children. Because being educated, she will be better able to guide the children.

हिन्दी अनुवाद : शिक्षित बच्ची बड़ी होकर बेहतर माँ बन सकती है । वह अपनें बच्चों के महत्व को अच्छी तरह से समझ सकेगी। शिक्षित होने के कारण वह अपने बच्चों का मार्गदर्शन बेहतर कर सकेगी।

5. Water is the most essential component of life and is vital for sustenance. The importance of water in our diet is apparent as it helps the body to perform specific metabolic tasks and regulates our body temperature. There is no doubt that water is everywhere and it is very important to our earth and the life inhabiting it. It is the key component in determining the quality of our life.

हिन्दी अनुवाद : पानी हमारे जीवन को बनाए रखने का एक महत्वपूर्ण तत्व है। यह हमारी पाचन-क्रिया तथा शरीर के तापमान को नियंत्रित करने के लिए महत्वपूर्ण है । इसमें कोई संदेह नहीं कि सब ओर पानी है तथा पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने में काफी महत्वपूर्ण है । यह हमारे जीवन-स्तर को बनाए रखने का महत्वपूर्ण घटक/तत्व है।

6. The relation between man and trees is as old as the histroy of mankind itself. They are useful to us in many ways. They bring out rainfall and thus play a key role in the change of climatic conditions. They prevent soil erosion by bindling the soil with their roots.

हिन्दी अनुवाद : मनुष्य और पेड़ों का संबंध उतना ही पुराना है जितना प्राचीन मनुष्य का इतिहास है। वे अनेक प्रकार से लाभदायक हैं। ये वर्षा लाते हैं और जलवायु परिवर्तन में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। ये मिट्टी-क्षरण को भी अपनी जड़ों द्वारा रोकते हैं।

7. I am an Indian by birth, so I love India more than any other country of the world. I am proud of my country. Indian civilization and culture are the oldest in the world. The Vedas are the best and oldest books in the libraries of the world.

हिन्दी अनुवाद : मैं जन्म से भारतीय हूँ इसलिए दुनिया के किसी भी देश से अधिक भारत को प्यार करता हूँ। मुझे अपने देश पर गर्व है। भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति दुनिया में सबसे पुरानी है। वेद विश्व के पुस्तकालयों में सर्वश्रेष्ठ और प्राचीनतम ग्रंथ हैं।

8. Selfless love is the base of true friendship. True friends share each other’s joy and sorrow, pain and pleasure. They do not fall in adversity. They have full confidence in each other. They never betray each other.

हिन्दी अनुवाद : स्वार्थहीन प्रेम सच्ची मित्रता की आधारशिला है। सच्चे मित्र आपस में खुशी, दुख-दर्द और आनंद को बाँटते हैं। वे किसी को विपत्ति में नहीं डालते। दोनों का एक-दूसरे के प्रति अटूट विश्वास होता है। वे कभी एक-दूसरे के साथ विश्वासघात नहीं करते।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

9. There are forty two teachers on the staff of my school. All of them are efficient and qualified hands. But in all of them, I llke Mr. Satya Pal, M.A., B.T., the most. He teaches us Physics and Mathematics. He is a seasoned man. He says that he is yet a student. He studies hard for six hours daily.

हिन्दी अनुवाद : मेरे विद्यालय के सदस्यों में बयालीस शिक्षक हैं। वे सभी अपने-आप में कुशल एवं प्रशिक्षित हैं। लेकिन उन सबमें से मैं महाशय सत्यपाल, एम०ए०, बी०एड० को सबसे अधिक पसंद करता हूँ। वे हमलोगों को भौतिकी एवं गणित पढ़ाते हैं। वे अनुभवो व्यक्ति हैं। उनका कहना है कि वे अभी तक छात्र है। वे रोज छ: घंटे तक स्वाध्याय करते हैं।

10. A man who has too high an opinion of his own worth, rank, power and qualities has a nastly fall. He cames to harm. It is said that by pride even the angels fell. Hitler was proud of his power. This false pride of his power proved utimately to be the cause of his downfall and death.

हिन्दी अनुवाद : एक वैसा व्यक्ति जिसे अपने महत्व, पद, शक्ति तथा प्रतिभा का घमंड है, उसका बुरी तरह से पतन होता है। वह नुकसान उठाता है। ऐसा कहा गया है कि घमंड से देवदूत तक का पतन हो जाता है। हिटलर को अपनी शक्ति पर बहुत अभिमान था। उसका झूठा अभिमान ही उसके पतन तथा मृत्यु का कारण बना।

11. A village school is held in a small building. It has hardly more than two or three rooms. Sometimes it has only one big room, under shady trees. The boys sit on ‘mats’ and sometimes an the bare ground under shady trees.

हिन्दी अनुवाद : एक ग्रामीण विद्यालय एक छोटे-से मकान में चलता है। इसमें मुश्किल से दो या तीन कमरे होते हैं। कभी-कभी तो इसमें केवल एक ही बड़ा कमरा होता है जो छायादार पेड़ के नीचे होता है। लड़के चटाई पर बैठते हैं और कभी-कभी वे छायादार पेड़ के नीचे नंगी जमीन पर बैठते हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

12. Games ensure good health and builds a fine physique. They develop a healthy attitude towards life. They impart strength and stamina to the body So as to make it fit for hard work. They are a valuable aid to keep us tree from disease.

हिन्दी अनुवाद : खेलकूद हमें अच्छा स्वास्थ्य देते हैं तथा हमारे शरीर को सुगठित बनाते हैं। वे जीवन के बारे में एक स्वस्थ्य नज़रिया बनाते हैं। वे शरीर को शक्ति और सहनशील बनाते हैं जिससे शरीर कठिन परिश्रम के योग्य बनता है। वे हमें रोगों से दूर रखते हैं।

13. Good books are the life-blood of a nation. Books like Gita and the Mahabharata inspire us. They makes us brave, daring and dauntless. A book like the Ramayana is undoubtedly the best of companions.

हिन्दी अनुवाद : अच्छी पुस्तकें किसी राष्ट्र के रक्त के समान होती हैं। ‘गीता’ और ‘महाभारत’ जैसी पुस्तकें हमें प्रेरित करने का कार्य करती हैं। वे हमें साहसी, वीर एवं निडर बनाती हैं। ‘रामायण’ जैसी पुस्तक नि:संदेह हमारी अच्छी मित्र हैं।

14. Early morning hours are the freshest and the quietest. The atmosphere is calm and free from dust. There is ozone in the air early in the morning. It is good for health, Early rising makes a man smart and active.

हिन्दी अनुवाद : प्रात:काल का समय सबसे स्वच्छ एवं शांत होता है। वातावरण शांत तथा धूलरहित होता है। प्रात:काल की वायु में ओजोन रहता है। यह स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। प्रात:काल जल्दी उठना व्यक्ति को स्मार्ट तथा क्रियाशील बनाता है।

15. It is not easy to make friends. Real friends are rare in this world. We came across countless people but with everybody we do not make friends. The essential condition of friendship between two persons is affinity of mind, tastes, temperaments or pursuits.

हिन्दी अनुवाद : मित्र बनाना आसान कार्य नहीं है। सच्चा मित्र इस दुनिया में दुर्लभ है। हमलोग अनगिनत लोगों से मिलते हैं लेकिन प्रत्येक व्यक्ति को मित्र नहीं बनाया जा सकता। दो व्यक्ति के बीच मित्रता के लिए मानसिक रूप से, रुचि से तथा स्वभाव का मिलना आवश्यक शर्त है।

16. Mohandas Karamchand Gandhi was born on October 2, 1869 in a devout, well-to-do Vaish family of Gujarat. His father was the dewan of the state of Rajkot: His mother was a pious Hindu lady of orthodox views.

हिन्दी अनुवाद : मोहनदास करमचंद गाँधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को एक गुजरात के एक धर्मपरायण तथा प्रसिद्ध घराने में हुआ था। उनके पिता राजकोट स्टेट के दीवान थे। उनकी माता धर्मपरययण तथा कट्टरपंथी विचारोंवाली हिन्दू महिला थीं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

17. Sardar Vallabh Bhai Patel was born in 1875 at Karamsad, a village in Kaira district in Gujrat. He was a farmer coming from a farmer’s family. At school, he was a naughty boy. In due course, he passed his matriculation examination and after some years he passed the law examination.

हिन्दु अनुवाद : सरदार वल्लभ भाई पटेल का जन्म 1875 ई० में गुजरात के केड़ा जिले के करमसाद नामक गाँव में हुआ था। वे एक किसान-परिवार से थे। स्कूल के दिनों में वे नटखट बालक थे। आगे चलकर उन्होंने मैट्रीक्युलेशन परीक्षा तथा उसके बाद कानून की परीक्षा पास की।

18. A Teacher plays a very important role. It is a noble role. He is a nationbuilder. He is expected to produce the right kind of citizens. An ideal teacher is a missionary. He is in love with his profession.

हिन्दी अनुवाद : एक शिक्षक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह एक भव्य कर्त्तव्य है। वे राष्ट्र-निर्माता हैं। उनसे यह उम्मीद की जाती है कि वे जनता को सही रास्ता दिखाएंगे। एक आदर्श शिक्षक अपने-आप में एक धार्मिक प्रतिष्ठान होता है। वह अपने पेशे से प्रेम करता है।

19. An ideal student make the best use of studentlife. His aim is not confined to studies and passing of unversity examination only. He is industrious, honest and sympathetic. He is obedient to his teachers and elders.

हिन्दी अनुवाद : एक आदर्श छात्र अपने छात्र-जीवन का सर्वोत्तम उपयोग करता है। वह केवल पढ़ने तक या न ही केवल विश्वविद्यालय की परीक्षा पास करने तक सीमित रहता। वह मेहनती तथा ईमानदार होने के साथ-साथ सहानुभूति से पूर्ण होता है। वह अपने शिक्षकों तथा बड़ों के प्रति आज्ञाकारी होता है।

20. In Vedic times woman occupled the highest place in society. They were given all opportunities to develop themselves socially, intellectually and morally. They could choose their own partners of life according to their own wishes. But in the middle age, she fell from her pedestal.

हिन्दी अनुवाद : वैदिक काल में स्त्रियों ने समाज में उच्च स्थान प्राप्त किया था। उन्हें अपने- आप को सामाजिक, बौद्धिक तथा नैतिक दृष्टि से विकसित होने के सभी मौके दिए जाते थे। वे अपनी इच्छा के अनुसार अपने जीवनसाथी का चुनाव कर सकती थीं। लेकिन मध्यकाल में उनका पतन हो गया।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

21. In a free India, great things are exepected from students. The students are the citizens of tomorrow. Students get long vacation. It is crime to let them go waste. Students from rural areas can help the villagers in agriculture.

हिन्दी अनुवाद : आज़ाद भारत में छात्रों से महान उम्मीदें हैं। ये छात्र ही कल के नागरिक हैं। छात्रों को लंबी छुट्टियाँ मिलती हैं। उन्हें बर्बाद करना अपराध के समान है। ग्रामीण क्षेत्र के छात्र ग्रामीणों को खेती में मदद कर सकते हैं।

22. An ideal student is an asset to the country. An ideal student has some extraordinary qualities. He presents a smilling face to enerybody. He is obedient to his parents and teachers. He takes part in scouting, games and sports.

हिन्दी अनुवाद : एक आदर्श छात्र राष्ट्र की संपत्ति है। एक आदर्श छात्र में कुछ अलग विशेषताएँ होती हैं। वह सबों के समाने मुस्कुराकर पेश आता है। वह माता-पिता तथा शिक्षकों के प्रति आज्ञाकारी होता है। वह स्काउट, खेलकूद तथा क्रीड़ा में भाग लेता है।

23. A couple of years back, I paid a visit to the Industrial exhibition at Delhi. This was the biggest exhibition ever held in our country. Almost all the countries of the world participated in it. It was visited by lakhs of people from all parts of the country. It was arranged by the Government of India.

हिन्दी अनुवाद : दो वर्ष पहले मैं दिल्ली के औद्योगिक प्रदर्शनी देखने गया था। यह हमारे देश की सबसे बड़ी प्रदर्शनी थी। विश्व के प्रायः सभी देशों ने इसमें हिस्सा लिया था। इसमें देश के विभिन्न भागों से लाखों लोग आए थे। यह भारत सरकार के द्वारा आयोजित की गई थी।

24. A real friend is he who remains true to us as he lives. He will share our sorrows as well as our joys. He will stand by us in our hard time and is always ready to help us. He will take the risk for every thing, even life for the sake of his firend. How fortunate is the man who has such a friend?

हिन्दी अनुवाद : एक सच्चा मित्र हमारे जीवन के लिए आवश्यक होता है। वह हमारे साथ दुःख-सुख को बाँटता है । वह कठिन समय में हमारे लिए खड़ा होता है और हमेशा मदद के लिए तैयार रहता है। वह हरेक प्रकार की जिम्मेवारी उठाता है यहाँ तक कि मित्र की रक्षा के लिए अपने प्राणों की भी बाजी लगा देता है। वह कितना भाग्यशाली है जिसे ऐसा मित्र मिला है ?

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

25. Female education is essential for more than one reason. As mothers, woman play an important part in moulding the character of children. Educated mothers can trainup their children on right lines. The role of woman in making a happy home is great. A caltural housewife is an asset to the family.

हिन्दी अनुवाद : अनेक कारणों से स्त्री-शिक्षा बहुत ही आवश्यक है । बच्चे के चरित्र-निर्माण में स्त्री एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। शिक्षित माँ अपने बच्चे को सही मार्ग पर ले जा सकती है। घर को खुशहाल बनाने में स्त्री की महत्वपूर्ण भूमिका है । एक सुसंस्कृत गृहिणी परिवार की धरोहर होती है।

26. Newspaper reading has become an essential part of our life. As we get up in the morning. We wait eagerly for the daily paper. 20th century was an age of Newspaper. Press is the third eye of mass. Through it we gather information about different countries of the world.

हिन्दी अनुवाद : समाचारपत्र पढ़ना हमारे जीवन का आवश्यक अंग बन गया है। जैसे ही हम सुबह में जागते हैं, समाचार पत्र की बेसबी से प्रतीक्षा करते हैं । बीसवीं शताब्दी समाचारपत्र कायुग था। प्रेस जनता की तीसरी आँख है । इसके द्वारा हम विभिन्न देश और दुनिया की खबर पाते हैं।

27. Sports and games are essential to enjoy overall health and wealth being. These are good way to keep fit mentally as well as physically, Various kinds of sports and games are played in different parts of the world. Cricket and football are the famous games of this time.

हिन्दी अनुवाद : खेलकूद हमारे स्वास्थ्य और धन के लिए आवश्यक है । यह मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहने का अच्छा तरीका है । दुनिया के विभिन्न भागों में भिन्न-भिन्न प्रकार के खेल खेले जाते हैं। वर्तमान में क्रिकेट और फुटबॉल प्रसिद्ध खेल हैं।

28. Man is a social animal. He cannot live alone and no person can be happy. without sincere friends. But selfish person cannot get friends. You cannot receive love unless you give it. Love is to be obtained only by giving love in return.

हिन्दी अनुवाद : मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है । वह अकेला नहीं रह सकता और कोई व्यक्ति बिना मित्रों के खुश नहीं रह सकता । लेकिन स्वार्थी व्यक्ति के मित्र नहीं होते। जबतक आप दूसरों को प्रेम न देंगे आप भी प्रेम नहीं पा सकते। प्यार के बदले ही प्यार मिल सकता है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

29. We are living in the age of science. Television, Cinema, Computer, ElectricIty, Aeroplane, Train, Bus, Telephone, Mobile, Radio etc are gift of sceince. From morning till evening we use things which are given us by science.

हिन्दी अनुवाद : हम विज्ञान के युग में जी रहे हैं । टेलीविजन, सिनेमा, कम्प्यूटर, बिजली, हवाईजहाज, रेलगाड़ी, बस, टेलीफोन, मोबाइल, रेडियो इत्यादि विज्ञान की ही देन है। सुबह से शाम तक हम जिन चीजों का इस्तेमाल करते हैं, वे विज्ञान की ही देन हैं।

30. Time is energything – said Napolean, the great. It is more valuable than money. It is worther than health. It is greater than honour. We get all these things If we have time and if we utilise it properly.

हिन्दी अनुवाद : नेपोलियन महान ने कहा था कि समय ही सबकुछ है । यह धन से ज्यादा कीमती है । यह स्वास्थ्य से ज्यादा मूल्यवान है । यह सम्मान से भी बढ़कर है । हम यह सबकुछ पा सकते हैं यदि समय का सदुपयोग करें ।

31. We know that sleep, rest and exercise are essential for health. Walking is in fact, the best form of exercise. So, a regular morning walk is very useful. It provides exercise to the body and freshness to the mind.

हिन्दी अनुवाद : हम जानते हैं कि सोना, आराम करना और व्यायाम स्वास्थ्य के लिए आवश्यक हैं। वास्तव में टहलना सर्वोत्तम व्यायाम है । इसलिए रोजाना प्रात:कालीन भ्रमण करना काफी लाभदायक है । यह हमारे शरीर और मस्तिष्क को प्रस्कुलित रखता है।

32. A true citizen is a responsible member of soclety. He is fully conscious of his duties and rights. He cares for his duties more than for his rights. A true citizen is a rare kind of man, like a good friend or a good servant.

हिन्दी अनुवाद : एक सच्चा नागरिक समाज का जिम्मेवार सदस्य होता है। वह अपने कर्त्तव्य एवं अधिकार के प्रति सजग रहता है। वह अधिकार से ज्यादा अपने कर्त्तव्य को महत्व देता है। एक सच्चा नागरिक उसी तरह दुर्लभ है जैसे एक सच्चा मित्र या एक अच्छा नौकर।

WBBSE Class 10 Hindi रचना अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद

33. Every free country has a flag of its own. It is the symbol of independence, unity, honour. Any dishonour to the national flag to be a dishonour to the nation. The people of a country can sacrifice even their lives for the honour of their national flag.

हिन्दी अनुवाद : प्रत्येक राष्ट्र का अपना एक झंडा होता है। यह आज़ादी, एकता और सम्मान का प्रतीक होता है। राष्र्रीय झंडे का किसी भी प्रकार से अपमान राष्ट्र का अपमान है। किसी देश की जनता अपने राष्ट्रीय झंडे के सम्मान की खातिर अपनी जान को भी न्योछावर कर सकती है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions and रचना सूक्तिपरक निबंध to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘सादा जीवन, उच्च विचार’

‘सादा जीवन, उच्च विचार’, यह सूक्ति जीवन के दो अलग तथ्यों, रूपों को प्रदर्शित करने वाली होते हुए भी मूलत: एक ही सत्य को स्वरूपाकार देने या उजागर करने वाली है । सादा जीवन उन्हीं का हुआ करता है कि जो उच्च विचारशील व्यक्ति हुआ करते हैं या फिर उच्च विचार वाले व्यक्ति ही सादगी का रहस्य पहचान कर जीवन के रहन-सहन, खान-पान, कार्य-पद्धति आदि को सादा बना कर व्यवहार किया करते हैं। ऐसा कर के वे संसार के लिए आदर्श तो स्थापित करते ही हैं, आदरणीय एवं चिरस्मरणीय भी बन जाते हैं।

सादा जीवन जीने पर विश्वास करने वाला व्यक्ति ईर्ष्या-द्वेष जैसे उन मनो-विकारों से भी बचा रहता है कि जिन्होंने आज पूरी मानवता को आक्रान्त कर रखा है । उन निहित-स्वार्थों से भी सादगी पसन्द आक्रान्त नहीं हुआ करता कि जो अनेक प्रकार के भ्रष्टाचारों के कारण बन कर केवल अपने प्रति ही नहीं, सारे विश्व की मानवता के प्रति हीन और आक्रामक बना दिया करते हैं । स्पष्ट है कि सादे जीवन का मानवीय मूल्यों की दृष्टि से बहुत अधिक महत्व है । इसीलिए हम प्रत्येक ज्ञानी सन्त के जीवन को एकदम सीधा-सादा पाते हैं। आधुनिक युग पुरुष महात्मा गाँधी से बढ़ कर सादगी का और अच्छा उदाहरण क्या हो सकता है ?

बिना विचारों की उच्चता के न तो आदमी की आत्मा ही ऊँची उठ सकती है और न ही वह कोई ऊँचा या महत्वपूर्ण कर्म करने के लिए ही अनुपाणित हो सकता है । उच्च विचारों से रहित व्यक्ति न तो स्वयं सामान्य स्तर से; सांसारिक ईर्ष्याद्रेष. माया-मोह आदि के मनोविकारों और स्वार्थों से, दुनिया की झँझटों से छुटकारा पा सकता है । वह छोटी चीजों और बातों के लिए स्वयं तो झगड़ता रहेगा ही, दूसरों को भी लड़ाता-भिड़ाता रहेगा। इसी कारण सन्तजन सादगी के साथ-साथ विचार भी उच्च बनाए रखने की बात कहा और प्रेरणा दिया करते हैं।

संसार ने आज तक आध्यात्मिक, भौतिक, वैज्ञानिक क्षेत्रों में जितनी और जिस प्रकार की भी प्रगति की हैं; वह उच्च विचार एवं धारणाएँ बना कर ही की है । धारणाओं और विचारों को उच्च बनाए बिना जीवन-संसार के छोटे-बड़े किसी भी तरह के किसी आदर्श को प्राप्त कर पाना कतई संभव नहीं हुआ करता । श्रेष्ठ एवं उच्च विचार होने पर सहज सामान्य को तो पाया ही जा सकता है । उच्च शिखर का लक्ष्य सामने रख कर चढ़ाई कर देने पर यदि उसे नहीं, तो उससे कम ऊँचे शिखर तक तो पहुँचा ही जा सकता है । इसलिए उन्नति और सफलता के इच्छुक व्यक्ति को अपनी चेतना को हीन भावों-विचारों से ग्रस्त कभी नहीं होने देना चाहिए ।

इस प्रकार स्पष्ट है कि शीर्षक-सूक्ति के दोनों भाग ऊपर से अलग-अलग प्रतीत होते हुए भी अपनी अन्तरात्मा में एक ही सत्य को निहित किए हुए हैं । वह सत्य केवल इतना ओर यही है कि जीवन में सादगी अपना कर ही उच्च विचार बनाए और पाए जा सकते हैं। इस प्रकार के सादगी और उच्च विचारों से सम्पन्न कर्मयोगियों ने ही संसार को भिन्न आध्यात्मिक एवं भौतिक क्षेत्रों में हुई प्रगति के आदान दिए हैं ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘परहित सरिस धर्म नहिं भाई’

परहित सरिस धरम नहिं भाई ।
पर पीड़ा सम नहिं अधमाई ।।

तुलसीदास की यह चौपाई इस कथन का रूपान्तर है –

अष्ठादश पुरापेषु व्यासस्य वचनद्वयम
परोपकार पुण्याय पापाय परपीडनम् ।।

अठारह पुराणों में व्यास ने दो ही बातें कही हैं – “परोपकार से पुण्य प्राप्त होता है और दूसरों को कष्ट पहुँचाने से पाप होता है ।’’

आज का नव धनाठ्य वर्ग परोपकार को घृणा की दृष्टि से देखता है फिर भी वह दिखावे के लिए कुछ परोपकार का कार्य करता है ताकि आयकर में चोटी की जा सके। धर्म का वास्तविक अर्थ हुआ करता है उदात्त मानवीय सद्गुणों का विकास कर उन्हें अपने में धारण करने की क्षमता अर्जित करना । तभी तो ‘धर्म’ की परिभाषा की जाती है कि’धारयते इतिह धर्म:’ अर्थात् जिसमें धारण कर पाने की शक्ति हो वही धर्म है, यह सफल-सार्थक हो सकती है।

सभी तरह के उदात एवं उदार सुदुगुणों को धारण कर पाने की शक्ति । इस शक्ति से सम्पन्न रहने के कारण ही मनुष्य अपने भीतर भिन्न प्रकार की धार्मिक प्रवृत्तियों का विकास कर पाता है। उन वृत्तियों में एक महानतम वृत्त है परोपकार करने की । कविवर तुलसीदास ने इसी प्रवृत्ति को महत्व देते हुए, महत्वपूर्ण मानते हुए अपनी महानतम रचना ‘रामचरितमानस’ में एक विशिष्ट ज्ञान सम्पन्न पात्र के मुख से यह कहलवाया है कि- ‘पर-हित सरिस धर्म नहिं भाई ।’ अर्थात् हे भाई, परोपकार से बढ़ कर मनुष्य के लिए अन्य कोई धर्म नहीं । संस्कृत में भी इस प्रकार की एक सूक्ति मिलती है । उसके अनुसार – ‘परोपकाराय सत्तां विभूतयः’ अर्थात् सज्जनों द्वारा अर्जित सभी प्रकार की सम्पत्तियाँ अपने सुख-भोग के लिए न होकर परोपकार या पर-हित-साधन के लिए ही हुआ करती है ।

मानव-जीवन की सार्थकता का वास्तविक मानदण्ड यही है कि वह पर-हित-साधन में इस सीमा तक आगे बढ़े कि दूसरों को भी अपने समान, अपने जैसा यानि साधन-सम्पन्न बना दे । शास्त्रीय शब्दों में मानवता का ॠण से मुक्ति पाने का प्रयास परोपकार है और परोपकार सब से बड़ा धर्म । ऐसा धर्म कि जिस की साधना के लिए कहीं जाने आने की कतई कोई जरूरत नहीं, जो सहज साध्य एवं सर्वसुलभ है ।

आज दुःखद स्थिति है कि परोपकार के नाम पर लोगों को उल्लू बनाया जा रहा है। इस भ्रष्ट व्यवस्था में परहित की बात कौन करे वश चले तो देश को भी बेच डालने में परहेज नहीं । शिकायत किससे की जाय क्योंकि –

बरबाद गुलिस्तां करने को बस एक ही उल्लू काफी था ।
अंजामे गुलिस्तां क्या होगा, हर शाख पे उल्लू बैठा है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘जो तोकूँ काँटा बुए, ताही बोई तू फूल’

सूक्तिपरक शीर्षक पंक्ति सन्त कबीर के एक प्रसिद्ध दोहे की पंक्ति है –

“जो तोवू काँटा बुए, ताही बोई तू पूल ।
तोके फूल-तो-पूल हैं, वाको हैं तिरशूल” ।।

अर्थात् यदि तेरी राह में कोई काँटे बोता है, तो भी तू बदला लेने की इच्छा से उसकी राह में काँटे मत बो; बल्कि काँटों के स्थान पर अपनी तरफ से फूल ही बोने का प्रयास कर । ऐसा करने पर तुझे तो फूल बोने के कारण बदले में फूल ही फूल प्राप्त होंगे, जबकि काँटे बोने वाले को बदले में काँटे ही मिल पाएँगे । इस सामान्य अर्थ से प्राप्त होने वाला व्याख्यापरक ध्वन्यर्थ यह है कि संसार में रहते हुए यदि कोई व्यक्ति तुम्हारा उपकार या बुरा करता है, तब भी तुम उसका अपनी ओर से भला ही करो । अन्ततोगत्वा भला करने वाले का भला होगा, जबकि बुरा करने वाला अपने बुरे किए का फल बुरा प्राप्त करेगा । इस उक्ति का अर्थ और प्रयोजन व्यक्ति की चेतना को बुरों और बुराइयों से विमुख कर अच्छों और अच्छाइयों की तरफ उन्मुख करना ही है । व्यक्ति को अपने भले के लिए, अन्तिम लाभ के लिए सन्मार्ग पर चलने, कुमार्ग का त्याग करने की प्रेरणा देना ही है ।

प्रकृति का सामान्य नियम भी यही है कि बबूल बोने पर आम खाने के लिए नही मिल सकते । आम खाने की इच्छा हो, तो आम के पौधे ही रोपने पड़ेंगे ।

आदमी स्वभाव, गुण और कर्म से वास्तव में बड़ा दुर्बल प्राणी है । उसपर बुराई का प्रभाव बड़ी जल्दी पड़ा करता है, जब अच्छाई का प्रभाव पड़ते-पड़ते ही पड़ा करता है । अच्छाई साधना और तत्पश्चर्या से प्राप्त हुआ करती है, जब की गण्डाई या दुष्टता यों ही प्राप्त हो जाया करती है । स्वभाव से पानी की तरह ढलान यानि सरलता की ओर अच्छा बन कर मौनभाव से अच्छाई करते जाने का मार्ग काफी कठिन एवं कष्ट साध्य है । इसी कारण व्यक्ति अच्छा करते-करते अकसर फिसल जाया करता है । बुरे मार्ग पर चलने और बुरा करने के लिए सरलता से तत्पर हो जाया करता है । सो सूक्तिकार व्यक्ति को चारित्रिक दृढ़ता का उपदेश देकर सभी के हित और सुख-साधन की कामना से अनुप्राणित होकर ही काँट बोने अर्थात् बुरा करने वालों की राह में भी फूल बोने अर्थात् भलाई और प्यार करने की प्रेरणा देना चाहता है।

कटुता से कटुता बढ़ती है, क्रोध से क्रोध बढ़ता है । बैर को प्रेम से ही जीता जा सकता है । जो किसी के बारे में बुरा नहीं सोचता, वही वास्तविक सुख और शांति का अनुभव करता है । ईष्या की आग और द्वेष का धुआँ उससे कासों दूर रहता है । कवि रहीम ने भी लिखा है –

प्रीति रीति सब सों भली, बैर न हित मित गोत ।
रहिमन याही जनम में बहुरि न संगति होत ।।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘नर हो, न निराश करो मन को’

जब हम महापुरुषों के जीवन-चरित को पढ़ते हैं तब हमें आश्चर्य होता है कि इन व्यक्तियों में ऐसी कौन-सी शक्ति थी जो उन्होंने कल्पनातीत कार्य कर दिखाया । पता चलता है कि वह शक्ति थी – उनका मनोबल, जिसने उन्हें असाधारण व्यक्तियों की श्रेणी में लाकर खड़ाकर दिया। अगर ऐसा नहीं होता तो क्या थोड़े से वीर मरहठो को लेकर वीर शिवाजी और कंकाल के पुतले महात्मा गाँधी वह सब कर पाते जो उन्होंने कर दिखाया। ऐसे अनेक उदाहरण इतिहास में भरे पड़े हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि मनुष्य अपने जीवन में जो कुछ करता है उसके पीछे उसकी मानसिक शक्ति ही होती है । अगर मानसिक शक्ति दृढ़ तो एक बार मौत भी हार जाती है ।

जिस दिन नर मनुष्य निराश या सन्तुष्ट होकर बैठ जाएगा, उस दिन वास्तव में सृष्टि का विकास ही रुक जाएगा, इस बात में तनिक भी सदेह नहीं । निराशा या उदासी यदि जीवन के तथ्य होते, तो आज तक विश्व में जो प्रगति एवं विकास संभव हो पाया है, कदापि न हो पाता । नरता का पहला और अनिवार्य लक्षण है हर हाल में, हर स्थिति में निरन्तर आगेही-आगे बढ़ते जाना ‘जिस तरह जल की नन्हीं, कोमल एवं स्वच्छ धारा अपने निकास-स्थान से निकलकर एक बार जब चल पड़ती है, तो सागर में मिले बिना कभी रुकती या विश्राम नहीं लिया करती; उसी प्रकार नरता भी कभी लक्ष्य पाए बिना रुका नहीं करती।

नर प्राणी किसी बात से निराश होकर बैठ जाए, यह उसे कतई शोभा नहीं देता । निराश होकर बैठ जाना हार तो है ही, श्रेष्ठता से विमुख होना या उसे काल के हाथों गिरवी रखना भी है । किसी भी वस्तु को गिरवी रखने वाला व्यक्ति मान-सम्मान एवं आत्मविश्वास के साथ-साथ लोक विश्वास से भी हाथ धो बैठता है । ऐसा होना दूसरे शब्दों में निराशात्तिरेक में उसका नरता से पतित होना है । अपने-आप को कहीं का भी नहीं रहने देने जैसा है ।

सो नर मनुष्य होकर कभी भूल से भी इस तरह की स्थिति, पतन और गिरावट मत आने दो । बुद्धिमान व्यक्ति को आशावादी होना चाहिए, ताकि वह अपना और अपने देश का कल्याण कर सके । कठिन से कठिन परिस्थितियों में भी अपना मनोबल बनाए रखना चाहिए क्योंकि मनोबल से ही सफलता कदम चूमती है । जिस व्यक्ति का मनोबल गिर जाता है, वह जीतेजी पशु के समान हो जाता है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘मनुष्यहै वही कि जो मनुष्य के लिए मरे’

गोस्वामी तुलसीदास द्वारा परिकल्पित एवं विरचित ‘रामचरितमानस’ में दी गई इस सूक्ति का सम्मूर्ण स्वरूप इस प्रकार है:

“जहाँ सुमति तहाँ सम्पत्रि नाना ।
जहाँ कुमति तहाँ विपत्ति निधाना ।।”

अर्थात् जहाँ यहा जिस व्यक्ति के हुदय एवं समस्त किया-व्यापारों में सुमति या सुबुद्धि का निवास अथवा आग्रह रहा करता है, वहीं पर सभी तरह की सुख-सम्पत्तियाँ सुलभ रहा करती हैं ।

यही पशु प्रवृत्ति है कि आप आप ही चरे,
मनुष्य है वही कि जो मनुष्य के लिए मरे ।

मनुष्य और पशु में यदि कोई अंतर है तो यह है कि पशु परहित की भावना से शून्य होता है । उसके जितने भी कार्य होते हैं वे सभी अपने तक सीमित रहते हैं। यदि मनुष्य भी मनुष्य के साथ ऐसा व्यवहार करे तो फिर मनुष्य और पशु में अंतर ही क्या रह जाएगा । हमारी संस्कृति में मानव-मात्र की कल्याण-भावना निहित है तथा यह संस्कृति ‘वसुधैव कुटंबकम्’ की पवित्र भावना पर आधारित है । सच तो यही है कि संसार में परोपकार के समान न कोई दूसरा धर्म है, न पुण्य ।

इस तथ्य को उजागर करने एवं सन्देश को प्रसारित करने के लिए तुलनात्मक दृष्टि अपना कर कवि ने परस्पर विलोम रहने वाले दो शब्दों का बारी-बारी से प्रयोग किया है । एक सुमति-कुमति, दूसरा सम्पत्ति-विपत्ति । ‘सुमति’ का सम्बन्ध ‘सम्पत्ति’ से बताया है; जबकि ‘कुमति’ का सम्बन्ध ‘विपत्ति’ से बताया गया है । मनुष्य क्योंकि सामाजिक, सर्वश्रेष्ठ एवं विचारवान् प्रणी है, इस कारण कवि ने उस से सुमति के द्वारा सम्पत्ति की ओर जाने का आग्रह किया है। व्यक्ति को कुमति का मार्ग त्याग देना चाहिए; क्योंकि वह तरह-तरह की विपत्तियों की ओर ले जाने वाला होता है।

सुमति से काम लेकर सुविचारित ढंग से चलने का मार्ग कठिन हो सकता है, प्राय: हुआ भी करता है । लेकिन जब मनुष्य उस कठिन मार्ग पर साहस और सुविचार से चल कर उसे पार कर लिया करता है, तब जिस सुख एवं आनन्द की अनुभूति हुआ करती है । इसी तरह कुमति सेरेरित हो और अविचार या कुविचार का दामन थाम कर चलने से अन्ततोगत्वा जिस प्रकार की आत्मपीड़ा ओर आत्मसंन्ताप झेलना पड़ा करता है, उसे भी शब्दों द्वारा आकार दे पाना संभव नही हुआ करता। वह तो मात्र झेलने वाला ही हर पल पश्चाताप की आग ने झुलसते रह कर अनुभव कर पाता है।

मानव जीवन का उद्देश्य केवल इतना नहीं है कि खाओ, पीओ और मस्त रहो । गोस्वामी तुलसीदास ने भी कहा है-

“एहि तन कर फल विषय न भाई, सब छल छांड़ि भजिय रघुराई ।।”

अर्थात् इस जीवन का लक्ष्य केवल विषय-वासनाओं में लिप्त नहीं, बल्कि निष्कपट होकर भगवान की भक्ति है । भक्ति भी तभी सफल हो सकती है जब हम दूसरे मानवमात्र के साथ सहानुभूति, सहयोग और संवेदना के साथ पेश आएं। अंग्रेजी का एक कथन है – “The best way to pray to God is to love His creation.”

WBBSE Class 10 Hindi रचना सूक्तिपरक निबंध

‘मन के हारे हार है, मन के जीते जीत’

हार-जीत तो आरम्भ से ही जीवन के साथ लगी हुई है, लगी रहती है और आगे भी लगी ही रहेगी। यह जीवन का एक निश्चित एवं परीक्षित सत्य है । सफलता प्राप्त करने की प्रेरणा लक्ष्य को हासिल करने की गहरी इच्छा शक्ति से आती है । नेपोलियन ने लिखा था – “इंसान जो सोच सकता है और जिसमें यकीन करता है वह उसे हासिल भी कर सकता है ।”

सभी कामयाबियों की शुरुआत उन्हें पूरा करने की गहरी इच्छा शक्ति से ही होती है। जिस तरह थोड़ी-सी आग ज्यादा गर्मी नहीं दे सकती, उसी प्रकार कमजोर इच्छा से बड़ी कामयाबियाँ नहीं मिल सकती। असफलता के डर से कुछ लोग कोशिश ही नहीं करते, और साथ ही पीछे न छूट जायं इस डर से वे पीछे भी रहना नहीं चाहते । ऐसे लोग जीतना तो चाहते हैं लेकिन हारने के डर से अपनी मानसिक क्षमताओं का इस्तेमाल नहीं कर पाते । वे अपनी क्षमता इस चिंता में गंवाते हैं कि कहीं हार न जाएँ, बजाए इसके कि जीतने की कोशिश में उसे लगाएँ

मानव-समाज ने अपने आरम्भ काल से लेकर आज तक जितनी प्रगति, जितना विकास किया है, उसके लिए जाने कितनी विघ्न-बाधाएँ सहीं, कितनी-कितनी असफलताएँ झेली और कितनी बार असफल परीक्षण किए, कहाँ है उस सब का हिसाब-किताब ? यदि वह कुछ विघ्न-बाधाएँ देख कर, कुछ असफल परीक्षणों के बाद ही मन मार कर बैठ जाता, तो आज तक की उन्नत यात्रा भला कैसे और क्यों कर के कर पाता ? वहीं अन्धेरी गुफाओं और घने जंगलों के सघन वृक्षों की डालियों में ही उछल-कूद न मचा रहा होता ? पर नहीं, मनुष्य के लिए हार मान हाथ-पर-हाथ धर कर बैठ जाना कतई संभव ही नहीं हुआ करता ।

मानव-मन हार को हार मान ही नहीं सकता । सच्चे मनुष्य का मन तो हमेशा जीत के आनन्दोल्लास से भरा रहता है । उत्साह से भरे उसके कर्मठ मन को बढ़ाता हुआ हर कदम जीत या सफलता को निकटतर खींचता हुआ प्रतीत होता है। तभी तो वह गर्मी-सर्दी, वर्षा-बाढ़ आदि किसी की भी परवाह न करते हुए, वसन्त या शरद की सुन्दरता की ओर आकर्षित होते हुए भी उन की अपेक्षा करते हुए अपने गन्तव्य की ओर कदम-दर-कदम हमेशा बढ़ता रहता है-तब तक कि जब तक उस तक पहुँच कर अपना विजय-ध्वज नहीं फहरा देता ।

इन तथ्यों के आलोक में शीर्षक-सूक्ति में व्यंजित सत्य को नतमस्तक होकर स्वीकार कर ही लेना चाहिए कि हारजीत दोनों मन के व्यापार हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना सामाजिक-सांस्कृतिक निबंध

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions and रचना सामाजिक-सांस्कृतिक निबंध to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi रचना सामाजिक-सांस्कृतिक निबंध

मँहगाई बहुत बड़ी समस्या

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • महँगाई के कारण
  • महँगाई के कारण आने वाली समस्या
  • महँगाई को दूर करने का उपाय
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- भारत की आर्थिक समस्याओं के अन्तर्गत महँगाई सबसे प्रमुख समस्या है। वस्तुओं के मूल्य में वृद्धि इतनी तेजी से हो रही है कि आज जब किसी वस्तु को पुन: खरीदने जाते हैं तो उस वस्तु का मूल्य पहले से अधिक बढ़ा हुआ होता है ।

महँगाई के कारण :- वस्तुओं के मूल्य में वृद्धि, अर्थात् महँगाई के अनेक कारण हैं, जिनका संक्षिप्त विवरण इस प्रकार है :-
(क) जनसंख्या में तेजी से वृद्धि :- भारत में जनसंख्या के विस्फोट ने वस्तुओं की कीमतों को बढ़ाने की दृष्टि से बहुत अधिक सहयोग दिया है। जितनी तेजी से जनसंख्या में वृद्धि हो रही है, उतनी तेजी से वस्तुओं का उत्पादन नहीं हो रहा है, जिससे अधिकांश वस्तुओं के मूल्यों में निरतंतर वृद्धि हो रही है ।
(ख) कृषि उत्पादन-व्यय में वृद्धि :- भारत कृषि-प्रधान देश है । यहाँ की अधिकाश जनसंख्या कृषि पर निर्भर है । गत अनेक वर्षों से खेती में काम आने वाले उपकरणों, उर्वरकों आदि के मूल्यों में वृद्धि हुई है, फलतः उत्पादित वस्तुओं के मूल्यों में वृद्धि होती जा रही है। अधिकांश वस्तुओं का मूल्य प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि-पदार्थों के मूल्यों से संबंधित है। इसी कारण जब कृषि-मूल्यों में वृद्धि होती है तो देश में प्राय: सभी वस्तुओं के दाम बढ़ जाते हैं।
(ग) कृत्रिम रूप से वस्तुओं की आपूर्ति में कमी :- वस्तुओं का मूल्य माँग और पूर्ति पर आधारित है। बाजार में वस्तुओं की कमी होते ही उनके मूल्य में वृद्धि हो जाती है । अधिक लाभ कमाने के उद्देश्य से भी व्यापारी वस्तुओं का कृत्रिम अभाव पैदा करके महँगाई बढ़ा देते हैं।

महँगाई के कारण होने वाली समस्याएँ :- महँगाई नागरिकों के लिए अभिशापस्वरूप है । भारत एक गरीब देश है । यहाँ की अधिकांश जनसंख्या के आय के साधन सीमित हैं । इस कारण साधारण नागरिक और कमजोर वर्ग के व्यक्ति अपनी दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं कर पाते । बेरोजगारी इस कठिनाई को और भी अधिक जटिल बना देती है ।

महँगाई को दूर करने के उपाय :- यदि महँगाई इसी दर से बढ़ती रही तो देश के आर्थिक विकास में बहुत बड़ी बाधा उपस्थित हो जाएगी। इससे अनेक प्रकार की सामाजिक बुराइयाँ जन्म लेंगी। अतः महँगाई की इस समस्या को अमूल नष्ट करना अति आवश्यक है ।

महँगाई को दूर करने के लिए सरकार को समयबद्ध कार्यक्रम बनाना होगा । किसानों को सस्ते मूल्य पर खाद, बीज और उपकरण उपलब्ध कराने होंगे, ताकि कृषि-उत्पादन का मूल्य कम हो सके । मुद्रा-प्रसार को रोकने के लिए घाटे की व्यवस्था समाप्त करनी होगी तथा घाटे को पूरा करने के लिए नए नोट छापने की प्रणाली बंद करना होगा । जनसंख्या की वृद्धि को रोकने के लिए निरंतर प्रयास करने होंगे, ताकि वस्तुओं का उचित बँटवारा हो सके ।

उपसंहार :- महँगाई के कारण हमारी अर्थव्यवस्था में अनेक प्रकार की समस्याएँ उत्पन्न हो गई हैं। घाटे की अर्थव्यवस्था ने इस समस्या को और अधिक बढ़ा दिया है । यद्यपि सरकार की ओर से प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप में किए जाने वाले प्रयासों द्वारा महँगाई की इस प्रवृत्ति को रोकने का प्रयास निरंतर किया जा रहा है, तथापि इस दिशा में अभी तक पर्याप्त सफलता नहीं मिल सकी है। यदि समय रहते महँगाई की इस समस्या पर नियंत्रण नहीं किया गया तो हमारी अर्थव्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाएगी और हमारी प्रगति के सारे रास्ते बंद हो जाएँगे, भुष्टाचार अपनी जड़ें जमा लेगा और नैतिक मूल्य पूर्णतया समाप्त हो जाएँगे।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

बेरोजगारी

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • बेरोजगारी-एक प्रमुख समस्या
  • बेरोजगारी-एक अभिशाप
  • बेरोजगारी के कारण
  • बेरोजगारी दूर करने के उपाय
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- महाविद्यालय अथवा विश्वविद्यालय से डिग्री लेकर रोजगार की तलाश में भटकते हुए नवयुवक के चेहरे पर निराशा और चिंता के भाव आजकल देखना सामान्य-सी बात हो गयी है। कभी-कभी रोजगार की तलाश में भटकता हुआ युवक अपनी डिग्रियाँ फाड़ने अथवा जलाने के लिए विवश दिखाई देता है। वह रात को देर तक बैठकर अखबारों के विज्ञापनों को पढ़ता है, आवेदन-पत्र लिखता है। साक्षात्कार देता है और नौकरी न मिलने पर पुनः रोजगार की तलाश में भटकता रहता है। युवक अपनी योग्यता के अनुरूप नौकरी खोजते रहते हैं। घर के लोग उसे निकम्मा समझते हैं, समाज के लोग आवारा कहते हैं, जबकि स्वयं बेचारा निराशा की नींद सोता है और आँसुओं के खारेपन को पीकर समाज को अपनी मौन-व्यथा सुनाता है ।

बेरोजगारी का अर्थ :-बेरोजगारी का अभिप्राय उस स्थिति से है जब कोई योग्य तथा काम करने के लिए इच्छुक व्यक्ति प्रचलित मजदूरी की दरों पर कार्य करने के लिए तैयार हो और उसे काम न मिलता हो। बालक, वृद्ध, रोगी, अक्षम एवं अपग व्यक्तियों को बेरोजगार की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता । जो व्यक्ति काम करने के इच्छुक नहीं हैं और परजीवी हैं, वे भी बेरोजगारों की श्रेणी में नहीं आते ।

एक प्रमुख समस्या :- भारत की आर्थिक समस्याओं के अंतर्गत बेरोजगारी एक प्रमुख समस्या है । वस्तुत: यह एक ऐसी बुराई है, जिसके कारण केवल उत्पादक मानव-शक्ति ही नष्ट नहीं होती वरन देश का भावी आर्थिक विकास ही अवरुद्ध हो जाता है । जो श्रमिक अपने कार्य द्वारा देश के आर्थिक विकास में सक्रिय सहयोग दे सकते थे, वे कार्य के अभाव में बेरोजगार रह जाते हैं। यह स्थिति हमारे विकास में बाधक है ।

एक अभिशाप :- बेरोजगारी किसी भी देश या समाज के लिए अभिशाप है। इससे एक ओर निर्धनता, भुखमरी तथा मानसिक अशांति फैलती है तो, दूसरी ओर युवकों में आक्कोश तथा अनुशासनहीनता बढ़ती है। चोरी, डकैती, हिंसा, अपराध-वृत्ति एवं आत्महत्या आदि समस्याओं के मूल में एक बड़ी सीमा तक बेरोजगारी ही विद्यमान है । बेरोजगारी एक ऐसा भयंकर विष है जो संपूर्ण देश के आर्थिक, सामाजिक एवं राजनीतिक जीवन को दूषित कर देता है। अतः उसके कारणों को खोजकर उनका निराकरण अत्यधिक आवश्यक है।

बेरोजगारी के कारण :- भारत में बेरोजगारी के अनेक कारण हैं जिनमें प्रमुख निम्न हैं :-

(क) जनसंख्या में वृद्धि :-बेरोजगारी का प्रमुख कारण है जनसंख्या में तीव्र वृद्धि । विगत कुछ दशकों में भारत में जनसंख्या का विस्फोट हुआ है।
(ख) दोषपूर्ण शिक्षा-प्रणाली :-भारतीय शिक्षा सैद्धांतिक अधिक है, लेकिन व्यावहारिकता में शून्य है । इसमें पुस्तकीय ज्ञान पर ही विशेष ध्यान दिया जाता है ।
(ग) कुटीर उद्योगों की उपेक्षा :-अंग्रेजी सरकार की कुटीर उद्योग विरोधी नीति के कारण देश में कुटीर उद्योगधंधों का पतन हो गया, जिससे अनेक कारीगर बेकार हो गए ।
(घ) औद्योगीकरण की मंद प्रक्रिया :-विगत पंचवर्षीय योजनाओं में देश में औद्योगिक विकासके लिए प्रशंसनीय कदम उठाए गए हैं, किंतु समुचित रूप से देश को औद्योगीकरण नहीं किया जा सका है ।
(ङ) कृषि का पिछड़ापन :- भारत की लगभग 72 % जनता कृषि पर निर्भर है । कृषि के क्षेत्र में अत्यंत पिछड़ी हुई दशा के कारण कृषि बेरोजगारी व्यापक हो गई है।

बेरोजगारी दूर करने के उपाय :-बेरोजगारी दूर करने में निम्नलिखित उपाय सहायक सिद्ध हो सकते हैं –
(क) जनसंख्या वृद्धि पर नियंत्रण :-जनसंख्या में अत्यधिक वृद्धि ही बेरोजगारी का मूल कारण है । अत: इस पर निय्यंत्रण बहुत आवश्यक है। जनता को परिवार-नियोजन का महतव समझाते हुए उसमें छोटे परिवार के प्रति चेतना जाग्रत करनी चाहिए।
(ख) शिक्षा-प्रणाली में व्यापक परिवर्तन :-शिक्षा को व्यवसाय-प्रधान बनाकर शारीरिक श्रम को उचित महत्व दिया जाना चाहिए।
(ग) कुटीर उद्योगों का विकास :-सरकार द्वारा कुटीर उद्योगों के विकास की ओर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।
(घ) औद्योगीकरण :- देश में व्यापक स्तर पर औद्योगीकरण किया जाना चाहिए । इसके लिए विशाल उद्योगों की अपेक्षा लघुस्तरीय उद्योगों का अधिक विकास करना चाहिए।
(ङ) सहकारी खेती :- कृषि के क्षेत्र में अधिकाधिक व्यक्तियों को रोजगार देने के लिए सहकारी खेती को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए।
(च) राष्ट-निर्माण संबंधी विविध कार्य :- देश में बेरोजगारी को दूर करने के लिए राष्ट्र-निर्माण संबंधी विविध कार्यों का विस्तार किया जाना चाहिए, जैसे – सड़कों का निर्माण, रेल-परिवहन का विकास, पुल-निर्माण, बाँध-निर्माण तथा वृक्षारोपण आदि ।

उपसंहार :- भारत सरकार बेरोजगारी के प्रति जागरुक है तथा इस दिशा में महत्त्पपूर्ण कदम भी उठा रही है । परिवार-विनियोजन, बैंकों का राष्ट्रीयकरण, कच्चा माल एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने की सुविधा, कृषि-भूमि की हदबन्दी, नए-नए उद्योगों की स्थापना, अप्रंटिस (शिक्षु) योजना, प्रशिक्षण केंद्रों की स्थापना, आदि अनेकानेक कार्य ऐसे हैं जो बेरोजगारी को दूर करने में एक सीमा तक सहायक सिद्ध हुए हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

सांप्रदायिकता : कारण व समाधान

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • सम्पदायिकता का कारण
  • सांपदायिक संघर्ष के कारण
  • भारत में संप्यदायिकता
  • साप्पदायिक घटनाएँ
  • सांपदायिकता के दुष्षरिणाम
  • सांप्रदायिकता का समाधान
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- भारत एक अरब से भी अधिक आबादी वाला विशाल देश है। यह स्वयं में एक संसार है। इसमें अनेक भाषाओं, अनेक जातियों और अनेक धर्मों के लोग रहते हैं। उनके खान-पान, वेश-भूषा और रीति-रिवाज भी अलग-अलग हैं। यह एक मात्र ऐसा देश है, जहाँ सबसे अधिक भाषाएँ बोली जाती हैं। यहाँ हिंदू बहुसंख्यक हैं, किंतु साथ ही मुसलमान, सिख, ईसाई, पारसी आदि सभी यहाँ के समान स्तर के समान अधिकार के नागरिक हैं । सभी धर्मावलंबी यहाँ अपने तौर-तरीके, रीति-रिवाज और परंपराओं का पालन करते हैं। इतनी सब भिन्नताओं के होते हुए भी उनमें एक मूलभूत एकता है और वह यह है कि ये हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई बाद में हैं, पहले भारतीय हैं। कोई भी सम्र्रदाय अथवा धर्म मानव-मानव को लड़ाई की बात नहीं कहता।

उर्दू के प्रसिद्ध शायर इकबाल ने कहा था-

मज़हब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना ।
हिंदी हैं, हमवतन हैं, हिन्दोस्तां हमारा ।।

सांप्रदायिकता का कारण :- जब कोई सम्रदाय अथवा धर्म स्वयं को सर्वश्रेष्ठ और अन्य संप्रदायों को निम्न मानने लगता है, तब उसके मन में अपने सम्रदाय के प्रति एक अहंकार की बू आने लगती है। इसी कारण वह दूसरे सम्र्रदाय के प्रति घृणा, विद्वेष और हिंसा का भाव रखने लगता है ।

सांप्रदायिक संघर्ष के कारण :- भारत में संप्रदायिकता की समस्या प्रारंभ से ही धार्मिक की अपेक्षा मुख्यतः: राजनीतिक रही है । कुछ स्वार्थी राजनेता अपने अथवा अपने दल के लाभ हेतु भड़काऊ भाषण देकर आग में घी डाल देते हैं । परिणामस्वरूप संप्रदाय के अंधे लोग अन्य धर्माधों से भिड़ जाते हैं और सारा जनजीवन दूषित कर देते हैं।

भारत में सांप्रदायिकता :- भारत में सांप्रदायिकता का प्रारंभ मुसलमानों के आगमन से हुआ। शासन और शक्ति पाकर मुस्लिम आक्रमणकारियों ने धर्म को आधार बनाकर हिंदू जन-जीवन को रौंद डाला। हिंदुओं के धार्मिक तीर्थो को तोड़ा, देवी-देवताओं को अपमानित किया, बहू-बेटियों को अपवित्र किया, जान-माल का हरण किया । परिणामस्वरूप, हिंदू जाति के मन में उन पाप-कर्मों के प्रति गहरी घृणा भर गई, जो आज तक भी जीवित है । छोटी-छोटी घटना पर हिंदूमुस्लिम संघर्ष का भड़क उठना उसी घृणा का सूचक है ।

सांप्रदायिक घटनाएँ :- संप्रदायिकता को भड़काने में अंग्रेज शासकों का गहरा घडयंत्र था। आजादी से पूर्व अनेक खूनी-संघर्ष हुए । आजादी के बाद तो विभाजन का जो संघर्ष हुआ, भीषण नर-संहार हुआ । उसे देखकर समूची मानवता बिलख-बिलखकर रो पड़ी थी।

सांप्रदायिकता के दुष्परिणाम :- सांप्रदायिकता का उन्माद देश में कभी-कभी ऐसी कटुता पैदा कर देती है कि आये दिन हिंदू-मुस्लिम दंगे होते हैं । इसके द्वारा तोड़-फोड़, आगजनी और नर-संहार का ऐसा तांडव होता है कि मानवता का सिर शर्म से झुक जाता है।

सांप्रदायिकता का समाधान :- भारत एक धर्म-निरपेक्ष देश है । हमारे अपने देश में सां्रदायिकता की समस्या का समाधान कठिन अवश्य है, किंतु असंभव नहीं । संपदायिकता का अन्धापन अज्ञान तथा अविवेक से पैदा होता है। इसलिए शिक्षा का प्रसार सर्वोत्तम उपाय है।

देश में कानून का शासन स्थापित किया जाय, अर्थात् प्रत्येक व्यक्ति चाहे हिंदू हो या मुसलमान, सिख हो या ईसाई, समान कानून का पालन करे । कानून का उल्लंघन करने पर द््ड भी समान रूप में दिया जाए । साम्र्रदायिकता फैलाने वाले को दंडित किया जाए । जनसंचार के माध्यमों द्वारा सांपदायिकता विरोधी कार्यक्रम प्रसारित किए जाएं ।

उपसंहार :- प्रत्येक मानव का यह अधिकार है कि वह अपनी इच्छानुसार धर्म का पालन करे। किसी मानव को यह अधिकार नहीं है कि वह अपने धार्मिक अन्धविश्वास के कारण दूसरों की उन्नति के मार्ग की बाधा बन जाए। यदि कोई सांप्रदायिकता की संकुचित भावना से प्रेरित होकर अपने धर्म का विकास तथा दूसरे धर्म का उपहास करता है तो इससे निश्चय ही राष्ट्र, विश्व तथा संपूर्ण मानवता को क्षति पहुँचेगी । अतः सांपदायिकता के अभिशाप को समाप्त किए बिना मानवता की सुरक्षा संभव नहीं है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

राष्ट्रीय एकता

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • भारत में अनेकता के विविध रूप
  • राष्ट्रीय एकता की आवश्यकता
  • राष्ट्रीय एकता के मार्ग में बाधाएँ
  • जातिवाद
  • राष्ट्रीय एकता बनाए रखने के उपाय-सर्वधर्म समभाव
  • समष्टि-हित की भावना
  • एकता का विश्वास, शिक्षा का प्रसार
  • राजनैतिक वातावरण की स्वच्छता
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- भारत अनेक धर्मों, जातियों और भाषाओं का देश है । धर्म, जाति एवं भाषाओं की दृष्टि से विविधता होते हुए भी भारत में प्राचीनकाल से ही एकता की भावना विद्यमान रही है। जब कभी किसी ने उस एकता को खंडित करने का प्रयास किया है, भारत का एक-एक नागरिक सजग हो उठा है । राष्ट्रीय एकता को खंडित करने वाली शक्तियों के विरुद्ध आंदोलन आरंभ हो जाता है । राष्ट्रीय एकता हमारे राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक है और जिस व्यक्ति को अपने राष्ट्रीय गौरव का अभिमान नहीं है, वह नर नहीं, नर-पशु है –

जिसको न निज गौरव तथा निज देश का अभिमान है ।
वह नर नहीं नर-पशु निरा है और मृतक समान है ।
-मैथिलीशरण गुप्त

राष्ट्रीय एकता से अभिप्राय :- राष्ट्रीय एकता का अभिपाय है-संपूर्ण भारत की आर्थिक, सामाजिक, राजनीतिक और वैचारिक एकता । हमारे कर्मकांड, पूजा-पाठ, खान-पान, रहन-सहन और वेश-भूषा में अंतर हो सकता है । इनमें अनेकता भी हो सकती है, किंतु हमारे राजनीतिक और वैचारिक दृष्टिकोण में एकता है। इस प्रकार अनेकता में एकता ही भारत की प्रमुख विशेषता है ।

भारत में अनेकता के विविध रूप :- भारत जैसे विशाल देश में अनेकता का होना स्वाभाविक ही है । धर्म के क्षेत्र में हिंदू, मुसलमान, सिख, ईसाई, जैन, बौद्ध, पारसी आदि विविध धर्मावलंबी यहाँ निवास करते हैं । इतनी विविधताओं के होते हुए भी भारत अत्यंत प्राचीनकाल से एकता के सूत्र में बँधा रहा है ।

राष्ट्रीय एकता की आवश्यकता :- राष्ट्र की आंतरिक शक्ति तथा सुव्यवस्था और बाह्य सुरक्षा की दृष्टि से राष्ट्रीय एकता की परम आवश्यकता होती है। भारतवासियों में यदि जरा-सी भी फूट पड़ेगी तो अन्य देश हमारी स्वतंज्रता को हड़पने के लिए तैयार बैठे हैं ।

राष्ट्रीय एकता के मार्ग में बाधाएँ :- राष्ट्रीय एकता की भावना का अर्थ मात्र यह नहीं है कि हम एक राष्ट्र से संबद्ध हैं । राष्ट्रीय एकता के लिए एक-दूसरे के प्रति भाईचारे की भावना आवश्यक है । आजादी के समय हमने सोचा था कि पारस्परिक भेदभाव समाप्त हो जाएगा किंतु संप्रदायिकता, क्षेत्रीयता, जातीयता, अज्ञानता और भाषागत अनेकता ने अब तक पूरे देश को आक्रांत कर रखा है ।

राष्ट्रीय एकता को छिन्न-भिन्न कर देने वाले कारण निम्न हैं :-

(i) सांप्रदायिकता :- राष्ट्रीय एकता के मार्ग में सबसे बड़ी बाधा सांपदायिकता की भावना है। संप्रदायिकता एक ऐसी बुराई है जो मानव-मानव में फूट डालती है, समाज को विभाजित करती है। जहाँ भी द्वेष, घृणा और विरोध है, वहाँ धर्म नहीं है । राष्ट्रवादी शायर इकबाल ने कहा है –

“मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना ।
हिंदी हैं हम वतन है हिंदोस्तां हमारा ।।”

संप्रदायिक कटुता को दूर करने के लिए हमें परस्पर सभी धर्मों का आदर करना चाहिए।

(ii) भाषागत विवाद :- भारत बहुभाषी राष्ट्र है । विभिन्न प्रांतों की अलग-अलग बोलियाँ और भाषाएँ हैं। प्रत्येक व्यक्ति अपनी भाषा को श्रेष्ठ और उसके साहित्य को महान मानता है ।
मातृभाषा को सीखने के बाद संविधान में स्वीकृत 18 भाषाओं में से किसी भी भाषा को सीख लें तथा राष्ट्रीय एकता के निर्माण में सहयोग प्रदान करें ।

(iii) प्रांतीयता अथवा प्रादेशिकता की भावना :- प्रांतीयता अथवा प्रादेशिकता की भावना भी राष्ट्रीय एकता के मार्ग में बाधा उत्पन्न करती है । कभी-कभी किसी अंचल विशेष के निवासी अपने लिए पृथक् अस्तित्व की माँग रखते हैं।

(iv) जातिवाद :- भारत में जातिवाद सदैव प्रभावी रहा है । कर्म पर आधारित वर्ण-व्यवस्था टूटी है और जातिप्रथा कहर रूप से उभरी है । जातिवाद ने भारतीय एकता को बुरी तरह प्रभावित किया है ।

राष्ट्रीय एकता बनाए रखने के उपाय :- वर्तमान परिस्थितियों में राष्ट्रीय एकता को सुदृढ़ करने के लिए निम्नलिखित उपाय अपनाए जा सकते हैं :-

  1. सर्वधर्म समभाव :- सभी धर्मो की आदर्श एवं श्रेष्ठ बातें समान दिखाई देती हैं । सभी धर्मों का समान रूप से आदर होनी चाहिए ।
  2. समष्टि-हित की भावना :- हम अपनी स्वार्थ भावना को भूलकर समष्टि-हित का भाव विकसित कर लें ।
  3. एकता का विश्वास :- भारत की अनेकता में ही एकता का निवास है। सभी नागरिकों को प्रेम और सद्भाव द्वारा एक-दूसरे में अपने प्रति विश्वास पैदा करनी चाहिए ।
  4. राजनीतिक वातावरण की स्वच्छता :- स्वतंत्रता से पूर्व अंग्रेजों ने तथा स्वतंत्रता के बाद राजनेताओं ने जातीय विद्वेष तथा हिंसा भड़काये हैं। किसी संप्रदाय विशेष का मसीहा बनकर अपना स्वार्थ सिद्ध करते हैं। इन स्वार्थी राजनेताओं का बहिष्कार करना चाहिए ।

उपसंहार :- आज विकास के साधन बढ़ रहे हैं, भौगोलिक दूरियाँ कम हो रही हैं, किंतु आदमी और आदमी के बीच दूरी बढ़ती ही जा रही है । हम सभी को मिलकर राष्ट्रीय एकता को सुदृढ़ बनाने के लिए प्रयास करना चाहिए। ऐसा करने पर भारत एक सबल राष्ट्र बन सकेगा ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

इक्कीसवीं सदी का भारत

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • परिवर्तनशील भारत
  • इक्कीसवीं सदी का भारत
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- लगभग 25-30 वर्ष पूर्व अंग्रेजी साहित्य के एक लेखक ने ‘इक्कीसवीं सदी की दुनिया’ नामक लेख लिखा था, जिसमें यह बताया गया था कि इक्कीसवीं सदी में मानव-समाज औद्योगिकता की अनेक मंजिलें तय करते हुए उस जगह तक जा पहुँचेगा, जहाँ आदमी शून्य होगा और मशीनें सर्वे त्तम । यह चाँद तक पहुँचेगा तथा आकाश पर जगमगाते सितारों की खोज करेगा किंतु मशीनों के माध्यम से । यह वह समय होगा जब मानव की समस्त वौद्धिक शक्तियाँ मशीन के कलपुर्जों को समर्पित कर दी जाएँगी । विकास के अंतिम चरण में मनुष्य स्वनिर्मित मशीनों का दास होकर रह जाएगा ।

इक्कीसवीं सदी का भारत :- कल्पना में जब भी इक्कीसवीं सदी का भारत उभरता है तो उसके दो स्पष्ट छोर दिखाई देते हैं। इनमें से एक आधुनिक और वैज्ञानिक विश्व से जुड़ा है तो, दूसरा काठ के बने गाड़ी के दो पहियों के साथ धीरे-धीरे आगे बढ़ने को विवश है ।

भारत में पंचवर्षीय योजनाओं पर अरबों रुपया खर्च हो रहा है । इससे भारत का आधुनिकीकरण तो हो रहा है, किंतु इसका लाभ देश के अधिकांश वर्ग को नहीं मिल रहा है । इससे यह खतरा भी हो सकता है कि भारत का एक बहुत छोटा वर्ग अति-आधुनिक साधनों और सुविधाओं का भोग कर रहा होगा और एक बहुत बड़ा वर्ग अपनी जीविका के लिए ही संघर्ष कर रहा होगा ।

इक्कीसवीं सदी के भारत के रूप में कल्पना कीजिए कि देश का एक ऐसा वर्ग होगा जो केवल अपने हाथ की एक अँगुली से बटन दबाकर रात का खाना अपनी मेज पर मँगवाएगा तथा दूसरा बटन दबाकर जूठे बर्तन भी साफ कराएगा। इस सदी का व्यक्ति राकेटों पर सवार होकर चंद्रमा की यात्रा करेगा तथा घण्टों या मिनटों में ब्रह्मांड का चक्कर लगाकर वापस अपने घर लौट सकेगा। किसी कार्यालय में बैठे लिपिक को पूरे दिन टाइप करने की आवश्यकता नहीं, अपितु संपूर्ण रिपोर्टिग को कंप्यूटर की मदद से कुछ ही देर में प्रिंटर द्वारा लेखा-जोखा प्रस्तुत कर देगा । दूसरी ओर भारत में एक ऐसा वर्ग भी होगा जो अपनी न्यूनतम आवश्यकताओं रोटी, कपड़ा और मकान के लिए दर-दर भटक रहा होगा।

इक्कीसवीं सदी और भारत :- संपन्न देशों की नकल करके इक्कीसवीं सदी की बात करने वाले भारत की इसके क्षेत्र में तैयारी बहुत कम है । हमारे देश में 21 वीं सदी की बात के लिए हड़बड़ाहट अधिक है, तैयारी कम है।

अत्यधिक प्रयासों के बाद भी हम अपनी कृषि को पूर्णत: वैज्ञानिक आधार नहीं दे पाए हैं। अभी भी बहुत कम किसान ऐसे हैं जो कृषि के वैज्ञानिक तरीकों और साधनों का प्रयोग कर पाते हैं, किंतु दस वर्ष बाद हम अवश्य इतने समर्थ हो जायेंगे कि अपने देश की आवश्यकताओं की पूर्ति करते हुए खाद्यान्नों का निर्यात भी कर सकें।

हमारे देश में प्राकृतिक संसाधनों की कोई कमी नहीं है, कमी है तो सिर्फ उनके समुचित दोहन की। इस शताब्दी में हम इन संसाधनों का भरपूर और समुचित उपयोग कर सकने की स्थिति में होंगे ।

उपसंहार :- हमें विश्वास है कि सन् 2010 ई० तक हम विकास की उस निर्णायक स्थिति में अवश्य पहुँच जायेंगे जहाँ भारत का कोई बालक भूखा नहीं सो सकेगा, कोई ऐसा तन नहीं होगा जिस पर वस्त्र नही होगा तथा कोई ऐसा परिवार न होगा जिसके सिर पर छत न हो, अर्थात् प्रत्येक नागरिक को रोटी, कपड़ा और मकान सुलभ होगा ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

दूरदर्शन का प्रभाव

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • दूरदर्शन का आविष्कार, उपयोग, प्रभाव
  • दूरदर्शन से लाभ तथा हानियाँ
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- दूरदर्शन अर्थात् टेलीविजन आधुनिक-युग में मनोरंजन के साथ-साथ सूचनाओं की प्राप्ति का भी महत्वपूर्ण साधन है । केवल पच्चीस-तीस वर्ष पहले तक भारतीय समाज में दूरदर्शन का उपयोग महानगरों के कुछ्छ संपन्न परिवार ही कर पाते थे तथा इस पर सीमित कार्यक्रम ही प्रसारित होते थे, कितु आज स्थिति यह है कि दूरदर्शन देश के प्रत्येक शहर तथा गाँव तक पहुँच चुका है । देश की अधिकांश आबादी तक यह कोठियों से लेकर झुग्गी-झोपड़ी तक अपने पैर पसार चुका है । दूरदर्शन के उपग्रह द्वारा प्रसारण संबंधी सुविधा के कारण आजकल सैकड़ों चैनलों एवम् कार्यक्रमों की भरमार है ।

दूरदर्शन का आविष्कार :- 25 जनवरी, सन् 1926 को इंग्लैण्ड में एक इंजीनियर जान बेयर्ड ने रायल इस्स्टीद्यूट के सदस्यों के सामने टेलीविजन का सर्व्यथम प्रदर्शन किया था । उसने कठपुतली के चेहरे का चित्र रेडियो की तरंगों की सहायता से वैज्ञानिकों के सामने प्रदर्शित किया था । विज्ञान के लिए यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण घटना थी।

दूरदर्शन का उपयोग :- आधुनिक समाज में दूरदर्शन का उपयोग मनोरंजन, शिक्षा, साहित्य, संगीत, सूचना आदि विभिन्न क्षेत्रों के लिए किया जा रहा है । आज यह मनोरंजन का सबसे सस्ता और सुलभ साधन है । अब लोगों को फिल्म देखने के लिए सिनेमा हॉल तक नहीं जाना पड़ता है। क्रिकेट-मैच को देखने के लिए मैदान पर जाने की आवश्यकता नहीं पड़ती । पूरे विश्व के समाचार तथा विभिन्न संस्कृतियों के आधार-व्यवहार आदि का दृश्यावलोकन भी घर बैठे हो जाता है । इसके माध्यम से विभिन्न कक्षाओं के लिए शैक्षिक कार्यक्रमों का प्रसारण भी किया जाता है, जिससे छात्रों को अध्ययन में सुविधा मिलती है । यू. जी. सी. का कंट्रीवाइड क्लास रूम टीचिंग ऐसा ही कार्यक्रम है तथा दूरदर्शन का ज्ञान-दर्शन चैनल शिक्षा प्रदान करने वाला चैनल है जो बहुत उपयोगी है ।

दूरदर्शन का प्रभाव :- दूरदर्शन आज प्रत्येक परिवार का एक आवश्यक अंग बन गया है, जिसका परिवार तथा समाज पर व्यापक प्रभाव पड़ता है । व्यक्ति, परिवार तथा समाज पर दूरदर्शन का प्रभाव लाभकारी है या हानिकारक यह प्रश्न विचारणीय है । अतः लाभ-हानि के दृष्टिकोण से दूरदर्शन के प्रभाव का विश्लेषण इस प्रकार किया जा सकता है:

दूरदर्शन से लाभ – दूरदर्शन समाज के लिए निम्न क्षेत्रों में उपयोगी है-
दूरदर्शन आज के समय में सबसे सस्ता एवं सुलभ मनोरंजन प्रदान करता है । इसमें केवल बिजली का थोड़ा-सा खर्च लगता है । लोग घर पर बैठकर अपनी-अपनी रुचि के अनुसार कार्यक्रम देखते हैं।

दूरदर्शन के पर्दे पर विश्व मानव समुदाय की विभिन्न संस्कृतियों से संबंधित कार्यक्रम आते रहते हैं, जिससे हम उनकी संस्कृति से परिचित हो जाते हैं। जिन स्थानों पर जाना सम्भव नहीं होता उनकी भी जानकारी मिल जाती है।

दूरदर्शन के माध्यम से हम महत्वपूर्ण व्यावसायिक सूचनाएँ एवं शिक्षा संबंधी अनेक तथ्यों की जानकारियाँ अपने घर में ही प्राप्त कर लेते हैं। इसका लाभ हमें शैक्षणिक एवं व्यावसायिक स्तर पर प्राप्त होता है ।

दूरदर्शन के कारण बच्चों की बुद्धि का विकास भी शीघ्रता से संभव हो गया है । आज उन्हे बाघ और सिंह का अंतर बताने के लिए किसी चिड़ियाघर ले जाने की आवश्यकता नहीं है । हवाई जहाज, हेलीकॉट्टर, रॉकेट आदि को टेलीविजन के पर्दे पर देखकर ही पहचान करना सीख जाते हैं ।

दूरदर्शन से हानियाँ :- जहाँ दूरदर्शन से अनेक लाभ हैं, वहीं दूसरी ओर समाज को इससे अनेक हानियाँ भी हैं, उनमें से प्रमुख निम्नलिखित हैं –
(i) समय की हानि :- मनुष्य के लिए मनोरंजन आवश्यक है, मनुष्य असमय एवं अनावश्यक मनोरंजन में समय नष्ट करता है, इससे उसके कार्य करने की क्षमता में कमी आ जाती है ।

(ii) स्वास्थ्य की हानि :- दूरदर्शन से निकलने वाली प्रकाश की किरणें मनुष्य के नेत्र एवं त्वचा पर अत्यंत हानिकारक प्रभाव डालती हैं, क्योंकि इस प्रकाश की किरणें साधारण प्रकाश की किरणो से भिन्न होती हैं।

(iii) चरित्र का हनन :- दूरदर्शन के कार्यक्रमों से जहाँ एक ओर ज्ञान का विकास होता है, वहीं इसके प्रभाव से समाज का चारित्रिक पतन भी हो रहा है । मनोरंजन के कार्यक्रमों में व्यावसायिकता का बोलबाला है, उनमें नैतिक आदर्शो को छोड़ दिया जाता है । अश्लीन एवं फूहड़ दृश्य, द्विअर्थी गीत-संवाद, हिंसात्मक एवं वीभत्स घटनाओं आदि का प्रसारण मानव-मस्तिष्क पर बुरा प्रभाव डालता है । इससे समाज में अपराध तथा अनैतिक कार्य की प्रवृत्ति बढ़ रही है ।

(iv) बच्चों के भविष्य पर कुप्रभाव :- दूरदर्शन का सबसे बुरा प्रभाव बच्चों के कोमल मस्तष्क पर पड़ता है । बच्चे अल्पायु से ही बंदूक का खेल खेलने लगते हैं। कार्टून फिल्मों को देखने में अपना अमूल्य समय नष्ट करते हैं, जिसका सीधा प्रभाव उनकी पढ़ाई पर, उनके भविष्य पर पड़ता है ।

उपसंहार :- दूरदर्शन मानव जीवन का एक अति-आवश्यक अंग है . किंतु इसका संयमित और नियंत्रित उपयोग ही करना चाहिए ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

दहेज-प्रथा ए एक अभिशाप

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • दहेज-प्रथा का प्रारंभ
  • दहेज का अर्थ
  • दहेज प्रथा के विस्तार के कारण
  • दहेज-प्रथा से हानियाँ
  • समस्या का समाधान
  • उपसंहार ।

कहती है नन्हीं-सी बाला, मैं कोई अभिशाप नहीं ।’
लज्जित होना पड़े पिता को, मैं कोई ऐसा पाप नहीं ।”

“’दहेज बुरा रिवाज है, बेहद बुरा । बेहद बुरा । बस चले तो दहेज लेने वालों और देने वालों को ही गोली मार देनी चाहिए, फिर चाहे फाँसी ही क्यों न हो जाए । पूछो, आप लड़के का विवाह करते हैं कि उसे बेचते हैं।’ – मुंशी प्रेमचंद

दहेज-प्रथा वर्तमान समाज का कलंक बन गई है। भारतीय समाज का यह कलंक निरंतर विकृत रूय धारण करता जा रहा है । समय रहते इस रोग का निदान और उपचार आवश्यक है, अन्यथा समाज की नैतिक मान्यताएँ नष्ट हो जाएँगी और मानव-मूल्य समाप्त हो जायेंगे ।

दहेज-प्रथा का प्रारंभ :-महर्षि मनु ने ‘मनुस्मृति’ में अनेक विवाहों का उल्लेख किया है। बह्म-विवाह के अंतर्गन कन्या को वस्त्र और आभूषण देने की बात कही गई है । कन्या के माता-पिता अपनी सामर्थ्य और इच्छानुसार वस्त्र और अलंकार दिया करते थे, कितु उसमें बड़ी मात्रा में दिए जाने वाले दहेज का उल्लेख नहीं है ।

दहेज का अर्थ :-दहेज का तात्पर्य उन संपत्ति और वस्तुओं से है, जिन्हें विवाह के समय वधू-पक्ष की ओर से वरपक्ष को दिया जाता है । मूल रूप से इसमें स्वेच्छा की भावना निहित है, किंतु आज दहेज का अर्थ बिल्कुल अलग हो गया है, अब तो इसका अर्थ उस संपत्ति अथवा मूल्यवान वस्तुओं से है, जिन्हे विवाह की एक शर्त के रूप मे कन्या-पक्ष द्वारा वर पक्ष के प्रति विवाह से पूर्व अथवा बाद में पूरा करना पड़ता है ।

दहेज-प्रथा के विस्तार के कारण :- दहेज प्रथा के विस्तार के प्रमुख कारण निम्न हैं-

(i) धन के प्रति अधिक आकर्षण :- वर्तम ान युग भौतिकवादी युग है । समाज में धन का महत्व बढ़ता जा रहा है । धन सामाजिक प्रतिष्ठा और पारिवारिक प्रतिष्ठा का आधार बन गया है। वर-पक्ष ऐसे परिवार में ही संबंध स्थापित करना चाहृता है, जो धनी हो तथा अधिक से अधिक धन दहेज के रूप में दे सके।
(ii) जीवन-साथी चुनने का सीमित क्षेत्र :- भारतीय समाज अनेक जातियों तथा उपजातियों में विभाजित है । सामान्यतः प्रत्येक माता-पिता अपनी पुत्री का विवाह अपनी ही जाति या उससे उच्च जाति के लड़के के साथ करना चाहते हैं । इसी कारण वर-पक्ष की ओर से दहेज की माँग होती है।
(iii) शिक्षा और व्यक्तिगत प्रतिष्ठा :- वर्तमान युग में शिक्षा बहुत महँगी है । इसके लिए पिता को कभी-कभी अपने पुत्र की शिक्षा पर अपनी सामर्थ्य से अधिक धन खर्च करना पड़ता है। इस धन की पूर्ति वह पुत्र के विवाह के अवसर पर दहेज प्राप्त करके करना चाहता है ।

दहेज-प्रथा से हानियाँ :- दहेज-प्रथा ने हमारे समाज को पथश्रष्ट और स्वार्थी बना दिया है । समाज में फैला यह रोग इस तरह जड़ जमा चुका है कि कन्या के माता-पिता के रूप में जो लोग दहेज की बुराई करते हैं वे ही अपने पुत्र के विवाह के अवसर पर मनचाहा दहेज माँगते हैं। इससे समाज में अनेक विकृतियाँ उत्पन्न हो गई हैं तथा अनेक नवीन समस्याएँ विकराल रूप धारण करती जा रही हैं, जैसे –

(क) बेमेल विवाह :- दहेज-प्रथा के कारण निर्धन माता-पिता अपनी पुत्री के लिए उपयुक्त वर प्राप्त नहीं कर पाते और मजबूरी में उन्हें अपनी पुत्री का विवाह अयोग्य लड़के से करना पड़ता है । दहेज देने में असमर्थ माता-पिता को अपनी कम उम्र की लड़कियों का विवाह अधिक अवस्था के पुरुषों से करना पड़ता है ।
(ख) ॠणग्रस्तता :- दहेज-प्रथा के कारण वर-पक्ष की माँग को पूरा करने के लिए कई बार कन्या के माता-पिता को ऋण भी लेना पड़ता है । फलत: वे आमृत्यु ऋण की चक्की में पिसते रहते हैं ।
(ग) कन्याओं का दु:खद वैवाहिक जीवन :- वर-पक्ष की माँग के अनुसार दहेज न देने अथवा उसमें किसी प्रकार की कमी रह जाने के कारण नव वधू को सुसराल में अपमानित होना पड़ता है।
(घ) अविवाहिताओं की संख्या में वृद्धि :- आर्थिक दृष्टि से दुर्बल परिवारों की जागरुक युवतियाँ गुणहीन तथा निम्नस्तरीय युवकों से विवाह करने की अपेक्षा अविवाहित रहना उचित समझती हैं, जिससे अनैतिक संबंधों और यौनकुंठाओं जैसी अनेक सामाजिक विकृतियों को बढ़ावा मिलता है ।

समस्या का समाधान :- दहेज-प्रथा समाज के लिए निश्चित ही एक अभिशाप है । कानून और समाज सुधार कों ने टहेज से मुक्ति के अनेक उपाय सुझाए हैं। प्रमुख उपाय निम्न है-
(क) कानून द्वारा प्रतिबंध :-अनेक लोगों का विचार था कि दहेज के लेन-देन पर कानून द्वारा प्रतिबन्ध लगा दिगा जाय । इसीलिए 9 मई, 1961 ई० को भारतीय संसद ने ‘दहेज निरोधक अधिनियम’ स्वीकार कर लिया गया।
(ख) अंतर्जातीय विवाहों को प्रोत्साहन :-अंतर्जातीय विवाहों को प्रोत्साहन देने से वर का चुनाव करने के क्षेत्र में विस्तार होगा तथा युर्वातयों के लिए योग्य वर खोजने में सुविधा होगी। इससे दहेज की माँग में कमी आएगी।
(ग) युवकों को स्वावलंबी बनाया जाए :-स्वावलम्बी होने पर युवक अपनी इच्छा से लड़की का चयन कर सकेंगे । स्वावलंबी युवकों पर माता-पिता का दबाव कम होने पर दहेज के लेन-देन में स्वत: कमी आएगी।
(घ) लड़कियों की शिक्षा :- जब युवतियाँ भी शिक्षित होकर स्वावलंबी बनेंगी तो वे स्वयं नौकरी करके अपना जीवन-निर्वाह करने में समर्थ हो सकेंगी । विवाह एक विवशता के रूप में भी न होगा, जिसका वर-पक्ष प्राय: अनुचित लाभ उठाता है ।
(ङ) जीवन साथी चुनने का अधिकार :- प्रबुद्ध युवक-युवतियों को अपना जीवन-साथी चुनने के लिए अधिक छुट मिलनी चाहिए ।

उपसंहार :- दहेज-प्रथा एक सामाजिक बुराई है, एक कलंक है, हमारे समाज का कोढ़ है । इसके विरुद्ध स्वस्थ जनमत का निर्माण होना चाहिए । जब तक समाज में चेतना नहीं आएगी, दहेज के दैत्य से मुक्ति पाना असंभव है । गाजनेताओं, समाज-सुधारकों तथा शिक्षित युवक-युवतियों आदि सभी के सहयोग से दहेज-प्रथा का अंत हो सकताहै।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भारतीय समाज में नारी का स्थान
अथवा,
भारतीय नारी : दशा और दिशा

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • भारतीय नारी का अतीत
  • मध्यकाल में भारतीय नारी
  • आधुनिक युग में नारी
  • पाश्चात्य प्रभाव
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- मानव-जीवन का रथ सिर्फ एक पहिए से नहीं चल सकता । उसकी समुचित गति के लिए दोनों पहिए होने चाहिए । गृहस्थी की गाड़ी नर और नारी के सहयोग व सद्भावना से प्रगति के पथ पर अविराम गति से बढ़ सकती है । स्त्री केवल पत्नी ही नहीं, अपितु योग्य मित्र, परामर्शदात्री, सचिव, सहायिका, माता के समान उस पर सर्वस्व न्यौछावर करने वाली तथा सेविका की तरह सच्ची सेवा करने वाली है । गृहस्थी का कोई भी कार्य उसकी सम्मति के बिना नहीं हो सकता । कितु भारतीय समाज में नारी की स्थिति सदैव एक समान न रहकर बड़े उतार-चढ़ावों से गुजरी है ।

भारतीय नारी का अतीत :- प्राचीनकाल में स्त्रियों को आदर और सम्मान से देखा जाता था। लोगों की मान्यता थी कि जिस घर में स्त्रियों का सम्मान होता है; वह घर सुखी तथा स्वर्ग बन जाता है । कहा गया है – ‘यत्र नार्यस्तु पूज्यंते रमंते तत्र देवता ।’ भारत का इतिहास पृष्ठ नारी की गौरव-गरिमा से मंडित है।

वेद तथा उपनिषद् काल में नारी को पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त थी । उन्हें समाज में सामाजिक अधिकार प्राप्त थे । याज्ञवल्क्य और गार्गी का शास्त्रार्थ प्रसिद्ध है । मैत्रेयी विख्यात बह्यवादिनी थीं। मंडन मिश्र की धर्मपत्नी भारत में अपने काल की विख़्यात विदुषी महिला थीं। स्त्रियाँ अपने पति के साथ युद्ध-क्षेत्र में भी जाती थीं ।

मध्यकाल में भारतीय नारी :- मध्यकाल में स्त्रियों की स्थिति बदतर हो गयी थी । स्त्रियों को हेय दृष्टि से देखा जाने लगा । मुसलमानों के आक्रमण से हिंदू समाज का ढाँचा चरमरा गया । मुसलमानों के लिए नारी भोग-विलास तथा वासना-पूर्ति मात्र की वस्तु थी । इसी कारण नारी का कार्य-क्षेत्र घर की चहारदीरी के भीतर सिमट कर रह गया, जिससे समाज में अशिक्षा, बाल-विवाह प्रथा, सती-प्रथा, परदा-प्रथा का प्रचलन बढ़ा।

आधुनिक युग में नारी :- धीरे-धीरे विचारकों तथा नेताओं ने नारी की स्थिति पर ध्यान दिया। राजा राममोहन राय ने ‘सती-प्रथा’ का अंत कराया। महर्षि दयानंद ने महिलाओं को समान अधिकार दिए जाने की आवाज उठाई । गाँधीजी ने जीवन भर महिला उत्थान का कार्य किया । स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद नारी वर्ग में चेतना का विशेष विकास हुआ। स्तियाँ समाज में पुरुष के कंधे से कंधा मिलाकर साथ चलने को तैयार हुई । भारतीय संविधान में भी यह घोषणा की गई कि “राज्य, धर्म, जाति, संप्रदाय, लिंग आदि के आधार पर किसी भी नागरिक में विभेद नहीं होगा।”

आज भारतीय नारियाँ जीवन के हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं । चिकित्सा, मनोविज्ञान, कानून, फिल्म-निर्माण, वायुयान की पायलट, ट्रक-ड्राइवर, खेल का मैदान आदि क्षेत्रों में महिलाएँ पुरुषों से पीछे नहीं हैं। ये ललित कलाओं, जैसे–संगीत, नृत्य, चित्रकला, छायांकन (फोटोग्राफी) में विशेष दक्षता प्राप्त कर रही हैं । वाणिज्य तथा विज्ञान के क्षेत्र में भी स्त्रियाँ उच्च शिक्षा प्राप्त कर रही हैं । स्त्रियों की सामाजिक चेतना जाग उठी है। वे समाज की दुर्दशा के प्रति सजग व सावधान हैं । वे समाज–सुधार के कार्यक्रम में व्यस्त हैं। भारत की वर्तमान समस्याओं-भुखमरी, महँगाई, बेकारी, देहज-प्रथा आदि को सुलझाने के लिए भी वे प्रयत्नशील हैं।

श्रीमती इंदिरा गाँधी, श्रीमती सरोजिनी नायडू, श्रीमती सुचेता कृपलानी, श्रीमती विजयलक्ष्मी पंडित, लता मंगेशकर, श्रामती किरण बेदी, मेधा पाटकर, महादेवी वर्मा, अमृता प्रीतम आदि ऐसी भारतीय नारियाँ हैं जिन पर भारतवर्ष को सदैव गर्व रहेगा ।

पाश्चात्य-प्रभाव :- आजकल अधिकांश स्त्रियाँ पाश्चात्य भौतिकवादी सभ्यता से अधिक प्रभावित हैं । वे फैशन व आडंबर को जीवन का सार समझकर भोगवाद की ओर अग्रसर हो रही हैं। वे सादमी से विमुख होकर पैसा कमाने की होड़ में अनैतिकता की ओर उन्मुख हो रही हैं । इस प्रकार वे स्वयं गुड़िया बनकर पुरुषों के हाथों में खेल रही हैं ।

उपसंहार :-नारी को अपने गौरवपूर्ण अतीत को ध्यान में रखकर त्याग, समर्पण, स्नेह, सरलता आदि गुणों को नहीं भूलना है । यूरोपीय संस्कृति के व्यामोह में न फँसकर भारतीयता को बनाये रखना चाहिए । इससे समाज का और उनका दोनों का हित हो सकेगा । नारी के इस चिरकल्याणमय रूप को लक्ष्य कर कवि जयशंकर प्रसाद ने नारी का अत्यंत सजीव चित्रण किया है –

“नारी ! तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत नग-पग-तल में,
पीयूष स्रोत-सी बहा करो, जीवन के सुंदर समतल में ।”

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

नारी-शिक्षा का महत्व

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • नारी शिक्षा की आवश्यकता
  • उपसंहार।

नारी सेह और सौजन्य की देवी है। वह पशु के समान आचरण करने वाले व्यक्ति को भी मनुष्य बनाती है। मधुर वाणी से वह जीवन को मधुमय बनाती है। मानवीय सदगुणों के पूर्ण विकास, परिवार तथा समाज की शांति, बच्चों के चरित्रनिर्माण और देश के निर्माण में खी की अहम भूमिका है। अत: नारी शिक्षा का महत्व स्वयंसिद्ध है। एक पुरुष की शिक्षा का अर्थ केवल एक व्यक्ति की शिक्षा है, जबकि एक नारी की शिक्षा का अर्थ सम्पूर्ण परिवार की शिक्षा है।

भारतेंदु जी ने स्री शिक्षा के विषय में कहा था, “स्त्री अगर शिक्षित होगी तो वह अपने बच्चों को शिर्षित कर सकती है। अनपढ़ माता की संतान अपना विकास उस तरह नहीं कर सकती, जिस तरह एक शिक्षित माता की संतान कर सकती है। देश के विकास में भी स्त्री शिक्षा सहायक होगी, स्त्री शिक्षित होगी तो देश दोनों हाथों से काम करेगा। देश की उन्नति में कोई संदेह नहीं रहेगा।”

नारी-जीवन मुख्यतः पत्ली, माता, बहन और बेटी में बँटा होता है। शिक्षित पत्ली परिवार को सुंदर ढंग से जीने की कला सिखलाती है। नारी सेह, सुख, शांति और श्री की वृद्धि करती है। परस्पर विरोधी प्रवृत्तियों में समन्वय, सामंजस्य स्थापित करने में सफल होती है।

शिक्षित नारी अपने अस्तित्व और शक्ति को पहचानने में समर्थ होती है, तब वह शोषण का शिकार कम होती है। अशिक्षित नारी अपने अधिकार तथा शक्ति से अर्नभिज होती है। अशिक्षित नारी स्वभावत: दुर्बल होती है। वह प्राय: जादू-टोना, भूत-प्रेत में विश्वास करती है। प्रगतिशील कदम उठाने में असमर्थ होती है। वह कुरीतियों और कुसंस्कारों की लक्ष्मण रेखा पार करते हुए हिचकती है। इसलिये निरक्षर नारी के जीवन में अंधकार होता है। पुत्री के रूप में वह माता-पिता के लिये बोझ होती है। पत्नी के रूप में उसका पृथक् अस्तित्व नहीं होता। पुत्र के बड़े होने पर वह उसके आश्रय में परमुखापेक्षी जीवन में जीती है।

शिक्षित नारी में आत्मविश्वास जागृत होता है। वह रुढ़ परम्पराओं और कुसंस्कारों को त्याग कर, अपने पैरो पर खड़ी होती है और अपने सम्मान तथा अस्तित्व की रक्षा करती है।

शिक्षित नारी में सभी परिस्थितियों का सामना करने की शक्ति होती है। स्वियाँ रोजगार कर सकती है और अपने घर की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ बना सकती है। अत: नारी के लिये पूर्णतः सुशिक्षित होना अत्यंत आवश्यक है। राष्ट्रनिर्माण के लिए नारी-शिक्षा एक अनिवार्य शर्त है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

राष्ट्र-निर्माण में नारी का योगदान

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • समाज निर्माण तथा
  • राष्ट्र निर्माण में सहयोग
  • उपसंहार।

राष्ट्रनिर्माण में सहयोग देना हर देशवासी का कर्त्तव्य है। राष्ट्र-निर्माण की प्रकिया आदिकाल से लेकर आज तक नारियों ने पुरुषों का साथ देकर, उसकी जीवन यात्रा को सफल बनाया है और उसके अभिशापों को स्वयं झेलकर अपने नैसर्गिक वरदानों से राप्ट्रीय जीवन में अक्षय शाक्ति का संचार किया है।

अपने-अपने राष्ट्रों के निर्माण में विश्वप्रसिद्ध महिला प्रधानमंत्रियों का योगदान इतिहास में स्वर्णाक्षरों में लिखा गया है। इस सन्दर्भ में भारत की भूतपूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, श्रीलंका की सिरीमावो भंडारनायके, वर्तमान राष्प्पति चाद्रका कुमारतुंगे, इजरायल की भूतपूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती गोल्डामायर और ग्रेट बिटेन की पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती मागरेट थैचर का नाम विशेष रूप से उल्लेखनीय है।

नारी न हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर राष्ष्र के उत्थान में सक्रिय सहयोग दिया है। शिक्षा के क्षेत्र में शिक्षिका बन उसने भारत को शिक्षित किया, साथ ही राजनीति के क्षेत्र में प्रधानमंत्री, विधायक, सांसद और मंत्री बन कर ख्याति पाई। न्याय के क्षेत्र में भी उसका योगदान कम नहीं है। हर न्यायालय में महिला वकील पाई जाती है। महिला न्यायाधीशों ने तो अपने जोखिम भरे, साहसपूर्ण और अद्भुत निर्णयों द्वारा समग्र राष्ट्र को चमत्कृत किया है।

कार्यरत् महिलाओं में प्रथम महिला वायु-सुरक्षा अधिकारी प्रेमा माथुर, पहली महिला छाताधारी सैनिक गीता घोष, पहली वायुयान पायलेट रूबी बनर्जी, अत्याधुनिक वायुयान की कमाण्डर सौदामिनी देशमुख, सुख्खा जादव और पहली ट्रेन ड्राइवर मुमताज काटावाला का नाम स्मरणीय है।

पहली भारतीय महिला आई०पी०एस० अधिकारी किरण बेदी ने अपने कार्यकाल में जेल में सुधार लायी, उसके लिये उन्हें मैंगसेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

भारत की प्रथम महिला डॉं. प्रेमा मुखर्जी और हदययरोग विशेषज्ञा डॉ. पद्मावती तथा दीन-दुखियों की सेविका मदर टेरेसा का नाम कभी भुलाया नहीं जा सकता।

आदिकाल से ही हम देखते हैं कि स्रियों ने देश के निर्माण में निरतर योगदान किया है और भविष्य में भी करती रहेंगी। घर समाज सभी जगह उन्होंने अपनी छवि को आलोकित किया है। शिक्षा का क्षेत्र हो अथवा वाणिज्य का, खेल का हो या संगीत का, ऐसा कोई भी क्षेत्र नहीं है जहाँ ख्रियों ने अपनी विशिश्टता का परिचय न दिया हो। अत: हम कह सकते हैं कि राष्ट्र-निर्माण में नारी का महत्वपूर्ण योगदान रहा है और रहेगा। महिलाओं का यह योगदान कभी भुलाया नहीं जा सकता।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

धर्म और साम्रदायिकता

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • भारत में विविध धर्म
  • विविध सम्पदाय
  • उपसंहार ।

जावन को सुचारु रूप से संचालित करने वाले श्रेष्ठ सिद्धान्तो का समूह धर्म कहलाता है। समस्त मानवीय व्यवहारों का श्रेयस्कर पक्ष ही धर्म है। धर्म व्यक्ति का सहज स्वभाव है, कर्त्तव्य है। अत: धर्म का क्षेत्र व्यापक है।

अपने धर्म के प्रति अटूट आस्था, विश्वास तथा श्रद्धा समर्पित करना साम्प्रदायिकता नहीं, बल्कि दूसरे धर्मों के प्रात असहिष्णुता का भाव ही साम्पदायिकता है। सत्य पर सभी धर्मो का समान अधिकार है, लेकिन जब एक धर्म सत्य पर केवल अपना एकाधिकार स्थापित करना चाहता है तो वह सम्पदायिकता का रूप ले लेता है।

भारत में साम्प्रदायिकता की नई परिभाषा दी जा रही है। धर्म ने सम्पदाय का रूप ले लिया है। धार्मिक साम्प्रदायिकता का अर्थ है, सर्वधर्म-समभाव का त्याग एवं अन्य धर्मों के प्रति अनुदारता एवं असहिष्णुता का प्रदर्शन।

हिन्दुओं का एक सिख सम्प्रदाय भारत में शांत भाव से जीवन-यापन कर रहा था। मगर राजनीतिक कारणों ने सिखों को उग्र बना दिया। पंजाब में निर्दोष हिन्दुओं की हत्या और आतंक के कारण वहाँ मरघट-सी शांति छा जाती थी। पराजित उग्रवादियों ने प्रधानमंत्री इदिरा गांधो तक की हत्या कर दी।

विश्व में मुस्लिम राष्ट्र धनाढ्य हैं, क्योंकि तेल-स्रोत पर यवनों का अधिकार है। वे अरबां रुपया हर वर्ष धर्म के नाम पर खर्च करते हैं।

दूसरा विश्व धर्म ईसाई है। ये सामूहिक धर्म-परिवर्तन में विश्वास करते हैं। हिन्दू जब जाप्रत हुए तो इस धर्म-परिवर्तन के विरोध में विद्रोह उठ खड़ा हुआ। जाति-उपजाति की साम्पदायिकता ने शूद्र और पिछड़ी जातियों मे संघर्ष और सवर्णों में आपस के संघर्ष को जन्म दिया। पिछड़ी जतियों को हर क्षेत्र में प्राथमिकता देकर वर्ग-संघर्ष की भावना को अंकुरित किया गया, जिसने साम्पदायिकता का रूप ले लिया। सवर्णों के परस्पर संघर्ष ने मिथ्या स्वाभिमान तथा झूठे अहम्को जन्म दिया। साम्पदायिकता की भावना इस युग में खूब फल-फूल रही है। कोई भी धर्म संकीर्णता और अनुदारता की वकालत नहीं करता, किन्तु कोई भी धर्मावलम्बी दूसरों के प्रति घृणा, अविश्वास और असहिष्णुता की भावना से मुक्त नहीं हैं।

साम्र्रायायक दंगों का कारण यही है। कहते सभी हैं-‘मजहब नहीं सिखाता आपस में वैर रखना’ मगर वैर-भावना से कोई मुक्त नहीं है।

नैतिकता का पतन साम्पदायिकता की वृद्धि में सहायक हुआ है। साम्र्रदायिकता से बचना है तो मानवता के महामंत्र का प्रचार होना चाहिए ।
एक कवि कहता है –
“मैं न बँधा हूँ देश-काल की जंग लगी जंजीर में । मैं न खड़ा हूँ जाति-पाँति की ऊँची-नीची भीड़ में । मेरा तो आराध्य आदमी, देवालय हर द्वार है । कोई नहीं पराया मेरा, घर सारा संसार है ।”

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

बढ़ती जनसंख्या – एक अभिशाप

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • भारत की जनसंख्या
  • जनसंख्या वृद्धि के कारण
  • जनसंख्या वृद्धि के दुष्घारणणाम
  • समाधान के उपाय
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- भारत की अनेक समस्याओं में जनसंख्या की समस्या सबसे अधिक विकराल है। आजादी के बाद केवल इसी समस्या के कारण भारतवर्ष में गरीबी, बेरोजगारी तथा अन्य समस्याएँ आज तक सुलझ नहीं पाई हैं। भारत की जनसंख्या दिन-प्रतिदिन बढ़ती जा रही है । यहाँ प्रत्येक मिनट सैंतालीस बच्चे पैदा होते हैं।

भारत की जनसंख्या :- आज विश्व का हर छठा नागरिक भारतीय है । चीन के बाद भारत की आबादी विश्व में सर्वाधिक है । एक अरब भारतीयों के धरती, खनिज और अन्य साधन वही हैं, जो आज से पाँच दशक पूर्व थे । लोगों के पास भूमि कम, आय कम और समस्याएँ अधिक बढ़ती जा रही हैं । बेरोजगारों, अशिक्षितों की संख्या बढ़ती जा रही है । बेरोजगारों की संख्या 6 करोड़ से अधिक हो गई है ।

जनसंख्या-वृद्धि के कारण :- जनसंख्या वृद्धि के अनेक कारण हैं। भारत की अधिकांश जनता प्रामों में निवास करती है । यहाँ लड़कियों को कम ही पढ़ाया जाता है । बेचारी कन्याएँ $14-15$ वर्ष की आयु में ही मातृत्व के बोझ से दब जानी हैं। गरीब लोग बच्चों को आय का स्रोत मानकर अधिक बच्चे पैदा करते हैं। इसीलिए देश की आबादी बढ़ती जाती है ।

जनसंख्या-वृद्धि के दुष्परिणाम :- जनसंख्या के बढ़ने से अनेक बुराइयों का जन्म होता है। आजादी के इतने वर्षों के बाद भी ग्रामीण जनता में अंधविश्वासों का बोलबाला है । भारत में अशिक्षा, गरीबी, बेरोजगारी, रोग, भ्रष्टाचार, अनाचार आदि की समस्याएँ दिनों-दिन बढ़ती जा रही हैं । देश की जनसंख्या का अधिकांश भाग गरीबी रेखा के नीचे जीवन-यापन करता है । चारों ओर आलस्य, दरिद्रता, कलह, रोग, अनाचार, सांपदायिकता, भ्रष्टाचार, महंगाई, चोरी, डकैतियाँ, लूटपाट तथा अन्य असामाजिक एवम् आर्थिक बुराइयों का बोलबाला है ।

जनसंख्या-वृद्धि के कारण भारत की सारी योजनाएँ विफल हो जाती हैं। देश का उचित विकास नहीं हो पा रहा है। खुशहाली की जगह लाचारी बढ़ रही है । रोजगारी से पेरशान लोग हिंसा, उपद्रव और चोरी-डकैती करने लगते हैं । देश में अपराध बढ़ने लगते हैं तथा नैतिकता का पतन होता है, जिससे देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो जाती है तथा राष्ट्रीय चरित्र की क्षति होती है। अधिक संतान उत्पन्न करने से माँ तथा बच्चे का स्वास्थ्य बिगड़ता है और देश की कार्य-क्षमता एवं राष्ट्रीय आय में कमी आती है ।

समाधान के उपाय :- जनसंख्या-वृद्धि रोकना सबसे आवश्यक कदम है । प्रत्येक नागरिक अपने परिवार को नियोजित करे । केवल एक या दो बच्चे ही पैदा करे । लड़का-लड़की को समान दृष्टि से देखा जाए तो भी जनसंख्या पर नियंत्रण पाया जा सकता है । जन-संचार माध्यमों तथा समाज-सेवी संस्थाओं के माध्यम से परिवार-नियोजन का व्यापक प्रचार किया जा रहा है । लड़के-लड़की की विवाह की आयु बढ़ाकर क्रमश: 21 वर्ष तथा 18 वर्ष कर दी गई है । इस कानून के बाद भी अनेक स्थानों पर बाल-विवाह हो रहे हैं । परिवार-नियोजन के साधनों के उचित उपयोग से जन्म-दर को मनचाहे समय तक रोका जा सकता है।

भारत में परिवार-कल्याण का प्रचार-प्रसार किया जा रहा है । हर्ष का विषय है कि भारतीय अब इसका महत्व समझने लगे हैं ।

उपसंहार :- परिवार-नियोजन के महत्व को अच्छी प्रकार समझ लेने पर ही देश की प्रगति सम्भव है । परिवारकल्याण के साथ ही देश-कल्याण भी जुड़ा है। प्रत्येक व्यक्ति का कर्त्तव्य है कि वह जनसंख्या वृद्धि की समस्या के प्रति सावधान हो तथा राष्ट्र-हित में परिवार-नियोजन को अपनाए । जनसंख्या की समस्या कानून द्वारा नहीं, अपितु जनजागरण तथा शिक्षा द्वारा हल करना संभव है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भ्रष्टाचार

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • भषष्टाचार की पृष्ठभूमि
  • भष्टाचार के विविध रूप
  • भष्टाचार के कारण
  • भष्टाचार दूर करने के उपाय
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- भारत में स्वतंत्रता-प्राप्ति के बाद से ही भ्रष्टाचार का बोलबाला हो गया है। इस भ्रष्टाचाररूपी दानव ने सपूर्ण भारत को अपनी चपें में ले रखा है । भ्रष्टाचार आज केवल भारत की नहीं, अपितु संपूर्ण विश्व की समस्या है। इस दानव से छुटकारा पाना ही आज संपूर्ण मानव समाज की समस्या बन चुकी है ।

भ्रष्टाचार का अर्थ :- भ्रष्टाचार का अर्थ है – भ्रष्ट आचरण । भ्रष्टाचार किसी की हत्या, मार-काट, लूट-पाट, हंरा-फेरी कुछ भी करा सकता है । भ्रष्टाचार ने अपने देश, जाति और समाज को अवनति के गड्ढे में ढकेल दिया है।

भ्रष्टाचार की पृष्ठभूमि :- भ्रष्टाचार का मूल रूप में उदय कहाँ से हुआ यह तथ्य तो स्पष्ट नहीं है, किन्तु यह स्पष्ट है कि स्वार्थ-लिप्सा इसकी जननी तथा भौतिक ऐश्वर्य की चाह इसका पिता है। पुरातन युग में दक्षिणा, मध्यकाल में भेंट तथा आधुनिक काल में उपहार आदि सभी भ्रष्टाचार के विभिन्न रूप हैं।

भ्रष्टाचार के विविध रूप :- आज भारतीय जीवन का कोई क्षेत्र, सरकारी अथवा गैर-सरकारी, सार्वजनिक या निजी ऐसा नहीं जो भ्रष्टाचार से अछूता रहा हो । किंतु फिर भी हम इसे तीन प्रमुख वर्गों में विभक्त कर रहे हैं ।

(i) राजनैतिक भ्षष्टाचार :- यह भ्रष्टाचार का प्रमुख रूप है । भ्रष्टाचार के सारे रूप इसके ही संरक्षण में पनपते है । इसके अंतर्गत लोकसभा व विधानसभाओं के चुनाव जीतने के लिए अपनाया गया भ्रष्ट आचरण आता है ।
(ii) प्रशासनिक भ्रष्टाचार :- इसके अंतर्गत उच्च पदों पर आसीन सचिव, अधिकारी, कार्यालय अधीक्षक, अधिशासी अभययन्ता, पुलिस अधिकारी, बाबू, चपरासी सभी आते हैं। कितना भी कठिन कार्य हो पैसा हाजिर तो कार्य भी फटाफट हो जाता है ।
(iii) व्यावसयिक भ्रष्टाचार :- इसके अंतर्गत खाद्य पदार्थो में मिलावट, घटिया व नकली औषधियाँ-निर्माण, जमाखोरी, चोरी तथा अन्यान्य भ्रष्ट तरीके देश तथा समाज को कमजोर बनाने के लिए अपनाए जाते हैं। मसालों में मिलावट, दाल-चावलों में पत्थर, घी में चर्बी, सरसों के तेल में अर्जीमोन की मिलावट, पैट्रोल में कैरोसीन की मिलावट आदि व्यावसायिक भ्रष्टाचार के अंतर्गत ही आते हैं ।

भ्रष्टाचार के कारण :- भ्रष्टाचार के इतने अधिक फैलने के कारण हैं-यथा राजा तथा प्रजा। जब आज के नेता तथा प्रशासक सभी भ्रष्ट हैं तो अधीनस्थ कर्मचारी भी जी भर कर भ्रष्टाचार में डूबे रहते हैं। पैसा सभी को प्रिय होता है। बहती गंगा में सभी हाथ धो रहे हैं।

भ्रष्टाचार दूर करने के उपाय :- भ्रष्टाचार दूर करने के लिए निम्नलिखित उपाय अपनाए जा सकते हैं :-
(i) भारतीय संस्कृति की ओर ध्यान आकृष्ट करना :- संस्कृत और देशी भाषाओं का शिक्षण अनिवार्य करना आवश्यक है । इससे जीवन के मूल्य दृढ़ तथा पोषक बनेंगे । लोग धर्म-भीरु बनेंगे तथा दुराचार से घृणा करेंगे । टी.वी. पर भारतीय संस्कृति का प्रचार होना चाहिए ।
(ii) चुनाव -प्रक्रिया को बदलना :-भ्रष्टाचार को हटाने के लिए वर्तमान चुनाव-पद्धति में परिवर्तन आवश्यक है । जनता ईमानदार प्रत्याशियों को विजयी बनाए । चुनाव आयोग तथा राजनीतिक दलों को मिलकर ऐसे नियम बनाने चाहिए कि स्वच्छ छवि वाले तथा शिक्षित लोग ही चुनाव लड़ सकें तथा उनके चुनाव का पूरा खर्च सरकार को वहन करना चाहिए । इससे चुनावी भ्रष्टाचार मिट सकता है । राजनीतिक दलों को दिए जाने वाले धन पर पाबन्दी लगनी चाहिए ।
(iii) कर-प्रणाली में सुधार :-सरकार अनेक प्रकार के करों को समाप्त कर तीन या चार आवश्यक करें ही जनता पर लगाए और कर-प्रणाली को इतनी सरल बना दे कि सामान्य तथा अशिक्षित लोग भी वांछित कर आसानी से अदा कर सकें।
(iv) शासन -व्यय में कटौती :- शासन-व्यय में कटौती करके सबके सामने सादगी का आदर्श रखा जाए । भारतीय जीवन-पद्धति की यह विशेषता है कि वह हमेशा त्यागोन्मुखी रही है, इसलिए तड़क-भड़क तथा अनावश्यक व्यय में कटौती की जानी चाहिए।
(v) देश-भक्ति की भावना पैदा करना :- प्रत्येक नागरिक राष्ट्र को महान समझकर सदैव उसके गौरव को बनाए रखने के लिए तत्पर रहे ।
(vi) स्वदेश चिंतन अपनाना :- प्रत्येक भारतवासी को स्वदेशी वस्तुओं को ही क्रय करना है-ऐसी भावना प्रत्येक नागरिक में आनी चाहिए । इससे देश का धन देश में ही रहेगा तथा देश की समृद्धि बढ़ेगी ।
(vii) कठोर कानून बनाना :- कानून को इतना कठोर बना दिया जाए कि हर अपराधी को उसके अपराध की उचीत सजा मिल सके ।
(viii) सामाजिक बहिष्कार :- भ्रष्ट व्यक्ति का समाज से बहिष्कार किया जाए, उनके साथ रोटी-रोजी आदि किसी प्रकार का व्यवहार न किया जाए।

उपसंहार :- सदाचार रामबाण औषधि और परम धन है । आज हमारे देश में भ्रष्टाचार मिटाना है तो सदाचारी, सरल, सादगी-प्रिय लोगों का सादर अभिनंदन किया जाना चाहिए । इससे दुराचार मिटेगा तथा सदाचार की पुनः प्रतिष्ठा हो सकेगी । देश भी विकास के मार्ग पर प्रगति करता हुआ अग्रसर होगा।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भारतीय जीवन पर पाश्चात्य प्रभाव

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • पश्चिमी प्रभाव
  • परिणाम
  • उपसंहार ।

जब दो भिन्न सभ्यता-संस्कृतियाँ आमने-सामने अर्थात् सम्पर्क में आया करती हैं, तब वे दोनों सामान्य स्तर पर एकदूसरे का कुछ-न-कुछ प्रभाव भी अवश्य ही ग्रहण किया करते हैं । यह अलग बात है कि उनमें से जो दुर्बल और पराजित सभ्यता-संस्कृति हुआ करती है, वह सबल और विजेता संस्कृति का कुछ अधिक ही प्रभाव ग्रहण करती है। लेकिन जहाँ तक भारतीय जीवन, समाज और सभ्यता – संस्कृति का प्रश्न है ; इसमें तो पाश्चात्य प्रभाव ग्रहण करने में कमाल ही कर दिया है ।

भारतीय जन-समाज का ऐसा एक भी क्षेत्र अपनी सभ्यता-संस्कृति के तत्वों के लिए सुरक्षित रह पाया हो, ऐसा कहीं भूल से भी दिखाई नहीं देता । हमारी भाषा, हमारी वेश-भूषा, हमारा रहन-सहन, खान-पान और आम व्यवहार सभी कुछ इस सीमा तक पश्चिमी हो चुका है कि उसमें यदि कहीं कभी कुछ भारतीय दीख भी जाता है, तो वह बदरंग एवं बदरूप-सा, अजीब एवं अजनबी-सा प्रतीत होता है । उस सब में पहुँच कर लगने लगता है, जैसे हम अपने देश या घर में होकर कहीं विदेश में किसी पराए घर में आ गए हैं।

आज हम पश्चिम ही का खा-पी, पहन, ओढ़ और सभी कुछ कर रहे हैं। यहाँ तक कि हमारी संस्कृति की पहचान तक गायब हो गई है । उसमें पश्चिम के अपतत्त्वों का सम्मिश्रण इस सीमा तक हो चुका है कि खोजने की चेष्टा करने पर भी अपना कुछ नहीं मिल पाता । अपनी भाषाएँ तो अपनी रही ही नहीं, उनमें लिखे जा रहे साहित्य ने व्यक्त हो रहे भावविचार और वर्णित पर्यावरण तक उधार के लगते हैं। कला के अन्य किसी भी रूप में भारतीयता नहीं रह गई, बल्कि उसका भीतर-बाहर का सभी कुछ पश्चिमी रंग में रंग चुका है ।

पश्चिम ने भारत को जो आधुनिक ज्ञान-विज्ञान दिया है, एक राष्ट्रीयता एवं एक जातीयता की भावना दी है, उस सब के कारण हमें उस का आभारी भी होना चाहिए। आधुनिक प्रौद्योगिकी, तकनीक आदि देकर भी पश्चिम ने निश्चय ही हमें बहुत उपकृत किया है । काम के समय काम, विश्राम के समय विश्राम, आनन्द-मौज के समय आनन्द-मौज, अनेक तरह की अन्ध धारणाओं के प्रति अस्वीकार, राष्ट्रीय चरित्र और व्यवहार जैसा और भी कुछ अच्छा है पश्चिम में । लेकिन सखेद स्वीकार करना पड़ता है कि हम भारतीय उस अच्छे को अपनाने की तरफ ध्यान नहीं दे सके ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भारतीय नारी पर पाश्चात्य प्रभाव

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • पश्चिमी अनुकरण
  • उपभोक्ता सामग्री
  • उपसंहार ।

पाश्चात्य सभ्यता-संस्कृति ने यों तो भारतीय जीवन और समाज के किसी भी अंग को अछूता नहीं रहने दिया ; पर लगता है कि भारतीय नारी-समाज, उसका प्रत्येक अंग उससे सर्वाधिक प्रभावित हुआ है । इसी कारण वह आज सर्वाधिक प्रताड़ित एवं प्रपीड़ित भी है । पाश्चात्य नारी समाज और उसकी सभ्यता-संस्कृति, पाश्चात्य शिक्षा और रीति नीतियों के प्रभाव से आज की नारी ने स्वतंत्रता तो प्राप्त कर ली है, पर सखेद स्वीकार करना पड़ता है कि उसने न तो स्वतंत्रता का वास्तविक अर्थ ही समझा है और न अनुशासन ही सीखा है ।

शिक्षा, स्वावलम्बन, आर्थिक स्वतंत्रता, घर से बाहर निकल कर जीवन-समाज को नेतृत्व दे पाने की क्षमता, घर की चार-दीवारी और चूल्हे-चौके तक ही अपने को सीमित न रख जीवन के किसी भी उद्योग-धंधे या व्यवसाय में अपनी दक्षता का परिचय देना जैसी अनके बातें भारतीय नारी ने पश्चिम से सीखी हैं। उन सभी बातों को शुभ परिणामदायक कहा जा सकता है । इस से भारतीय नारी के जीवन में नया आत्मविश्वास जागा है। उसे नये क्षितिजों के उद्घाटन करने में काफी सफलता प्राप्त हुई है ।

यह भी पश्चिम का ही प्रभाव है कि आज भारतीय नारी घूँघट के भीतर सिकुड़ी छुई मुई बनी रहने वाली नहीं रह गई, न ही वह कल की तरह पुरुषों को देख कर लज्जा से सिकुड़ कुमड़े की बेल-सी ही बनी रह गई हैं। आज वह धड़ल्ले से हर विषय पर, हर किसी के साथ बातचीत कर सकती है । वह पुरुषों की तरह एवरेस्ट की चोटी पर तो अपने पाँव रख ही आई है, चन्द्रलोक की यात्रा भी कर आई है। इन सभी बातों को भारतीय नारी-जीवन के लिए अच्छा एवं सुखद कहा जा सकता है ।

इन अच्छाइयों के साथ-साथ भारतीय नारी ने पश्चिम से कुछ ऐसी बातें भी सीखीं या ऐसे प्रभाव भी ग्रहण किए हैं, जिन्हें भारतीय सभ्यता-संस्कृति की दृष्टि से उचित एवं अच्छा नहीं माना या कहा जा सकता । उस तरह के पाश्चात्य प्रभावों ने नारी को एक प्रकार का चलता-फिरता मॉडल इशितहार या पोस्टर या फिर उपभोक्ता सामग्री बना कर रख दिया है । परम्परागत शब्दों में कहा जाए, तो एक बार फिर वह भोग्या मात्र बन कर रह गई है।

फैशन में अंधी आज की नारी ने आज अपना अंग-प्रत्यंग तक सभी कुछ उधाड़ कर रख दिया है । इस सीमा तक वह उघड़ने लगी है कि उस का सौन्दर्य भदेस, सुकुमारता माँस का लजीीज टुकड़ा और तन-बदन नग्न होकर अश्लीलता का प्रतिरूप-सा प्रतीत होता है । वह किसी भी तरह से अपने उपयोग करने देने के लिए तैयार हो जाती है कि जब उसे कड़क नोटों की खड़क या चमकीले सिक्कों की खनक सुन पड़ती है ।

कुल मिला कर यही कहा जा सकता है कि अभी तक तो भारतीय नारी न तो पूर्णतया पाश्चात्य ही बन पाई है और न अपने भारतीय स्वरूपाकार को ही निखार पाई है । वह एक ऐसे दोराहे पर पहुँच चुकी है, जहाँ से आगे किधर अच्छा या बुरा है ; वह न तो अभी तक समझ पा रही है और न निर्णय ही कर पा रही है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

बाल-मज़दूर समस्या
अथवा,
बाल श्रमिक समस्या

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • मानवता के नाम पर कलंक
  • दयनीय जीवन
  • उपसंहार।

इब्ने इंशा की एक कविता का अंश –

यह बच्चा कैसा बच्चा है
जो रेत पे तनहा बैठा है
ना इसके पेट में रोटी है
ना इसके तन पर कपड़ा है
ना इसके पास खिलौनों में
कोई भालू है कोई घोड़ा है
ना इसका जी बहलाने को
कोई लोरी है, कोई झूला है ।

आज परिस्थितियाँ कुछ ऐसी बन गई और बन रही हैं कि ऐसे बच्चे हर कहीं शहर हो या ग्राम, बाजार हो या मुहल्ला सब जगह देखने को मिल जाते हैं जिनके हाथ-पैर रात-दिन की कठिन मेहनत-मज़दूरी के लिए विवश होकर धूलधूसरित तो हो चुके होते हैं, अक्सर कठोर एवं छलनी भी हो चुके होते हैं। चेहरों पर बालसुलभ मुस्कान के स्थान पर अवसाद की गहरी रेखाएँ स्थायी डेरा डाल चुकी होती हैं।

फूल की तरह ताजा गन्ध से महकते रहने योग्य फेफड़ों में धूल, धुआँ, रोएँ-रेशे भरकर उसे अस्वस्थ एवं दुर्गन्धित कर चुके होते है । गरीबीजन्य बाल-मज़ूरी करने की विवशता ही इसका एकमात्र कारण मानी जाती है । ऐसे बाल मज़दूर कई बार तो डर, भय, बलात् कार्य करने जैसी विवशता के बोझातले दबे-घुटे प्रतीत हुआ करते हैं और कई बार बड़े बूढ़ों की तरह दायित्व-बोध से दबे हुए भी। कारण कुछ भी हो, बाल-मज़दूरी न केवल किसी एक स्वतंत्र राष्ट्र बल्कि समूची मानवता के माथे पर कलंक है ।

छोटे-छोटे बालक मज़दूरी करते हुए घरों, ढाबों चायघरों, छोटे होटलों आदि में तो अक्सर मिल ही जाते हैं, छोटीबड़ी फैक्टरियों के अस्वस्थ वातावरण में भी मज़दूरी का बोझ ढोते हुए दीख जाया करते हैं। कश्मीर का कालीन-उद्योग, दक्षिण भारत का माचिस एवं पटाखे बनाने वाला उद्योग ; महाराष्ट्र, गुजरात और बंगाल की बीड़ी-उद्योग तो पूरी तरह से टिका ही बाल-मज़दूरों के श्रम पर हुआ है ।

बाल-मज़दूरों का एक अन्य वर्ग भी है। कन्धे पर झोला लादे इस वर्ग के मजदूर इधर-उधर फिके हुए गन्दे, फटे, तुड़ेमुड़े कागज बीनते दिखाई दे जाते हैं या फिर पोलिथीन के लिफाफे तथा पुराने प्लास्टिक के टुकड़े एवं टूटी-चप्पलें-जूते आदि । कई बार गन्दगी के ढेरों को कुरेद कर उनमें से टिन, प्लास्टिक, लोहे आदि की वस्तुएँ चुनते, राख में कोयले के टुकड़े बीनते हुए भी इन्हें देखा जा सकता है । ये सब चुन कर कबाड़खानों पर जा कर बेचने पर इन्हे बहुत कम दाम मिल पाता है जबकि ऐसे कबाड़ खरीदने वाले लखपति-करोड़पति बन जाया करते हैं । बाल-मज़दूरों के इस तरह के और वर्ग भी हो सकते हैं।

आखिर में बाल-मजदूर आते कहाँ से हैं ? सीधा-सा उत्तर है कि एक तो गरीबी की मान्य रेखा से भी नीचे रहने वाले घर-परिवारों से आया करते हैं । फिर चाहे ऐसे घर-परिवार ग्रामीण हों या नगरीय झुग्गी-झोंपड़ पट्टियों के निवासी, दूसरे अपने घर-परिवार से गुमराह होकर आए बालक । पहले वर्ग की विवशता तो समझ में आती है कि वे लोग मज़दूरी करके अपने घर-परिवार के अभावों की खाई पाटना चाहते हैं । दूसरे उन्हें पढ़ने-लिखने के अवसर एवं सुविधायें ही नहीं मिल पाती ।

लेकिन दूसरे गुमराह होकर मज़ूरी करने वाले बाल-वर्ग के साथ कई प्रकार की कहानियाँ एवं समस्याएँ जुड़ी रहा करती हैं । जैसे पढ़ाई में मन न लगने या पनुतीर्ण हो जाने पर मार के डर से घर-परिवार से दूर भाग आना ; सौतेली माँ यामाता-पिता के सौतले एवं कठोर व्यवहार से पीड़ित होकर घर त्याग देना, बुरी आदतों और बुरे लोगों की संगत के कारण घरों में न रह पाना या फिर कामचोर होना आदि कारणों से घरों से भाग कर और नगरों में पहुँच कई बार अच्छे घर-परिवार के बालकों को भी विषम परिस्थितियों में मज़दूरी करने के लिए विवश हो जाना पड़ता है। और भी कई वैज्ञानिक-मनोवैज्ञानिक कारण हो सकते हैं।

देश का भविष्य कहे-माने जाने वाले बच्चों-बालकों को किसी भी कारण से मज़दूरी करनी पड़े, इसे मानवीय नहीं कहा जा सकता । एक तो घरों में बालकों के रह सकने योग्य सुविधाएँ-परिस्थितियाँ पैदा करना आवश्यक है, दूसरे स्वयं राज्य को आगे बढ़कर बालकों के पालन की व्यवस्था सम्हालनी चाहिए । सभी समस्या का समाधान सभ्वव हो सकता है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भिखारी-समस्या
अथवा,
भिक्षावृत्ति

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • कारण
  • उपसंहार ।

भारत में, भारत की राजधानी दिल्ली में भी भीख माँगना कानूनी दृष्टि से अपराध है। स्वतंत्रता प्राप्ति के कुछ वर्ष बाद ही इस प्रकार के कानून का प्रावधान किया गया था कि जिस के अन्तर्गत भीख माँगना या मँगवाना दोनों को दण्डनीय अपराध घोषित किया गया था । इस घोषणा के बाद ऐसे भिखारी-निरोधक घर भी बनाए गये थे कि जहाँ भीख माँगने वाले शरण पा सकें । वहाँ रह कर अपनी योग्यतानुसार कोई काम-धन्धा सीख कर बाहर आएँ और काम कर के अपना जीवन-यापन सम्मानपूर्वक कर सकें। लेकिन इस भारी कानून व्यवस्था का प्रावधान एवं कानून का प्रभाव बहुत ही कम समय तक रहा । धीरे-धीरे फिर उसी प्रकार, बल्कि पहले से भी कहीं अधिक, प्रत्येक स्थान पर भिखारियों की भीड़ बढ़ने लगी ।

ये भिखारी कहाँ से आते हैं, और इन के विरुद्ध कानून के रक्षक एवं ठेकेदार पुलिस वाले कोई कार्यवाही क्यों नहीं करते, ‘नवभारत टाइम्स’ को प्रकाशित रिपोर्ट में अच्छा प्रकाश डाला गया है। उसके अनुसार – ‘बच्चों को अगवा कर के, अनाथ बच्चों, बेसहारा औरतों, अपाहिजों को डरा-धमका कर भीख माँगने के लिए मजबूर करने वाले माफिया गैंग दिन-प्रतिदिन फल-फूल रहे हैं और इसके पोषण में पुलिस की भागीदारी भी समान रूप से है । दिल्ली के विभिन्न इलाकों में पुलिस का भिखारियों या इस व्यवसाय के माफिया गिरहों से हफ्ता तक बन्धा हुआ है।’ बहुत पहले स्व० श्रीमती महादेवी वर्मा ने एक चीनी भाई के संस्मरण में भी इस प्रकार के भीख मंगवानेवाले माफिया गिरोह का सजीव वर्णन किया है ।

दिल्ली-समेत प्रायः समस्त नगरों-महानगरों में ऐसे इलाके अवस्थित हैं कि जहाँ भीख माँगने का बाकायदा प्रशिक्षण दिया जाता है । प्रशिक्षण के दौरान भिखारी जैसे रूप बनाना, विशेष दयनीय स्वर निकालना, हाथ-पैर हिलाकर करुणा उभार भीख देने को विवश कर देना आदि सभी कुछ सिखाया जाता है । अच्छे-भले लोगों और स्वस्थ बच्चों तक को अपाहिज बना कर भीख मंगवाई जाती है । बूढ़े-बूढ़ी अपनी असमर्थता जता कर, बच्चे वाली औरतें बच्चों के अनाथ होने और पालन का दायित्व निभाने जैसी बातें कह कर ऐसे हाव-भाव प्रदर्शित करती है, अनके तो हाथ धोकर पीछे ही पड़ जाती हैं कि कुछ देकर ही पीछा छुड़ाना संभव हो पाता है ।

देवी-देवताओं-विशेषकर शनि-मंगल और माता के नाम पर भी भीख माँगी जाती है। शनि-मंगल के चित्र लेकर और माता के भजन गाकर बच्चों-औरतों को चौराहों पर, बसों में भीख मांगते हुए अक्सर देखा जा सकता है, इस प्रकार भीख मांगने के अनेक तरीके हैं। भिखारी समस्या के अनेक रूप हैं ; क्योंकि अब लोग इन हथकण्डों को अक्सर समझने लगे है, इस कारण जो वास्तव में अपाहिज एवं बेसहारा होने के कारण भीख पाने के अधिकारी हैं, कई बार उन्हें भी वंचित रह जाना पड़ता है । यों किसी भी हालत में भीख मांगना अच्छा नहीं होता है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

आधुनिक जीवन और कंप्यूटर
अयवा,
आधुनिक यंत्र-पुरुष-कंप्यूटर

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • कंप्यूटर की परिभाषा
  • कंप्यूटर के उपयोग
  • कंप्यूटर और मानव-मस्तिष्क
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- गत कुछ वर्षो से कंप्यूटर की चर्चा जोर-शोर से सारे विश्व में हो रही है । देश को कंप्यूटरकृत करने के प्रयास किए जा रहे हैं। अनेक उद्योग-धंधों और संस्थानों में कंप्यूटर का प्रयोग होने लगा है । कंप्यूटरों के उन्मुक्त आयात के लिए देश के द्वार खोल दिए गए हैं ।

कंप्यूटर क्या है ? :- हमारे सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक जीवन पर छा जाने वाला कंप्यूटर एक ऐसा यांत्रिक मस्तिष्क है, जिसमें विभिन्न गणित संबंधी सूत्रों और तथ्यों के संचालन का कार्यक्रम पहले ही समायोजित कर दिया जाता है । इसके आधार पर कंप्यूटर न्यूनतम समय में गणना कर तथ्यों को प्रस्तुत कर देता है । कंप्यूटर का हिंदी नाम ‘संगणक’ है ।

चार्ल्स वेबेज पहले व्यक्ति थे जिन्होंने 19 वीं शताब्दी के प्रारंभ में पहला कंप्यूटर बनाया था । वह कंप्यूटर लम्बी गणनाएँ कर सकता था और उनके परिणामों को मुद्रित कर देता था । कंप्यूटर स्वयं ही गणना करके जटिल-से-जटिल समस्याओं के हल मिनटों और सेकेण्डों में निकाल सकता है ।

कम्य्यूटर के उपयोगों को इन शीर्षकों में बाँटकर देखा जा सकता है –
बैंकिंग के क्षेत्र में :- भारतीय बैंक में खातों के संचालन और उनका हिसाब-किताब रखने के लिए कंप्यूटर का प्रयोग आरम्भ हो चुका है। प्राय: सभी राष्ट्रीयकृत बैंको ने चुंबकीय संख्याओं वाली पास बुक जारी की है ।

प्रकाशन के क्षेत्र में :- समाचार-पत्रों तथा पुस्तकों के प्रकाशन में कंप्यूटर का विशेष योगदान है। अब तो कंप्यूटर से संचालित फोटो कम्पोजिंग मशीन के माध्यम से छपने वाली समग्री को टंकित किया जा सकता है । कंप्यूटर में संचित होने के बाद सारी सामग्री एक छोटी चुंबकीय डिस्क पर अंकित हो जाती है । फोटो कंपोजिंग मशीन इस डिस्क के अंकीय संकेतों को अक्षरीय संकेतों में बदल देती है जिससे उनका मुद्रण हो सके ।

सूचना और समाचार-प्रेषण के क्षेत्र में :- दूरसंचार की दृष्टि से भी कंप्यूटर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है । अब तो ‘कंप्यूटर नेटवर्क’ के माध्यम से देश के प्रमुख नगरों को एक-दूसरे से जोड़ने की व्यवस्था की जा रही है ।

डिजायनिंग के क्षेत्र में :- प्राय: ऐसा माना जाता है कि कंप्यूटर अंको और अक्षरों को ही प्रकट कर सकते हैं । आधुनिक कंप्यूटर के माध्यम से भवनों, मोटर-गाड़यों, हवाई जहाजों आदि के डिजाइन तैयार करने में कंप्यूटर ग्राफिक का प्रयोग हो रहा है ।

कला के क्षेत्र में :- कंप्यूटर अब कलाकार या चित्रकार की भूमिका भी निभा रहे हैं। अब कलाकार को न तो कैनवास की आवश्यकता है न रंग की, न बुशों की । कप्यूटर के सामने बैठा कलाकार अपने ‘नियोजित प्रोप्राम’ के अनुसार स्कीन पर चित्र बनाता है और स्कीन पर निर्मित यह चित्र प्रिंट की ‘कुँजी’ (Key) दबाते ही प्रिंटर द्वारा कागज पर अपने उन्हीं वास्तविक रंगों के साथ प्रिंट हो जाता है ।

रेलवे के क्षेत्र में :- कंप्यूटर द्वारा रेलवे संपूर्ण देश के संपर्क में रहता है । कंप्यूटर से आप कहीं से कहीं तक का भी आरक्षण करा सकते हैं, उस आरक्षण को कहीं पर भी रद्द करा सकते हैं।

वैज्ञानिक अनुसंधान के क्षेत्र में :- कंप्यूटरों से वैज्ञानिक अनुसंधान का स्वरूप ही बदलता जा रहा है । अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में कंप्यूटर ने क्रान्ति पैदा कर दी है । उसके माध्यम से अंतरिक्ष के व्यापक चित्र उतारे जा रहे हैं तथा इन चित्रों का विश्लेषण भी कंप्यूटर के माध्यम से हो रहा है। आधुनिक वेधशालाओं के लिए कंप्यूटर सर्वाधिक आवश्यक हो गए हैं।

औद्योगिक क्षेत्र में :- विशाल कारखानों में मशीनों के संचालन का कार्य अब कंप्यूटर द्वारा किया जा रहा है। कंप्यूटरों से जुड़कर रोबोट ऐसी मशीनों का नियंग्रण कर रहे हैं, जिनका संचालन मानव के लिए अत्यधिक कठिन था। भयंकर शीत और जला देनेवाली गर्मी भी उन पर कोई प्रभाव नहीं डालती ।

युद्ध क्षेत्र में :- वस्तुत: कंप्यूटर का अविष्कार युद्ध के एक साधन के रूप में ही हुआ था। अमेरिका में जो पहला इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर बना था, उसका उपयोग एटम-बम से संबंधित गणनाओं के लिए ही हुआ था। जर्मन सेना के गुप्त संदेशों को जानने के लिए अंग्रेजों ने कोलोसस’ नामक कंघ्यूटर का प्रयोग किया था । अमेरिका की स्टार-वार्स योजना कंप्यूटरों के नियन्त्रण पर ही आधारित हैं।

कंप्यूटर और मानव-मस्तिष्क :- प्राय: मन में यह प्रश्न उठता है कि कंप्यूटर और मानव-मस्तिष्क में श्रेष्ठ कौन है ? मानव-मस्तिष्क की अपेक्षा कंप्यूटर समस्याओं को बहुत कम समय में हल कर सकता है, किंतु वह मानवीय संवेदनाओं, अभिरुचियों और चिन्तन से रहित यंत्र-पुरुष है। कंप्यूटर केवल वही कार्य कर सकता है जिसके लिए उसे निर्देशित (Programmed) किया गया हो ।

उपसंहार :- भारत तीव्र गति से कंप्यूटर-युग की ओर बढ़ रहा है । हम अपना जीवन कंप्यूटर के हवाले करते जा रहे हैं । कंप्यूटर द्वारा विदेशों में बैठे मित्रों से पत्र-व्यवहार हो रहा है, परीक्षा-परिणामों की जानकारी ले रहे हैं। कंप्यूटर हमें बोलना, व्यवहार करना, जीवन को जीने का ढंग, मित्रों से मिलना, उनके विषय में ज्ञान प्राप्त करना आदि सब कुछ बताएगा । कुल मिलाकर कह सकते हैं कि कंप्यूटर द्वारा हमारे जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष रूप से सहयोग दिया जा रहा है । अब कंप्यूटर हमारे जीवन का एक अनिवार्य अंग बन चुका है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

वृक्षारोपण
अथवा,
वृक्षारोपण : सांस्कृतिक दायित्व

रूपरेखा :

  • पस्तावना
  • वृक्षों का महत्व
  • वृक्षों के प्रति मानव की निर्दयया
  • सांस्कृतिक दायित्व
  • उपसंहार।

वृक्षारोपण का सामान्य अर्थ है – वृक्ष लगाना। प्रयोजन है – वन-सम्पदा के रूप में प्रकृति से हमें जो कुछ भी प्राप्त होता आ रहा है, वह नियमपूर्वक हमेशा आगे भी प्राप्त होता रहे ; ताकि हमारे जीवन-समाज का सन्तुलन, हमारे पर्यावरण की पवित्रता और सन्तुलन नियमित बने रह सकें। वृक्षारोपण करना एक प्रकार का सहज सांस्कृतिक दायित्व स्वीकार किया गया है ।

वृक्षारोपण मानव-समाज का सांस्कृतिक दायित्व है, इसे अन्य दृष्टि से भी देखा और प्रमाणित किया जा सकता है । मानव सभ्यता का उदय और आरम्भिक आश्रय प्रकृति यानि वन-वृक्ष ही रहे हैं। उसकी सभ्यता-संस्कृति के आरम्भिक विकास का पहला चरण भी वन-वृक्षों की सघन छाया में ही उठाया गया। यहाँ तक कि उसकी समृद्धतम साहित्य-कला का सृजन और विकास ही वनालियों की सघन छाया और प्रकृति की गोद में ही सम्भव हो सका, यह एक पुरातत्व्व एवं इतिहास-सिद्ध बात है ।

प्राचीन काल में हरे वृक्ष को काटना पाप समझा जाता था, सूखे वृक्ष भले ही घरेलू उपयोग के लिए काटे जाते थे । कदम्ब वृक्ष को भगवान कृष्ण का प्रिय समझकर श्रद्धा दी जाती थी। अशोक का वृक्ष शुभ और मंगलदायक माना जाता था। तभी तो सीता ने अशोक वृक्ष से प्रार्थना की थी – “तस अशोक मम करहु अशोका।” यह था प्राचीन भारत में वन संम्पदा का महत्व। आरम्भ में ग्रन्थ लिखने के लिए कागज के समान जिस सामग्री का प्रयेा किया गया, वे भूर्ज या भोजपत्र भी तो विशेष वृक्षों के पत्ते ही थे। संस्कृति की धरोहर माने जाने वाले कई ग्रन्यों की भोजपत्रों पर लिखी गई पाण्डुलिपियाँ आज भी कहीं-कहीं उपलब्ध हैं। सांस्कृतिक भाव धारा की बुनियाद ही जब वन-वृक्षों की छाया में रखी गई और विकास कर पाई, तब यदि वृक्षारोपण को एक सांस्कृतिक दायित्व कहा-माना जाता है, तो यह उचित ही है ।

बीसवीं शताब्दी के आरम्भ होने से पहले तक देश में आरक्षित-अनारक्षित सभी तरह के वृहद वनों की भरमार रही परन्तु बीसवीं शती के स्वार्थान्ध मानव ने वनों का दोहन कर के धन कमाने का मार्ग तो अपना लिया, पर नए वृक्षारोपण के दायित्व को कतई भुला दिया। इसी कारण आज मानव-सभ्यता को पर्यावरण-सम्मन्धी कई तरह की समस्याओं से दोचार होना पड़ रहा है।

जो हो, अभी भी बहुत देर नहीं हुई है । अब भी निरन्तर वृक्षारोपण और उनके रक्षण के सांस्कृतिक दायित्व का निर्वाह कर सृष्टि को अकाल भावी-विनाश से बचाया जा सकता है । व्यक्ति और समाज दोनों स्तरों पर इस ओर प्राथमिक स्तर पर ध्यान दिया जाना परम आवश्यक है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

प्रदूषण : समस्या और समाधान
अथवा,
प्रदूषण से मुक्ति के उपाय

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • प्रदूषण का अर्थ
  • प्रदूषण के प्रकार
  • प्रदूषण पर नियंत्रण
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- प्राचीनकाल से ही गंगाजल हमारी आस्था और हमारे विश्वास का प्रतीक इसी कारण से रहा है क्योंकि वह सभी प्रकार के प्रदूषणों से मुक्त था, किंतु आज अनियन्नित औद्योगिक वृद्धि के कारण अन्य नदियों की तरह गंगा भी प्रदूषित हो रही है । यदि प्रदूषण इसी प्रकार बढ़ता रहा तो गंगा तेरा पानी अमृत’ वाला मुहावरा निरर्थक हो जाएगा ।

प्रदूषण का अर्थ :- विकास और व्यवस्थित जीवन-क्रम के लिए जीवधारियों को संतुलित वातावरण की आवश्यकता होती है । संतुलित वातावरण में प्रत्येक घटक एक निश्चित मात्रा में उपस्थित रहता है। कभी-कभी वातावरण में एक अथवा अनेक घटकों की मात्रा कम अथवा अधिक हो जाया करती है अथवा वातावरण में अनेक हानिकारक घटकों क प्रवेश हो जाता है। फलत: वातावरण दूषित हो जाता है, जो जीवधारियों के लिए किसी-न-किसी रूप में हानिकारक सिद्ध होता है । इसे ही प्रदूषण कहते हैं ।

प्रदूषण के प्रकार :- प्रदूषण की समस्या का जन्म जनसंख्या की वृद्धि के साथ-साथ हुआ है। विकासशील देशों में औद्योगिक एवं रासायनिक कचरों ने जल, वायु तथा पृथ्वी को भी प्रदूषित किया है।

विकसित एवं विकासशील सभी देशों में निम्न प्रकार के प्रदूषण विद्यमान हैं :-
वायु-प्रदूछण :- वायुमंडल में विभिन्न प्रकार की गैसें एक विशेष अनुपात में विद्यमान हैं, अपनी क्रियाओं द्वारा जीवधारी वायुमंडल में ऑक्सीजन और कार्बन-डाई-आक्साइड छोड़ते रहते हैं । प्रकाश की उपस्थिति में हरे पौधे प्रकाश-संश्लेषण क्रिया द्वारा कार्बन-डाई-ऑक्साइड को ग्रहण करते हैं तथा ऑक्सीजन छोड़ते हैं । इस प्रकार ऑक्सीजन और कार्बन-डाई-ऑक्साइड, नाइट्रोजन-ऑक्साइड, कार्बन-मोनो-ऑक्साइड, सल्फर-डाई-ऑक्साइड तथा सिलिकॉनटेट्राफ्लोराइड मुख्य हैं।

जल-प्रदूषण :- सभी जीवधारियों के लिए जल अत्यंत महत्वपूर्ण एवं आवश्यक है। पौधे अपना भोजन जल में घुली हुई अवस्था में ही प्राप्त करते हैं। जल में अनेक प्रकार के खनिज तत्व, कार्बनिक-अकार्बनिक पदार्थ तथा गैसें घुली रहती हैं । यदि जल में ये पदार्थ आवश्यकता से अधिक मात्रा में एकत्रित हो जाते हैं, तो जल प्रदूषित होकर हानिकारक हो जाता है।

ध्वनि प्रदूषण :- अनेक प्रकार के वाहनों, जैसे-कार, स्कूटर, मोटर, जेट विमान, ट्रैक्टर आदि तथा लाउडस्पीकर, बाजे, कारखानों के सायरन और मशीनों से भी ध्वनि-प्रदूषण होता है । अधिक तेज ध्वनि से मनुष्य की सुनने की शक्ति भी कम हो जाती है तथा उसे ठीक प्रकार से नींद नहीं आती, यहाँ तक कि कभी-कभी पागलपन का रोग भी उत्पन्न हो जाता है ।

रासायनिक प्रदूषण :- प्राय: कृषक अधिक पैदावार के लिए कीटनाशक और रोगनाशक दवाइयों तथा रसायनों का प्रयोग करते हैं। इनका स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव पड़ता है । जब ये रसायन वर्षा के जल के साथ बहकर नदियों द्वारा सागर में पहुँच जाते हैं तो, ये वहाँ रहने वाले जीवों पर घातक प्रभाव डालते हैं । इतना ही नहीं मानव-देह पर भी इसका प्रभाव पड़ता है ।

रेडियोधर्मी प्रदूषण :- परमाणु शक्ति उत्पादन केंद्रों तथा परमाणविक परीक्षण से भी जल, वायु तथा पृथ्वी का प्रदूषण होता है, जो देश की वर्तमान पीढ़ी के साथ-साथ भावी पीढ़ी के लिए भी खतरनाक है । परमाणु विस्फोट के स्थान पर तापक्रम इतना अधिक बढ़ जाता है कि धातु भी पिघल जाती है । पोखरण में परमाणु परीक्षण के समय भारत में भी ऐसा ही हुआ था ।

प्रदूषण पर नियंत्रण :- पर्यावरण में होने वाले प्रदूषण को रोकने तथा उसकी रक्षा के लिए गत वर्षों में सारे विश्व में एक चेतना पैदा हुई है । भारत सरकार ने 1947 ई० में ‘जल-प्रदूषण निवारण एवम् नियंत्रण अधिनियम’ लागू किया था । इसी के अंतर्गत एक केंद्रीय बोर्ड’ तथा सभी प्रदेशों में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड गठित किए गए हैं । इन बोर्डों ने प्रदूषणनियंत्रण की योजनाएँ तैयार की हैं।

उपसंहार :- सरकार प्रदूषण की रोकथाम हेतु निरन्तर प्रयास कर रही है । पर्यावरण के प्रति जागरुकता से ही हम भविष्य में और अधिक अच्छा स्वास्थ्य तथा जीवन जी सकेंगे तथा भविष्य में आने वाली पीढ़ी को प्रदूषण के अभिशाप से मुक्ति दिला सकेंगे ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

एड्सः एक चुनौती

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • एड्स की जानकारी
  • एड्स के कारण
  • एड्स से बचाव के उपाय
  • उपसंहार।

प्रस्तावना :- H.I.V. (एच. आई. वी.) अर्थात् एड्स (Aids) भारत और पूरी दुनिया के लिए एक चुनौती बन चुका है । भारत में आज करोड़ों लोग एच.आई. वी. से संकमित हैं । विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा उपलब्ध कराए गए आँकड़ों से पता चलता है कि दुनिया में 3 करोड़ 80 लाख वयस्क और करीब 15 लाख बच्चे एच. आई वी. की चपेट में आ चुके हैं । सन् 1991 में इसकी संख्या आधी थी । भारत में H.I.V. संक्कमित लोगों की अनुमानित संख्या 3.85 मिलियन है । महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र-प्रदेश, कर्नाटक, मणिपुर तथा नागालैंड में एक प्रतिशत से अधिक लोग H.I.V. संक्रमित हैं । इसने गत वर्ष विश्व में लगभग 30 लाख लोगों को मौत के घाट उतार दिए । आज विश्व का प्रत्येक देश एड्स की चपेट में है।

एड्स का अर्थ :- ‘एड्स’ का पूरा अर्थ है –

  • A-Acquired-एक्वायर्ड-प्राप्त किया हुआ ।
  • I-Immuno (इम्युनो)-शरीर के रोगों से लड़ने की क्षमता ।
  • D-Deficiency (डेफिसिएंसी)-कमी ।
  • S-Syndrome (सिंड्रोम)-लक्षणों का समूह।

एड्स की जानकारी :- एड्स एक ऐसी भयंकर बीमारी है जो एच आई वी. (H.I.V.) नामक वायरस विषाणु के द्वारा फैलती है । ये वायरस अत्यंत सूक्ष्म तथा बीमारी पैदा करने वाले जीव हैं। इन्हें केवल अत्यंत शक्तिशाली सूक्ष्मदर्शी यंत्र की सहायता से ही देखा जा सकता है ।H.I.V. वायरस के शरीर में प्रवेश करने के बाद मरीज की रोगों से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता समाप्त होने लगती है । इस प्रकार रोगी साधारण रोगों से मुकाबला नहीं कर पाता है । एच आई. वी. संक्रमण और एड्स के अंतर को आम व्यक्ति नहीं समझ पाता है। एच. आई. वी. संक्रमण उसे कहते हैं जब वायरस शरीर के अंदर प्रवेश कर जाता है । तब वह व्यक्ति एच आई. वी. सक्रमित व्यक्ति कहलाता है तथा ऐसे व्यक्ति को 7 से लेकर 10 वर्षों तक कोई बीमारी नहीं होती । वह दूसरे लोगों की तरह सामान्य नज़र आता है । इसके बाद वह संक्रमित व्यक्ति एड्स की बीमारी से घिर जाता है । एक बार शरीर में वायरस प्रवेश कर जाए तो फिर इस बीमारी से मुक्ति सम्भव नहीं है ।

एड्स के कारण :- एड्स रोग मूल रूप से एक यौन रोग है । इसके प्रमुख कारण हैं –

(अ) एच.आई. वी. ग्रस्त व्यक्ति के साथ शारीरिक संबंध रखने से । यौन संबंधों से यह रोग संक्रमिक पुरुष से महिला को, संक्रमित महिला से पुरुष को तथा संक्रमित पुरुष से पुरुष को हो सकता है ।
(ब) डॉक्टरों द्वारा प्रदूषित सुइयों का प्रयोग करने से, मादक पदार्थों का सेवन करने वालों द्वारा दूषित सुइयों के प्रयोग से, शरीर पर गुदाई करने वालों द्वारा अस्वच्छ औजारों का प्रयोग करने से तथा संक्रमित व्यक्ति के रेजर से बाल अथवा दाढ़ी बनाने से ।

एड्स से बचाव के उपाय :- सरकार विभिन्न संचार माध्यमों के द्वारा जनता को एड्स की जानकारी दे रही है । एड्स के सामान्य लक्षणों की जानकारी सभी को होनी चाहिए । एड्स के रोग से प्रस्त रोगी का वजन निरंतर कम होता जाता है । उसकी गर्दन, बगल अथवा जांघों की ग्रंथियों में सूजन आ जाती है । उसे लगातार बुखार भी रहता है। मुँह तथा जीभ पर सफेद चकत्ते पड़ जाते हैं, लेकिन इन लक्षणों का अर्थ यह नहीं है कि ऐसे लक्षणों वाले सभी व्यक्तियों को एड्स ही है ।

तपेदिक रोग में भी ऐसे लक्षण हो सकते हैं । एड्स रोग का निदान एलिसा टेस्ट(Elisa Test) तथा वेस्टर्न ब्लॉट (Western Blot) नामक रक्त जाँच से किया जाता है । लाल रिबन एड्स का अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न है। प्रतिवर्ष एक दिसम्बर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है । इस दिन सभी लोग एड्स का अंतर्राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न पहनकर एड्स के विरुद्ध अपनी मुहिम चलाते हैं। एक दिसम्बर (विश्व एड्स दिवस) विश्व के सभी देशों के बीच आपसी विश्वास, करुणा, समझ और एकजुटता विकसित करने का संदेश देता है। एड्स के विरुद्ध विश्वव्यापी अभियान का प्रारंभ 1977 ई० से हुआ है । सभी देशों की यही धारणा है कि विश्व के लोग इस बीमारी की गंभीरता को समझें। संयुक्त राष्ट्र संग ने एक दिसंबर को ‘विश्व एड्स दिवस’ के रूप में मनाने की घोषणा की है ।

उपसंहार :- याद रहे अभी तक इसका कोई इलाज नहीं है, कोई दवा नहीं है । अत: इससे बचाव हेतु इसकी पूर्ण जानकारी जनता को होनी चाहिए । एड्स की जानकारी में ही बचाव है । व्यक्ति को रक्त चढ़वाते समय, इंजेक्शन लगवाते समय, नाई से बाल कटवाते समय नई सुई तथा ब्लेड का प्रयोग करना चाहिए। ऐसी जानकारी जनता को हो तथा वह शारीरिक संबंधों में सतर्कता रखें तो एड्स नहीं फैलेगा तथा सभी भारतवासी अथवा विश्व के लोग दुश्चिन्ताओं से मुक्तर रहेंगे ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

इण्टरनेट और विश्व गाँव की संकल्पना
(गलोबलाइजेशन)

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • कम्प्यूटर के माध्यम से समय विश्व और गाँव को जोड़ने का प्रयास।
  • इण्टरनेट की लोकपियता
  • उपसंहार।

भौगोलिक सीमाओं से आबद्ध व्यक्ति सूचना प्रौद्योगिकी और संचार प्रौद्योगिकी के सदुपयोगी संगम से एक सुगम व्यवस्था की ओर अग्रसर हो रहा है । यह व्यवस्था अपने विस्तृत आलिंगन से समूचे वसुधा को समेट रही है । वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी विकास के इस परिर्रेक्ष्य में इस पृथ्वी पर प्रत्येक व्यक्ति दूर-दराज के क्षेत्र में स्थित दूसरे व्यक्तियों से बौद्धिक सम्पर्क स्थापित कर रहा है। सप्ट्त: मानवीय सम्बन्ध एक आशाजनक उज्जवल परिवर्तन की स्थिति से गुजर रहा है। कम्प्यूटर के माध्यम से सूचना के राजमार्ग इण्टरनेट पर चलकर समस्त मानव-जाति एकीकरण के लिए प्रयत्नशील है ।

मानव-जीवन की सभी गतिविधियां यथा – राजनीतिक, व्यापारिक, सांस्कृतिक आदि इलेक्ट्रॉनिक सुविधाओं से लाभान्वित हो रही हैं। नेटवर्क के इस विशाल पर्यावरण में कोई सीमा नहीं। कोई सरहद नहीं, कोई बंधन नहीं। विचारकों का उन्मुक्त संचालन-प्रसारण विश्व ग्राम योजना का प्रमुख चरित्र है और इण्टरनेट इसकी सम्पूर्ण व्यवस्था है। इण्टरनेट व्यवस्था के अन्तर्गत लाखों-करोड़ों कम्यूटरों का संजाल बनता जा रहा है, जो सूचनाओं के आवागमन को सुलभ करता है ।

इसकी संरचना वस्तुतः प्रजातांत्रिक है, जो सूचना शक्ति को विकेन्द्रित करती है। दुनिया के किसी भी कोने में बैठा कोई भी व्यक्ति अपने कम्यूटर को इण्टरनेट से जोड़कर सूचना समाद् बन सकता है । इण्टेरनेट से जुड़ा कम्पूटर होस्ट कहलाता है। इस साम्राज्य में राजा व रंक सभी अपने होस्ट कम्प्यूटर से सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकते हैं। इण्टरनेट का जन्म शीत-युद्ध के गर्भ से अमेरिका में हुआ है।

1960 ई० में सोवियत संघ के परमाणु आक्रमण से चिंतित अमेरिकी सरकार ने एक ऐसी व्यवस्था की संरचना चाही, जिसमें अमेरिकी शक्ति किसी एक जगह पर केन्द्रित न रहे । विकेन्द्रित सत्ता वाले नेटवर्क से यह आशा थी कि शक्ति के बिखरे स्वरूप से उसे आक्रमण का शिकार होने से बचाया जा सकेगा । इस नेटवर्क में कम्यूटर शक्ति से सम्बन्धित समस्त सूचनाओं को संग्रहीत रखा जा सकेगा। इस प्रकार, कुछ कम्यूटरों के नष्ट हो जाने के बावजूद भी कुछ कम्पूटर, शेष कम्यूटर रक्षात्मक कदमों के लिए संग्रहीत सूचनाओं के साथ मार्गदर्शन करेंगे।

सत्तर के दशक में अमेरिका की रक्षा उन्नत अनुसंधान परियोजना एजेंसी ने अपने प्रयत्न में सफलता प्राप्त की और इस नेटवर्क का उदय हुआ । जो कम्पूटरों के बीच संयोजित पैकेट संजालों में सूचनाओं का आदान-प्रदान कराने लगा। ये अंतर-नैटिंग परियोजना परिक्कृत होकर इण्टरनेट के नाम से विख्यात हुई । अनुसंधान से विकसित प्रोटोकोल को नियंत्रण प्रोटोकोल (टी.सी. पी.) और इण्टरनेट प्रोटोकोल (आई.बी.) कहा गया । इण्टरनेट से सम्बन्धित दस्तावेजों के प्रकाशन और प्रोटोकल संचालन के लिए इण्टरनेट कारवाई बोर्ड होता है जो प्रयोक्ताओं को इण्टरनेट रजिस्ट्री डोमेन नेम और उसके द्वारा डाटाबेस का आबंटन और वितरण करता है ।

विश्व समाज प्रौद्योगिकी सुविधाओं का सदुपयोग सभी पारम्परिक दूरियाँ खत्म करने के लिए कर रहा है। व्यक्तिगत लाभ से लेकर जनकल्याण तक की दृष्टि से इण्टरनेट एक उपयोगी उपलब्धि के रूप में प्रकट हो रहा है । भविष्य में इण्टरनेट से जुड़ा विश्व समुदाय एक प्रजातांत्रिक वैज्ञानिक व्यवस्था में सूचना शक्ति का बराबर हकदार होगा। लेकिन कठिनाई उन विकासशील देशों के लिए होगी, जहाँ आधारभूत संरचना का अभाव है।

भारत जैसे देश में जहाँ अभी भी बिजली, पानी, टिकाऊ आवास, साक्षरता, स्वास्थ्य सुविधा, पोषक भोजन आदि की समस्या है, इलेक्ट्रॉनिक जीवन स्वपातीत हैं। गाँवों में सामुदायिक कम्यूटर के लिए भी निर्बाध बिजली की आवश्यकता होगी। ई-गवर्नेंस के लिए भी उचित वातावरण चाहिए । यह आवश्यक है कि सूचना क्रान्ति के इस लाभदायक क्षण में लाभान्वित हो रहा धनाद्य वर्ग अपने सामाजिक कर्त्त्यों का निर्वाह करे।

सष्ट है कि इण्टरनेट विश्व में सभी समुदायों से सम्बद्ध मामलों पर विचार-विमर्श के रूप में पूरी दुनिया में सूचना का कारगर प्रसारण बन सकता है। हम इण्टरनेट पर दुनिया के किसी भी कोने में रहने वाले अपने मित्र से बातचीत कर सकते हैं। विभिन्न दुकानों में बिकने वाली वस्तुओं को देख सकते हैं और ऑर्डर दे सकते हैं। मण्डियों और शेयर बाजार पर नजर रख सकते हैं। अपने उत्पादन और सेवाओं का विज्ञापन कर सकते हैं।

इण्टरनेट पर हम न केवल अखबार पढ़ सकते हैं, बल्कि पुस्तकालयों से जरूरी सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं। दुनिया से हम सलाह मांग सकते हैं, और अपना विचार दुनिया के सामने रख सकते हैं। जिस प्रकार गाँव के अन्दर सूचना का आदान-प्रदान बड़ी तेजी से होता है, ठीक उसी प्रकार इण्टरनेट के द्वारा पूरे विश्व में कहीं से किसी कोने में सूचना तीव्र गति से दिया और लिया जा सकता है । इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि इण्टरनेट विश्व गाँव की संकल्पना को साकार कर सकता है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

इंटरनेट – वरदान या अभिशाप

भौगोलिक सीमाओं से आबद्ध व्यक्ति सूचना प्रौद्योगिकी और संचार प्रौद्योगिकी के सदुपयोगी संगम से एक सुगम व्यवस्था की ओर अग्रसर हो रहा है । यह व्यवस्था अपने विस्तृत आलिंगन से समूचे वसुधा को समेट रही है। वैज्ञानिक और प्रौद्योगिकी विकास के इस परिप्रेक्ष्य में इस पृथ्वी पर प्रत्येक व्यक्ति दूर-दराज के क्षेत्र में स्थित दूसरे व्यक्तियों से बौद्धिक सम्पर्क स्थापित कर रहा है। स्पष्टत: मानवीय सम्बन्ध एक आशाजनक उज्ज्वल परिवर्तन की स्थिति से गुजर रहा है । कम्यूटर के माध्यम से सूचना के राजमार्ग इण्टरनेट पर चलकर समस्त मानव-जाति एकीकरण के लिए प्रयत्नशील है ।

मानव-जीवन की सभी गतिविधियां यथा – राजनीतिक, व्यापारिक, सांस्कृतिक आदि इलेक्ट्रॉनिक सुविधाओं से लाभान्वित हो रही हैं । नेटवर्क के इस विशाल पर्यावरण में कोई सीमा नहीं । कोई सरहद नहीं, कोई बंधन नहीं । विचारों का उन्मुक्त संचालन-प्रसारण विश्व ग्राम योजना का प्रमुख चरित्र है और इण्टरनेट इसकी सम्पूर्ण व्यवस्था है। इण्टरनेट व्यवस्था के अन्तर्गत लाखो-करोड़ों कम्यूटरों का संजाल बनता जा रहा है, जो सूचनाओं के आवागमन को सुलभ करता है ।

इसकी संरचना वस्तुतः प्रजातांत्रिक है, जो सूचना शक्ति को विकेन्द्रित करती है। दुनिया के किसी भी कोने में बैठा कोई भी व्यक्ति अपने कम्प्यूटर को इण्टरनेट से जोड़कर सूचना सम्राट बन सकता है । इण्टेरनेट से जुड़ा कम्प्यूटर होस्ट कहलाता है। इस साम्राज्य में राजा व रंक सभी अपने होस्ट कम्यूटर से सूचनाओं का आदान-प्रदान कर सकते हैं । इण्टरनेट का जन्म शीत-युद्ध के गर्भ से अमेरिका में हुआ है । विश्व समाज प्रौद्योगिकी सुविधाओं का सदुपयोग सभी पारम्परिक दूरियाँ खत्म करने के लिए कर रहा है। व्यक्तिगत लाभ से लेकर जनकल्याण तक की दृष्टि से इण्टरनेट एक उपयोगी उपलब्धि के रूप में प्रकट हो रहा है ।

भविष्य में इण्टरनेट से जुड़ा विश्व समुदाय एक प्रजातांत्रिक वैज्ञानिक व्यवस्था में सूचना शक्ति का बराबर हकदार होगा । लेकिन कठिनाई उन विकासशील देशों के लिए होगी, जहाँ आधारभूत संरचना का अभाव है । भारत जैसे देश में जहाँ अभी भी बिजली, पानी, टिकाऊ आवास, साक्षरता, स्वास्थ्य सुविधा, पोषक भोजन आदि की समस्या है, इलेक्ट्रॉनिक जीवन स्वप्नातीत हैं । गाँवों में सामुदायिक कम्यूटर के लिए भी निर्बाध बिजली की आवश्यकता होगी । ई-गवर्नेंस के लिए भी उचित वातावरण चाहिए। यह आवश्यक है कि सूचना क्रान्ति के इस लाभदायक क्षण में लाभान्वित हो रहा धनाद्य वर्ग अपने सामाजिक कर्तव्यों का निर्वाह करे।

स्पष्ट है कि इण्टरनेट विश्व में सभी समुदायों से सम्बद्ध मामलों पर विचार-विमर्श के रूप में पूरी दुनिया में सूचना का कारगर प्रसारण बन सकता है। हम इण्टरनेट पर दुनिया के किसी भी कोने में रहने वाले अपने मित्र से बातचीत कर सकते हैं । विभित्र दुकानों में बिकने वाली वस्तुओं को देख सकते हैं और ऑर्डर दे सकते हैं । मण्डियों और शेयर बाजार पर नजर रख सकते हैं । अपने उत्पाद और सेवाओं का विज्ञापन कर सकते हैं । इण्टरनेट पर हम न केवल अखबार पढ़ सकते हैं, बल्कि पुस्तकालयों से जरूरी सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं ।

दुनिया से हम सलाह मांग सकते हैं, और अपना विचार दुनिया के सामने रख सकते हैं। जिस प्रकार गाँव के अन्दर सूचना का आदान-प्रदान बड़ी तेजी से होता है, ठीक उसी प्रकार इण्टरनेट के द्वारा पूरे विश्व में कहीं से किसी कोने में सूचना तीव्र गति से दिया और लिया जा सकता है । इंटरनेट मनोरंजन का भी साधन है । इस पर विश्व की सारी गतिविधियाँ उपलब्ध हैं। अनेक खेल उपलब्ध हैं । मनचाही फिल्में, मनचाहे गाने, चैटिंग और तरह-तरह के सामान इसे लोकप्रिय बनाए हुए हैं। इंटरनेट व्यापार, बैंकिग, आजीविका, टिकटखरीद, होटल बुकिंग, खरीददारी आदि आवश्वक क्षेत्रों में भी हस्तक्षेप रखता है। वास्तव में इंटरनेट की भूमिका आज बहुमुखी हो गई है।

इंटरनेट केवल स्वर्ग के ही द्वार नहीं खोलता, इसकी परेशानियाँ भी अनंत हैं। सबसे बड़ी परेशानी यह है कि यह समय-खाऊ यंत्र है । यह उस भटकाऊ चौराहे की तरह है, जिसपर खड़े होकर आदमी अपना रास्ता भूलकर अन्य आकर्षक रास्तों को निहारने में खो जाता है। इंटरनेट से एक सूचना लेनी हो तो हजारों सूचनाएँ आकर हमें भूलभुलैया में डाल देती हैं। बड़ी मुस्किल से हम वांछित सूचना ले पाते हैं । इस कारण हमारा समय बहुत व्यर्थ चला जाता है ।

इंटरनेट की दूसरी बड़ी कमी यह है कि यह छोटे-बड़े का ख्याल रखे बगैर सारी खबरें, सारी सूचनाएँ, सारे दृश्य लोगों के सामने खोल देता है । अनेक अश्लील और नंगे दृश्य इस पर हमेशा उपलब्ध रहते हैं । इससे विश्व की अनेक मंस्कृतियों में खलल पड़ गया है। अपने बच्चों को हम कुमार्ग से बचाने के लिए जी-जान लगाया करते थे, इंटरनेट उसे हमारे घर में आकर ही परोस देता है। यह घर बैठे-बैठे रष्ट होने का साधन बन गया है।

इंटरनेट का एक बड़ा खतरा यह है कि इसके माध्यम से अनेक चोरियाँ होने लगी हैं। हमारे पते, बैंक-खाते, क्रेडिट कार्ड नंबर चोरी होने लगे हैं, जिसके कारण हमारे खातें से पैसे चोरी हो जाते हैं। एक बड़ा खतरा यह है कि हमारे मेल पर हजारों अवांछित संदेश आते हैं और वे हमारी दिनचर्चा में खलल डालते हैं। कभी-कभी ऐसा वायरस आ जाता है कि हमारी सारी सूचनाएँ नष्ट हो जाती हैं । इंटरनेट के खतरों से बचा जा सकता है। इसके लाभ इतने अधिक हैं कि आज इसके वरदानों से वंचित नहीं हुआ जा सकता।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

दूरदर्शन (टेलिविज़न)

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • अविष्कार
  • कार्य-पणाली
  • उपयोगिता
  • उपसंहार ।

दूरदर्शन आधुनिक विज्ञान की एक महत्त्वपूर्ण विधा है मनोरंजन के साथ-साथ शिक्षा देने, जानकारी बढ़ाने, प्रचार और प्रसार का भी एक महत्वपूर्ण सशक्त माध्यम है । इस माध्यम में जैसे रेडियो और सिनेमा की श्रव्य-दृश्य विधियाँ मिल कर एक हो गई हैं। इसे बेतार-संवाद प्रेषण का अभी तक का सर्वोत्तम उपलब्ध वैज्ञानिक साधन माना जाता है । टेलफोन और रेडियो के आविष्कार के पहले तक जैसे आम आदमी ने कभी कल्पना तक नहीं की थी कि कभी वह दूर-दूराज़ स्थित लोगों की आवाज़ सुन कर उन्हें अपने समीप अनुभव कर सकेगा, उसी प्रकार बोलने वाले को कभी देख भी सकेगा, यह सोचना भी कल्पना से परे था। लेकिन दूरदर्शन के आविष्कार ने असम्भव या कल्पनातीत समझी जाने वाली उन सभी बातों को आज साकार एवं सम्भव कर दिखाया है ।

इस वैज्ञानिक चमत्कार यानि दूरदर्शन का आविष्कार सन् 1926 ई० में सम्भव हो पाया था। इस का आविष्कारकर्ता का नाम है जॉन एल० बेयर्ड। भारत में इस चमत्कारी दृश्य श्रव्य प्रसारण विधा का आगमन सन् 1964 ई० के बाद ही सम्भव हो पाया। भारत में पहले दूरदर्शन-प्रसारण केन्द्र की स्थापना सन् 1965 में ही हो पाई । धीरे-धीरे इसका प्रचलन और प्रसारण इस सीमा तक बड़ा कि आज दूर-पास सर्वन्त इसे देखा-सुना जा सकता है । राजभवन से लेकर झोंपड़ी तक में यह पहुँन चुका है। पहले इस का श्वेत-श्याम स्वरूप ही प्राप्त था, जबकि आज भारत-समेत सारे विश्व में दूरदर्शन रंगीन दुनिया में प्रवेश कर चुका है ।

आजकल भारत में उपग्रह की सहायता से दूरदर्शन के कार्यक्रम देश के प्रत्येक कोने में सरलता से पहुँचने लगे हैं। अब तक डेढ़-दो दर्जन तक प्रसारन केन्द्र तथा सैंकड़ों रिले केन्द्र स्थापित हो चुके हैं। दूरदर्शन-ट्राँसमिशन की संख्या भी दिन-प्रतिदिन लगातार बढ़ती ही जा रही है। आधुनिक विज्ञान ने टेलिविजन का प्रयोग भिन्न-भिन्न दिशाओं में सम्भव बना दिया है । दूरदर्शन अन्तरिक्ष-विज्ञान की भी कई तरह से सहायता कर रहा है। सुदूर ग्रहों की जानकारी इस के कैमरे सहज ही प्राप्त कर लेते हैं। कृत्रिम उपग्रह अन्तरिक्ष में भेजने और वहाँ उन पर नियंत्रण रखने के कार्य में भी दूरदर्शन बड़ा सहायक सिद्ध हो रहा है ।

दूरदर्शन तरह-तरह के मनोरंजन का एक सर्वसुलभ घरेलू साधन है ही, इससे, शिक्षा के प्रचार-प्रसार, निरक्षरता हटाने जैसे कायों में भी पर्याप्त सहायता ली गई और ली जा रही है । विद्यालयों, महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों को शिक्षा के साथ-साथ किसानों को कृषि कायों को शिक्षा के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है । इसी प्रकार दूरदर्शन प्रचार-प्रसार का भी अच्छा माध्यम है। सो स्वास्थ्य-सुधार, जनसंख्या-नियंत्रण, शिशु-संवर्द्धन-रक्षा जैसे कार्य भी यह कर रहा है । और भी कई प्रकार के घरेलू तथा व्यावसायिक शिक्षण-प्रशिक्षण के लिए इस का व्यापक प्रयोग किया जा रहा है। देश-विदेश के समाचारों की दृश्य-श्रव्य योजना, समाचार-समीक्षा, गोष्ठियाँ, वार्ताएँ, कवि-सम्मेलन-मुशायरे, प्रदर्शानियाँ और तरह-तरह के उत्पादों के विज्ञापन जैसे अनेक कार्य इस से लिए जा रहे हैं।

इस प्रकार सषष्टै कि आज दूरदर्शन हमारे व्यापक जीवन का एक व्यापक एवं व्यावहारिक अंग बन चुका है। हाँ, अपसंस्कृति के प्रचार का माध्यम बनने से इसे रोकना आवश्यक है, नहीं तो देश-काल के अनुरूप इस की वास्तविक उपयोगिता व्यर्थ हो कर रह जाएगी ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

कम्प्यूटर : मशीनी मस्तिष्क

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • कम्यूटर-प्रणाली
  • उपयोगिता
  • उपसंहार ।

आधुनिक ज्ञान-विज्ञान ने किस सीमा तक प्रगति एवं विकास कर लिया है, किस तरह वह एक-के बाद-एक नए आविष्कार कर के मानव की सभी तरह की कार्य-शक्तियों के लिए एक चुनौती बनता जा रहा है ; कम्यूटर का आविष्कार इसका एक नवीनतम उदाहरण है।

कम्पूटर को आज प्रत्येक क्षेत्र की प्रगति एवं दुत विकास के लिए आवश्यक माना जाने लगा है। शिक्षा, व्यवसाय, शास्त्र-प्रशासन सभी में आज कम्यूटर-प्रणाली की न केवल महती आवश्यकता ही अनुभव की जा रही है ; बल्कि यथासम्भव अपनाया भी जा रहा है। यहीं तक नहीं, देश की सुरक्षा-प्रणाली की दृढ़ता के लिए भी आज कम्यूटर एक तरह की अनिवार्यता है। मानव-मस्तिष्क से भी बढ़ कर तीव्र गति से कार्य करने वाला कम्यूटर वास्तव में अंक-गणितपद्धति के विकास की एक महत्त्वपूर्ण आधुनिक देन है ।

ईसा से लगभग चार हजार वर्ष पहले गणक-पटल नामक अंक गणित की जिस विद्या का विकास हुआ था, जिसके द्वारा तारों में मोती जैसे डालकर आज भी बच्चों को गिनती सिखाई जाती है, उसका विकसित एवं यंत्रीकृत परिवर्द्धित रूप है कम्यूटर । यह कम्यूटर-प्रणाली मुख्यत पाँच भागों में विभाजित रहा करती है –

  • स्मरणयंत्र, इसमें सभी तरह की सूचनाएँ भर दी जाती हैं। इन्हीं के आधार बनाकर कम्यूटरी-गिनती हुआ करती है।
  • नियंत्रणकक्ष, इसी से गिनती के गुण-दोष अर्थात् ठीक-गलत का पता चल पाता है।
  • अक गणित भाग, इसमें यह भाग गिनती की सारी क्रियाप्रक्रिया को सम्पन्न किया करता है ।
  • आन्तरिक यन्त्र भाग, इसमें सभी प्रकार के संकेत, निर्देश और जानकारियाँ संकलित एवं संचित रहा करती हैं।
  • बाह्हा यंत्र भाग, उपर्युक्त अंगों के क्रियाकलापों से प्राप्त निर्देशों-सूचनाओं का विवेचन-विश्लेषण का परिणाम बताने का कार्य यह भाग सम्पन्न किया करता है ।

कम्यूटर की अपनी एक अलग भाषा है। उसी में सभी तरह के संकेत, सूचनाएँ आदि उसमें भरे जाते हैं। कम्प्यूटर की तकनीकी भाषा में उन्हे क्रमशः आफ, आन, शून्य, एक या फिर द्विचर संख्या कहा जाता है। इन्हीं के द्वारा हीं भाषा को अंकों में बदल दिया जाता है इन्हें ‘बिट्स’ भी कहा गया है । ये बिट्स छ: होते हैं, जिन का प्रयोग करके ही किसी बात का अन्तिम परिणाम प्राप्त किया जाता है । इन सब की तकनीक सर्वथा भिन्न प्रकार की है।

आज सरकारी-गैरसरकारी प्रत्येक क्षेत्र में बड़े व्यापक स्तर पर कम्यूटर का प्रयोग किया जाने लगा है। प्रत्येक गणितीय हिसाब-किताब, लेखा-जोखा, अनुभव, परीक्षण आदि योजनाओं की रूपरेखा तैयार करने, उनकी परिणात का फलाफल जानने के लिए कम्यूटर का प्रयोग अनिवार्यत: किया जाने लगा है। इतना ही नहीं, सामान्य जमा-तफरीक. गुणा या भाग, यहाँ तक कि अन्तरिक्ष और मौसम-विज्ञान की भविष्यवाणियाँ भी इसी के माध्यम से की जाने लगी है चिकित्सा-प्रणालियों और ऑपरेशनों में भी इसकी सहायता ली जाती है । समाचारपत्रों के प्रकाशन और समूचे क्रियाकलापों का आधार तो कम्पूटर बन ही चुका है, पुस्तक-प्रकाशन व्यवसाय भी धीरे-धीरे सम्पूर्णत: इसी पर आश्रित होता जा रहा है ।

आज कई प्रकार के अनुसन्धान कार्य भी कम्यूटर से किए जा रहे हैं। टेलिफोन, बिजली-विभाग, बैंक आदि भी बिल बनाने तथा अन्य लेन-देन के कार्यो में इस का प्रयोग करने लगे हैं । इस प्रकार आज कम्यूटर-प्रयोग व्यापक होता जा रहा है । इसके साथ कई तरह के खतरे भी बढ़ते जा रहे हैं। मानव-मस्तिष्क का व्यर्थ और बेकार हो जाना पहला खतरा है। इसी तरह के और भी कई खतरे हैं । तो चाहे कुछ भी हो जाए, यह मशीनी मस्तिष्क वास्तविक मानव-मस्तिष्क जैसा तो कतई नहीं बन सकता ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

धर्म और विज्ञान

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • धर्म और विज्ञान का पारस्परिक संबंध
  • दोनों में सामंज्यस
  • उपसंहार।

जीवन को सत्य का पालन करने का आधार, आदर्श व्यवहार के प्रति आस्था और विश्वास जैसे सात्विक एवं उदात गुणों को धारण करने की प्रेरणा एवं शक्ति जिससे प्राप्त हुआ करती है, उसे धर्म कहते हैं।

धर्म के विपरीत विज्ञान का मूल आधार भी विशेष प्रकार का ज्ञान ही हुआ करता है। विज्ञान भी मूल रूप से सत्य का अनवरत अन्वेषक होता है । लेकिन उस का आधार ठोस, नापे-तोले जा सकने वाले भौतिक पदार्थ हुआ करते हैं। वह धर्म की तरह अनैतिक आत्म तत्त्व का चिन्तक एवं विवेचक न होकर भौतिक तथ्यों का अन्वेषण किसी अन्य लोक में उद्धार पाने के लिए नहीं किया करता; बल्कि इस दृश्य और पंचभौतिक संसार की सुख-समृद्धि पाने के लिए ही किया करता है । धर्म और विज्ञान का प्रेरणा-स्रोत एक ही है ।

लक्षित उद्देश्य भी एक ही है और वह मानव-जीवन की सुख-समृद्धि की कामना और उस कामना को पूर्ण करने की चेष्टा। मानव-कल्याण की लक्ष्य-साधना एक समान दोनों में विद्यमान दोनों यानी धर्म और विज्ञान जब अपने मूल लक्ष्य की साधना की राह से भटक जाया करते हैं, तो स्वयं अपने लिए और पूरे जीवन-समाज के लिए तरह-तरह के व्यवधानों, संकटों, अपकृत्यों अैर अपरूपों की सृष्टि का कारण बन जाया करते हैं। इतना अन्तर अवश्य रहता है कि धर्म लक्ष्य से भ्रष्ट हो या अधर्म बनकर लोक-परलोक दोनों के नाश का कारण बन जाया करता है ; जबकि विज्ञान राह से भटक कर मुख्यत: भौतिक या इहलौकिक विनाश का कारण ही उपस्थित किया करता है ।

मानव-समाज की सर्वागीण उन्नात तभी हो सकती है जब धर्म और विज्ञान में सामंज्यस हो । जिस प्रकार अकेलाविज्ञान संसार को शांति नहीं ग्रदान कर सकता उसी प्रकार अकेला धर्म भी संसार को समृद्ध नहीं बना सकता । दोनों एक-दूसरे के विरोधी नहीं बल्कि पूरक हैं। आवश्यकता इस बात का है कि धर्म और विज्ञान – दोनों का एक-दूसरे पर अंकुश रहे ।

इससे स्पष्ट है कि यदि मानव विवेक से काम ले, अपने आचरण-व्यवहार से विवेक को हाथ से न निकलने दे, तो धर्म और विज्ञान दोनों एक-दूसरे के पूरक हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

शिक्षाऔर विज्ञान

रूपरेखा :

  • पस्तावना
  • पारस्परिक संबंध
  • लक्ष्य-हित साधन
  • उपसंहार ।

शिक्षा का चरम लक्ष्य मानव-जाति और समाज को हर प्रकार से विवेक सम्मत राह पर चलाना ही हुआ करता है। इस प्रकार विज्ञान का कार्य भी व्यक्ति और समाज के जीवन को विकास के नये-नये. आयाम प्रदान कर उसे एक सुखसुविधापूर्ण सन्तुलन प्रदान करना ही है । इसी प्रकार उसकी दृष्टि को व्यापक बनाना, मन-मस्तिष्क के बन्द पड़े या संकीर्ण द्वारों में खुलापन लाना भी विज्ञान का ही एक कार्य है ।

अब देखना यह है कि शिक्षा और विज्ञान में क्या कोई सीधा सम्बन्ध स्थापित भी किया जा सकता है ? इन प्रश्नों पर दो तरह से विचार करना सम्भव हो सकता है ।

पहली दृष्टि यानि कि समूची शिक्षा, उसके सभी विषयों को बाद में देकर केवल विज्ञान-सम्बन्धी शिक्षा को ही लागू किया जाए ; यह उचित प्रतीत नहीं होता । जीवन में कोमलता, कोमल पक्षों और स्नेह-सम्बन्धों से पले रिश्ते-नातों का महत्त्व समाप्त हो जाएगा । दूसरे केवल विज्ञान पढ़ एवं सीख लेने से जीवन का काम भी नहीं चल सकता । जीवन और उसके व्यवहारों-व्यापारों को चलाने के लिए अन्याय विषयों की शिक्षा एवं जानकारी उतनी ही आवश्यक है कि जितनी वैज्ञानिक विषयों की । सभी की शिक्षा को उचित एवं व्यावहारिक सन्तुलन देने से ही उसका अपना और जीवन का वास्तविक महत्त्व बना रहा सकता है।

अब दूसरी दृष्टि पर विचार करें । वह यह है कि समूची शिक्षा-पद्धति एवं पढ़ाए जाने विषयों को पढ़ाते समय वैज्ञानिक जीवन-दृष्टि अपनायी जाए। हमारे अपने विचार में भी यह दृष्टि और धारणा उचित प्रतीत होती है। आज हम जिस युगजीवन में जी रहे हैं, उसमें वैज्ञानिक दृष्टि अपनाए बिना ठीक ढंग से जी पाना कतई संम्भव नहीं। ऐसा होने पर ही एक पढ़ा-लिखा व्यक्ति स्वयं जीवन के जीवन्त सन्दर्भों के साथ जुड़ कर जीवन को उचित दृष्टि से देख सकेगा।

विज्ञान हो या शिक्षा, दोनों को सहयोगी बना कर या मान कर इन दोनों की सफलता-सार्थकता तभी प्रमाणित की जा सकती है, जब ये आत्यान्तिक तौर पर मानव-कल्याण करें। प्रोफेसर अल्बर्ट आइस्टीन का यह कथन यथार्थ है “हमारे इस जड़वादी युग में केवल जिज्ञासु वैज्ञानिक अन्वेषकों में ही गहरी धार्मिकता है।” कुछ इसी प्रकार की बात स्वामी विवेकानंद ने भी कही थी – ” आधुनिक विज्ञान सच्ची धार्मिक भावना का ही प्रकटीकरण है क्योंकि उसमें सत्य को सच्ची लगन से समझने की कोशिश है ।”

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

राष्ट्र की प्रगति में विज्ञान की भूमिका
अथवा,
भारत में विज्ञान के बढ़ते चरण

रूपरेखा :

  • पस्तावना
  • अणुशक्ति
  • विशेष शक्ति
  • उपलब्धियाँ
  • उपसंहार ।

स्वतंग्रता-प्राप्ति से पहले तक आधुनिक विज्ञान के क्षेत्र में भारत की अपनी गति-दिशा शून्य थी। सूई से लेकर हवाई जहाज़, रेलवे इंजिन, यहाँ तक कि रेल के डिब्बे भी आयात किये जाते थे। उस आयात किए वैज्ञानिक उपकरणों के माध्यम से ही इस देश का परिचय आधुनिक विज्ञान के साथ संभव हो पाया था। लेकिन स्वतंत्रता प्राप्त करने के बाद आज स्थिति यह है कि छोटे-बड़े प्रत्येक सामान, यंत्र, उपकरण आदि का निर्माण भारत में होने लगा है। इतना ही नहीं, आज भारत कई तरह की मशीनरी, यंत्रों एवं वैज्ञानिक उपकरणों का वैज्ञानिक तकनीक का भी आस-पास के अनेक छोटे-बड़े देशों को निर्यां भी करने लगा है।

सर्वप्रथम भारत में सन् 1948 में एक अणुशक्ति आयोग स्थापित किया गया । सन् 1955 ई० में पहले परमाणु रिएक्टर का निर्माण किया। बिजली का उत्पादन अणुर्शिक्ति से करने के लिए तारापुर परमाणु बिजली घर स्थापित किया। सन् 1974 में राजस्थान के पोखरण नामक स्थान पर प्रथम भूमिगत अणु-विस्फोट कर भारत ने सारे संसार को चकितविस्मित कर दिया । इसके बाद भारतीय विज्ञान ने उपग्रह-निर्माण एवं उड़ान क्षेत्र में प्रवेश किया । सन् 1975 में ‘आर्यभट्ट’ नामक उप्रह का प्रक्षेपण कर भारतीय विज्ञान ने संसार की आँखें खोल दीं। यह प्रमाणित कर दिया कि भारत इस क्षेत्र में भी निरन्तर आगे बढ़ते जाने की नीयत से कार्य कर रहा है। यह बात विशेष ध्यातव्य है कि भारतीय वैज्ञानिकों ने परमाणु शक्ति अर्जित कर ली है।

अन्तरिक्ष-अनुसन्धान के वैज्ञानिक क्षेत्र में भी भारत आज एक विशेष शक्ति के रूप में उभर कर सामने आया है। सन् 1975 में ‘आर्यभ््ट’ का और 1979 में ‘भास्कर’ का सफल प्षक्षेपण करने के बाद जब भारतीय रॉकेटों के माध्यम से ‘रोहिणी’ नामक उपग्रह कक्षा में स्थापित किया, तो विश्व ने एक बार फिर चौंक कर भारत की तरफ देखा। सन् 1984 में उपग्रह ‘रोहिणी डी-2’ छोड़ कर अपने अन्तरिक्ष-विज्ञान के कार्यक्रम को आगे बढ़ाया। इसके बाद एपल, भास्कर-द्वितीय, इस्सेट प्रथम-ए, इन्सेट प्रथम-बी, एस० एल० वी-2 तथा 3 , इस्सेट एफ-डी आदि अनेक उपग्रह अन्तरिक्ष में भेज चुका है और भी भेजने की कई तरह की योजनाओं पर भारतीय वैज्ञानिक नित नए प्रयत्न और प्रयोग कर रहे हैं। इस से भविष्य को परम उज्ज्वल कहा जा सकता है ।

बिजली, तार, दूर, संचार, टेलिविजन, सिनेमा और अब कम्प्यूटर आदि के निर्माण में भी भारत अन्य किसी देश से पीछे नहीं है । रेलवे इंजिन, डिब्बे, बस, ट्रक, कार सभी चीजों का निर्माण करके आज भारत अपनी हर प्रकार की आवश्यकताएँ पूरी कर रहा है । अन्य देशों से भी उसे ऐसी सब वस्तुओं के निर्माण के आर्डर लगातार प्राप्त होते रहते हैं । हर दिशा और क्षेत्र में भारत ने यथेष्ठ प्रगति और विकास किया है ।

यों भारत के पास अपनी प्राचीन परम्परागत वैज्ञानिक पद्धदियाँ भी अपने संस्कृत साहित्य में सुरक्षित हैं । लेकिन सखेद कहना पड़ता है कि आज भाषा की मारामारी के अभाव और विदेशी भाषा की मानसिकता बन जाने के कारण हम सब से लाभ उठा पाने की स्थिति में नहीं रह गए । जो हो, भारतीय वैज्ञानिकों ने आधुनिक विज्ञान और तकनीक के विकास में सी संसार को बहुत कुछ दिया और दे सकता है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

पेड़-पौधे और पर्यावरण

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • उपयोगिता
  • वन-कटाई के दुष्परिणाम
  • उपसंहार ।

पेड़-पौधे प्रकृति की सुकुमार, सुन्दर, सुखदायक सन्ताने मानी जा सकती हैं । इन के माध्यम से प्रकृति अपने अन्य पुत्रों, मनुष्यों तथा अन्य सभी तरह के जीवों पर अपनी ममता के खज़ाने न्योछावर कर अनन्त उपकार तो किया ही करते हैं। उनके सभी तरह के अभावों को भरने, दूर करने के अक्षय साधन भी हैं। पेड़-पौधे और वनस्पतियाँ हमें फल-फूल, औषधियाँ, छाया एवं अनन्त विश्राम तो प्रदान किया ही करते हैं, वे उस प्राण-वायु (ऑक्सीजन) का अक्षय भण्डार भी हैं कि जिस के अभाव में किसी प्राणी का एक पल के लिए जीवित रह पाना भी नितान्त असंभव है।

पेड़-पौधे हमारी ईंधन की समस्या का भी समाधान करते हैं । उनके अपने आप झड़ कर इधर-उधर बिखर जाने वाले पत्ते घास-फूँस, हरियाली और अपनी छाया में अपने पनपने वाली नई वनस्पतियों को मुफ्त की खाद भी प्रदान किया करते हैं। उनमें हमें इमारती और फर्नीचर बनाने के लिए कई प्रकार की लकड़ी तो प्राप्त होती ही है, कागज आदि बनाने के लिए कच्ची सामग्री भी उपलब्ध हुआ करती है । इसी प्रकार पेड़-पौधे हमारे पर्यावरण के भी बहुत बड़े संरक्षक हैं। यों सूर्य-किरणें भी नदियों और सागर से जल-कणों का शोषण कर वर्षा का कारण बना करती हैं ; पर उस से भी अधिक यह कार्य पेड़-पौधे किया करते हैं। सभी जानते हैं कि पर्यावरण की सुरक्षा, हरियाली वर्षा का होना कितना आवश्यक हुआ करता है ।

पेड़-पौधे वर्षा का कारण बन कर के तो पर्यावरण की रक्षा करते ही हैं, इनमें कार्बन डाई-ऑक्साइड जैसी विषैली, स्वास्थ्य-विरोधी और घातक कही जाने वाली प्राकृतिक गैसों का चोषण और शोषण करने की भी बहुत अधिक शक्ति रहा करती है । स्पष्ट है कि ऐसा करने पर भी वे हमारी धरती के पर्यावरण को सुरक्षित रखने में सहायता ही पहुँचाया करते हैं । पेड़-पौधे वर्षा के कारण होने वाली पहाड़ी चट्टानों के कारण, नदियों के तहों और माटी भरने से तलों की भी रक्षा करते हैं । आज नदियों का पानी जो उथला या कम गहरा होकर गन्दा तथा प्रदूषित होता जा रहा है, उसका एक बहुत बड़ा कारण उनके तटों, निकास-स्थलों और पहाड़ों पर से पेड़-पौधों की अन्धा-धुन्ध कटाई ही है । इस कारण जल स्रोत तो प्रदूषित हो ही रहे हैं, पर्यावरण भी प्रदूषित होकर जानलेवा बनता जा रहा है ।

धरती पर विनाश का यह ताण्डव कभी उपस्थित न होने पाए, इसी कारण प्राचीन भारत के वनों में आश्रम और तपोवनों, सुरक्षित अरण्यों की संस्कृति को बढ़ावा मिला। तब पेड़-पौधे उगाना भी एक प्रकार का सांस्कृतिक कार्य माना गया । सन्तान पालन की तरह उन का पोषण और रक्षा की जाती थी । इसके विपरीत आज हम, कांक्रीट के जंगल उगाने यानि बस्तियाँ बसाने, उद्योग-धन्धे लगाने के लिए पेड़-पौधौं को, आरक्षित वनों को अन्धा-धुन्ध काटते तो जाते हैं पर उन्हें उगाने, नए पेड़-पौधे लगा कर उन की रक्षा और संस्कृति करने की तरफ कतई कोई ध्यान नहीं दे रही ।

यदि हम चाहते हैं कि हमारी यह धरती, इस पर निवास करने वाला प्राणी जगत् बना रहे है, तो हमें पेड़-पौधों की रक्षा और उन के नव-रोपण आदि की ओर प्राथमिक स्तर पर ध्यान देना चाहिए। यदि हम चाहते हैं कि धरती हरी- भरी रहे, नदियाँ अमृत जल-धारा बहाती रहें और सब से बढ़ कर मानवता की रक्ष संभव हो सके, तो हमें पेड़-पौधे उगाने, संवर्द्धित और संरक्षित करने चाहिए ; अन्य कोई उपाय नहीं ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

वन-संरक्षण की आवश्यकता

रूपरेखा :

  • पस्तावना
  • पौराणिक महत्व
  • वर्तमान स्थिति
  • उठाए गए कदम
  • उपसंहार ।

प्राचीन भारतीय संस्कृति में वृक्षों को देवता के समान स्थान दिया गया था तथा देवताओं की भांति उनकी पूजा की जाती थी। वृक्षों के सूख-दुख का ध्यान रखा जाता था तथा उनके साथ आत्मीयता का संबंध रखा जाता था। मौसम के प्रकोप से उन्हें उसी प्रकार बचाया जाता था, जिस प्रकार माँ-बाप अपने बच्चे को बचाते हैं । इतना ही नहीं, 19 वीं तथा 20 वीं शताब्दी के मध्य वृक्ष काटना दण्डनीय अपराध था ।

मानव का जन्म, उस की सभ्यता-संस्कृति का विकास वनों में पल-पुसकर ही हुआ था । उस की खाद्य, आवास आदि सभी समस्याओं का समाधान करने वाले तो वन थे ही, उसकी रक्षा भी वन ही किया करते थे। वेदों, उपनिषदों की रचना तो वनों में हुई ही, आरण्यक जैसे ज्ञान-विज्ञान के भण्डार माने जाने वाले महान् ग्रन्थ भी अरण्यों यानि वनों में लिखे जाने के कारण ही ‘आरण्यक कहलाए। यहाँ तक कि संसार का आदि महाकाव्य माना जाने वाला, आदि महाकवि वाल्मीकि द्वारा रचा गया ‘रामायण’ नामक महाकाव्य भी एक तपोवन में ही लिखा गया।

आज जिस प्रकार की नवीन परिस्थितियाँ बन गई हैं, जिस तेज़ी से नए-नए कल-कारखानों, उद्योग-धन्धों की स्थापना हो रही है, नए-नए रसायन, गैसें, अणु, उद्जन, कोबॉल्ट आदि बम्बों का निर्माण और निरन्तर परीक्षण जारी है, जैविक शस्तास्त्र बनाए जा रहे हैं ; इन सभी ने धुएँ, गैसों और कचरे आदि के निरन्तर निसरण से मानव तो क्या सभी तरह के जीव-जन्तुओं का पर्यावरण अत्यधिक प्रदूषित हो गया है । केवल बम ही है, जो इस सारे विषैले और मारक प्रभाव से प्राणी जगत् की रक्षा कर सकते हैं। उन्हीं के रहते समय पर उचित मात्रा में वर्षा होकर धरती की हरियाली बनी रह सकती है ।

हमारी सिंचाई और पेय जल की समस्या का समाधान भी वन-संरक्षण से ही सम्भव हो सकता है। वन हैं तो नदियाँ भी अपने भीतर जल की अमृतधारा संजो कर प्रवाहित कर रही हैं। जिस दिन वन नहीं रह जाएँगे, सारे प्राणी-प्रजातियों, अनेक वनस्पतियाँ एवं अन्य खनिज तत्त्व अतीत की भूली-बिसरी कहानी बन चुके हैं, यदि आग की तरह ही निहित स्वार्थों की पूर्ति, अपनी शानो-शौकत दिखाने के लिए वनों का कटाव होता रहा, तो धीरे-धीरे अन्य सभी का भी सुनिश्चित अन्त हो जाएगा ।

वन-सरकक्षण जैसा महत्त्वपूर्ण कार्य वर्ष में वृक्षारोपण जैसे सप्ताह मना लेने से संभव नहीं हो सकता। इसके लिए वास्तव में आवश्यक योजनाएँ बनाकर कार्य करने की जरूरत है। वह भी एक-दो सप्ताह या मास-वर्ष भर नहीं ; बल्कि वर्षों तक सजग रहकर प्रयत् करने की आवश्यकता है। जिस प्रकार बच्चे को मात्र जन्म देना ही काफी नहीं हुआ करता ; बल्कि उसके पालन-पोषण और देख-रेख की उचित व्यवस्था करना-व भी दो-चार वर्षों तक नहीं, बल्कि उसके पालन-पोषण और देख-रेख की उचित व्यवस्था करना-वह भी दो-चार वर्षों तक नहीं ; बल्कि उनके बालिग होने तक आवश्यक हुआ करती है ; उसी प्रकार की व्यवस्था, सतर्कता और सावधान वन उगाने, उनका संरक्षण करने के लिए भी किया जाना आवश्यक है । तभी धरती और उसके पर्यावरण की, जीवन एवं हरियाली की रक्षा संभव हो सकती है । हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि वृक्षों से हमारे देश की नैतिक, सामाजिक और आर्थिक समृद्धि भी होती है क्योंकि-

वृक्ष कबहुँ नहिं फल भखै, नदी न संचै नीर ।
परमारथ वे कारने साधुन धरा शरीर ।।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

महिला आरक्षण बिल्न

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • समाज में नारी-पुरुष की समानता
  • नारी की दुर्दशा
  • नारी की उपादेयता
  • बिल को मंजूरी
  • उपसंहार ।

हमारे देश में प्राचीनकाल से ही नारी को समाज में उच्च स्थान प्राप्त है। उस समय नारी के बिना कोई भी धार्मिक कार्य अधूरा माना जाता था । हमारे प्राचीन ग्रन्थों में भी कहा गया है कि – जहाँ नारी की पूजा होती है, वहाँ देवता निवास करते हैं और जहाँ नारी का निरादर होता है, वहाँ तरह-तरह की परेशानियाँ उत्पन्न होती हैं। देश में विदेशी आक्रमणों के कारण नारी का रूप बदल गया, उसे चहारदीवारी में बन्द होना पड़ा। इस कारण उसे अपने अधिकारों से वंचित रहना पड़ा। लेकिन स्वतन्रता प्राप्ति के बाद फिर उसका पुराना समय लौटा। आज नारी का समाज में वही स्थान है जो पुरुष का है ।

भारतीय इतिहास नारियों के महान् कर्तव्यों, क्षमताओं तथा वीरता के कर्मों से भरा पड़ा है। नारी भारतीय समाज में हमेशा आदर व सम्मान का पात्र रही है । नारी ममता, प्रेम, वात्सल्य, पवित्रता तथा दया की मूर्ति है । उसने अनन्त कठिनाइयाँ सहते हुए परिवार तथा समाज एवं राष्ट्र की सेवा की है। दु:ख का विषय यह है कि समाज में नारी को अबला व बेचारी जैसे सम्बोधनों से पुकारा जाता है। उसकी इस हालत के लिये हमारा समाज जिम्मेदार है, जिसमें सामाजिक कुरीतियाँ और परम्परागत रूढ़िवादिता आज भी विद्यमान है ।

कुछ राजनीतिक दलों का तर्क है कि दलित और पिछड़े वर्ग की महिलाओं को विशेष आरक्षण दिया जाना चाहिये । ऐसा कहकर ये आरक्षण में भी आरक्षण की बात कर रहे हैं। विडम्बना यह है कि महिला आरक्षण विधेयक के किसी भी स्वरूप पर आम सहमति नहीं हो पा रही है । सच्चाई तो यह है कि आम सहमति कायम करने के लिये अब तक कोई ठोस प्रयास भी नहीं किया गया। मार्च, 2003 के लोकसभा में किसी भी राजनीतिक दल ने इस बात के लिये प्रयास नहीं किया कि महिला आरक्षण विषय पर गम्भीर चर्चा हो सके।

ऐसा लगता है कि सभी को, यहाँ तक कि महिला आरक्षण विधेयक पेश करने वालों को भी इस बात का इंतजार था कि इस विधेयक को लेकर हंगामा हो और इसी बहाने विधेयक को आगे के लिये टाल दिया जाये । लेकिन काफी राजनीतिक उठा-पटक के बाद आखिरकार संसद के सन् 2010 के बसंतकालीन सत्र में महिला आरक्षण विधेयक को बहुमत से पारित कर दिया गया । निश्चय ही भारत के संसद में इसे क्रांतिकारी कदम के रूप में देखा जाना चाहिए क्योंकि इसके पहले तक महिला-हित की बातें करने वाले नेता भी विधेयक पारित करने के नाम पर बगलें झांकने लगते थे ।

महिला विधेयक का प्रारित होना इस बात को दर्शाता है कि नारी के प्रति परम्परागत धारणाओं में भी काफी परिवर्तन आया है, फिर भी अभी तक स्थितियाँ ऐसी नहीं बन पाई हैं कि आज की नारी अपनी हर प्रकार की क्षमता का परिचय खुलकर दे सके ।

हमें यह भी न भूलना चाहिए कि अगर महिला आरक्षण विधेयक पारित करने का उद्देश्य केवल महिलाओं के सब्जबाग दिखाना है तो फिर इस विधेयक के पारित होने का कोई अर्थ नहीं रह जाता। उल्लेखनीय है कि महिला आरक्षण विधेयक इस मान्यता पर आधारित है कि लोकसभा और विधानसभाओं में महिलाओं के लिये 33 प्रतिशत स्थान आरक्षित होने से देश की महिलाओं का कल्याण होगा। दुर्भाग्य से यह मान्यता सही नहीं है। इस सन्दर्भ में इस बात की अनदेखी नहीं की जा सकती कि अनुसूचित जाति और जनजाति के लिये आरक्षण की व्यवस्था होने के बावजूद उनकी स्थिति में कोई उल्लेखनीय सुधार नहीं आ सका है, फिर भी महिला-आरक्षण बिल एक क्रांतिकारी कदम अवश्य है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

आतंकवाद और भारत
अथवा
आतंकवाद : एक चुनौती

रूपरेखा :

  • भूमिका
  • आतंकवाद एक जटिल समस्या के रूप में
  • आतंकवाद से मुक्ति के लिये उचित कदम
  • उपसंहार ।

आतंकवाद का इतिहास सम्भवतः उतनी ही पुरानी है, जितना पुरानी हमारी सभ्यता का इतिहास है । पूँजीवादी, लोकतान्त्रिक और साम्यवादी शासन व्यवस्थाओं के उदय के पूर्व समाज में उन्हीं का वर्चस्व रहता था जो वास्तव में बाहुबली होते थे। ऐसे लोगों में अधिकांश स्वेच्छाचारी होते थे। उनकी सत्ता को चुनौती देने वाली कोई ताकत कहीं सिर उठाने का साहस न कर बैठे, इसलिये वे हमेशा आतंकवाद का सहारा लेते थे । दहशत और आतंक प्रसारित करने के लिये वे लोग समय-समय पर निरीह जनपदों में हत्या, अपहरण, लूटपाट, आगजनी और विनाश का भैरव राग अलापते रहते थे ।

19वीं शताब्दी के मध्य तक आतंकवाद को संरक्षण देने वाले अक्सर वे लोग होते थे, जिनके हाथों में सत्ता की नकेल होती थी, पर बीसवीं शताब्दी में आतंकवाद के केन्द्र में बदलाव दिखाई पड़ने लगा। बीसवीं शताब्दी में साम्प्दायिकता, जातीय वैमनस्य, क्षेत्रीयता और आर्थिक वैषम्य से उत्पन्न वर्ग-संघर्ष की भावना से बुरी तरह ग्रस्त, बिकी हुई निष्ठा वाले अपने ही देश के कुछ लोग आतंकवादी संस्थाओं का गठन कर अपने ही राष्ट्र को खंडित करने का प्रयास करने लगे।

विदेशी शासन से मुक्ति की कामना करने वाले राष्ट्र के देशभक्त नवयुवक भी आतंकवाद का प्रयोग एक कारगर हथियार के रूप में करते थे । यद्यपि सभ्य संसार द्वारा अभी तक आतंकवाद की कोई सर्वमान्य परिभाषा तैयार नहीं की गई है, पर मोटे तौर पर इसकी परिसीमा में सभी अवैधानिक और हिंसापरक गतिविधियाँ आती हैं।

भारत में आतंकवादी आन्दोलन की शुरुआत सन् 1965 ई० के बाद हुई है । पूर्वी पाकिस्तान के बंगलादेश में परिवर्तित हो जाने के बाद पाकिस्तान के मन में यह बात आ गई कि युद्धभूमि में भारत का कुछ बिगाड़ सकने में वह सक्षम नहीं है । यही कारण है कि पाकिस्तान ने आतंकवाद का सहारा लिया ।

पूर्व प्रधानमन्न्री श्रीमती इन्दिरा गांधी को पंजाब के आतंकवादी आन्दोलन के कारण अपनी जान गँवानी पड़ी । आतंकवादियों की दृष्टि में मानवता का कोई मूल्य नहीं है। आतंकवाद की आड़ में आज कई अपराधी-गिरोह सक्रिय होकर देश के लोगों की जान-माल को हानि पहुँचा रहे हैं । सरकारी शक्तियाँ अनेक प्रकार के प्रयास करके भी उन्हें काबू नहीं कर पायी हैं।

अभी भी देश के हर कोने में आतंकवाद का जाल फैला हुआ है, जिसके कारण अपहरण, हत्या और लूट-पाट आदि जैसी संगीन अपराध नित्य हुआ करते हैं । इस विषैली बेल का विनाश करना अति आवश्यक है। आतंकवादी संगठनों में जैशे-मुहम्मद, लश्करे-तोयबा और हिजबुल-मुज़ाहिदीन मुख्य रूप से सकिय हैं।।

कश्मीरी आतंकवाद का साहस इस सीमा तक बढ़ चुका है कि उसने प्रतिवर्ष होने वाली अमरनाथ-यात्रा को तो बाधित करने का प्रयास किया ही है, वैष्गो देवी की यात्रा पर भी अपनी कुदृष्टि लगा रखी है । पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी की शह और सहायता से ही तस्करी, माफिया के जाने-माने लोग मुम्बई में विस्फोट करवाकर ढ़ाई-तीन सौ लोगों की जानें लेने के साथ-साथ करोड़ों की सम्पत्ति भी स्वाहा कर चुके हैं ।

उनके लिए राष्ट्रीयता एवं मानवता का कोई भी मूल्य एवं महत्व नहीं है । देश के महत्त्वपूर्ण स्थलों, यहाँ तक कि राजधानी में भी उनके द्वारा विस्फोट किए जाने और कराए जाने की योजनाएँ अक्सर सामने आती रहती हैं । यद्यपि कश्मीरी जनता को अब वास्तविकता समझ में आने लगी है । यह भी पता चल चुका है कि उन्हें स्वतंत्रता के सुनहरे सपने दिखाने के नाम पर आतंकवादी किस प्रकार उनकी रोटियों, बेटियों पर भी अपनी बदनीयती के दाँत गड़ाये हुए हैं ।

यद्यपि आतंकवाद कुछ दबता हुआ प्रतीत हो रहा है, पर यह अब समाप्त ही हो जायेगा, ऐसा कह पाना बहुत कठिन है । कारण स्पष्ट है कि इसकी आड़ में पाकिस्तान ने भारत के विरुद्ध अघोषित युद्ध जो छेड़ रखा है। अत: जब तक भारत भी उसके लिये युद्ध जैसा वातावरण पस्तुत नहीं करता, इसे खत्म कर पाने की कल्पना करना सपनों की दुनिया में रहने और अपने आप को धोखा देने जैसा ही है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

भारत के गौरव : स्वामी विवेकानन्द

रूपरेखा :

  • प्रस्तावना
  • जन्म
  • वंश-परिचय तथा शैक्षणिक जीवन
  • रामकृष्ण परमहंस देव का सान्निध्य
  • परिवाजक विवेकानन्द
  • शिकागो विश्वधर्म सभा में विवेकानन्द
  • साहित्य कृति
  • उपसंहार ।

प्रस्तावना :- दंड-कमंडलु हाथ में लिए एक युवा सन्यासी भारत भ्रमण के लिए निकले हैं। उनका अभीष्ट है भारत की आत्मा के यथार्थ स्वरूप की खोज । पर यह कौन-सा भारतवर्ष देख रहे हैं ? कहाँ गया भारत का वह गौरवमय अतीत? किस अन्धकार के गर्त में डूब गया भारत का उज्ज्वल मानव प्रेम का आदर्श ? भारत में सर्वंर दारिद्रता, पराधीनता, अंधानुकरण प्रवृत्ति, दाससुलभ दुर्बलता और छूआछूत का कलंक देखकर युवा सन्यासी की आत्मा रो उठी। कौन है यह सन्यासी, जिसने दरिद्रे में ही नारायण (ईश्वर) के अस्तित्व का अनुभव किया ? कौन है यह महासाधक, जिसने देशवासियों को बताया – “भूलना मत, नीच, मूर्ख, दरिद्र, भंगी, चमार आदि तुम्हारे ही अपने भाई हैं ।”

जन्म, वंश-परिचय तथा शैक्षणिक जीवन :- उत्तर कलकत्ता के सिमलापाड़ा के विख्यात दत्त परिवार में सन् 1863 में विवेकानन्द का जन्म हुआ । पिता विश्वनाथ दत्त कलकत्ता हाईकोर्ट के नामी एटर्नी थे। माता थीं धर्मम्राण भुवनेश्वरी देवी। विवेकानन्द का बचपन का नाम था वीरेश्वर । बालक वीरेश्वर शुरू से ही बहुत साहसी था। अत्यन्त मेधावी था वह। बड़ा होने पर ईश्वर चन्द्र विद्यासागर द्वारा प्रतिष्ठित मेट्रोपालीटन स्कूल में भर्ती हुआ। यहाँ उसका नाम था नरेन्द्रनाथ ।

प्रथम श्रेणी में प्रवेशिका (एन्ट्रेन्स) परीक्षा पास करके प्रेसीडेन्सी कॉलेज में दाखिल हुए। बाद में उसे छोड़कर जनरल एसेम्बली कॉलेज (स्कॉटिश चर्च कॉलेज) से एफ०ए० पास किया और दर्शनशास्त लेकर पढ़ने लगे थे। बड़े मधुर कंठ के अधिकारी थे तरुण नरेन्द्रनाथ । संगीत, खेलकूद, वाद-विवाद प्रतियोगिता और व्यायाम में बहुत रुचि थी उनकी।

रामकृष्ण परमहंस का सान्निध्य :- नरेन्द्रनाथ के घर के पास ही रहते थे सुरेन्द्रनाथ मिश्र । एक दिन रामकृष्ण परमहंस वहाँ आये । भजन गाने के लिए नरेन्द्रनाथ को बुलाया गया। प्रथम दर्शन में ही विस्मय विमुर्ध हो गये ठाकुर रामकृष्ण। नरेन्द्रनाथ भी अभिभूतत हुए परमहंस देव को देखकर । नरेन्द्रनाथ को दक्षिणेश्वर आने का आमंत्रण दिया ठाकुर ने । नरेन्द्रनाथ के मन में तब भगवान के विषय में तरह-तरह के प्रश्न उठ रहे थे और संशय भी जगा था। तभी ठाकुर रामकृष्ण के दिव्य सान्निध्य का लाभ हुआ ।

दक्षिणेशे्वर का आकर्षण तीव्र हो उठा उनके लिए । उसी समय उनके पिता की अकस्मात् मृत्यु हो गयी। घोर अर्थ-संकट में पड़ गये। दक्षिणेश्वर मन्दिर में माँ काली से अर्थ माँगने जाकर भी उन्होंने श्रद्धा और भक्ति की याचना की । नरेन्द्रनाथ तब आधे संन्यासी बन्नुके थे ।

परिव्राजक विवेकानन्द :- परमहंस देव का शिष्यत्व ग्रहण करके सन्यासी बन गये नरेन्द्रनाथ। नाम हुआ ‘विवेकानन्द’ । सन् 1886 में श्री रामकृष्ण परमहंस देव ने महम्पस्थान किया । भारत पर्यटन के लिए निकल पड़े परिव्राजक विवेकानन्द । हिमालय से कन्याकुमारी तक पूरे देश में घूमे। हिन्दू, मुसलमान, अछूत, दरिद्र, निरक्षर सबसे मिलकर निपीड़ित और पददलित लोगों की हृदय-पीड़ा को समझा । सोया भारत जाग उठा। भविष्य के भारत के स्वपद्रष्टा, विवेकानन्द ने देश वासियों को नवजीवन का जागरण मंत्र सुनाया।

शिकागो विश्वधर्म सभा में विवेकानन्द :- इसके बाद सन् 1893 का वह स्मरणीय दिन । अमेरिका के शिकागो शहर में विश्वधर्म सम्मेलन का आयोजन हुआ । विवेकानन्द के पास भी इस सम्मेलन की खबर पहुँची। पर वे अनाहूत थे वहाँ । कुछ भक्तों और प्रशंसकों के विशेष अनुरोध से अमेरिका चल पड़े। उनका उद्देश्य था वेदान्त धर्म का प्रचार । भगवा वस्त्र और पगड़ी पहने सन्यासी के वेश में वे शिकागो जा पहुँचे । लेकिन सम्मेलन में भाग लेने की अनुमतिपत्र नहीं था उनके पास । अन्त में कुछ सहृदय अमेरिकावासियों की सहायता से केवल पाँच मिनट के लिए भाषण देने की अनुमति लेकर विवेकानन्द ने सम्मेलन में प्रवेश किया ।

इसके बाद बड़ी आत्मीयता से उन्होंने श्रोताओं को इस प्रकार सम्बोधन किया, ‘अमेरिकावासी भाइयों और बहनों इस सम्बोधन को सुनकर श्रोताओं ने करतल ध्वनि से अभिनंदित किया प्राच्य के इस संन्यासी को । उन्होंने अपने भाषण में कहा, ‘ईसाइयों को हिन्दू या बौद्ध बनने की आवश्यकता नहीं, हिन्दुओं और बौद्धों को भी ईसाई बनने की जरूरत नहीं ।……….. आध्यात्मिकता, पवित्रता और उदारता पर केवल किसी विशेष एक धर्म का एकाधिकार नहीं है ।

प्रत्येक धर्म की पताका पर लिखना पड़ेगा, युद्ध नहीं सहयोग, ध्वंस नहीं आत्मीयकरण, भेद-द्वंद नहीं सामञ्ञस्य और शान्ति।’ धर्मसभा में उन्होंने दृढ़ विश्वास के साथ भविष्य में संसार के लोगों के महामिलन की घोषणा की । सुनकर अभिभूत हो गये श्रोतागण। संसार भर में उनकी शोहरत फैल गयी और चारों और से उन पर प्रशंसा की वर्षा होने लगी । शिष्या के रूप में उन्हें मिस मागरिट नोकल मिलीं जो बाद में भारत की भूमि पर ‘भगिनी निवेदिता’ बनीं । सन् 1896 में विवेकानन्द भारत लौटे ।

साहित्य-कृति :-केवल कर्मक्षेत्र में ही नहीं, वैचारिक क्षेत्र में भी इनका अवदान महतवपूर्ण था। उनकी परिव्राजक’, ‘विचारणीय बातें’, प्राच्य और पाश्चात्य’, ‘वर्तमान भारत’ आदि रचनायें उल्लेखनीय हैं। इनके अलावा उनके बहुत से लेख और विभिन्न समय में विभिन्न व्यक्तियों को लिखे अनेक पत्रों का संकलन भी प्रकाशित हुए हैं।

उपसंहार: :-आधुनिक भारत के भागीरथ थे स्वामी विवेकानन्द । दुर्बल और हीनता की ग्रन्थि से प्रस्त लोगों को मानव-जाति के कल्याण मंच में दीक्षित करना ही उनके जीवन का लक्ष्य था। उन्होंने धर्मान्ध देशवासियों को स्पष्ट स्वर में कहा था, दरिद्र, निपीड़ित, आर्त्त मनुष्यों की सेवा ही ईश्वर-साधना है । असहाय मनुष्य ही हमारे भगवान हैं $P$ फिर, उन्होंने आदर्शहीन भारतीयों को स्मरण कराया था, ‘आज से पचास साल तक तुम्हारे उपास्य और कोई देवदेवी नहीं हैं, उपास्य है केवल जननी-जन्मभूमि यह भारतवर्ष ।’

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

डॉ. अबुल पकीर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम
(डॉ. ए.पी.जे. अब्दुल कलाम)

रूपरेखा :

  • परिचय
  • कर्म ही पूजा है -जीवन का मूल-मंत्र
  • शिक्षा-दीक्षा
  • वैज्ञानिक रूप में कार्य
  • इसरो (ISRO) की स्थापना
  • एस.एल वी. के प्रबंधक के रूप में
  • भारत-रत्न की उपाधि से अलंकृत
  • राष्ट्रपति के रूप में कार्य करना
  • उपसंहार ।

परिचय :- 25 जुलाई, 2002 को राष्ट्रपति पद की शपथ लेने वाले डॉ०ए.पी.जे अब्दुल कलाम भारत के बारहवें राष्ट्रपति थे। वे भारत के ऐसे प्रथम राष्ट्रपति थे, जो इस पद पर आने से पूर्व ही भारत-रत् से अलंकृत हो चुके थे। वे पहले ऐसे राष्ट्रपति थे, जो जीवन-भर राजनीति से दूर रहकर देश के सर्वोच्च सिंहासन पर आसीन हुए थे ।

डॉ. अब्दुल कलाम का जन्म 15 अक्तूबर, सन् 1931 में रामेश्वरम् (तमिलनाडु) में हुआ । उनका बचपन मातापिता तथा परिवार के अन्य सदस्यों के साथ रामेश्वरम् की मस्जिद गली स्थित अपने घर में ही बीता । उनके माता-पिता के विचार अत्यंत उच्च कोटि के थे तथा उनका परिवार मध्यमवर्गीय था । उनकी माता को लोग अन्नपूर्णा कहते थे, क्योंकि उनके यहाँ अतिथियों को उचित मान-सम्मान मिलता था। इनकी शिक्षा वहीं की एक प्रारंभिक पाठशाला में हुई।

‘कर्म ही पूजा है’ :- यह गुरुमंत्र कलाम को अपने पिता से विरासत में मिला था, जो पारिवारिक उत्तरदायित्वों हेतु प्रात: चार बजे से ही अपनी दैनिकचर्या प्रारंभ करते थे । डॉ० कलाम ने अपनी आत्मकथा ‘विंग्स ऑफ फायर’ में लिखा है कि ”मुझे विरासत में पिता से ईमानदारी और आत्मानुशासन तथा माता से भलाई में विश्वास तथा गहरी उदारता मिली है । मैं अपनी सृजनशीलता का श्रेय बिना किसी झिझक के बचपन में मिली उनकी संगति को देता हूँ ।’

शिक्षा-दीक्षा :- हाई स्कूल की शिक्षा पूरी करते हुए कलाम ने पिता की इच्छा के अनुरूप विज्ञान विषय लेकर तिरुचिरापल्ली के सेंट जोसेफ कॉलेज में प्रवेश लिया। छात्रावास में रहते हुए उन्होने अंग्रेजी साहित्य तथा भौतिक विज्ञान में विशेष रुचि दिखाई । बी. एस.सी. की डिग्री के बाद कलाम ने इंजीनियर बनने का मन बना लिया था । उस समय मद्रास (चेन्नई) स्थित मद्रास इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नालॉजी को दक्षिण भारत में तकनीकी शिक्षा का’मुकुट मणि’ माना जाता था। कॉलेज में प्रतिभा के बल पर प्रवेश तो मिला, कितु शुल्क के लिए उस समय एक हजार रुपए चाहिए थे जिसके लिए उनकी वहन जोहरा को अपने जेवर गिरवी रखने पड़े । इसी कारण कलाम साहब आज भी परिश्रमी तथा मितव्ययी हैं। इंजीनियरिंग के दूसरे वर्ष में उन्होंने ‘विमानिकी इंजीनियरिंग’ को चुना । प्रो. श्री निवासन् की इच्छा पर केवल तीन दिन के अंदर उन्होंने एक प्रोजेक्ट बनाकर पूर्ण किया था।

वैज्ञानिक रूप में कार्य :- छात्र-जीवन से ही कलाम व्यस्त रहने के अभ्यस्त हो गए थे । इसी कारण सजने-संवरने का उनके पास न तो समय था और न ही ऐसे विचार थे । जब वे रक्षा प्रयोगशाला, डी.आर.डी.एल. हैदराबाद में निदेशक थे तो अपने एक कमरे के आवास से लगभग दो किलोमीटर दूर स्थित अपने कार्यालय पैदल ही जाते थे । साधारण कमीज़, खाकी हॉफ पेंट और चपल पहनकर वे मिसाईल संबंधी चर्चा करने किसी भी वैज्ञानिक के पास पहुँच जाते थे । एम.आई.टी. से शिक्षा ग्रहण कर कलाम एक प्रशिक्षु के रूप में एच. ए. एल बंगलौर (हिंदुस्तान एअरोनॉटिक्स लिमिटेड) पहुँचे । उनके अनुसार निपुणता तभी मिलती है जब हम व्यावहारिक धरातल पर कार्य सम्पन्न करते हैं ।

इसरो (ISRO) की स्थापना :- सन् 1958 में वे रक्षा मंत्रालय के तकनीकी विकास और उत्पादन निदेशालय (वायु) में वरिष्ठ वैज्ञानिक सहायक के पद पर नियुक्त हुए । तीन वर्ष बाद बंगलौर में एअरोनॉटिकल डिवलेपमेंट इस्टेब्लिशमेंट (ए.डी.ई.) की स्थापना हुई और इनका इस प्रयोगशाला में तबादला हो गया । ए.डी.ई. में उन्हे तीन वर्ष के अंदर हॉॉवरक्राफ्ट’ विकसित करने का उत्तरदायित्व सौंपा गया जिसे कलाम साहब की टीम ने समय से पहले ही पूरा कर दिया ।

इसी समय भारत में Indian Space Research Organisation (ISRO) (भारतीय अन्तरिक्ष अनुसंधान संगठन) की स्थापना हुई । इस संगठन हेतु थुंबा में स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी सेंटर बनाया गया । दिसम्बर, 1971 में डॉ. साराभाई के निधन के बाद प्रोफेसर सतीश धवन इसरो के अध्यक्ष बने तथा अंतरिक्ष अनुसंधान संबंधी अनेक इकाइयों को मिलाकर विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र’ की स्थापना की गई । इस केंद्र के प्रथम निदेशक के रूप में प्रसिद्ध वैज्ञानिक डॉ० ब्रहाप्रकाश की नियुक्ति हुई।

एस. एल. वी. के प्रबंधक के रूप में :- प्रोफेसर धवन और डॉ० कलाम को उपग्रह प्रक्षेपण यान (सैटेलाइट लांच वीहिकल-एस.एल.वी.) विकसित करने संबंधी परियोजना के प्रबंधक के पद पर नियुक्त कर दिया गया। इसका मुख्य उद्देश्य एक मानक एस एल वी. प्रणाली का डिजाईन, विकास और संचालन करना था । डॉ. कलाम के नेतृत्व में तैयार एस एल वी- 3 की प्रथम परीक्षण उड़ान 10 अगस्त, 1979 को थी ।

तेईस मीटर लंबा तथा सत्रह टन वजन वाला SLV-रॉंकेट उस दिन प्रात: 7 बज़कर 58 मिनट पर प्रमोचित (लांच) किया गया । नियंत्रण-व्यवस्था में खराबी आने के कारण यह नियत मार्ग से भटक कर बंगाल की खाड़ी में गिर गया । दूसरा परीक्षण 18 जुलाई, 1980 को प्रात: 8.03 बजे श्रीहरिकोटा के थार केंद्र से प्रमोचित भारत का एस. एल वी- 3 रॉकेट ‘रोहिणी उपग्रह पृथ्वी की कक्षा में स्थापित करने में सफल हुआ ।

संपूर्ण राष्ट्र ने भारतीय वैज्ञानिक की सफलता पर गर्व महसूस किया तथा भारत ‘विश्व अन्तरिक्ष क्लब’ का सम्मानित सदस्य बन गया ।

भारत-रत्न की उपाधि से अलंकृत :- डॉ० कलाम की यात्रा जारी रही तथा भारत सरकार ने सन् 1998 में उन्हें राष्ट्र के सर्वोच्च नागरिक अलंकर ‘भारत-रत्न’ से सम्मानित किया । डॉ० कलाम को भारत सरकार ने सन् 1981 में पद्मभूषण, सन् 1990 में पद्मविभूषण और सन् 1998 में ‘भारत रत’ से सम्मानित किया। अनेक विश्वविद्यालय रॉकेट तथा मिसाइल कार्यक्रम की सफलता हेतु उन्हे ‘डॉक्टर ऑफ साइंस’ तथा अनेक प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित कर चुके हैं।

उपसंहार :- डॉ० कलाम ऐसे आदर्श हैं जो युवा पीढ़ी के मस्तिष्क में राष्ट्र निर्माण की चिंगारी पैदा करने हेतु आतुर हैं । उनके अनुसार उच्च स्तर का चिंतन करो फिर उसकी पूर्ति हेतु कठिन परिश्रम करो । वे अपने वेतन का कुछ हिस्सा सामाजिक संस्थाओं को भी देते हैं । उनकी प्रकाशित पुस्तकें हैं – अग्नि की उड़ान, तेजस्वी मन, Wing of Fire, India 2020-A vision for the new millennium आदि । डों० कलाम यह मानते हैं कि जो हो रहा है अच्छे के लिए हो रहा है जो होगा वह भी अच्छा होगा । यही उनके जीवन दर्शन का आधार है ।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

जीवन में स्वच्छता का महत्व्व

कुछ साल पहले इण्टरनेशनल हाइजीन काउंसिल ने अपने एक सर्वे में कहा था कि औसत भारतीय घर बेहद गंदे और अस्वास्थ्यकर होते हैं । उसके द्वारा जारी गन्दे देशों की सूची में पहला स्थान मलेशिया और दूसरा स्थान भारत को मिला था । हद तो तब हो गई जब हमारे ही देश के एक पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने यहाँ तक कह दिया कि यदि गंदगी के लिए नोबेल पुरस्कार दिया जाता तो वह निश्चित तौर पर भारत को ही मिलता । यह कितने शर्म की बात है कि पूरी दुनिया में भारत की छवि एक गंदे देश के रूप में है।

इस बात के उल्लेख से यह साफ पता चल जाता है कि स्वच्छता के मामले में हम कितने लापरवाह हैं। स्वच्छता का मतलब केवल शारीरिक या पोशाक की स्वच्छता से नहीं है । स्वच्छता का संबंध जीवन के प्रत्येक क्षेत्र से है। आज पर्यावरण की समस्या हमारी स्वच्छता के प्रति लापरवाही से ही है । गंदगी के कारण हर प्रकार का प्रदूषण होता है । चाहे घर हो, सड़क हो, पिकनिक स्थल हो, स्टेशन हो, बस स्टैण्ड हो, स्कूल-कॉलेज हो चारों और गंदगी का अंबार नज़र आता है ।

स्वच्छता की शिक्षा यदि हम घर से ही शुरू करें तो बच्चे जीवन में स्वच्छता के महत्व को अच्छी तरह समझ पाएंगे। अस्वच्छता या गंदगी के कारण अनेक प्रकार की बीमारियाँ भी फैलती हैं । यही कारण है कि भारत में निजी अस्पताल तथा औषधालयों के धंधे खूब फल-फूल रहे हैं। स्वच्छता के महत्व का अंदाजा हम इसी बात से लगा सकते हैं कि यह कहा भी गया है – “एक स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का निवास होता है”।

साफ-सफाई को लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी बहुत गंभीर हैं। इस उद्देश्य की पूर्ति के लिए2 अक्टूबर 2014 को ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की शुरुआत की । उनकी इच्छा स्वच्छ भारत अभियान को एक जन आंदोलन बनाकर देशवासियों को इससे जोड़ने की है । उन्होंने भारत की जनता से अपील की –

‘गाँधी जी ने आज़ादी से पहले नारा दिया था – ‘क्विट इण्डिया, क्लीन इण्डिया’, आजादी की लड़ाई में साथ देकर देशवासियों ने ‘क्विट इण्डिया’ के सपने को तो साकार कर दिया, लेकिन अभी उनका ‘क्लीन इण्डिया’ का सपना अधूरा ही है।”

प्रधानमंत्री जी ने पाँच साल में देश को साफ-सुथरा बनाने के लिए लोगों को शपथ दिलाई कि न मैं गंदगी करूँगा और न ही गन्दगी करने दुँगा । उन्होंने यह भी कहा कि “स्वच्छता का दायित्व सिर्फ सफाई-कर्मियों का नहीं, सभी 125 करोड़ भारतीयों का है ।”

इन सारी बातों का असर अभी भी आंशिक रूप से ही दिख रहा है तथा ये बातें हमें यह सोचने पर मजबूर करती हैं कि इतने प्रयास के बावजूद हम भारतीय साफ-सफाई के मामले में आज भी पिछड़े हुए क्यों है ? हम जीवन में स्वच्छता के महत्व को क्यों नहीं समझ पा रहे हैं ?

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

वर्तमान भारत की समस्याएँ

रुपरेखा : पूर्व समस्याओं का विकराल रूप – बढ़ती जनसंख्या – आर्थिक समस्या – राजनीतिक समस्या – सामाजिक समस्याएँ – उपसंहार।

पूर्व समस्याओं का विकराल रूप : वर्तमान भारत की समस्याएँ उसकी पूर्व समस्याओं का विकराल रूप हैं और समाधान की दिशा में उठाए गए विवेकहीन और असंगत उपायों का दुष्परिणाम है । स्वार्थ और दलहित से प्रेरित आत्मघाती दृष्टिकोण का अभिशाप है। आर्थिक समस्याएँ राष्ट्र की समृद्धि के मार्ग में बाधक बनी हुई हैं। सामाजिक समस्याओं ने समाज का जीना मुश्किल कर रखा है। उग्रवाद, आतंकवाद और साम्पदायिकता भारत में नागरिकों से जीवन जीने का अधिकार छीन रही है । उद्योगों के क्षेत्र में आत्म-निर्भरता और स्वराज्य को विदेशी सहयोग की बैसाखी की जरूरत पड़ गई है । जनसंख्या का प्रतिदिन बढ़ना देश की समस्या बनती जा रही है।

बढ़ती जनसंख्या : बढ़ती जनसंख्या भारत की पमुख समस्या है। इसने देश के विकास कार्यो को बौना, जीवनयापन को अत्यन्त कठिन तथा जीवन-शैली को अस्तव्यस्त और कुरूप बना दिया है। इसका परिणाम है, आज भारत की ६० प्रतिशत जनता गरीबी की सीमा-रेखा से नीचे जीवनयाएन करने को विवश हो चुके है। वह भूखे पेट को शांत करने के लिए असामाजिक कार्य करने लगे है। भारत के उद्योगों को आत्मनिर्भर बनाने, अपने पैरों पर खड़ा करने की भी समस्या है। कारण, विदेशी पूँजी और टेक्नीक भारतीय उद्योग को परतन्नतता के लौह-पाश में जकड़ती जा रही हैं। आज विदेशी पूँजी और तकनीकी ने भारत में विदेशी बहुउद्देशीय कंपनियों का साम्राज्य स्थापित कर दिया है। भारत का कुटीर-उद्योग और लघु-उद्योग मर रहे हैं और औद्योगिक समूहों की आर्थिक स्थिति डगमगा रही है।

आर्थिक समस्या : आर्थिक समस्या आज प्रजा को अधिक परेशानी दे रही है। महँगाई हर दिन बढ़ रही है, जिसने मध्यवर्ग का जीना दुभर कर रखा है। देश का धनीवर्ग विदेशों में अपना धन रखकर भारत की आर्थिक रीढ़ को तोड़ने पर लगा हुआ है। बड़े-बड़े आर्थिक घोटालों ने देश की अर्थ-नींव को हिला दिया है। काले धन के वर्चस्व ने देश की प्रतिष्ठा को ही काला कर रखा है ।सर कारी क्षेत्र के उद्योग निरतंतर करोड़ों रुपए का घाटा देकर आर्थिक स्थिति को जटिल बनाने पर तुले हैं। दूसरी ओर भारत की ६० प्रतिशत जनता गरीबी की सीमा-रेखा से नीचे जीवन जीने को विवश हो चुके है।

राजनीतिक समस्या : राजनीतिक समस्याओं ने देश के चित्र और चरित्र पर सवाल उठा दिया है। अपराधियों के राजनीतिकरण ने देश में ‘ ररित्र’ की व्याख्या ही बदल दी है। संविधान में जाति, सम्पदाय, वर्ग-विशेष, प्रांत-विशेष के विशिष्ट अधिकार तथा संरक्षणवाद ने बिभाजन और विभेद का राक्षस खड़ा कर रखा है। नेतागण लोकतंत्र की दुहाई देते पर कार्य किसी तानाशाह से कम का नहीं करते। भ्रष्ट और देश-द्रोही तत्त्व राजनीतिक आँचल में सुरक्षा पा रहे हैं। इसीलिए आज देश में राजनितिक समस्या का कोई समाधान नहीं निकल रहा है। आम जनता किस राजनितिक दल पर यकीन करें वे उन्हें समझ नहीं आ रहा।

सामाजिक समस्याएँ : आज देश में अनेक सामाजिक समस्याएँ भी बढ़ती जा रही हैं दहेज ने विवाह पूर्व और विवाहोपरांत जीवन में केंसर पैदा कर दिया है। ऊँच-नीच के भेद-भाव ने समस्त समाज को ही दुर्बल बना दिया है। नारी के शोषण, उत्पीडन और बलात्कार ने देश को लांछित कर दिया है। समाज से अपनत्व की भावना समाप्त होती जा रही है। पुत्र में बैयक्तिक सुखोप-भोग की वृत्ति बढ रही है ; इसलिए वह माता-पिता से विद्रोह पर उतर आया है। व्यक्तिगत अहं ने पारिवारिक जीवन को नष्ट कर दिया है। समाज में संवेदना ही समस्या बन गई है। आज का युवक मादक पदार्थों के सेवन में आत्मविस्तृत हो रहा है। वह अपने शरीर पर अत्याचार कर रहे है। युवा पीढ़ी को इस आत्महत्या से बचाने की समस्या विराद् और विनाशकारी की और ढकेल रही है। युवा पीढ़ी की यह बरबादी राष्ट्र को ही तबाह करने पर तुली है।

उपसंहार : आज भारत अनेक समस्याओं का घर बन गया है। वह समस्याओं से आहत है, पीड़ति है और घिरा हुआ है। इनका कारन है, समस्या की सही पहचान न होना और उस पर पकड़ न होना तथा सत्ता-पक्ष और राजनीतिजों की गलत इरादे । आज भारत में समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है यही कारन है आज देश के नागरिक अपने ही देश में सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे। हर रोज एक नयी समस्या उनके दरवाजे पे आ कर खड़ी हो जाती है। जो उनको दुर्बल बनाई जा रही है।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

मेरे जीवन का स्मरणीय क्षण या घटना

पिछले वर्ष हर वर्ष की भाँति हमारे विद्यालय में बाल दिवस का समारोह धूम-धाम से मनाया गया। इस अवसर पर विद्यालय में एक चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया था । यह जिला स्तर की प्रतियोगिता थी। इसमें जिले भर के विभिन्न छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया था । मैंने भी प्रतिभागियों में अपना नाम लिखवाया था।

दोपहर के 3 बजे प्रतियोगिता आरंभ हुई । लगभग पचास प्रतियोगी थे । हमें प्रधानाचार्य महोदय ने कोई प्राकृतिक दृश्य बनाने के लिए कहा । डेढ़ घंटे की समय निश्चित की गई थी । सभी प्रतियोगियों को कागज, ब्रुश और रंग दिए गए । सभी ध्यान से अपने-अपने चित्र बनाने में जुट गए । मैंने सूर्योदयकालीन दृश्य का चित्रण करना आरंभ किया । मैने उसमें बाल अरुण, पत्ती, आसमान, सुनहरे बादल, झील, पेड़ आदि दिखाए। इधर चित्र बना तो उधर समय भी व्यतीत हो चुका था। निर्धारित समय पर सभी प्रतिभागियों ने अध्यापक महोदय को अपने-अपने चित्र सौंप दिए।

अब परिणाम की बारी थी । विभिन्न विद्यालयों के तीन कला शिक्षकों की एक जूरी बैठी थी । लगभग एक घंटे बाद जूरी ने अपना निर्णय सुनाया । मुझे चित्रकला में प्रथम पुरस्कार मिला । अपने नाम की घोषणा सुनकर मैं फूला न समा रहा था। पिताजी ने मुझे हदय से लगा लिया । प्राचार्य महोदय ने मुझे शाबाशी दी। अध्यापकों ने मेरी पीठ थपथपाई । यह मेरे जीवन का एक यादगार क्षण बन गया ।

मेरी सफलता पर विद्यालय के सभी शिक्षक एवं छात्र गर्व का अनुभव कर रहे थे । जिले भर की प्रतियोगिता में प्रथम आना मेरे लिए भी गर्व की बात थी। मेरे अभिभावक भी बहुत खुश हो रहे थे । उन्हें मेरी योग्यता पर अब किसी प्रकार का संदेह नहीं रह गया था। संध्याकाल में सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए गए । जिले के डी. एम. को मुख्य अतिथि के रूप में आमंत्रित किया गया था । उनके सम्मान में लाल कालीन बिछाई गई थी। सांस्कृतिक कार्यक्रम में नृत्य, संगीत, एकांकी, कविता पाठ, चुटकुले आदि प्रस्तुत किए गए । मैंने एकांकी ‘अशोक का शस्त्र त्याग’ में सम्राट अशोक की भूमिका निभाई थी। मेरे अभिनय की भी सराहना हुई । मंच के सामने बैठे अतिथि महोदय, शिक्षक, छात्र एवं अभिभावक कार्यक्रम का भरपूर आनंद उठा रहे थे ।

समारोह की समाप्ति पर प्राचार्य महोदय तथा अतिथि महोदय का अभिभाषण हुआ । फिर पुरस्कारों की घोषणा की गई। सम्नाट अशोक के जानदार अभिनय के लिए पुरस्कार सूची में मेरा नाम भी पढ़ा गया। मेरी खुशी दुगुनी हो गई ।

डी. एम. साहब ने मुझे पहले चित्रकला प्रतियोगिता का मैडल प्रदान किया, फिर अभिनय के लिए पुरस्कार दिया। पुरस्कार स्वरूप मुझे मैडल, प्रशस्तिपत्र और नेहरू जी की मूर्ति मिली । विद्यालय की ओर से मुझे पाँच सौ रुपये का नकद पुरस्कार भी मिला । मुख्य अतिथि ने मेरी सराहना की । उन्होंने मुझे जीवन में इसी तरह सफल होने तथा आगे बढ़ते रहने का आशीर्वाद दिया । प्राचार्य महोदय ने भी मंच से मेरी प्रशंसा में कुछ वाक्य कहे ।

उस दिन का प्रत्येक क्षण मेरे जीवन का सबसे यादगार क्षण था । मैं उस दिन को याद करता हूँ तो मुझे चित्रकला और अभिनय के क्षेत्र में और भी अच्छा करने की प्रेरणा मिलती है । मैं चाहता हूँ कि लोग अच्छे कार्यों के लिए मुझे याद करें। मेरा मानना है कि चित्रकला, अभिनय, खेल-कूद भ्रमण आदि शिक्षा के ही अंग हैं । छात्र की जिस क्षेत्र मे प्रतिभा हो, उसी में उसे ध्यान लगाना चाहिए । उसे हर काम उत्साह से करना चाहिए। ऐसा करने पर ही जीवन में कई यादगार क्षण आ सकते हैं।

WBBSE Class 10 Hindi रचना आत्मकथात्मक निबंध

उन्नत समाज-निर्माण में समाचार पत्र की भूमिका

मीडिया अर्थात् जनसंचार के माध्यम (रेडियो, टेलिविजन, समाचार-पत्र इत्यादि) किसी भी समाज अथवा राष्ट्र की सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियों का प्रतिबिम्ब होते हैं।

जनसंचार के सभी माध्यमों में समाचार-पत्र समाज निर्माण में अपेक्षाकृत अधिक सशक्त भूमिका का निर्वहन करते हैं। समाचार-पत्रों का प्रचलन आरम्भ होने के बाद से ही वे मानव के दृष्टिकोण एवं विचारों को प्रभावित करते रहे हैं ।

विभिन्न देशों में सम्पन्न होने वाली सामाजिक एवं राजनीतिक क्रांतियों में समाचार-पत्रों की भूमिका महत्वपूर्ण रही है । समाचार-पत्रों की इसी महत्वपूर्ण एवं सशक्त भूमिका को दृष्टिगत रखते हुए इसे “लोकतंत्र का चौथा स्तम्भ” का अलंकरण प्रदान किया गया है।

समाचार-पत्रों के प्रचलन के समय से लेकर वर्तमान समय तक परिस्थितियों में अभूतपूर्व परिवर्तन आया है और आज समाचार-पत्रों की जन-साधारण तक पहुंच सरल हो गई है, जिसके परिणामस्वरूप समाचार-पत्र समाज के प्रत्येक वर्ग की आकांक्षाओं का प्रतिनिधित्व करने हेतु सक्षम हो गए हैं।

आज समाचार-पत्र हमारे जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग बन गए हैं। आधुनिक समाचार-पत्रों द्वारा सरकारों के निर्माण एवं विघटन, विविध विषयों पर जनमत का निर्माण करने तथा पाठकों की मनोस्थिति को प्रभावित करने जैसी व्यापक भूमिकाओं का निर्वहन कर रहे हैं।

समाचार-पत्रों एवं पत्रिकाओं में सामाजिक जीवन के समस्त पक्ष सम्मिलित होते हैं, जैसे: स्थानीय समाचार, क्षेत्रीय, राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय समाचार, खेल स्पर्द्धाएं, व्यापार एवं अर्थशास्त्र, फैशन शो, बच्चों एवं युवाओं पर लेख, शिक्षा एवं रोजगार के अवसर, सिनेमा इत्यादि ।

इसके अतिरिक्त समाचार-पत्र देश की राजनीतिक गतिविधियों के संचालन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। समाचार-पत्र सरकार एवं साधारण जनता के मध्य एक पुल का कार्य करते हैं। वे जनता की अपेक्षाएं सरकार तक तथा सरकार की बात एवं नीतियों इत्यादि को जनता तक पहुंचाते हैं। इस प्रकार वर्तमान समय में समाचार-पत्रों ने लोकतंत्र के एक सजग प्रहरी का स्थान ग्रहण कर लिया है ।

भारत के स्वाधीनता संघर्ष में भी समाचार-पत्रों ने महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन् किया । भारतीय पुनर्जागरण के अग्रदूत राजा राममोहन राय सहित अन्य समाज सुधारकों ने भी अपने धार्मिक एवं सामाजिक सुधार कार्यक्रमों को विस्तार प्रदान करने तथा उन्हें जन-जन तक पहुंचाने हेतु समाचार-पत्रों का ही सहारा लिया । इनके माध्यम से ही देशभक्ति की भावना का संचार अखिल भारतीय स्तर पर हुआ, जिसके कारण देशभक्तों ने स्वाधीनता की प्राप्ति के लिए हंसते-हंसते कुर्बानी दे दी ।

लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक (मराठा, केसरी), सुरेन्द्रनाथ बनर्जी (बंगाली), भारतेंदु हरिश्वंद्र (संवाद कौमुदी), लाला लाजपत राय (न्यू इंडिया), अरविंद घोष (वंदे मातरम), महात्मा गांधी (यंग इंडिया, इण्डियन ओपीनियन हरिजन), आदि महान नेताओं एवं राष्ट्रीय स्वाधीनता आंदोलन के संचालकों ने विभिन्न भाषाई समाचार-पत्रों के माध्यम से बिटिश शासन की शोषणकारी नीतियों एवं कार्यों को उजागर करके जन-सामान्य तक पहुंचाया।

इन समाचार-पत्रों से संपूर्ण विश्च में अत्याचारपूर्ण ब्रिटिश शासन का प्रचार होता था । समाचार-पत्रों की इस बहुआयामी भूमिका के कारण ही ब्रिटिश शासन द्वारा प्रेस पर कठोर प्रतिबंध आरोपित किये गये तथा समाचार-पत्रों एवं उनके संचालकों को अराजक घोषित कर दिया गया ।

कितु समाचार-पत्रों द्वारा उत्पन्न किये गये जन-उभार ने स्वतंत्रता प्राप्ति के लक्ष्य को प्राप्त करने में बहुमूल्य योगदान दिया । समाचार-पत्र एक ओर जहां देश की राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक स्थितियों एवं गतिविधियों की जानकारी प्रदान करते हैं वहीं दूसरी ओर सामाजिक एवं नैतिक मूल्यों से भी जन-साधारण को अवगत कराते हैं ।

समाचार-पत्रों के अभाव में लोकतंत्र सर्वथा अकल्पनीय है । समाचार-पत्रों को जनता की तीसरी आंख भी कहा जाता है । समय एवं स्थितियों में परिवर्तन करने के साथ-साथ समाचार-पत्रों के कार्यक्षेत्र का दायरा भी अत्यधिक बढद गया है

एक सभ्य समाज में उनकी भूमिका बहु-आयामी है तथा वर्तमान समय में राजनीति के अपराधीकरण एवं भ्रष्टाचार के वातावरण में समाचार-पत्रों के उत्तरदायित्वों में अत्यधिक वृद्धि हुई है । भष्टारार में संलिप्त नेताओं एवं सरकारी अधिकारियों का पर्दाफाश करने तथा असामाजिक तत्वों को सजा दिलाने में वे अपनी भूमिका का आदर्श निर्वहन् करते हैं।

समाचार-पत्रों द्वारा अपने विश्लेषणों के माध्यम से व्यापक स्तर पर जनमत तैयार किया जाता है। वर्तमान समय में साधारण जनता कार्यपालिका तथा/अथवा व्यवस्थापिका से अधिक विश्वास समाचार-पत्रो एवं न्यायपालिका पर करती है।

एक शक्तिशाली समाज के निर्माण में समाचार-पत्र अपना अमूल्य योगदान देते हैं । साथ ही वे इस तथ्य का भी सदैव ध्यान रखते हैं कि उनके द्वारा दी गई सूचनाओं से राष्ट्र की अस्मिता एवं अखण्डता पर कोई आंच न आए।

तथ्यों एवं सत्य को पूर्ण रूप से जनता के समक्ष रखने के लिए समाचार-पत्रों को पर्याप्त स्वतंग्रता की आवश्यकता होती है और यह स्वतंत्रता उन्हें संविधान द्वारा अनुच्छेद-19(1) (क) के माध्यम से प्रदान की गई है

कहा जाता है कि कलम की ताकत तलवार से अधिक होती है, जो कि सत्य भी है क्योंकि तलवार के वार से तो मात्र एक ही व्यक्ति घायल होता है कितु कलम द्वारा लिखे गए एक कटु वाक्य मात्र से ही लाखों-करोड़ों लोगों के हुदय घायल हो सकते हैं। कलम की अपरिमित शक्ति के कारण ही प्रसिद्ध तानाशाह नेपोलियन बोनापार्ट शत्रु से अधिक विरोधी समाचार-पत्रों से डरता था।

समाचार-पत्र जन-मानस को एक ऐसी निष्यक्ष दृष्टि प्रदान करते हैं, जिससे जनता स्वयं सत्य एवं असत्य, सही और गलत में भेद कर सके । मीडिया के लिए सभी राजनीतिक दल एवं नेतागण एक समान होते हैं, आदर्श पत्रकारिता के भीतर पक्षपात के लिए कोई स्थान नहीं है।

समाचार-पत्रों के अभाव में स्वस्थ लोकतंत्र की कल्पना भी नहीं की जा सकती । सरकार द्वारा बनाई जाने वाली लोक कल्याणकारी योजनाओं एवं नीतियों को जनता तक पहुंचाने का कार्य समाचार-पत्रों द्वारा ही किया जाता है। विश्व की कोई भी क्रांति एवं आंदोलन समाचार-पत्रों के सहयोग के बिना नहीं हो सका है ।

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है, समाज के अभाव में मनुष्य का अस्तित्व ही सम्भव नहीं है । समाचार-पत्रों से हमारा समाज व्यापक रूप से प्रभावित होता है। अत: यह ठीक ही कहा गया है कि, “यदि किसी समय के समाज की स्थिति जाननी हो तो उस समय के समाचार-पत्रों को देखो।”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi Solutions Chapter 3 Question Answer – जाँच अभी जारी है

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1: जाँच अभी जारी हैं कहानी का सारांश अपने शब्दों में लिखें।
अथवा
प्रश्न 2 : ‘जाँच अभी जारी है’ कहानी के उदेश्य को लिखें।
अथवा
प्रश्न 3 : ‘जाँच अभी जारी है’ कहानी के शीर्षक की सार्थकता पर विचार करें।
अथवा
प्रश्न 4 : ‘जाँच अभी जारी है’ कहानी में उठाई गई समस्या पर अपने विचार व्यक्त करें।
अथवा
प्रश्न 5 : ‘जाँच अभी जारी है’ पाठ के आधार पर बताइए कि समाज को किस प्रकार पृणित रूप दिया ? स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
‘जाच अभी जारी है’ – कहानी की लेखिका हिन्दी साहित्य की प्रसिद्ध कहानीकार ममता कालिया हैं। इस कहानी में उन्होंने बैंक में कार्यरत अर्पणा के संघर्ष के बारे में लिखा है कि किस प्रकार एक ईमानदार, लगन से काम करने वाली तथा परिश्रमी युवती को इसके बदले में क्या पुरस्कार मिलता है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

अर्पणा को एक दिन आश्चर्य होता है कि उसके बैंक के मैनेजर खन्ना साहब ने अपने बेटे के जन्मदिन के बहाने उसे पार्टी में बुलाया जो कि बैंक में ही रखी गयी ची। उसे आश्चर्य हुआ कि वहाँ खुले आम निस्की की बोतल भी रखी गई थी। वह पार्टो से लौट गई। राष्ट्रीयकृत बैंकों के कार्यालयों का यह इस्तेमाल अर्पणा के लिए एक धक्का था।

एक बार अर्पणा ने माता-पिता के साथ कुल्तू-मनाली घूमने के लिए छुट्दियाँ ली। लैकिन पिता की तबौयत अचानक बिगड़ जाने से सारी छुट्टी इसी बीमारी में निकल गई। अर्पणा ने अपने अधिकारी को इस बात की सूचना भी दे दी थी।

दस दिनों के बाद बैंक जाने पर उसे आश्चर्य हुआ कि क्षेत्रीय कार्यालय से उसके नाम एक पत्र आया था जिसमें लिखा था-
“आपने एल. टी. सी. का झूठा बिल पेश कर बैंक के साथ धोखाधड़ी और धन के दुरुपयोग की चेष्टा की है। इस संबंध में अपना स्पष्टीकरण तत्काल दें अन्यथा आपके विरद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने को हम बाध्य होंगे।” वह समझ गई कि यह सारा खत्रा साहब का ही किया-कराया है।

उसके बाद क्षेत्रीय कार्यालय में जो चक्कर शुरू किया तो उसका अंत ही होने में न आता था। बैंक के सहकर्मो भी उससे कन्री काटने लगे। यहाँ तक कि बैंक का चपरासी भी उसकी उपेक्षा करने लगा। जाँच के दौरान भी उससे ऐसे-ऐसे सवाल पूछेछे जाते जो उसे कई-कई दिनों तक विचलित कर जाते। लम्बे समय बीत जाने के बावजूद भी उसकी जाँच की आग उण्डी नहीं हुई । उसे लगता था कि न जाने कब उसे इस जाँच से छुटकारा मिलेगा।

इस प्रकार इस कहानी में इस समस्या को उठाया गया है कि आज भी महिलाओं को अपने कार्यक्षेत्र में कितनी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। तरह-तरह से उनके शोषण का प्रयास किया जाता है। जिन अधिकारियों को कर्मचारियों के अधिकारों की रक्षा करना का दायित्व सौंपा गया है वही उनका शोषण करते हैं।

जाँच पूरा न होने से कहानी का अंत भी अधूरा ही रह जाता है। इस प्रकार इस कहानी का शीर्षक ‘जाँच अभी जारी है’ – बिल्कुल उपयुक्त एवं सार्थक है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 6.
शाम को अपर्पा मिस्टर सिन्हा के जाल में कैसे फँस गई ?’ स्यष्ट करते हुए मिस्टर सिन्हा का चरित्र-चित्रण कीजिए।
उत्तर :
एक दिन अपर्णा बैक में काम कर रही थी कि मिस्टर सिन्हा ने उससे शाम में बैक में थोड़ी देर रूकने का आग्रह किया। कारण पूछने पर मिस्टर सिन्हा ने उससे यह कहा कि “मेरे बेटे का जन्मदिन है आज …. मेरा बेटा अपनी अम्मी के साथ बनारस गया हुआ है। सुबह से ही उसकी बड़ी याद आ रही थी, इसलिए कुछ लोगों को यहीं बुला लिया।’

अपर्णा ने असमंजस में रुकना स्वीकार कर लिया। लेकिन बाद् में उसने पाया कि जन्मदिन तो एक बहाना था। दरअसल बैंक के कुछ लोग बैंक को ऑफिस का काम खत्म होने के बाद एक बार की तरह इस्तेमाल करते थे। अपर्णा ने सपने में भी न सोचा था कि किसी बैंक में ऐसा भी हो सकता है। अब अपर्णा को ऐसा लगने लगा कि वह मिस्टर सिन्हा के बिछाए जाल में फंस चुकी है। खैर उसने किसी तरह अपने को वहा से निकाला। घर के लिए रिक्शे में बैठने के बाद ही उसकी जान में जान आई।

लघूत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
‘जाँच अभी जारी है’ कहानी की लेखिका कौन है ?
उत्तर :
ममता कालिया।

प्रश्न 2.
अपर्णा किस कहानी की पात्र है?
उत्तर :
अपर्णा ‘जाँच अभी जारी हैं कहानी की पात्र है ।

प्रश्न 3.
ममता कालिया का जन्म कब और कहाँ हुआ था?
उत्तर :
ममता कालिया का जन्म 2 नबम्बर सन् 1940 को उत्तर प्रदेश के मथुरा में हुआ था।

प्रश्न 4.
ममता कीलया किस विभाग के निदेशक पद पर कार्य कर चुकी हैं?
उत्तर :
भारतीय भाषा परिषद, कोलकाता के निदेशक पद पर।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 5.
ममता कालिया के किन्हीं दो कहानी-संग्रह के नाम लिखें।
उत्तर :
हुटकारा, सीट नंबर छह (अन्य संम्रह – उनका यौवन, प्रतिदिन, जाँच अभी जारी है, पच्चीस साल की लड़की)

प्रश्न 6.
ममता कालिया द्वारा लिखित किन्हीं दो उपन्यासों के नाम लिखें।
उत्तर :
बेषर, नरक दर नरक (अन्य – दौड़, अंधेरे का ताला)

प्रश्न 7.
ममता कालिया के कविता-संग्रह के नाम लिखें।
उत्तर :
‘खांटी घरेलू औरत।’

प्रश्न 8.
‘जाँच अभी जारी है’ – की नायिका का नाम लिखें।
उत्तर :
अर्पणा।

प्रश्न 9.
अर्पणा को नौकरी कहाँ मिली?
उत्तर :
एक सम्मानित राष्ट्रीयकृत बैंक में।

प्रश्न 10.
विद्यार्थी जीवन में अर्पणा को कौन-सी नौकरी आकृष्ट करती थी?
उत्तर :
बैंक की नौकरी।

प्रश्न 11.
बैंक की नौकरी के बारे में अर्पणा के क्या विचार थे?
उत्तर :
अर्पणा की बैंक की नौकरी में ये विचार थे कि जितनी शक्ति, सच्चाई और नैतिकता जैसे मूल्यों का अहसास हो सकता है – वह किसी अन्य नौकरी में नहीं।

प्रश्न 12.
अर्पणा के अनुसार बैंक में काम करनेवालों की अर्निपरीक्षा क्या होती होगी?
उत्तर :
हाथ नोटों से भरे हों फिर भी दिमाग विचलित न हों।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 13.
छ: महीने पहले अर्पणा की नियुक्ति कहाँ हुई थी?
उत्तर :
विश्वकर्मा डिप्री कॉलेज में लेक्चररशिप में।

प्रश्न 14.
अर्पणा को शिक्षक, प्राध्यापक कैसे लगते थे?
उत्तर :
बासी और निरीह।

प्रश्न 15.
बैंक में अर्पणा की ड्यूटी कहाँ लगी थी?
उत्तर :
मुख्य हॉल में।

प्रश्न 16.
अर्पणा के बैंक के मुख्य हॉल में कुल कितनी मेजें थी?
उत्तर :
पच्चीस मेजें।

प्रश्न 17.
बैंक में क्या देखकर अर्पणा को गर्व और संतोष हुआ?
उत्तर :
बैंक में अपनी एक निश्चित जगह और अलग मेज देखकर अर्षणा को गर्व और संतोष हुआ।

प्रश्न 18.
बैंक में नियुक्ति के बाद अर्पणा ने घर जाकर माँ और पिताजी से क्या कहा?
उत्तर :
“जितनी बड़ी घर में चारपाई है, उतनी बड़ी तो मेरी मेज है, वहाँ। रोज लाखों रुपयों का टर्नओवर होता है, इतना बड़ा बैंक है।”

प्रश्न 19.
अर्पणा के माता-पिता ने उसकी उपलब्धियों के बारे में क्या कहा?
उत्तर :
“हमारी बेटी ने अपनी लियाकत (काबिलियत) के बूते (बल पर) यह जगह पायी है। हजारों ने इम्तिहान दिया, पर पास तो बिरले ही हुए।

प्रश्न20.
अर्पणा में अपने काम के बारे में कौन-से दो गुण थे?
उत्तर :
मेहनत और एकाग्रता।

प्रश्न 21.
अर्पणा के लिए कौन-सी बात करिश्मे से कम नहीं थी?
उत्तर :
अर्पणा के लिए यह बात करिश्मे से कम नहीं थी कि इतने काउण्टरों पर, मेजों पर इतनी तरह से पैसों का लेन-देन हो और अंत में हिसाब एक कॉस वर्ड पहेली की तरह फिट बैठ जाए।

प्रश्न 22.
शुरू-शुरू में अर्पणा को बैंक की किस बात से बड़ी हँसी आती थी?
उत्तर :
शुरू-शुरू में अर्पणा को बैंक की इस बात से बड़ी हँसी आती थी कि अगर दस पैसे का हिसाब गड़बड़ है तो उसके लिए इतना हाय-तौबा मचाने की जरूरत क्या है? अगर कम है तो अपने पास से डाल दो, ज्यादा हैं तो दराज में डाल दो।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 23.
अर्पणा के सहयोगियों ने उसे बैंकिग के बारे में क्या बताया?
उत्तर :
अर्पणा के सहयोगियों ने उसे बैंकिंग के बारे में यह समझाया कि भूल-चूक वाला मुहावरा बैंकिग के किसी काम का नहीं है। यह तो बैंकिंग के सिद्धान्त का शत्रु है।

प्रश्न 24.
अर्पणा जिस बैंक में कार्यरत् थी वहाँ के शाखा-प्रबंधक कौन थे?
उत्तर :
अर्पणा जिस बैंक में कार्यरत् थी वहाँ के शाखा-प्रबंधक एक नाटे मोटे-चश्मेवाले मिस्टर खन्ना थे।

प्रश्न 25.
शाखा-प्रबंधक मिस्टर खन्ना दिन भर क्या करते देखे जाते थे?
उत्तर :
हस्ताक्षर।

प्रश्न 26.
राष्ट्रीयकृत बैंक कहाँ स्थित था?
उत्तर :
शहर के हृंदय में (बोचों-बीच) स्थित था।

प्रश्न 27.
अर्पणा जिस बैंक में थी वहाँ खातों की भरमार क्यों थी?
उत्तर :
अर्पणा जिस बैंक मे थी वह शहर के बीचों बीच स्थित था इसलिए वहाँ व्यापारियों -व्यवसायियों के छोटे-बड़े खातों की भरमार थी।

प्रश्न 28.
बैंक के ग्राहकों के बारे में क्या अंदाज लगाना मुश्किल था?
उत्तर :
बैंक के प्राहकों के बारे में यह अंदाज लगाना मुश्किल था कि उनकी हैसियत कितनी है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 29.
जब लाला अपनी चोर जेबों में नोट भर के काउण्टर पर खड़ा होते तो अर्पणा का मन उनसे क्या कहने का होता था?
उत्तर :
सेठ जी, थोड़ा-सा पैसा खर्च कर कपड़े किसी पावर पैक्ड साबुन से धुलवा लीजिए, सारे बैंक में पसीने की गंध उड़ रही है।

प्रश्न 30.
अर्पणा को बैंक यूटोपिया (आश्चर्यलोक) की तरह क्यों लगता था?
उत्तर :
बैंक में वहाँ के कर्मी जिस प्रकार अपने काम में इतने मुस्तैद, इतने चौकस रहते हैं कि अर्पणा को बैंक यूटोपिया की तरह लगता था।

प्रश्न 31.
अर्पणा के बैंक में जगह-जगह लिखे कौन-से नारे अच्छे लगते थे?
उत्तर :
पराश्रिम ही देश को महान बनाता है।’ ‘अनुशासन आज की जरूरत है।’ कड़ी मेहनत, पक्का इरादा, दूर दृष्टि।

प्रश्न 32.
अर्पणा को सपने में क्या दिखता था?
उत्तर :
अर्पणा को सपने में यह दिखता था कि वह अपनी ही शाखा में एक सहयोगी की पत्ली बन चुकी है। रोज सुबह साढ़े नौ बजे अपना-अपना लंच बॉक्स लेकर एक साथ स्कूटर से रवाना होते है। दोनों का एक ज्वायंट एकाउण्ट है और घर में दोनों की ही मर्जी से काम होता है।

प्रश्न 33.
अर्पणा के सपने कैसे पूरे हो सकते थे?
उत्तर :
अगर अर्पणा के हॉल में एक भी आदमी अविवाहित और नौजवान होता तो उसके सपने पूरे हो सकते थे। लेकिन ऐसा नहीं था। सबके-सब विवाहित थे।

प्रश्न 34.
मिसेज श्रीवास्तव कौन थी? वह अर्पणा को क्या हिदायत देती थी?
उत्तर :
मिसेज श्रोवास्तब बैंक में अर्षणा की सहकर्मी थी। वह अर्पणा को हिदायत देती कि, “सँभलकर रहना अर्पणा, ये शादीशुदा मर्द बड़े खतरनाक होते हैं। पहले आतुर बनेंगे, फिर कातर, एकदम पन्नालाल हैं सब के सब।’

प्रश्न 35.
बैंक का हर छोटा-बड़ा अधिकारी धीरे-थीरे अर्पणा से कौन-सा सवाल पूछ चुका था?
उत्तर :
“आज शाम आप क्या कर रही है?”.

प्रश्न 36.
अर्पणा के लिए कौन-से बहाने उसके रक्षा कवच थे?
उत्तर :
माँ की बीमारी तथा पिता का प्रवास।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 37.
राष्ट्रीयकृत बैंकों का कौन-सा इस्तेमाल अर्पणा के लिए एक थक्का था?
उत्तर :
वैंक का कार्यकाल खत्म होने के बाद वहाँ शराब की पार्टी के लिए ऑफिस का इस्तेमाल करना-अर्पणा के लिए एक धक्का था।

प्रश्न 38.
अर्पणा ने कहाँ जाने के लिए अपनी छुट्टी मंजूर करवाई थी?
उत्तर :
जगन्नाधपुरी।

प्रश्न 39.
यात्रा वाले दिन अर्पणा के साथ कौन-सी घटना घटी?
उत्तर :
यात्रा वाले दिन अचानक उसके पिताजी को सीने में दर्द उठा तथा उन्हें तुरंत अस्पताल में भरती करखाना पड़ा। यात्रा टल गई।

प्रश्न 40.
अर्पणा ने बैंक में फोन करके अपने अधिकारी को क्या सूचना दी?
उत्तर :
अर्पणा ने बैंक में फोन करके अधिकारी को यह सूचना दी कि वह पिता की बीमारी के कारण बुट्टी में घूमने नहीं जा सकी है।

प्रश्न 41.
अर्पणा पिता की बीमारी के कितने दिनों बाद बैंक गई?
उत्तर :
दस दिनों के बाद।

प्रश्न 42.
अर्पणा जब कभी शाम में बैंक की बिजली जली देखा तो उसने क्या सोचा?
उत्तर :
अर्पणा ने यह सोबा कि यहाँ के अधिकारी कितने मन लगाकर अपना काम पूरा करते हैं?

प्रश्न 43.
अर्पणा ने यात्रा के लिए ली गई एडवांस (अग्रिम) के बारे में क्या सोचा?
उत्तर :
उसने यह सोचा कि वह हुट्टी के बाद जब दफ्तर जाएगी, एडवांस वापस कर देगी।

प्रश्न 44.
छुद्टी के बाद बैंक जाने पर चपरासी ने अर्पणा को क्या दिया? उसमें क्या लिखा था?
उत्तर :
बुट्टी के बाद बैंक जाने पर चपरासी ने अर्पणा को एक रजिस्टई लिफाफा दिया जो बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय से आया था। उसमें लिखा था – “अपने एल. टी. सी. का झ्रूठा बिल पेश कर बैंक के साथ धोखाधड़ी और बन के दुरुपयोग की वेष्टा की है। इस संबंध में अपना सष्टीकरण तत्काल दें अन्यथा आपके विरुद्ध अनुशासनात्मक कार्खाई करने को हम बाध्य होंगे।”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 45.
शाखा प्रबंधक से क्षेत्रीय कार्यालय से आए पत्र के बारे में शिकायत करने पर उसने क्या कहा?
उन्तर :
शाखा प्रबंधक ने अर्पणा को घूरते हुए कहा, ” मुझे आपका कोई फोन नहीं मिला। आपको जो भी कहना है, लिखित में कहें।”

प्रश्न 46.
अर्पणा के बारे में खन्ना और सिन्हा ने मिलकर क्या तय किया?
उत्तर :
अर्पणा के बारे में खन्ना तथा सिन्हा के मिलकर यह तय किया कि ये जो नए अपरिपक्व, अनुशासनहीन अधिकारी हैं, उन्हें सबक सिखाया जाय और उनकी लीपापोती कतई मंजूर न की जाए।

प्रश्न 47.
क्षेत्रीय कार्यालय जाते समय अर्पणा को उसके पिता पूरे रास्ते क्या समझाते रहे?
उत्तर :
अर्पणा के पिता ने उसे समझाया कि वह बिल्कुल न डरे। सच्चाई में आज भी बड़ी ताकत है। मैने इतनी उम्र में कभी झूठ का सहारा न लिया और कभी नुकसान में न रहा।

प्रश्न 48.
क्षेत्रीय कार्यालय कहाँ था और कैसा था?
उत्तर :
क्षेत्रीय कार्यालय कानपुर की एक व्यस्त तथा स्वच्छ सड़क के किनारे था। इमारत भव्य थी तथा भारी सुरक्षाव्यवस्था तथा ताम-झाम से भरा हुआ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 49.
कनिप्ठ अधिकारी ने अर्पणा के साथ कैसा व्यवहार किया?
उत्तर :
कनिष्ठ अधिकारी ने अर्पणा के साथ उपेक्षा भरा व्यवहार किया। उसने अर्पणा पर ध्यान न देकर फोन से बातचीत करने में ही लगा रहा।

प्रश्न 50.
अर्पणा ने कनिष्ठ अधिकारी से क्या निवेदन किया ?
उत्तर :
अर्पणा ने कनिष्ठ अधिकारी से यह निवेदन किया कि उसके स्पष्टीकरण पर ध्यान दिया जाय तथा उसकी विश्वसनीयता पर संदेह न किया जाय।

प्रश्न 51.
क्षेत्रीय कार्यालय के कनिष्ठ अधिकारी ने अर्पणा के निवेदन का क्या उत्तर दिया?
उत्तर :
क्षेत्रीय कार्यालय के कनिष्ठ अधिकारी ने अर्पणा के निवेदन को नामंजूर करते हुए कहा कि, ‘” आपके विरुद्ध जाँच की कार्रवाई तो करनी ही पड़ेगी …….. आपके पास अपनी भेजी गई सूचना का कोई लिखित सबूत नहीं है। फिर हम कैसे मानें कि आप संदेह से परे हैं।”

प्रश्न 52.
‘क्या मैं आपको एक बेईमान लड़की मालूम देती हूं’ के जबाब में कनिष्ठ अधिकारी ने अर्पणा से क्या कहा?
उत्तर :
कनिष्ठ अधिकारी ने अर्पणा से कहा कि, “व्यक्तिगत प्रतिक्रिया का दप्तर के रूटीन मे कोई अर्थ नहीं होता। फिर हमारे यहाँ नये आए जूनियर्स में इतने अजीब तत्व घुस गए हैं कि इनकी पड़ताल होनी जरूरी है। आप जा सकती हैं।’

प्रश्न 53.
क्षेत्रीय कार्यालय के डीलिंग क्लर्क ने अर्पणा के बारे में क्या सोचा?
उत्तर :
डीलिंग क्लर्क ने सोचा कि लड़की (अर्पणा) यदि उससे ठीक से मुलाकात करेगी, शू प्रॉपर चैनल अंदर जाएगी और आगे से इस मनहूस बूढ़े को साथ न लाएगी तो वह मामला दबवा देगा। लेकिन इसके मिजाज तो सातवें आसमान पर अटके हुए हैं।

प्रश्न 54.
अर्पणा के चले जाने के बाद डीलिंग क्लर्क ने चपरासी से क्या कहा?
उत्तर :
डीलिंग क्लर्क ने चपरासी से कहा कि “इसी तरह यह अपने पिताजी के साथ आती रहेगी तो दसियों साल इन्व्वायरी चलवाऊंगा, रो न दे तो कहना।”

प्रश्न 55.
अर्पणा ने जाँच जल्दी पूरा करवाने के लिए क्या किया?
उत्तर :
जाँच जल्द से जल्द पूरी हो जाए इसके लिए अर्पणा को जिसने, जिस किसी ने भी किसी मददगार का नाम बताया वह वहाँ चली जाती। लखनऊ और कानपुर जैसे शाहर के उसे इतने चक्कर लगाने पड़े मानो अपने शहर के मुहल्ले के चक्कर लगा रही हो।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 56.
अर्पणा के विरुद्ध जाँच समिति में कौन लोग शामिल थे?
उत्तर :
अर्पणा के विरुद्ध जाँच समिति में क्षेत्रीय कार्यालय के एक अधिकारी प्रीतम सिंह, यूनियन के एक प्रतिनिधि समीर सक्सेना और एक अन्य अधिकारी शामिल थे।

प्रश्न 57.
अर्पणा के विरुद्ध जाँच का आतंक कैसा था?
उत्तर :
अर्पणा के विरुद्ध जाँच का आतंक ऐसा था कि दफ्तर के चपरासी तक ने अर्पणा को सलाम करना बंद कर दिया। कोई भी इस लफड़े में नहीं पड़ना चाहता था।

प्रश्न 58.
शाखा प्रबंधक खन्ना के बारे में पूछने पर अर्पणा ने सक्सेना जी को क्या बताया?
उत्तर :
अर्पणा ने खन्ना के बारे में सक्सेना जी को बताते हुए कहा कि वह महाधूर्त है। इतना ही नहीं, दफ्तर में खन्रा और सिन्हा साहब का व्यवहार महिला कर्मचारियों से उचित नहीं है।

प्रश्न 59.
शाखा प्रबंधक खन्ना तथा सिन्हा साहब के बारे में शिकायत सुनकर सक्सेना जी ने अर्पणा से क्या कहा?
उत्तर :
शिकायत सुनने के बाद सक्सेना जी ने अर्पणा से यह कहा कि जब-जब महिला वर्करों की योग्यता पर सवाल उठाएजाते हैं, वे पुरुषों के चरित्र की बात बीच में ले आती हैं।

प्रश्न 60.
अपने विरुद्ध जाँच के रवैये से परेशान अर्पणा के मन में क्या आता था?
उत्तर :
जाँच के रवैये से परेशान कभी-कभी अर्पणा के मन में आता था कि वह खन्ना को पीटे, बैंक की असलियत सबको चीख-चीख कर बताए कि इस राष्ट्रीयकृत बैंक में कैसे घपले और सौदेबाजी होती है।

प्रश्न 61.
जाँच अधिकारी अर्पणा को क्या कहकर ढाढ़स बँंधाते थे?
उत्तर :
जाँच अधिकारी अर्पणा को यह कहकर ढाढ़स बँधाते थे कि – “तुम बिल्कुल बेफिक रहो। इस मामले को निपटाकर हम तुम्हारा तबादला और पोस्टिंग ऐसी बांच में करवा देंगे, जहाँ किसी को इस मामले की खबर ही न होगी। तुम नए सिरे से जीवन शुरू कर सकोगी।”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 62.
निर्दोष साबित होने की पूरी संभावना के बावजूद अर्पणा को क्या लग रहा था?
उत्तर :
निर्दोष साबित होने की पूरी संभावना के बावजूद अर्षणा को यह लग रहा था कि असली सजा तो वह पा चुकी है। उसकी जाँच की आँब कभी ठण्डी नहीं होगी। इस जाँच से निकलने की कोशिश में और भी उलझती जाएगी।

प्रश्न 63.
जाँच से गुजरते-गुजरते अर्पणा की हालत क्या हो गई थी?
उत्तर :
जाँच से गुजरते-गुजरते अर्पणा की हालत बुरी हो चली थी। फाइल ढोते-ढोते बेजान हो चली थी। खून की कमी से सारा शरीर सफेद पड़ता जा रहा था। वह एक ऐसे कुचक्र मे फंस गई थी जिससे निकलना असंभव जान पड़ता था।

प्रश्न 64.
जाँच की खबर फैल जाने पर अर्पणा को क्या-क्या झेलना पड़ रहा था?
उत्तर :
जाँच की खबर फैल जाने से सब, यहाँ के परिचित भी अर्पणा को अजीब नज़रों से देखने लगे थे। उनकी नज़रों से ऐसा लगता मानो वह बेहद मक्कार और बेईमान लड़की है। वे खुद काफी साथ-सुथरे और पवित्र हैं।

प्रश्न 65.
अर्पणा के लिए कौन-सा अनुभव भयंकर अनुभव रहा था?
उत्तर :
दुनिया की नज़रों में गुनाहगार की हैसियत से जीना अर्पणा के लिए एक भयंकर अनुभव रहा था।

प्रश्न 66.
अर्पणा ने सोचकर भी वित्तमंत्री को पत्र क्यों नहीं लिखा?
उत्तर :
अर्पणा ने कई बार सोचा कि वह वित्तमंत्री को पत्र लिखे पर वह यह सोचकर रूक गई कि पत्र का नतोजा यही निकलेगा कि एक जाँच और बैठा दी जाएगी। उसकी जाँच की फाईल और भी पेचीदा होती जाएगी।

प्रश्न 67.
अर्पणा के विरुद्ध कितने रुपये के लिए जाँच बिठायी गई थी और इसके पीछे उसके कितने खर्च हो चुके थे?
उत्तर :
अर्पणा के विरुद्ध अठारह सौ रुपये के लिए जाँच बिठायी गई थी और इसके पीछे अबतक उसके अट्ठाईस हजार रुपये खर्च हो चुके थे।

प्रश्न 68.
फरीदा कौन थी? उसने अपना कौन-सा दुखड़ा अर्पणा को सुनाया था?
उत्तर :
फरीदा अर्पणा के साथ ही बैंक में काम करती थी तथा उससे जूनियर थी। उसने अपना दुखड़ा रोते हुए अर्पणा को बताया था कि उसे लगातार चार दिन अपनी दराज में गन्दे शे’र लिखे कागज मिले।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 69.
जब अर्पणा ने फरीदा को जाँच में साथ देने को कहा तो उसने क्या कहा?
उत्तर :
जब अर्पणा ने फरीदा से जाँच में साथ देने को कहा तो उसने दो दूक लहजे में मना करते हुए कहा, ‘नना बाबा, मैं इस लफड़े में नहीं पड़ना चाहती। कितनी फजीहत होगी। मेरे अब्या तो मुझे जान से मार डालेंगे।”

प्रश्न 70.
जाँच बिठाये जाने के बाद अर्पणा बैंक में जाने पर कैसा अनुभव करती थी?
उत्तर :
जाँच बिठाये जाने के बाद अर्पणा अधिकारी की बजाय एक अभियुक्त की तरह आती थी। वह शाखा प्रबंधक के कमरे के बाहर पड़ी कुर्सी पर फाईल को गोद में रखे बैठी रहती और तो और अब दफ्तर के चपरासी तक ने अर्पणा को सलाम करना बंद कर दिया था।

प्रश्न 71.
जाँच के दौरान अर्पणा से अक्सर कैसे सवाल पूछे जाते थे?
उत्तर :
जाँच के दौरान अर्पणा से अक्सर ऐसे सवाल पूछे जाते जिनका उत्तर ‘हाँ’ या ‘नहीं’ में देना असंभव था।

प्रश्न 72.
अर्पणा के लिए किससे मिलना आसान नहीं था? क्यों?
उत्तर :
अर्पणा के लिए समीर सक्सेना से मिलना आसान नहीं था क्योंकि अक्सर उनके होटल में उनके कमरे में ताला ही पड़ा रहता। अगर वे कभी लौटते तो इतने लोग वहाँ जमा रहते कि अर्पणा के लिए मुलाकात करना संभव नहीं हो पाता था। भीड़ से निपटते ही चपरासी उनके दरवाजे पर ‘डू नॉट डिस्टर्व’ की तख्ती लटका देता था।

प्रश्न 73.
मिसेज श्रीवास्तव अर्पणा की किस बात पर एक तजुर्बेदार हँसी हँस देती थी?
उत्तर :
जब मिसेज श्रीवास्तव अर्पणा को आंफिस के मर्दों से सावधान रहने को कहती तो अर्पणा यह कहती थी कि “म क्षे तो सब बड़े सीधे नजर आते हैं। लगता ही नहीं कि मद्दों के बीच बैठे हैं” – यह सुनकर मिसेज श्रीवास्तव एक तजुर्बेदार हैसी हैस देती थी।

प्रश्न 74.
अर्पणा के लिए शाखा-प्रबंधक का कौन-सा आरोप निराधार तथा बचकाना था?
उत्तर :
शाखा प्रबंधक का यह आरोप – ‘मुके आपका कोई फोन नहीं मिला। आपको जो भी कहना है, लिखित में कहें” – अर्पणा के लिए निराधार तथा बचकाना था।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 75.
अर्पणा अपने विरुद्ध लगाए गए आरोप से क्यों नहीं घबराई?
उत्तर :
अर्षणा अपने विरुद्ध लगे आरोप से इसलिए नहीं डरी क्योंकि उसे लगा कि सच्चाई उसके साथ है, उसकी नियत में कोई खोट नहीं है फिर वह क्यों घबड़ाए।

प्रश्न 76.
अर्पणा ने अपने विरुद्ध आरोप के बारे में माता-पिता को संक्षेप में क्यों समझाया?
उत्तर :
अर्पणा ने अपने विरुद्ध लगे आरोप के बारे मे माता-पिता को संक्षेप में इसलिए बताया ताकि उनके कलेजे पर बोझ न पड़े।

प्रश्न 77.
कौन अर्पणा को अपने चश्मे से बड़े गौर से देख रहा था?
उत्तर :
क्षेत्रीय कार्यालय का डीलिंग क्लर्क अर्पणा को अपने चश्मे से बड़े गौर से देख रहा था।

प्रश्न 78.
अधिकतर संबंधित व्यक्ति से अर्पणा की मुलाकात क्यों नहीं हो पाती थी?
उत्तर :
अधिकतर संबंधित व्यक्ति से अर्पणा की मुलाकात इसलिए नहीं हो पाती थी क्योंकि वह अपनी व्यस्तता बताकर दो दिन के बाद आने का समय देता था।

प्रश्न 79.
मिस्टर सक्सेना होटल में लौटने के बाद क्या किया करते थे?
उत्तर :
मिस्टर सक्सेना होटल आने के बाद लोगों की समस्याओं का समाधान निकालते और उनके प्रार्थना पत्र प्राप्त करते थे।

प्रश्न 80.
अर्पणा मिस्टर सक्सेना के सामने लगी भीड़ के बीच अपना मामला खोलना क्यों नहीं चाहती थी?
उत्तर :
अर्पणा मिस्टर सक्सेना के सामने लगी भीड़ के बीच अपना मामला इसलिए नहीं खोलना चाहती थी क्योंक सिर्फ उसका तमाशा ही बन सकता था, कोई समाधान मिलने वाला नहीं था।

प्रश्न 81.
बैंक में नौकरी से पहले अपर्णा की नियुक्ति कहाँ हो चुकी थी ?
उत्तर :
विश्वकर्मा डिग्री कॉलेज में।

प्रश्न 82.
सिर पर पाँच-पाँच लाख के नकद नोटों की गह्डी लेकर चलनेवाले कुली की कुल मजदूरी क्या होती है ?
उत्तर :
दस रुपये रोज।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 83.
अपर्णा ने सीधे किसे पत्र लिखने के बारे में सोचा ?
उत्तर :
वित्त मंश्री को।

प्रश्न 84.
अपर्णा के लिए क्या धक्का था ?
उत्तर :
राष्रीयकृत बैंकों का गलत इस्तेमाल अपर्णा के लिए धक्का था।

प्रश्न 85.
अपर्णा के कौन-से रूप ने निहायत मुमकिन किस्म के सपने थे ?
उत्तर :
वे सपने जिन्हें वह रात में देखती थी।

प्रश्न 86.
किसकी शक्ल हर समय रुआँसी रहने लगी थी ?
उत्तर :
अपर्णा की शक्ल ।

प्रश्न 87.
बैंक के किस अधिकारी से मिलना आसान नहीं था ?
उत्तर :
समीर सक्सेना से ।

प्रश्न 88.
अपर्णा खन्रा के बारे में क्या सोचती थी ?
उत्तर :
एक दिन खन्ना के केबिन में घुसकर उसे ताबड़-तोड़ मारना है ।

प्रश्न 89.
बैंक में अर्पणा का समय दो बजे तक पलक झपकते क्यों बीत जाता था?
उत्तर :
दो बजे तक का समय पब्लिक डीलिंग का था इसलिए अर्पणा का वह समय पलक झपकते ही बीत ज्ञाता था।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
अपर्णा किस बैंक में काम करती थी ?
(क) बैंक ऑफ अमेरिका में
(ख) राह्ट्रीयकृत बैंक में
(ग) कोआपरेटिव बैंक में
(घ) प्राइवेट बैंक में
उत्तर :
(ख) राध्रीयकृत बैंक में

प्रश्न 2.
‘जाँच अभी जारी है’ के रचनाकार हैं :
(क) ममता कालिया
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) शेखर जोशी
(घ) अमरकांत
उत्तर :
(क) ममता कालिया।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 3.
‘सीट नंबर छह’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार हैं :
(क) शेखर जोशी
(ख) ममता कालिया
(ग) अमरकांत
(घ) रेणु
उत्तर :
(ख) ममता कालिया।

प्रश्न 4.
‘उनका यौवन’ (कहानी-संग्रह) किसकी रचना है?
(क) ममता कालिया
(ख) रेणु
(ग) अमरकांत
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) ममता कालिया।

प्रश्न 5.
‘प्रतिदिन’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार हैं :
(क) अमरकांत
(ख) प्रेमचंद
(ग) ममता कालिया
(घ) जयशंकर प्रसाद
उत्तर :
(ग) ममता कालिया।

प्रश्न 6.
‘पचचीस साल की लड़की’ (कहानी-संप्रह) किसकी रचना है?
(क) निराला
(ख) मोहन राकेश
(ग) रेणु
(घ) ममता कालिया
उत्तर :
(घ) ममता कालिया।

प्रश्न 7.
‘बेघर( (उपन्यास) किसकी रचना है?
(क) प्रेमचंद
(ख) ममता कालिया
(ग) गुलेरी
(घ) अमरकांत
उत्तर :
(ख) ममता कालिया।

प्रश्न 8.
‘नरक दर नरक’ (उपन्यास) किसकी रचना है?
(क) ममता कालिया
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) उषा प्रियंवदा
(घ) महादेवी वर्मा
उत्तर :
(क) ममता कालिया।

प्रश्न 9.
‘दौड़’ (उपन्यास) के रचनाकार कौन हैं?
(क) संजीव
(ख) अमरकांत
(ग) ममता कालिया
(घ) प्रेमचंद
उत्तर :
(ग) ममता कालिया।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 10.
‘अंधेरे का ताला’ (उपन्यास) के रचनाकार कौन हैं?
(क) प्रेमचंद
(ख) बंग महिला
(ग) महादेवी वर्मा
(घ) ममता कालिया
उत्तर :
(घ) ममता कालिया।

प्रश्न 11.
‘खांटी घरेलू औरत’ (काव्य-संग्रह) किसकी रचना है?
(क) ममता कालिया
(ख) प्रेमचंद
(ग) धूमिल
(घ) अजेय
उत्तर :
(क) ममता कालिया।

प्रश्न 12.
अर्पणा क्या पाकर फूली न समाई?
(क) बैंक में नियुक्ति
(ख) आरोप-पत्र
(ग) वेतन
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) बैंक में नियुक्ति।

प्रश्न 13.
अर्पणा की नियुक्ति पहले कहाँ हुई थी?
(क) बैंक में
(ख) विश्वकर्मा डिग्री कॉलेज में
(ग) रेलवे में
(घ) स्कूल में
उत्तर :
(ख) विश्वकर्मा डिमी कॉलेज में।

प्रश्न 14.
अर्पणा की दूसरी नियुक्ति कहाँ हुई?
(क) राप्ट्रीयकृत बैंक में
(ख) स्कूल में
(ग) जीवन बीमा निगम में
(घ) विश्वकर्मा डिम्री कॉलेज में
उत्तर :
(क) राष्ट्रीयकृत बैंक में।

प्रश्न 15.
अर्पणा ने बैंक के लिए कौन-सी नौकरी छोड़ दी?
(क) डियी कॉलेज की नौकरी
(ख) स्कूल की नौकरी
(ग) जोवन बीमा निगम की नौकरी
(घ) अस्पताल की नौकरी
उत्तर :
(क) डिप्री कॉलेज की नौकरी।

प्रश्न 16.
शिक्षक, अध्यापक अर्पणा को क्या लगते थे?
(क) बेवकूफ
(ख) बुद्धिमान
(ग) बासी और निरीह
(घ) आलसी
उत्तर :
(ग) बासी और निरीहा

प्रश्न 17.
बैंक में अर्पणा की उ्यूटी कहाँ थी?
(क) काठन्टर पर
(ख) गेट पर
(ग) ऑफिस में
(घ) मुख्य हॉंल में
उत्तर :
(घ) मुख्य हॉल में।

प्रश्न 18.
अर्पणा के बैंक के मुख्य हॉल में कितनी मेजें थीं?
(क) बीस
(ख) पचीस
(ग) तीस
(घ) पैंतीस
उत्तर :
(ख) पचीस।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 19.
बैंक में क्या देखकर अर्पणा को गर्व और संतोष हुआ?
(क) अलग मेज
(ख) अलग ऑफिस
(ग) अलग काउंटर
(घ) वेतन
उत्तर :
(क) अलग मेज।

प्रश्न 20.
कौन-से दो गुण अर्पणा में थे?
(क) ईमानदारी और पढ़ाई
(ख) पढ़ाई-लिखाई
(ग) समय की पाबंदी और ईमानदारी
(घ) मेहनत और एकाम्यता
उत्तर :
(घ) मेहनत और एकाग्रता।

प्रश्न 21.
दो बजे के बाद बैंक का गार्ड क्या बंद कर देता था?
(क) शटर
(ख) काउंटर
(ग) फाटक
(घ) ऑफिस
उत्तर :
(क) शटर।

प्रश्न 22.
बैंक में दो बजे तक किसका समय होता?
(क) भोजन
(ख) नाश्ते
(ग) पब्लिक डीलिंग
(घ) पैसे-पैसे का हिसाब मिलाना
उत्तर :
(ग) पब्लिक डीलिंग।

प्रश्न 23.
बैंक में किसी-किसी दिन हिसाब में बल पड़ जाता तो?
(क) शाखा-प्रबंधक सबको डाँटता
(ख) चाय का दौर चलता
(ग) कर्मचारी और अधिकारी फुर्सत में आ जाते
(घ) सारे कागजात नए सिरे से जाँचे जाते
उत्तर :
(घ) सारे कागजात नए सिरे से जाँचे जाते।

प्रश्न 24.
हिसाब मिला लिया जाने के बाद ही .
(क) स्टॉफ फारिग होते
(ख) पब्लिक डीलिंग का समय होता
(ग) गप शुरू होता
(घ) चाय का दौर चलता
उत्तर :
(क) स्टॉफ फारिग होते।

प्रश्न 25.
कौन-सा मुहावरा बैंकिंग सिद्धांत का शब्रु है?
(क) आज नकद कल उधार
(ख) अनुशान ही देश को महान बनाता है
(ग) भूल-चूक लेनी-देनी
(घ) आमदनी अठ्ठनी खर्चा रुपैया
उत्तर :
(ग) भूल-चूक लेनी-देनी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 26.
बैंक के शाखा-प्रबंधक थे?
(क) मिस्टर खन्ना
(ख) मिस्टर सिन्हा
(ग) मिस्टर सक्सेना
(घ) मिस्टर सिंध
उत्तर :
(क) मिस्टर खन्ना।

प्रश्न 27.
यह राष्ट्रीयकृत बैंक स्थित था :
(क) गाँव में
(ख) बाजार में
(ग) शहर के हृद्य में (बीच में)
(घ) मैदान में
उत्तर :
(ग) शहर के हृदय में (बीच में)

प्रश्न 28.
पुराने किस्म के लाला बैंक में क्या पहनकर आते थे?
(क) कुरता-पाजामा
(ख) कोट पैंट
(ग) शेरवानी
(घ) धोती-कुर्ता
उत्तर :
(घ) धोती-कुर्ता।

प्रश्न 29.
अपर्णा को किस पर हैरानी होती थी?
(क) सहयोगियों और खुद पर
(ख) खुद पर और शाखा-प्रबंधक पर
(ग) सहयोगियों और लाला पर
(घ) स्कूटर पर आने वाले पर
उत्तर :
(क) सहयोगियों और खुद पर।

प्रश्न 30.
बैंक में क्या सबके हाथों से अमानत की तरह गुजरता ?
(क) चाय का कप
(ख) बही
(ग) रुपये
(घ) आमंत्रण-पत्र
उत्तर :
(ग) रुपये।

प्रश्न 31.
”हम होते तो नोट लेकर भाग जाते”-गद्यांश किस पाठ से उद्धत है?
(क) तीसरी कसम
(ख) जाँच अभी जारी है
(ग) उसने कहा था
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) जाँच अभी जारी है।

प्रश्न 32.
‘जब सिर पर जिम्मेदारी पड़ती है तो ईश्वर अपने-आप शक्ति देता है”‘ – वक्ता कौन हैं?
(क) अर्पणा
(ख) फरीदा जमाल
(ग) अर्पणा की माँ
(घ) मिसेज श्रीवास्तव
उत्तर :
(क) अर्पणा।

प्रश्न 33.
“मैं इस लफड़े में नहीं पड़ना चाहती” – वक्ता कौन है?
(क) मिसेज श्रीवास्तव
(ख) फरीदा जमाल
(ग) अर्पणा
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) फरीदा जमाल।

प्रश्न 34.
“मैं मोर्चा नहीं बनना चाहती” – वक्ता कौन है?
(क) अर्पणा
(ख) मिसेज श्रीवास्तव
(ग) फरीदा जमाल
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) फरीदा जमाल।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 35.
किसके तेवर बदलते देख अर्पणा चुप हो गई?
(क) फरीदा जमाल
(ख) शाखा प्रबंधक
(ग) मिस्टर सिन्हा
(घ) मिस्टर सक्सेना
उत्तर :
(क) फरीदा जमाल।

प्रश्न 36.
“आपकी फाईल भी मैं अच्छी तरह देखूँगा” – वक्ता कौन है?
(क) प्रीतम सिंह
(ख) मिस्टर सिन्हा
(ग) मिस्टर सक्सेना
(घ) डीलिंग क्ल्लक
उत्तर :
(ग) मिस्टर सक्सेना।

प्रश्न 37.
सहृद्य से दिखने वाले अधिकारी का नाम था?
(क) प्रीतम सिंह
(ख) मिस्टर सक्सेना
(ग) मिस्टर सिंह
(घ) मिस्टर सिन्हा
उत्तर :
(क) मिस्टर सिंह।

प्रश्न 38.
‘यह तो दस से पाँच तक जेल की तरह है’ – वक्ता कौन है?
(क) मिसेज श्रीवास्तव
(ख) अर्पणा
(ग) अर्पणा की सहेलियाँ
(घ) मिस्टर सिन्हा
उत्तर :
(ग) अर्पणा की सहेलियाँ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 39.
निम्न में से कौन-सा नारा बैंक में नहीं लिखा था?
(क) परिश्रम ही देश को महान बनाता है
(ख) अनुशासन आज की जरूरत है
(ग) कड़ी मेहनत, पक्का इरादा, दूर दृष्टि
(घ) स्वच्छ भारत, स्वस्थ्य भारत
उत्तर :
(घ) स्वच्छ भारत, स्वस्थ्य भारत।

प्रश्न 40.
सपने में उसे दिखता कि .?
(क) एक सहयोगी से झगड़ा हो गया है
(ख) एक सहयोगी की पत्नी बन वुकी है
(ग) वह रुपये लेकर भाग गई है
(घ) जाँच खत्म हो गई है
उत्तर :
(ख) एक सहयोगी की पत्नी बन चुकी है।

प्रश्न 41.
बैंक का हर छोटा-बड़ा अधिकारी अर्पणा से कौन-सा सवाल पूछ चुका था?
(क) आपका नाम क्या है ?
(ख) आप कहाँ रहती है?
(ग) आज़ शाम आप क्या कर रही हैं?
(घ) आपने काँलेज की नौकरी क्यों छोड़ी?
उत्तर :
(ग) आज शाम आप क्या कर रही हैं?

प्रश्न 42.
“आप सिर्फ बीस मिनट मुझे दे दें” – वक्ता और श्रोता कौन हैं?
(क) मिस्टर सिन्हा और मिसेज श्रीवास्तव
(ख) मिस्टर सक्सेना और फरीदा जमाल
(ग) मिस्टर खन्ना और मिसेज श्रीवास्तव
(घ) मिस्टर सिन्हा और अर्पणा
उत्तर :
(घ) मिस्टर सिन्हा और अर्पणा।

प्रश्न 43.
राष्ट्रीयकृत बैंकों का कौन-सा इस्तेमाल अर्पणा के लिए एक धक्का था?
(क) रुपये का लेन-देन
(ख) रिश्वत लेना
(ग) दफ्तर में शराब पीना-पिलाना
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) दफ्तर में शराब पीना-पिलाना।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 44.
रिक्शा स्टैंड तक अर्पणा को क्या खतरा महसूस होता रहा?
(क) कहीं सिन्हा उसके पीछे न आए
(ख) कहीं चोर-उचक्के पीछे न हों
(ग) कहीं शाखा-प्रबंधक उसके पीछे न आए
(घ) कहीं बिजली न चली जाए
उत्तर :
(क) कहीं सिन्हा उसके पीछे न आए।

प्रश्न 45.
अर्पणा कहाँ छुद्वियाँ मनाने के सपने देख रही थी?
(क) दार्जिंलिंग
(ख) दिल्ली
(ग) कुल्लू-मनाली
(घ) कानपुर
उत्तर :
(ग) कुल्लू-मनाली।

प्रश्न 46.
देखते-देखते वे तीनों स्टेशन के बाजय अस्पताल पहुँच गए – तीनो कौन हैं?
(क) लहना सिंह, सूबेदार हजारा सिंह, बोधा सिंह
(ख) अर्पणा, मिसेज श्रीवास्तव, फरीदा जमाल
(ग) अर्पणा, मिस्टर सिन्हा, मिस्टर सक्सेना
(घ) अर्पणा तथा उसके माता-पिता
उत्तर :
(घ) अर्पणा तथा उसके माता-पिता।

प्रश्न 47.
अर्पणा छुट्टी लेने के कितने दिनों बाद दफ्तर गई?
(क) पाँच
(ख) दस
(ग) पंद्रह
(घ) बौस
उत्तर :
(ख) दस।

प्रश्न 48.
“मैं चलूँगा तेरे साथ क्षेत्रीय दफ्तर” – वक्ता कौन है?
(क) मिस्टर सिन्हा
(ख) मिस्टर सक्सेना
(ग) अर्पणा के पिता
(घ) मिस्टर खत्ना
उत्तर :
(ग) अपर्णा के पिता।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 49.
‘एक बार में खाली एक जन जाएगा” – वक्ता कौन है?
(क) सूबेदार हजारा सिंह
(ख) लहना सिंह
(ग) सफ़िया का भाई
(घ) चपरासी
उत्तर :
(घ) चपरासी।

प्रश्न 50.
“यह सरासर अन्याय है”‘ – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) नमक
(ख) नन्हा संगीतकार
(ग) जाँच अभी जारी है
(घ) चपल
उत्तर :
(ग) जाँच अभी जारी है।

प्रश्न 51.
“इनकी पड़ताल होनी जरूरी है” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) नमक
(ख) चष्पल
(ग) जाँच अभी जारी है
(घ) तौसरी कसम
उत्तर :
(ग) जाँच अभी जारी है।

प्रश्न 52.
“इनकी पड़ताल होनी जरूरी है” – वक्ता कौन है?
(क) कस्टम ऑफिसर
(ख) कनिष्ठ अधिकारी
(ग) मिस्टर सक्सेना
(घ) प्रीतम सिंध
उत्तर :
(ख) कनिष्ठ अधिकारी।

प्रश्न 53.
“आप अपना समय बर्बाद कर रही हैं” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(क) नमक
(ख) तीसरी कसम
(ग) नन्हा संगीतकार
(घ) जाँच अभी जारी है
उत्तर :
(घ) जाँच अभी जारी है।

प्रश्न 54.
क्षेत्रीय शाखा के डीलिंग क्लर्क का नाम क्या है?
(क) सिन्हा
(ख) श्रीवास्तव
(ग) गुप्ता
(घ) दास
उत्तर :
(ख) श्रीवास्तव।

प्रश्न 55.
निम्नलिखित में से कौन जाँच समिति में शामिल थे?
(क) प्रौतम सिंह
(ख) कनिष्ठ अधिकारी
(ग) मिस्टर सिन्हा
(घ) मिस्टर खत्ना
उत्तर :
(क) प्रीतम सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 56.
रक्तहीन चेहरे पर न पहले -सा नूर था, न ?
(क) गरमी
(ख) सरदी
(ग) नरमी
(घ) गरूर
उत्तर :
(ग) नरमी।

प्रश्न 57.
तुम बिल्कुल बेफिक रहो – ‘तुम’ से कौन संकेतित है?
(क) जाँच अधिकारी
(ख) अर्पणा
(ग) वित्त मंत्री
(घ) शाखा-प्रबंधक
उत्तर :
(ख) अर्पणा।

प्रश्न 58.
सब इस जाँच की बलि चढ़ चुके थे – ‘सब’ किसके लिए आया है?
(क) मान-प्रतिष्ठा
(ख) रुपये-पैसे
(ग) शनिवार-रविवार
(घ) माता-पिता
उत्तर :
(ग) शनिवार-रविवार।

प्रश्न 59.
असली सजा तो वह पा चुकी है – ‘वह’ कौन है?
(क) सफिया
(ख) हीराबाई
(ग) फरीदा जमाल
(घ) अर्पणा
उत्तर :
(घ) अर्पणा।

प्रश्न 60.
अब तक शहर में कौन-सी खबर फैल चुकी थी?
(क) अर्षणा के ऊपर लगाए आरोप की
(ख) मिस्टर खन्ना के करतूतों की
(ग) बैंक में कोई कर्ज बिना कमीशन के मंजूर नही होता
(घ) ऊपर से नीचे तक सब का परसेण्टेज बंधा है
उत्तर :
(क) अर्पणा के ऊपर लगाए आरोप की।

प्रश्न 61.
अपर्णा ने सीधे किसे पत्र लिखने के बारे में सोचा ?
(क) बित्त मंत्री
(ख) शाखा प्रबंधक
(ग) जाँच अधिकारी
(घ) गृहमंत्री
उत्तर :
(क) बित्त मंत्री।

प्रश्न 62.
अपर्णा कहाँ नौकरी करना चाहती थी ?
(क) कॉलेज में
(ख) बैंक में
(ग) रेलवे में
(घ) बीमा कंपनी में
उत्तर :
(ख) बैंक में।

प्रश्न 63.
विद्यार्थी जीवन से ही किसे बैंक की नौकरी आकृष्ट करती थी ?
(क) मि० खन्ना
(ख) अपर्णा
(ग) मि० श्रीवास्तव
(घ) मि० सिन्हा
उत्तर :
(ख) अपर्णा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 64.
“जाँच अभी जारी है” – कहानी का मूल उद्देश्य/संदेश है –
(क) नारी उत्पौड़न की समस्या
(ख) महिला कर्मचारियों को महत्व न देना
(ग) कामकाजी महिलाओं के संघर्ष को दर्शाना
(घ) पुरुष-मानसिकता को स्पष्ट करना
उत्तर :
(क) नारी उत्पौड़न की समस्या।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है

प्रश्न 65.
‘छुटकारा’ (कहानी-संग्रह) किसकी रचना है?
(क) शेखर जोशी
(ख) फणीश्वरनाथ रेणु
(ग) शिव प्रसाद सिंह
(घ) ममता कालिया
उत्तर :
(घ) ममता कालिया।

WBBSE Class 10 Hindi जाँच अभी जारी है Summary

लेखक – परिचय

ममता कालिया का जन्म 2 नवंबर, 1940 को मथुरा (उ०प्र०) में हुआ था । इनकी शिक्षा – एम०ए० (अंग्रेजी साहित्य) में हुई थी । दिल्नी व मुंबई में अंग्रेजी का अध्यापन किया । इलाहाबाद के एक डिग्री कॉलेज के प्राचार्या पद से सेवानिवृत हुई । भारतीय भाषा परिषद, कोलकाता के निदेशक पद पर कार्य कर चुकी हैं । वर्तमान में महात्मा गाँधी हिन्दी विश्वविद्यालय की पत्रिका ‘हिन्दी’ के सम्पादन का कार्य कर रही हैं ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 3 जाँच अभी जारी है 1

प्रमुख कृतियाँ – ‘छुटकारा’, ‘सीट नबंर छह’, ‘उनका यौवन’, ‘प्रतिदिन’ ‘जाँच अभी जारी है’, ‘पच्चीस साल की लड़की’ (कहानी-संग्रह), ‘बेघर’, ‘नरक दर नरक’, ‘दौड़’, ‘अंधेरे का ताला’ (उपन्यास), ‘खांटी घरेलू औरत’ (कविता) आदि हैं। 9 महत्वपूर्ण पुस्तकों का सम्पादन किया है। नारीविमर्श एवं पत्रकारिता के विभिन्न पक्षों पर उन्होंने प्रामाणिक लेखन किया है । उन्हें 15 से अधिक महत्वपूर्ण साहित्यिक सम्मान एवं पुरस्कार प्राप्त हुए हैं ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi Solutions Chapter 2 Question Answer – कर्मनाशा की हार

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी में किन समस्याओं को उजागर किया गया है ?
अथवा
प्रश्न 2 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी का सारांश अपने शब्दों में लिखें ।
अथवा
प्रश्न 3 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी के माध्यम से कहानीकार ने हमें क्या संदेश देना चाहा है ? यह कहानी आज के समय में कितनी उपयुक्त सिद्ध होती है ?
अथवा
प्रश्न 4 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी के उदेश्य को स्पष्ट कीजिए।
अथवा
प्रश्न 5 : ‘कर्मनाशा की हार’ एक सामाजिक अंधविश्वास पर आधारित कहानी है कैसे ? स्पप्ट कीजिए।
अथवा
प्रश्न 6 : ‘कर्मनाशा की हार’ पाठ के आधार पर बताइए कि कर्मनाशा क्या है ? कहाँ स्थित है ? पाठ के मुख्य नायक कौन ? उन्होंने समाज को क्या सीख दी ? स्पष्ट कीजिए ।
उत्तर :
‘कर्मनाशा की हार’ शिव प्रसाद सिंह की एक चर्चित कहानी है। इस कहानी में लेखक ने सामाजिक अंधविश्वास तथा कुरीतियों पर चोट करते हुए मानवतावाद की स्थापना करना चाहा है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

‘कर्मनाशा की हार’ में एक निम्न जाति की लड़की फुलमती और बाह्मण युवक कुलदीप के प्रेम की कहानी है। कुलदीप के बड़े भाई भैरो पाण्डे ने कुलदीप को अपने पुत्र की तरह पाला है। वे इन दोनो के प्रेम संबंधों के बारे में जानकर मन ही मन कुढ़ते रहते हैं लेकिन पितृवत प्रेम के कारण खुलकर कुछ कह नही पाते।

गाँव भी इस संबंध में फुसफुसाता है, ग्रामीण औरतों की जुबान पर भी इस प्रेम-संबंध की चर्चा है। एक तरफ गाँव वालों का विरोध है तथा दूसरी और उच्च वर्ण की मार्यादा तथा तीसरी ओर भाई के प्रति प्रेम – भैरो इस त्रिकोण में फस कर कुछ निर्णय नहीं ले पाते। फुलमती जब अविवाहिता की स्थिति में कुलदीप के बच्चे को जन्म देती है तो सारा गाँव विरोध में उठ खड़ा होता है।

कर्मनाशा नदी में आई प्रलयकारी बाढ़ तथा इससे होनेवाले गाँव के नुकसान के लिए सभी फुलमती को ही दोषी उहराते हैं। गाँववाले यह निर्णय लेते हैं कि फुलमती के नवजात शिशु को कर्मनाशा की बलि दे दिया जाय। ऐसा करके ही कर्मनाशा के कोप से बचा जा सकता है। तभी भैरो पाण्डे आगे बढ़कर पूरे गाँव तथा मुखिया का विरोध करते हुए फुलमती और उसके बच्चे को अपना लेते है –

‘”मैं आपके समाज को कर्मनाशा से कम नहीं समझता। किन्तु, मैं एक-एक पाप गिनाने लगूँ तो यहाँ खड़े सारे लोगों को परिवार समेत कर्मनाशा के पेट में जाना पड़ेगा है कोई तैयार जाने को

इस पूरी कहानी में सामाजिक परिवेश के चित्रण के साथ-साथ विपरीत परिस्थितियों में व्यक्ति की प्रधानता दिखाई गई है। इसमें जीवन तथा मानवीयता के सौंदर्य की झलक है। इस कहानी के माध्यम से कहानीकार ने मानव-मात्र के प्रति करुणा और प्रेम का संदेश देना चाहा है तथा अंधविश्वास से भैरो पाण्डे का अस्वीकार करना कहानी को आधुनिक बनाता है।

प्रश्न 7 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी के प्रमुख पात्र का चरित्र-चित्रण करें ।
अथवा
प्रश्न 8 : ‘कर्मनाशा की हार’ कहानी के भैरो पाण्डे की चारित्रिक विशेषताओ को लिखें ।
अथवा
प्रश्न 9 :
‘कर्मनाशा की हार’ कहानी के भैरो पाणड्डे की चरित्र-चित्रण करें ।
उत्तर :
‘कर्मनाशा की हार’ डॉ॰ शिव प्रसाद सिंह की बहुचर्चित कहानी है । भैरो पाण्डे इस कहानी का प्रमुख पात्र है तथा इसने मुझे काफी प्रभावित किया है। भैरो पाण्डे की चारित्रिक विशेषताओं को इन शीषकों के अंतर्गत देखा जा सकता है –

(क) आदर्श भाई – छोटे भाई कुलदीप के जन्म के कुछ समय बाद ही माता-पिता इस दुनिया से चल बसे। दो साल के कुलदीप का लालन-पालन भैरो पाण्डे ने पिता की तरह किया । भैरो पाण्डे फुलमतिया के साथ कुलदीप के प्रेम-प्रसंग से मन ही मन नाराज हैं लेकिन पितृवत स्नेह के कारण कुछ कह नहीं पाते ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

(ख) स्नेह, संस्कार, सामाजिक वर्जना तथा कर्त्तव्य के बीच दूंद्व – एक तरफ भाई के प्रति स्नेह का अपार संचार, दूसरी तरफ संस्कार तथा सामाजिक वर्जनाएँ- भैरों पाण्डे लगातार इस द्नन्द्ध से गुजरते रहते हैं तथा कुछ निर्णय नहीं ले पाते हैं।

(ग) अंधविश्वास के विरोधी एवं साहसी – सारा गाँब फुलमतिया के गर्भ से पैदा होने वाले नवजात शिशु को कर्मनाशा की बलि देना चाहता है । उनका ऐसा विश्वास है कि ऐसा करने से बाढ़ से रक्षा होगी । ऐसे समय भैरो पाण्डे अंधविश्वास को नकारते हुए फुलमतिया और उसके बच्चे को आगे बढ़कर साहस के साथ स्वीकार कर लेते हैं।

(घ) मानव-धर्म तथा आधुनिकता का पुजारी – भैरो पाण्डे में मानव-मात्र के प्रति करुणा है । अंविश्वास का विरोध करना ही भैरो पाण्डे को आधुनिक बनाता है तथा इस कहानी को भी।

इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि भैरो पाण्डे का चरित्र एक आदर्श चरित्र है । उसका चरित्र उस आम आदमी का चरित्र है जो अंधविश्वास, उपेक्षा, विवशता आदि के नीचे पिसता हुआ भी अपने सामाजिक तथा व्यक्तिगत हित के लिए लड़ता है तथा संघर्ष के बाद विजयी भी होता है।

लघूत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
‘यह चुड़ैल मेरा घर खा गई’ में ‘चुड़ैल’ का प्रयोग किसके लिए हुआ है ?
उत्तर :
फूलमती।

प्रश्न 2.
‘कर्मनाशा की हार’ के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 3.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह का जन्म कब और कहाँ हुआ था ?
उत्तर :
सन् 1929 में वाराणसी में।

प्रश्न 4.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह ने उच्च शिक्षा कहाँ से प्राप्त की?
उत्तर :
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय से।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 5.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह किस विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष थे?
उत्तर :
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के।

प्रश्न 6.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह की प्रथम कहानी का नाम लिखें।
उत्तर :
‘दादी माँ’।

प्रश्न 7.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह की पहली रचना कब और किसमें प्रकाशित हुई थी ?
उत्तर :
सन् 1951 में ‘प्रतीक’ में।

प्रश्न 8.
‘इनें भी इंतजार है’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉ० शिवमसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 9.
‘राग गूजरी’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 10.
‘भेदिए’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉं० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 11.
‘अलग-अलग वैतरणी’ (उपन्यास) के लेखक का नाम लिखें।
उत्तर :
डॉ० शिवपसाद सिंह।

प्रश्न 12.
‘गली आगे मुड़ती है’ (उपन्यास) के रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
डॉ० शिवपसाद सिंह।

प्रश्न 13.
‘नीला चाँद’ (उपन्यास) के लेखक कौन हैं ?
उत्तर :
डॉं० शियप्रसाद सिंह।

प्रश्न 14.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह को उनके किस उपन्यास पर साहित्य अकादमी पुरस्कार प्राप्त हुआ?
उत्तर :
‘नीला चाँद।’

प्रश्न 15.
डॉ० शिव प्रसाद सिंह के लोकप्रिय नाटक का नाम लिखें।
उत्तर :
‘घाटियाँ गूंजती हैं।’

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 16.
‘शिखरों के सेतु’ (निबंध-संग्रह) के निबंधकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 17.
‘कस्तूरी मृग’ (निबंध-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉ० शिवपसाद सिंह।

प्रश्न 18.
‘चतुर्दिक’ (निबंध-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं?
उत्तर :
डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 19.
‘विद्यापति’ (आलोचनात्मक लेख) के रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
डॉ० शिवम्रसाद सिंह।

प्रश्न 20.
‘आधुनिक परिवेश और नवलेखन’ (आलोचनात्मक लेख) के रचनाकार कौन हैं?
उत्तर :
डॉं० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 21.
‘आधुनिक परिवेश और अस्तित्ववाद’ (आलोचनात्मक लेख) के लेखक कौन हैं ?
उत्तर :
डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 22.
‘उत्तरयोगी श्री अरविंद’ (जीवनी) के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डॉं० शिवप्रसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 23.
कर्मनाशा किसका नाम है?
उत्तर :
नदी का।

प्रश्न 24.
कर्मनाशा के बारे में लोगों का क्या विश्वास प्रचलित था ?
उत्तर :
यदि एक बार कर्मनाशा बढ़ आए तो बिना मनुष्य की बलि लिए लौटती नहीं।

प्रश्न 25.
नई डीहवालों को किसका खौफ नहीं था, क्यों?
उत्तर :
नई डीहवालों को कर्मनाशा नदी का खौफ नहीं था क्योंक वे थोड़ी ऊँचाई पर बसे हुए थे।

प्रश्न 26.
कर्मनाशा में बाढ़ आने पर नई डीहवाले क्या करते थे ?
उत्तर :
मुखिया जी के दरवाजे पर इकट्रा होकर कजली सावन की ताल पर दोलकों पर थाप देते।

प्रश्न 27.
क्या देखकर नई डीहवालों में होलदिली (घबड़ाहट) छा गई ?
उत्तर :
ऊँचे बसे गाँव के किनारे पर कर्मनाशा धारा लगातार टक्कर मार रही थी, बड़े-बड़े पेड़ जड़-मूल के साथ नदी के पेट में समा रहे थे। यह प्रलय का संदेश था।

प्रश्न 28.
किस गाँव के लोग चूहेदानी में फँसे चूहों की तरह भय से दौड़-धूप कर रहे थे ?
उत्तर :
नईडीह गाँव के लोग।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 29.
किस गाँव के लोगों के चेहरे पर मुर्दानी छा गई थी ?
उत्तर :
नईडीह गाँव के लोगों के चेहरे पर।

प्रश्न 30.
दीनापुर के सोखा (भगत) ने क्या भविष्यवाणी की थी ?
उत्तर :
इतना पानी गिरेगा कि तोन घड़े भर जाएँगे, आदमी-मवेशी की क्षय (नुकसान) होगी, चारों और हाहाकर मच जाएगा।

प्रश्न 31.
कुएँ की जगत से बाल्टी सहित घबड़ाकर कौन नीचे कूद पड़ा?
उत्तर :
जागेसर पाण्डे।

प्रश्न 32.
“परलय न होगी, तो क्या बरक्कत होगी?” – वक्ता कौन है?
उत्तर :
धनेसरा चाची।

प्रश्न 33.
उसकी माई कैसी सतवन्ती बनती थी – ‘डसकी माई’ से कौन संकेतित है ?
उत्तर :
फुलमतिया की माई (माँ)।

प्रश्न 34.
लोगों को परलय (प्रलय) की सूचना किसने दी ?
उत्तर :
धनेसरा चाची ने।

प्रश्न 35.
विचित्र दृश्य है – वक्ता कौन है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 36.
भैरो पाण्डे के दादा कौन थे ?
उत्तर :
भैरी पाण्डे के दादा गाँव के नामी पंडित थे। उनका ऐसा प्रभाव था कि कोई किसी को सताने की हिम्मत नहीं करता था।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 37.
मुद्ठी में बंद जुगनू हाथ के बाहर निकल गया – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार से।

प्रश्न 38.
नईडीह गाँव का कौन-सा व्यक्ति पैर से पंगु है ?
उत्तर:
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 39.
भैरो पाणडे की दिनचर्चा क्या थी?
उत्तर :
भैरो पाण्डे दिन-भर बरामदे में बैठकर रूई से बिनौले (बीज) निकालते, तूमते (घुनते), सूत तैयार करते और अपनी तकलो नचा-नचाकर जनेऊ बनाते, जजमानी चलाते, पत्रा देखते एवं सत्यनारायण की कथा बाँच देते।

प्रश्न 40.
फुलमतिया के तुलसी-चौरे पर सिर रखकर प्रार्थना करते देख भैरो पाण्डे को किसकी याद आती है?
उत्तर :
अपनी माँ की याद आती है।

प्रश्न 41.
किसके रूख से फुलमतिया सशंकित हो गई थी?
उत्तर:
भैरो पाण्डे के रूख से।

प्रश्न 42.
कुलच्छनी अब क्या चाहती है – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
उत्तर:
कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 43.
फुलमतिया किसकी बेटी है ?
उत्तर :
टीमल मल्लाह की।

प्रश्न 44.
यह कबूतर की तरह मुँह फुलाए बैठा रहता है – ‘यह’ कौन है ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे का छोटा भाई कुलदीप।

प्रश्न 45.
मुखिया जी की बेटी की शादी में कहाँ की बाई नाचने आई थी ?
उत्तर :
बनारस की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 47.
मुखिया की बेटी की शादी के दिन गाँववालों में किसकी होड़ लग गई ?
उत्तर :
बनने-सँवरने की।

प्रश्न 48.
मुखिया की बेटी की शादी में आई बाई ने कौन-सा गीत गया?
उत्तर :
नीच ऊँच कुछ बूझत नाहीं, मैं हारी समझाय ये दोनों नैना बड़े बेदरदी दिल में गड़ि गए हाय।

प्रश्न 49.
आशय स्पष्ट करें –
नीच ऊँच कुछ बूझत नाहीं, मैं हारी समझाय।
बे दोनों नैना बड़े बेदरदी दिल में गड़ि गए हाय।
उत्तर :
मेरे ये दोनों नैना बड़े बेदर्द हैं। मैं इन्हें समझा कर हार गई लेकिन ये नीच-ऊँच की बातें कुछ समझते ही नहीं, मेरे दिल में गड़ गए हैं।

प्रश्न 50.
“झूठे, पेट में दर्द था कि आँख में” – वक्ता और श्रोता का नाम लिखें।
उत्तर :
वक्ता भैरो पाण्डे हैं तथा श्रोता कुलदीप है।

प्रश्न 51.
अच्छे घर में जन्म लेने से कोई बहुत बड़ा नहीं हो जाता – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 52.
‘आँसुओं में जो पश्चाताप उमड़ता है, वह दिल की कलौंज (कलिमा) को मांज (चमका) डालता है” – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से उद्धत है ?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 53.
“तुम मुझे मंझधार में लाकर छोड़ तो नहीं दोगे” – वक्ता का नाम लिखें।
उत्तर :
टीमल मल्लाह की बेटी फुलमतिया।

प्रश्न 54.
“तुम गलत रास्ते पर पाँव रख रहे हो बेटा” – वक्ता कौन है ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 55.
“काश, फुलमत अपनी ही जाति की होती” – वक्ता कौन है ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 56.
“कितना अच्छा होता, वह विधवा न होती” – किसके बारे में कौन कह रहा है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे फुलमतिया के बारे में कह रहे हैं।

प्रश्न 57.
‘तू मेरी हत्या करने पर ही तुल गया है” – वक्ता कौन है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 58.
‘इतने निर्लज्ज हो तुम दोनों’ – दोनों से कौन संकेतित हैं ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे का भाई कुलदीप और टीमल मल्लाह की बेटी फुलमतिया।

प्रश्न 59.
“मोहे जोगिनी बनाके कहाँ गइले रे जोगिया” – किस पाठ से लिया गया है?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 60.
“डसने पाप किया है” – ‘उसने’ से कौन संकेतित है ?
उत्तर :
फुलमति।

प्रश्न 61.
“बोतल की टीप खुल गई थी” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 62.
“वह बहू-बच्चे को छोड़कर भाग सकता है” – ‘वह’ कौन है?
उत्तर :
कुलदीप।

प्रश्न 63.
‘वह बहू-बच्चे को छोड़कर भाग सकता है”‘ – वक्ता कौन है ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 64.
“मैं आपके समाज को कर्मनाशा से कम नहीं समझता” – वक्ता कौन है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 65.
“यहाँ खड़े सारे लोगों को परिवार समेत कर्मनाशा के पेट में जाना पड़ेगा” – वक्ता कौन है ?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 66.
पत्थर की विशाल मूर्च्चि की तरह उन्नत प्रशस्त, अटल’ – किसके बारे में कहा गया है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे के बारे में।

प्रश्न 67.
“किन्तु मैं कायर नहीं हूँ” – वक्ता कौन है?
उत्तर :
भैरो पाण्डे।

प्रश्न 68.
“किंतु मैं कायर नहीं हूँ” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
उत्तर :
‘कर्मनाशा की हार’ से।

प्रश्न 69.
“एक के पाप के लिए सारे गाँव को मौत के मुँह में नहीं झोंक सकते’ – वक्ता कौन है?
उत्तर :
नईडीह गाँव का मुखिया।

प्रश्न 70.
“उसकी माँ का कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता है” – किस पाठ से उद्धत है तथा वक्ता कौन है ?
उत्तर :
‘कर्मनाशा की हार’ पाठ से उद्दुत है तथा वक्ता भैरो पाण्डे हैं।

प्रश्न 71.
‘बढ़ी नदी का हौसला कम न हुआ'” – किस नदी का हौसला कम नहीं हुआ?
उत्तर :
कर्मनाशा नदी।

प्रश्न 72.
किसके गीतों की कड़ियाँ मुरझाकर होठों से पपड़ी की तरह छा गई?
उत्तर :
नईडीह गाँव के लोगो की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 73.
कौन लोग कर्मनाशा के उग्र रूप से काँप उठे?
उत्तर :
नईडीह गाँव के लोग।

प्रश्न 74.
पिछले साल कर्मनाशा को लोगों ने कैसे शांत किया था ?
उत्तर :
पूजा-पाठ कराकर।

प्रश्न 75.
नईडीह गाँव कहाँ बसा हुआ था?
उत्तर :
ऊँचे अरार (भूमि) पर।

प्रश्न 76.
नईडीह गाँव के लोगों के चेहरे पर मुर्दानी क्यों छा गई थीं?
उत्तर :
कर्मनाशा नदी का प्रलयंकारी रूप देखकर।

प्रश्न 77.
”कल दीनापुर में कड़ाह चढ़ा था पाण्डे जी”‘ – वक्ता कौन है?
उत्तर :
ईसुर भगत।

प्रश्न 78.
ईसुर भगत ने अपनी बात का विश्वास दिलाने के लिए किसकी सरन (कसम) खाई ?
उत्तर :
काशीनाथ की।

प्रश्न 79.
“कुतिया ने पाप किया, गाँव के सिर बीता” – वक्ता कौन है?
उत्तर :
धनेसरा चाची।

प्रश्न 80.
‘मौत का ऐसा भयंकर स्वप्न भी शायद ही किसी ने देखा था” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 81.
भौंरे पाण्डे के माध्यम से लेखक ने किस अंधविश्वास को तोड़ा है?
उत्चर :
इस अंधविश्वास को तोड़ा है कि कर्मनाशा बलि चाहती है।

प्रश्न 82.
‘कर्मनाशा की हार’ किस कोटि की कहानी है?
उत्तर :
‘कर्मनाशा की हार’ भारतीय ग्रामीण परिवेश की मर्मस्पर्शी कहानी है।

प्रश्न 83.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह की अधिकाश कहानियों का उद्देश्य क्या रहा है?
उत्तर :
सामाजिक विसंगतियों तथा अंधविश्वासों पर प्रहार करना।

प्रश्न 84.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह की बहुचर्चित कहानी का नाम लिखें।
उत्तर :
कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 85.
गाँव का सारा आतंक, भय, पाप किसके पीछे कुत्ते की तरह दुम दबाए चले जा रहे थे ?
उत्तर :
धनेसरा चाची के पीछे।

प्रश्न 86.
कर्मनाशा को बलि क्यों चढ़ाई जाती थी ?
उत्तर :
कर्मनाशा के प्रकोप से बचने के लिए ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 87.
कर्मनाशा की हार’ कहानी में किस गाँव का उल्लेख हुआ है ?
उत्तर :
नईडीह गाँव का।

प्रश्न 88.
‘कर्मनाशा की हार’ में कर्मनाशा क्या है ?
उत्तर :
एक नदी।

प्रश्न 89.
‘कर्मनाशा की हार’ कहानी किस विषय पर आथारित है ?
उत्तर :
लोगों के अंधविश्वास पर आधारित है ।

प्रश्न 90.
भैरो पाण्डे बैशाखी के सहारे अपनी बखरी के दरवाजे पर खड़े क्या देख रहे थे ?
उत्तर :
बाढ़ के पानी का जोर देख रहे थे ।

प्रश्न 91.
भैरो पाण्डे दिन भर बरामदे में बैठकर क्या करते थे ?
उत्तर :
रूई से बिनौले निकालते, तूँमते, सूत तैयार करते, तकली चलाकर जनेऊ बनाते, जजमानी चलाते, पत्रा देखते थे ।

प्रश्न 92.
‘कर्मनाशा की हार’ कहानी में लेखक ने किस पर चोट किया है ?
उत्तर :
अंधविश्वास पर चोट किया है।

प्रश्न 93.
‘आर-पार की माला’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
डों० शिवम्रसाद सिंह।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
“पेट में दर्द था” – प्रस्तुत वाक्य किसने किससे कहा था ?
(क) कुलदीप ने भैरों पाण्डे से
(ख) भैरों पाण्डे ने कुलदीप से
(ग) मुखिया जी ने भैरों पाण्डे से
(घ) जगेसर ने ओझा से
उत्तर :
(क) कुलदीप ने भैरों पाण्डे से

प्रश्न 2.
‘कर्मनाशा की हार’ के लेखक हैं :
(क) फणीश्वर नाथ रेणु
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) शेखर जोशी
(घ) डॉ॰ शिव प्रसाद सिंह
उत्तर :
(घ) डों० शिव प्रसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 3.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह की पहली कहानी है?
(क) आर-पार की माला
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) दादी माँ
(घ) भेदिए
उत्तर :
(ग) दादी माँ।

प्रश्न 4.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह की पहली कहानी किसमें प्रकाशित हुई?
(क) प्रतीक में
(ख) चंदा मामा में
(ग) सारिका में
(घ) धर्मयुग में
उत्तर :
(क) प्रतीक में।

प्रश्न 5.
‘आर-पार की माला’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार हैं :
(क) शेखर जोशी
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) प्रेमचंद
(घ) डॉ० शिव प्रसाद सिंह
उत्तर :
(घ) डॉं० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 6.
‘राग गूजरी’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार हैं :
(क) डॉ० शिवप्रसाद सिंह
(ख) अमरकांत
(ग) ममता कालिया
(घ) मन्नू भंडारी
उत्तर :
(क) डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 7.
‘भेदिए’ (कहानी-संग्रह) के लेखक हैं :
(क) ममता कालिया
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) अमरकांत
(घ) डॉं० शिवप्रसाद सिंह
उत्तर :
(घ) डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 8.
‘अलग-अगल वैतरणी’ (उपन्यास) किसकी रचना है?
(क) अमरकांत की
(ख) डाँ० शिवप्रसाद सिंह की
(ग) ममता कालिया की
(घ) निराला की
उत्तर :
(ख) डॉ० शिवग्रसाद सिंह की।

प्रश्न 9.
‘गली आगे मुड़ती है’ (उपन्यास) के लेखक हैं?
(क) नागार्जुन
(ख) मोहन राकेश
(ग) डॉ० शिव प्रसाद सिंह
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) डॉ॰ शिवप्रसाद सिहे।

प्रश्न 10.
‘नीला-चाँद’ (उपन्यास) किसकी रचना है?
(क) नागार्जुन की
(ख) प्रसाद की
(ग) मोहन राकेश की
(घ) डॉ० शिव प्रसाद सिंह की
उत्तर :
(घ) डॉं० शिवप्रसाद सिंह की।

प्रश्न 11.
निम्न में से शिव प्रसाद सिंह का लोकप्रिय नाटक कौन-सा है?
(क) आधे-अधूरे
(ख) घाटियाँ गूंजती हैं
(ग) परदा गिराओ परदा उठाओ
(घ) लहरों के राजहंस
उत्तर :
(ख) घाटियाँ गूंजती हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 12.
‘शिखरों के सेतु’ के निबंधकार हैं :
(क) हजारी प्रसाद द्विवेदी
(ख) रामचंद्र शुक्ल
(ग) डॉ० शिवप्रसाद सिंद्ध
(घ) प्रेमचंद
उत्तर :
(ग) डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 13.
‘कस्तूरी मृग’ के निबधकार हैं :
(क) डॉ० शिवप्रसाद सिंह
(ख) ममता कालिया
(ग) मन्नू भंडारी
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) डॉ० शिवपसाद सिंह।

प्रश्न 14.
‘चतुर्दिक’ के निबंधकार कौन हैं?
(क) मन्नू भंडारी
(ख) निराला
(ग) पंत
(घ) डों शिवप्रसाद सिंह
उत्तर :
(घ) डॉ० शिवप्रसाद सिंह।

प्रश्न 15.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह द्वारा लिखित जीवनी का नाम है :
(क) कर्मयोगी
(ख) उत्तरयोगी श्री अरविंद
(ग) महात्मा कबीर
(घ) महात्मा शेखसादी
उत्तर :
(ख) उत्तरयोगी श्री अरविंद।

प्रश्न 16.
‘आधुनिक परिवेश और अस्तित्ववाद’ (आलोचनात्मक लेख) किसकी रचना है?
(क) डों० नगेन्द्र की
(ख) पंत की
(ग) डॉ० शिवप्रसाद सिंह की
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) डॉ० शिवग्रसाद सिंह की।

प्रश्न 17.
‘आधुनिक परिवेश और नवलेखन’
(आलोचनात्मक लेख) के लेखक हैं?
(क) प्रेमचंद
(ख) डॉ० शिवप्रसाद सिंह
(ग) निराला
(घ) नागार्जुन
उत्तर :
(ख) डॉ० शिवपसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 18.
डॉ० शिवप्रसाद सिंह की कौन-सी कहानी चरित्र-प्रधान कहानी है?
(क) कर्मनाशा की हार
(ख) आर-पार की माला
(ग) भेदिए
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 19.
नईडीह वालों को किसका खौफ नहीं था?
(क) मुख्यिया का
(ख) भैरो पाण्डे का
(ग) कर्मनाशा का
(घ) ईसुर भगत का
उत्तर :
(ग) कर्मनाशा का।

प्रश्न 20.
निम्नलिखित में कौन ‘कर्मनाशा की हार’ का पात्र नहीं है?
(क) हिरामन
(ख) ईसुर भगत
(ग) मुखिया
(घ) कुलदीप
उत्तर :
(क) हिरामन।

प्रश्न 21.
‘कर्मनाशा की हार’ में नईडीह के अलावे अन्य किस गाँव का नाम आया है?
(क) फारबिसगंज
(ख) ननकपुर
(ग) छत्तरपुर
(घ) दीनापुर
उत्तर :
(घ) दीनापुर।

प्रश्न 22.
धनेसरा चाची किस कहानी की पात्र है?
(क) तीसरी कसम
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) नमक
(घ) त्रिशांकु
उत्तर :
(ख) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 23.
‘दाल में काला होना’ का अर्थ है?
(क) संदेह होना
(ख) विश्वास होना
(ग) दाल सड़ जाना
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) संदेह होना।

प्रश्न 24.
“कुछ साफ भी कहोगी भौजी” – वक्ता कौन है?
(क) भैरो पाण्डे
(ख) कुलदीय
(ग) जागेसर पाण्डे
(घ) धनेसरा
उत्तर :
(ग) जागेसर पाण्डे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 25.
‘कर्मनाशा की हार’ में चाची का नाम क्या है?
(क) परलतिया चाची
(ख) मनखेरी चाची
(ग) धनेसरा चाची
(घ) रामप्यारी चाची
उत्तर :
(ग) धनेसरा चाची।

प्रश्न 26.
नईडीह वालों को प्रलय की सूचना किसने दी?
(क) जागेसर पाण्डे
(ख) धनसेरा चाची
(ग) ईसुर भगत
(घ) कुलदीप
उत्तर :
(ख) धनसेरा चाची।

प्रश्न 27.
जब माँ-बाप की मृत्यु हुई तो कुलदीप की उप्र कितनी थी?
(क) चार साल
(ख) दो साल
(ग) साठ साल
(घ) छ: साल
उत्तर :
(ख) दो साल।

प्रश्न 28.
पैर से पंगु कौन है ?
(क) लहना सिंह
(ख) जागेसर पाण्डे
(ग) भैरो पाण्डे
(घ) ईसुर भगत
उत्तर :
(ग) भैरो पाण्डे।

प्रश्न 29.
“भाग का लेख कौन टारे” – का अर्थ है?
(क) भाग्य से ही लिखा जा सकता है
(ख) भागने पर कौन लिख सकता है
(ग) भाग्य का लिखा कोन टाल सकता है
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) भाग्य का लिखा कौन टाल सकता है ?

प्रश्न 30.
कौन देस-दिहात के नामी-गिरामी पंडित थे?
(क) ईसुर भगत
(ख) जागेसर पाण्डे
(ग) भैरों पाण्डे
(घ) पाण्डे दादा
उत्तर :
(घ) पाण्डे दादा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 31.
“अब यह भी न बचेगी” – ‘यह’ कौन है?
(क) फुलमतिया
(ख) बखरी
(ग) कर्मनाशा
(घ) धनसेरा
उत्तर :
(क) फुलमतिया।

प्रश्न 32.
किसे धन के नाम पर बाप का कर्ज मिला?
(क) जागेसर पाण्डे को
(ख) ईसुर भगत को
(ग) कुलदीप को
(घ) भैरो पाण्डे को
उत्तर :
(घ) भैरो पाण्डे को।

प्रश्न 33.
‘कर्मनाशा की हार’ में मिर्च की तरह तीखी आवाज किसकी है?
(क) भैरो पाण्डे की
(ख) मुखिया की
(ग) धनेसरा चाची की
(घ) ईसुर भगत की
उत्तर :
(ग) धनेसरा चाची की।

प्रश्न 34.
भैरो पाण्डे निम्नलिखित में से कौन-सा काम नहीं करते?
(क) रूई से बिनौले निकालना
(ख) तकली से जनेऊ बनाना
(ग) कपड़े बुनना
(घ) पत्रा देखना
उत्तर :
(ग) कपड़े बुनना।

प्रश्न 35.
कौन गाँव के इस छोर से उस छोर तक चक्कर लगा रही थी?
(क) फुलमतिया
(ख) धनेसरा चाची
(ग) सनसनाती हवा
(घ) फुलमतिया की माँ
उत्तर :
(ग) सनसनाती हवा।

प्रश्न 36.
“सब कुछ गया” – वक्ता कौन है?
(क) लहना सिंद
(ख) भैरो पाण्डे
(ग) जेन
(घ) सफ़िया
उत्तर :
(ख) भैरो पाण्डे।

प्रश्न 37.
“तेरी आँख में सौ कुण्ड बालू” – वक्ता कौन है?
(क) भैरो पाण्डे
(ख) जागेसर पाण्डे
(ग) कुलदीप
(घ) धनेसरा चाची
उत्तर :
(क) भैरो पाण्डे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 38.
“तेरी आँख में सौ कुण्ड बालू” – ‘तेरी’ से कौन संकेतित है?
(क) फुलमतिया
(ख) कुलदीप
(ग) मुखिया
(घ) ईसुर भगत
उत्तर :
(ग) मुखिया।

प्रश्न 39.
‘लड़के ने उन्हें किसी ओर का नहीं रखा” – ‘उन्हें’ से कौन संकेतित है?
(क) मुखिया
(ख) ईसुर भगत
(ग) जागेसर पाण्डे
(घ) भैरो पाण्डे
उत्तर :
(घ) भैरो पाण्डे।

प्रश्न 40.
”मरे, हम क्या करें” – वक्ता कौन है?
(क) जेन
(ख) लहना सिंह
(ग) भैरो पाण्डे
(घ) टीमल मल्लाह
उत्तर :
(ग) भैरो पाण्डे।

प्रश्न 41.
भैरो पाण्डे ने किसे क्षणिक खिलवाड़ माना था?
(क) कर्मनाशा की बाढ़ को
(ख) वर्षा को
(ग) कुलदीप और फुलमतिया के प्रेम को
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) कुलदीप और फुलमतिया के प्रेम को।

प्रश्न 42.
“कुलच्छनी अब क्या चाहती है” – ‘कुलच्छनी’ किसे कहा जा रहा है?
(क) कर्मनाशा को
(ख) फुलमतिया को
(ग) धनेसरा चाची को
(घ) कोसी को
उत्तर :
(ख) फुलमतिया को।

प्रश्न 43.
“यह चुड़ैल मेरा घर खा गई” – ‘चुड़ैल’ किसे कहा गया है?
(क) गंडक को
(ख) कोशी को
(ग) कर्मनाशा को
(घ) फुलमतिया को
उत्तर :
(घ) फुलमतिया को।

प्रश्न 44.
अब जाने क्या करेगी – पंक्ति किस पाठ से उदृत है?
(क) कर्मनाशा की हार
(ख) जाँच अभी जारी है
(ग) तीसरी कसम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 45.
मुखिया की लड़की की शादी किस महीने में थी?
(क) आश्विन
(ख) कार्तिक
(ग) फाल्गुन
(घ) भादो
उत्तर :
(ग) फाल्गुन।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 46.
‘ननीच ऊँच कुछ बूझत नाहीं, मैं हारी समझाय'” – पद्यांश किस पाठ से उद्धतत है?
(क) रैदास के पद
(ख) तीसरी कसम
(ग) कर्मनाशा की हार
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 47.
“यदि कोई देख ले तो” – गद्यांश किस पाठ से उद्दुत है?
(क) उसने कहा था
(ख) नमक
(ग) चपल
(घ) कर्मनाशा की हार
उत्तर :
(घ) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 48.
पाण्डे ने सोचा था कि ?
(क) कुलदीप अब ठीक रास्ते पर आ जाएगा
(ख) फुलमतिया गाँव से चली जाएगी
(ग) वह फुलमतिया की बलि दे देगा
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) कुलदीप अब ठीक रास्ते पर आ जाएगा।

प्रश्न 49.
“मैं अपने प्राण दे सकता हूँ” – वक्ता कौन है?
(क) लहना सिंह
(ख) रंगय्या
(ग) कुलदीप
(घ) भैरो पाण्डे
उत्तर :
(ग) कुलदीप।

प्रश्न 50.
एक क्षण के लिए भैरो पाण्डे ने सोचा :
(क) वह कुलदीप को गाँव से बाहर कर देगा
(ख) काश, फुलमत अपनी ही जाति की होतो
(ग) तुम्हारा गला घोंटते मुझे देर न लगेगी
(घ) तुमने भैरो को प्यार देखा है कोध नहीं
उत्तर :
(ख) काश, फुलमत अपनी ही जाति की होती।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 51.
“अब वह कभी नहीं लौटेगा” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(क) तौसरी कसम
(ख) चप्मल
(ग) नमक
(घ) कर्मनाशा की हार
उत्तर :
(घ) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 52.
‘अब वह कभी नहीं लौटेगा’ – ‘वह’ कौन है?
(क) कस्टम ऑफिसर
(ख) रमण
(ग) कुलदीप
(घ) लहना सिंह
उत्तर :
(ग) कुलदीप।

प्रश्न 53.
“मैंने तो कई बार मना किया” – गद्यांश किस पाठ से उद्धत है?
(क) तीसरी कसम
(ख) नमक
(ग) कर्मनाशा की हार
(घ) चमल
उत्तर :
(ग) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 54.
“मैने तो कई बार मना किया” – वक्ता कौन है?
(क) सफ़िया का भाई
(ख) रंगय्या
(ग) भैरो पाण्डे
(घ) कुलदीप
उत्तर :
(घ) कुलदीप।

प्रश्न 55.
‘मोहे जोगिनी बनाके कहाँ गइले रे जोगिया” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है ?
(क) तीसरी कसम
(ख) उसने कहा था
(ग) कर्मनाशा की हार
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 56.
“फुलमत को नदी में फेंक रहे हैं” – वक्ता कौन है?
(क) मुखिया
(ख) ईसुर भगत
(ग) धनेसरा चाची
(घ) छबीला
उत्तर :
(घ) छबीला।

प्रश्न 57.
‘न रहेगा बाँस, न बजेगी बाँसुरी का अर्थ है –
(क) बाँस के बिना बाँसुरी नहीं बनेगी
(ख) कारण नहीं होने से कार्य नहीं होगा
(ग) बाँसुरी बाँस से ही बन सकती है
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) कारण नहीं होने से कार्य नहीं होगा।

प्रश्न 58.
उसकी बूढ़ी माँ जार-बेजार रो रही थी – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) नन्हा संगीतकार
(ख) धावक
(ग) तीसरी कसम
(घ) कर्मनाशा की हार
उत्तर :
(घ) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 59.
‘पता नहीं, किस बैर का बदला ले रहा है बेचारी से’ – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से उद्धत है ?
(क) धावक
(ख) नन्हा संगीतकार
(ग) कर्मनाशा की हार
(घव) तीसरी कसम
उत्तर :
(ग) कर्मनाशा की हार।

प्रश्न 60.
नईडीह के लोग अवाक् किसकी ओर देख रहे थे?
(क) मुखिया
(ख) धनेसरा चाची
(ग) पाण्डे
(घ) कर्मनाशा नदी
उत्तर :
(ग) पाण्डे।

प्रश्न 61. ‘कर्मनाशा की हार’ में किसकी जीत होती है?
(क) मानवता की
(ख) मुखिया की
(ग) भैंरो पाण्डे की
(घ) कुलदीप की
उत्तर :
(क) मानवता की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 62.
फूलमती भैंरो पाण्डे के घर माँगने आई थी :
(क) लोटा
(ख) बाल्टी
(ग) रस्सी
(घ) सूत
उत्तर :
(ख) बाल्टी।

प्रश्न 63.
“कह सीता माँ विधि प्रतिकूला” – के रचनाकार हैं?
(क) डॉ० शिव प्रसाद सिंह
(ख) कबीर
(ग) तुलसीदास
(घ) सूरदास
उत्तर :
(ग) तुलसीदास।

प्रश्न 64.
‘कह सीता माँ विधि प्रतिकूला’ – पद्यांश किस पाठ से उद्दुत है ?
(क) चपल
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) तौसरी कसम
(घ) धावक
उत्तर :
(ख) कर्मनाशा की हार

प्रश्न 65.
”यह कबूतर की तरह मुँह फुलाए बैठा रहता है’ – ‘कबूतर’ किसे कहा गया है?
(क) जागेसर पाण्डे को
(ख) लहना सिंह को
(ग) जेन्को को
(घ) कुलदीप को
उत्तर :
(घ) कुलदीप को।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 66.
फुलमति के बच्चे को किसने अपनी गोद में ले लिया?
(क) मुखिया ने
(ख) कुलदीप ने
(ग) भैरो पाण्डे ने
(घ) फुलमतिया की माँ ने
उत्तर :
(ग) भैरो पाण्डे ने।

प्रश्न 67.
फुलमतिया और उसके बचचे की बलि देने का निर्णय किसका था?
(क) भैरो पाण्डे का
(ख) मुखिया का
(ग) कुलदीप का
(घ) जोगेसर पाण्डे का
उत्तर :
(ख) मुखिया का।

प्रश्न 68.
भैरो पाण्डे ने अपने समाज की तुलना किससे की?
(क) त्रिशांकु से
(ख) जंगल से
(ग) कोशी से
(घ) कर्मनाशा से
उत्तर :
(घ) कर्मनाशा से।

प्रश्न 69.
प्रचलित विश्वास के अनुसार कर्मनाशा किसकी बलि लिए बिना नहीं लौटती है ?
(क) पशु की बलि
(ख) मानुस की बलि
(ग) पेड़ की बलि
(घ) पक्षी की बलि
उत्तर :
(ख) मानुस की बलि।

प्रश्न 70.
‘चुड़ैल मेरा घर खा गई’ – यह कथन किसका है ?
(क) भैरो पाण्डे
(ख) फुलमति के पिता
(ग) धनेसरा चाची
(घ) कुल दीपक
उत्तर :
(क) भैरो पाण्डे।

प्रश्न 71.
किसका पानी एक पौधे को छू ले, तो वह हरा नहीं हो सकता –
(क) गंगा
(ख) यमुना
(ग) सतलज
(घ) कर्मनाशा
उत्तर :
(घ) कर्मनाशा।

प्रश्न 72.
‘कुलदीप, जरा भीतर से बाल्टी दे देना’ – वक्ता कौन है ?
(क) भैरो पाण्डे
(ख) जागेसर पाण्डे
(ग) फुलमति
(घ) चाची
उत्तर :
(ख) भैरो पाण्डे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 73.
“तुम मझधार में लाकर छोड़ तो नहीं दोगे'” – यह उक्ति किसकी है ?
(क) फुलमतिया की
(ख) पतुरिया की
(ग) भैरो पाण्डे की
(घ) इनमें से किसी की नहीं
उत्तर :
(क) फुलमतिया की।

प्रश्न 74.
कर्मनाशा से किसकी कथा जुड़ी है –
(क) राज सुख की
(ख) भगीरथ की
(ग) त्रिशंकु की
(घ) विक्रमादित्य की
उत्तर :
(ग) त्रिशंकु की।

प्रश्न 75.
‘इ बाढ़ी नदिया जिया ले के माने’ गीत कौन गाते थे ?
(क) नईडीहवाले
(ख) नौटकीवाले
(ग) भैरो पाण्डे
(घ) नवयुवक
उत्तर :
(क) नईडीहवाले।

प्रश्न 76.
‘अब यह भी न बचेगी’ – ‘यह’ किसके लिए आया है ?
(क) फुलमति के लिए
(ख) कर्मनाशा के लिए
(ग) घर की दीवारों के लिए
(घ) गाय के लिए
उत्तर :
(ग) घर की दीवारों के लिए।

प्रश्न 77.
‘भगवान कसम तेरा गला घोंट दूँगा’ – वक्ता कौन है ?
(क) कुलदीप
(ख) मुखिया
(ग) भैरो पाण्डे
(घ) ईसुर भगत
उत्तर :
(ग) भैरो पाण्डे ।

प्रश्न 78.
‘भूखा बैठा होगा कहीं’ – किसके लिए कहा गया है ?
(क) हिरामन
(ख) कुलदीप
(ग) जेन्को
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(ख) कुलदीप।

प्रश्न 79.
‘न पढ़ता है, न लिखता है’ – किसके बारे में कहा गया है ?
(क) जेन्को
(ख) अमीरूद्दीन
(ग) कुलदीप
(घ) जेन
उत्तर :
(ग) कुलदीप।

प्रश्न 80.
“भाग, नहीं तो तेरा गला घोंटकर इसी पानी में फेंक दुँगा” – वक्ता कौन है ?
(क) कुलदीप
(ख) भंबल दा
(ग) अशोक दा
(घ) भैरो पाण्डे
उत्तर :
(घ) भैरो पाण्डे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार

प्रश्न 81.
‘इन्हें भी इंतजार है’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार हैं :
(क) ममता कालिया
(ख) डॉ० शिवप्रसाद सिंह
(ग) रेणु
(घ) अमरकांत
उत्तर :
(ख) डॉ० शिवम्रसाद सिंह।

WBBSE Class 10 Hindi कर्मनाशा की हार Summary

लेखक – परिचय

डॉं० शिवप्रसाद सिंह का जन्म सन् 1929 में वाराणसी के एक जमींदार परिवार में हुआ था । शिक्षा वाराणसी में ही हुई । आगे चलकर काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के विभागाध्यक्ष के पद पर आसीन हुए । इनकी पहली कहानी ‘दादी माँ’ सन् 1951 में ‘प्रतीक’ पत्रिका में प्रकाशित हुई थी । गाँव के प्रति इनके मन में जो लगाव है वह इनकी कहानियों में देखा जा सकता है ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 2 कर्मनाशा की हार 1

डॉ० शिव प्रसाद सिह की रचनाओं का संक्षिप्त परिचय इस प्रकार है –

कहानी-संग्रह – कर्मनाशा ही हार, आर-पार की माला, इन्हें भी इंतजार है, राग गूजरी, भेदिए ।
उपन्यास – अलग-अलग वैतरणी, गली आगे मुड़ती है, नीला चाँद ।
नाटक – घाटियाँ गूँजती हैं।
निबंध-संग्रह – शिखरों के सेतु, कस्तूरी मृग, चतुर्दिक ।
चर्चित कहानियाँ – दादी माँ, आर-पार की माला, पापजीवी, नन्हों, कर्मनाशा की हार, इन्हें भी इंतजार है तथा बिंदा महाराज ।

 

 

 

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi Solutions Chapter 1 Question Answer – तीसरी कसम

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1 : ‘तीसरी कसम’ कहानी का सारांश अपने शब्दों में लिखें।
अथवा
प्रश्न 2 : ‘तीसरी कसम’ कहानी के शीर्षक पर विचार करें।
उत्तर :
फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ की कहानियाँ हमें एक ऐसे हिंदुस्तान की यात्रा पर ले जाती है जो अभाव, अज्ञानता, अंधविश्वास, मजबूरी और बेबसी से घिरा है लेकिन इन सबके बावजूद बल्कि साथ-साथ जिसमें भरपूर रासरंग और फड़क के साथ जीने की ललक है। ‘तीसरी कसम’ फणीश्वरनाथ रेणु की एक ऐसी ही कहानी है।

कहानी का प्रारंभ वहाँ से होता है जब हीरामन नौटंकी कंपनी की हीराबाई को अपनी बेलगाड़ी से लालबाग के मेले में ले जा रहा है। बैलगाड़ी के हिचकोले खाने से रह-रहकर उसकी पीठ का स्पर्श हीराबाई के शरीर से होता है। यह सर्श उसके शरीर में रह-रहकर एक फुरफुरी-सी जगा देता है। यात्रा के क्रम में दोनों हिल मिल जाते हैं तथा हिरामन उसे महुआ घटवारिन की कथा गीत के माध्यम से सुनाता है।

उसके गीत से प्रभावित होकर अब हीरामन हीराबाई के लिए बैलगाड़ी का गाड़ीवान न रहकर मीता (मित्र) बन जाता है। मेले में पहुँचकर हीराबाई उसे ‘वेटर’ (थियेटर) में आने का पास देती है। धीरे-धीरे हीरामन हीराबाई से मन ही मन प्रेम करने लगता है। कई-कई सपने उसके मन में अंगड़ाई लेने लगते हैं लेकिन अचानक उसके जाने की खबर से वह सन्न रह जाता है। स्टेशन से गाड़ी खुलने पर उसके बैल भी जाती हुई रेलगाड़ी को टकटकी लगाकर देखते रहते हैं –
‘”सजनवा बैरी हो गये हमार। सजनवा ………….

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

हीरामन आज अपनी जिंदगी की तीसरी कसम खाता है – कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेगा।
पहली कसम थी कि चोरी का माल नहीं लादेगा, दूसरी कसम थी कि बाँस की लदनी नहीं करेगा।
कहानी का अंत यह दर्शाता है कि रेणु ने बहुत निकट से मनुष्य की पीड़ा, मजबूरी और गरीबी को पहचाना था वे अपने साथ अनुभव की पूरी संपदा लाए थे। ये अनुभव उनकी रचनाओं में इतने ताजे जान पड़ते हैं कि मानो अभी-अभी उन्होंने धरती से निकालकर अपनी कथाओं में पिरोया है।

प्रश्न 3 : ‘तीसरी कसम’ के जिस पात्र ने आपको सबसे ज्यादा प्रभावित किया है उसका चरित्रचित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 4 : ‘तीसरी कसम’ के प्रमुख पात्र की चारित्रिक विशेषताओं को लिखें ।
अथवा
प्रश्न 5 : ‘तीसरी कसम’ के हीराबाई का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 6 : ‘तीसरी कसम’ कहानी में आपको कौन-सा चरित्र सर्वाधिक प्रभावित करता है और क्यों? सोदाहरण उत्तर दीजिए ।
उत्तर :
‘तीसरी कसम’ कहानी की हीराबाई ने मुझे ज्यादा प्रभावित किया है क्योंकि हिरामन के चरित्र में जो गंवईपन है वह उसके वातावरण की देन है। लेकिन हीराबाई जैसी कलाकार के साथ उसके रग-ढंग, रुचि तथा उसके संगीत में ढल जाना उसके चरित्र की सबसे बड़ी विशेषता है।

हिरामन भी हीराबाई को पहले-पहल देखकर शक करता है – ‘कहीं डाकिन-पिशाचिन तो नहीं ?’
लेकिन धीरे-धीरे वह हीराबाई के प्रेम भरे व्यवहार से खुलता चला जाता है, केवल व्यवहार ही नहीं उसकी मुस्कुराहट में भी खुशबू है|

हीराबाई नौटंकी में काम करती है और उसकी प्रसिद्धि भी चारों ओर छायी हुई है। फिर भी वह हिरामन के अंदर के कलाकार को इज्जत देती है, सराहती है । जब हीरा बाई उससे गाँव की भाषा में कोई गीत सुनाने का आग्रह करती है तो हिरामन को सुखद् आश्चर्य होता है –
“…. इस्स! इतना शौख गांव का गीत सुनने का है आपको !”
हिरामन ने कंपनी की पतुरिया के बारे में सुना था लेकिन हीराबाई को देखकर उसे आश्चर्य हो रहा है –
” हिरामन का जी जुड़ गया । हीराबाई ने अपने हाथ से उसका पत्तल बिछा दिया, पानी छींट दिया, चूड़ा निकालकर दिया । इस्स ! धन्न है, धन्न है ! हिरामन ने देखा, भगवती मैया भोग लगा रही है । लाल दोनों पर गोरस का पारस। पहाड़ी तोते को दूध-भात खाते देखा है ?'”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

इसी तरह अनेक खट्टे-मीठे अनुभवों के बीच वह दिन भी आ जाता है जब हीराबाई नौटकी से वापस लौट रही है। वह हिरामन से कहती है – “हिरामन इधर आओ, अंदर ! मैं फिर लौटकर जा रही हूँ मथुरामोहन कंपनी में, अपने देश की कंपनी है….बनौली मेला में आओगे, न ?” हिरामन को ऐसा लगता है मानो उसकी दुनिया उजड़ गयी हो ”

उलटकर अपने खाली टपर की ओर देखने की हिम्मत नहीं होती । पीठ में आज भी गुदगुदी लगती है। ….वह तीसरी कसम खा रहा है….कम्पनी की औरत की लदनी नहीं करेगा ।” हिरामन ही क्यों पाठक भी कुछ देर के लिए ऐसा महसूस करते हैं मानो उनके जिंदगी की कोई कीमती चीज खो गई हो । इन्हीं सारे कारणों से ‘तीसरी कसम’ की हीराबाई ने मुझे ज्यादा प्रभावित किया है ।

प्रश्न 7 :
‘तीसरी कसम’ कहानी के हिरामन का चरित्र-चित्रण करें ।
उत्तर :
हिरामन ‘तीसरी कसम’ कहानी का प्रमुख प्रात्र है । हम उसे कहानी का नायक भी कह सकते हैं । हिरामन का चरित्र गाँव की मिट्टी से रचा-बसा है । उसके चरित्र की विशेषताओं को हम निम्नलिखित शीर्षको के अंतर्गत देख सकते हैं –
(क) भोला-भाला ग्रामीण गाड़ीवान – हिरामन का जैसा नाम है वैसा ही वह होरा भी है । वह अत्यंत ही भोला-भाला है । उसके जैसा कुशल गाड़ीवान उस इलाके में कोई दूसरा नहीं है। फारबिसगंज का हर चोर व्यापारी उसको पक्का गाड़ीवान मानता है।

(ख) ईमानदार – हिरामन इमानदार है लेकिन अनजाने में उसने कालाबाजारी का माल ढोया है । पुलिस और कोर्ट कचहरी के चक्कर में वह नहीं पड़ना चाहता है । इसलिए नमक की कालाबाजारी में जब उसकी बैलगाड़ी भी पकड़ी जाती है तो वह गाड़ी छोड़कर बैलों के साथ नौ-दो ग्यारह हो जाता है ।

(ग) लोकगीतों का बेजोड़ गायक-पूर्णिया तथा इसके आसपास की लोककथा तथा लोकगीतों की उसे पूरीपूरी जानकारी है । जब वह हीराबाई को –
‘सजनवा बैरी हो गए हमार’ – सुनाता है तो हीराबाई को भी उसकी प्रशंसा करनी पड़ती है । रास्ते में महुवा घटवारिन से जुड़ी लोककथा को जब हिरामन गाकर सुनाता है तो हीराबाई उसे अपना गुरु मान लेती है।

(घ) छोकरा नाच का शौकीन – हिरामन जवानी के दिनों में छोकरा नाच का बड़ा शौकीन था। उसके कारण उसने भाभी ने न जाने कितनी बार डाँट खाया है। इतना ही नहीं, भाई ने उसे घर से निकल जाने को कहा था । हिरामन आज भी उस छोकरा-नाच वाले जमाने को याद करता है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

(ङ) प्रेमी हुदय – हिरामन के पत्नी की मृत्यु बालपन में गौने से पहले ही हो गई थी । दूसरी शादी के लिए उसके मन में कोई इच्छा शेष नहीं रह गई है क्योंकि वह चालीस का हो चुका है । हीराबाई के साथ बैलगाड़ी में बिताए दो दिनों में उसके हृदय का प्रेम जग जाता है। वह मन ही मन हीराबाई से प्रेम करने लगता है। वह मेले की अपनी सारी कमाई को भी हीराबाई को ही रखने को देता है।

(च) निराश प्रेमी – जब हीराबाई हिरामन की अमानत उसे सौप कर चली जाती है तो हिरामन का दिल टूट जाता है । हीराबाई को लेकर ना जाने उसने कितने सपने सजाए थे । प्रेम में निराश होने के बाद वह अपनी जिंदगी की तीसरी कसम खाता है – कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेगा। इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि हिरामन ‘तीसरी कसम’ का आदर्श पात्र है जिसका चरित्र आंचलिकता के तानेबाने से खुना गया है – मिद्टी की सौंधी महक के साथ।

लघूत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
हीराबाई को किस बात का शौक थ्रा ?
उत्तर :
कथा-कहानी सुनने का शौक था।

प्रश्न 2.
रेणु किस कथाकार के रूप में प्रसिद्ध हैं ?
उत्तर :
आंलिक कथाकार के रूप में

प्रश्न 3.
रेणु की कौन-सी रचना कालजयी रचना मानी जाती है?
उत्तर :
‘मैला आँचल’ (आंचलिक उपन्यास)।

प्रश्न 4.
रेणु द्वारा रचित उपन्यासों के नाम लिखें।
उत्तर :
मैला आँचल, परती परिकथा, दीर्घतपा, कितने चौराहे, पल्टू बाबू रोड।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 5.
रेणु की पहली कहानी का नाम लिखें।
उत्तर :
बटबाबा (यह सन् 1945 में कलकत्ता के ‘दैनिक विश्वामित्र’ में छपी थी।)

प्रश्न 6.
रेणु को हिंदी साहित्य की किस धारा का प्रवर्त्तक माना जाता है?
उत्तर :
आंचलिक साहित्य का प्रवर्त्तक।

प्रश्न 7.
‘तीसरी कसम’ फिल्म किस कथा पर आधारित है ?
उत्तर :
‘मारे गए गुलफाम’ कथा पर आधारित है ।

प्रश्न 8.
हिरामन कितने साल से गाड़ी हाँकता है?
उत्तर :
बीस साल से।

प्रश्न 9.
हिरामन कहाँ से धान और लकड़ी ढो चुका है ?
उत्तर :
नेपाल से।

प्रश्न 10.
हिरामन किस जमाने को कभी नहीं भूल सकता?
उत्तर :
कंट्रोल के जमाने को।

प्रश्न 11.
कौन हिरामन को पक्का गाड़ीवान मानता था?
उत्तर :
हर चोर-व्यापारी।

प्रश्न 12.
हिरामन के बैलों की बड़ाई कौन करते थे?
उत्तर :
बड़ी गद्दी के बड़े सेठ जी।

प्रश्न 13.
सीमा के पार तराई में हिरामन की गाड़ी कितनी बार पकड़ी गई ?
उत्तर :
पाँच बार।

प्रश्न 14.
चोरबत्ती किसे कहा गया है?
उत्तर :
टार्च को।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 15.
मुनीम दारोगा को कितना रिश्वत दे रहा था?
उत्तर :
पाँच हजार।

प्रश्न 16.
दारोगा ने किसकी आँखों पर रोशनी डाल दी?
उत्तर :
मुनीम की आँखों पर।

प्रश्न 17.
गाड़ीवान और गाड़ियों पर कितने बंदूकवाले सिपाहियों का पहरा था?
उत्तर :
पाँच-पाँच बन्दूकवाले सिपाहियों का।

प्रश्न 18.
गाठों के बीच चुक्की-भुक्की लगाकर कौन छिपा था?
उत्तर :
मुनीम।

प्रश्न 19.
किसकी पीठ में गुदगुदी लग रही थी?
उत्तर :
हिरामन की पीठ में।

प्रश्न 20.
हिरामन ने क्या फैसला कर लिया?
उत्तर् :
अपने बैलों को लेकर भाग जाने का फैसला।

प्रश्न 21.
हिरगणन ने गाड़ी पर भैठे-बैठे किसे जुड़वाँ बाँध दिया ?
उत्ञर :
वैलों को।

प्रश्न 22.
कौन तीनों जन रात भर भागते रहे शे?
उत्तर :
हिरामन और उसके दो बैल।

प्रश्न 23.
घार पहुँच कर कितने दिन तक हिरामन सुध पड़ा रहा?
उत्तर :
दो दिन।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 24.
होश में आते ही हिरामन ने क्या किया?
उत्तर :
कान पकड़कर कसम खाई – अव कभी ऐसी चीजों की लदनी नहीं लादेंगे।

प्रश्न 25.
हिरामन ने कौन-सी दो कसमें खाई हैं ?
उत्तर :
पहली-चोरबाजारो का माल नहीं लादेंगे। दूसरी – बाँस नहीं लादेंगे।

प्रश्न 26.
हिराभन ने किस शहर की लदनी छोड़ दी थी?
उत्तर :
खर्षैहिया शहरह की।

प्रश्न 27.
आघीदारी का क्या अर्थ है ?
उत्तर :
आधा भाड़ा गाड़ीवाले का और आधा बैलवाले का।

प्रश्न 28.
सभी गाड़ीवानों की लाज किसने रख ली?
उत्तर :
हिरामन के बैलों ने।

प्रश्न 29.
हिरामन की गाड़ी में रह-रहकर क्या महक उठता है ?
उचस :
जंपा का फृल ।

प्रश्न 30.
हिसामन को दो वर्ष से क्या लगता है?
उत्ता :
चंपानगर मेले की भगवती मैया उस पर प्रसन्न हैं।

प्रश्न 31.
विछले साल हिरामन ने सरकस कंपनी का क्या बोया था?
उत्तर :
बाघगाही।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 32.
किसकी आवाज ने हिरामन को अचरज में डाल दिया?
उत्तर :
अनदेखी औरत (होराबाई) की आवाज ने।

प्रश्न 33.
हीराबाई की बोली कैसी है?
उत्तर :
बच्चों की बोली जैसी महीन, फेनूगिलासी (मामोफोन) बोली।

प्रश्न 34.
‘फेनूगिलासी बोली’ का क्या अर्थ है?
उत्तर :
ग्रामोफोन से निकलनेवाली आवाज।

प्रश्न 35.
हीराबाई किस नौटंकी कंपनी में काम करती है?
उतर :
मधुरामांहृन नौटंकी कंपनी में।

प्रश्न 36.
गथ्युरामोहन नौटंकी कंपनी में हीराबाई किसका रोल करती है?
उतर :
लैला का।

प्रश्न 37.
हिरामन की कौन-सी बात निराली है?
उत्तर :
उसने आजतक नौटंकी-धियेटर या बाइस्कोप-सिनेमा नहीं देखा।

प्रश्न 38.
हिरामन की सवारी की नाक पर क्या जगमगा उठा?
उत्तर :
जुगनू।

प्रश्न 39.
व्या सुनकर हिरामन के रोम-रोम बज उठे?
उत्तर :
गैया, तुम्न्नारा नाम क्या है?

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 40.
हिरामन को क्या परतीत (विश्वास) नहीं होता?
उत्तर :
मर्द और औरत के नाम में फर्क होता है।

प्रश्न 41.
हिरामन टि-टि-टि-टि की आवाज कैसे निकालता है?
उत्तर :
जीभ को तालू से सटाकर।

प्रश्न 42.
‘अहां’ का क्या अर्थ है?
उत्तर :
आप।

प्रश्न 43.
हिरामन के सामने कौन-सा सवाल उपस्थित हुआ ?
उत्तर :
वह हीराबाई से क्या कहकर गप करे – तोहे (तुम) या अहा (आप)।

प्रश्न 44.
‘कचराही बोली’ का क्या अर्थ है?
उत्तर :
खिचड़ी बोली।

प्रश्न 45.
हिरामन के अनुसार दिलखोल गप किसी से किस बोली में की जा सकती है?
उत्तर :
गाँव की बोली में।

प्रश्न 46.
हिरामन को किससे पुरानी चिढ़ है?
उत्तर :
आसिन-कातिक की भोर में छा जाने वाले कुहासे से।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 47.
पर्व-पावन के दिन गाँव में कैसी गंध फैली रहती है?
उत्तर :
धान के पौधों की गंध।

प्रश्न 48.
हीराबाई ने क्या परख लिया?
उत्तर :
हिरामन सचमुच हीरा है।

प्रश्न 49.
हिरामन दिखने में कैसा है?
उत्तर :
हट्टा-कट्टा, काला-कलूटा, देहाती नौजवान।

प्रश्न 50.
हिरामन की उम्र कितनी है?
उत्तर :
चालीस साल।

प्रश्न 51.
हिरामन की सारी दिलचस्पी किसमें है?
उत्तर :
अपने बैलों में।

प्रश्न 52.
हिरामन के घर में कौन-कौन हैं?
उत्तर :
बड़ा भाई, भाभी और उसके बच्चे।

प्रश्न 53.
हिरामन भाई से भी बढ़कर किसकी इज्जत करता है?
उत्तर :
भाभी की।

प्रश्न 54.
हिरामन घर में किससे डरता है?
उत्तर :
भाभी से।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 55.
हिरामन की शादी कब हुई थी ?
उत्तर :
बचपन मे।

प्रश्न 56.
हिरामन की दुलहिन कब मरी?
उत्तर :
गौना से पहले।

प्रश्न 57.
हिरामन की भाभी की जिद क्या है?
उत्तर :
कुमारी लडकी से ही हिरामन की शादी करवाएगी।

प्रश्न 58.
हिरामन की भाभी के अनुसार ‘कुमारी’ का क्या अर्थ है?
उत्तर :
पाँच-सात साल की लड़की।

प्रश्न 59.
हिरामन ने क्या तय कर लिया है?
उत्तर :
शादी नहीं करेगा।

प्रश्न 60.
हिरामन शादी को क्या समझता है?
उत्तर :
बलाय यानी मुसीबत।

प्रश्न 61.
हिरामन क्या नहीं छोड़ सकता?
उत्तर :
गाड़ीवानी (बैलगाड़ी चलाना)।

प्रश्न 62.
क्या सुनकर हिरामन की हैसी छूटी?
उत्तर :
कानपुर।

प्रश्न 63.
हीराबाई से क्या सुनकर हिरामन हँसते-हैँसते दुहरा हो गया?
उत्तर :
नाकपुर भी है।

प्रश्न 64.
हिरामन ने किसका नाम कभी नहीं सुना?
उत्तर :
हौराबाई का।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 65.
हीराबाई के दाँत हिरामन को कैसे लगते हैं ?
उत्तर :
नन्हीं-नन्हीं कौड़ययों की पांत (पंक्ति) के समान।

प्रश्न 66.
तेगछिया (तीन गाछ) के तीन पेड़ कौन-से हैं?
उत्तर :
दो जटामासी वट तथा एक चम्पा।

प्रश्न 67.
टप्पर किसे कहते हैं?
उत्तर :
छतरी वाली बैलगाड़ी।

प्रश्न 68.
किसकी गंध दो कोस दूर तक जाती है?
उत्तर :
चमा की।

प्रश्न 69.
हिरामन ने क्या कहकर बात को चाशनी में डाल दिया?
उत्तर :
‘जा रे जमाना’।

प्रश्न 70.
हिरामन किसका भेद जानता है?
उत्तर :
गप रसाने (गषें मारने) का।

प्रश्न 71.
हीराबाई हिरामन की किस बात पर दिल खोलकर हँसी?
उत्तर :
हिरामन द्वारा लाटनी की नकल उतारने समय डैम-फैट-फैट करने पर।

प्रश्न 72.
पटपटांग’ का क्या अर्थ है?
उत्तर :
धन-दौलत, माल-मवेशी सब साफ।

प्रश्न 73.
हिरामन बिदेसिया नाच का कौन-सी बंदना गीत गाता है?
उत्तर :
जे मैया सरोसती, अरजी करत बानी ; हमरा पर होखू सहाई हे मैया ; हमरा पर होखू सहाई !

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 74.
घोड़लदे बनियों से हिरामन ने क्या पूछा?
उत्तर :
“क्या भाव पटु आ खरीदते हैं, महाजन?”

प्रश्न 75.
हिरामन से बनिये ने क्या पूछा?
उत्तर :
मेला का क्या हाल-चाल है, भाई? कौन नौटंकी कंपनी का खेल हो रहा है, रौता कंपनी या मधुरा मोहन ?

प्रश्न 76.
हीराबाई के हाथ में कागज के टुकड़े को देखकर हिरामन को किसकी याद आती है?
उत्तर :
तरह-तरह के लोक गीतों की याद आती है?

प्रश्न 77.
हिरामन को छोकरा-नाच के किस गीत की याद आई?
उत्तर :
सजनवा बैरी हो गये हमार! सजनवा ……!

प्रश्न 78.
छोकरा-नाच के मनुआं-नदुवा का मुँह कैसा था?
उत्तर :
हीराबाई की तरह।

प्रश्न 79.
हिरामन ने किसके कारण अपनी भाभी की कितनी बोली-ठोली (डाँट) सुनी थी?
उत्तर :
छोकरा नाच देखने के कारण।

प्रश्न 80.
हिरामन के भाई ने उसे घर से क्यों निकल जाने को कहा था?
उत्तर :
छोकरा-नाच देखने के कारण।

प्रश्न 81.
कहाँ पे हमेशा गाड़ी और गाड़ीवानों की भीड़ लगी रहती है?
उत्तर :
तेगछिया में।

प्रश्न 82.
हीराबाई की कौन-सी बात सुनकर हिरामन का मुँह लाल हो गया?
उत्तर :
“वाह, कितना बढ़िया गाते हो तुम!”

प्रश्न 83.
हिरान किसकी नज़रों से हीराबाई को बचाकर रखना चाहता है?
उत्तर :
दुनिया भर की नजरों से।

प्रश्न 84.
हिरामन पास के गाँव से हीराबाई के लिए क्या लाता है?
उत्तर :
घूड़ा-दही-पानी।

प्रश्न 85.
हिरामन ने हीराबाई से कहाँ चाय मिलने की बात कही?
उत्चर :
फारबिसगंज में।

प्रश्न 86.
हीराबाई को खाते देख हिरामन को कैसा लगता है?
उत्तर :
मानो पहाड़ी तोता दूध-भात खा रहा हो।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 87.
गाँव के बच्चे परदेवाली गाड़ी देखकर कौन-सी पंक्तियाँ दुहराने लगे?
उत्तर :
लाली-लाली डोलिया में, लाली रे दुलहिनिया।

प्रश्न 88.
हिरामन ने कौन-सा सपना देखा है?
उत्तर :
वह भी अपनी दुलहिन को लेकर इसी तरह लौटे।

प्रश्न 89.
हीराबाई किस बोली में गीत सुनना चाहती है?
उत्तर :
ग़ाँव की बोली में।

प्रश्न 90.
हीराबाई को कहाँ पहुँचने की जल्दी नहीं है?
उत्तर :
फारबिसगंज।

प्रश्न 91.
हीराबाई को क्या सुनने का शौक है?
उत्तर :
गीत और कथा (कहानी)।

प्रश्न 92.
हिरामन हीराबाई को गीत और कथा वाली कौन-सा गीत सुनाता है?
उत्तर :
महुवा घटवारिन का गीत।

प्रश्न 93.
महुवा घटवारिन कहाँ रहती थी?
उत्तर :
परमान नदी के किनारे।

प्रश्न 94.
महुवा घटवारिन की सौतेली माँ कैसी थी?
उत्तर :
राक्षसी अर्थात् कठोर स्वभाव की।

प्रश्न 95.
सौदागर ने किसका पूरा दाम चुका दिया था?
उत्तर :
महुवा घटवारिन का।

प्रश्न 96.
हिरामन को कौन-सा गीत बहुत प्रिय है?
उत्तर :
महुवा घटवारिन का गीत।

प्रश्न 97.
महुवा घटवारिन का गीत गाते समय हिरामन को कैसा लगता है?
उत्तर :
मानो वह खुद उस सौदागर का नौकर है। वह नौकर जो महुवा घटवारिन को बचाने नदी में कूदा था।

प्रश्न 98.
हीराबाई की निकटता से हिरामन को कैसा लगता है?
उत्तर :
मानो खुद महुवा घटवारिन ने उसे अपने-आप को पकड़ा दिया है।

प्रश्न 99.
महुवा घटवारिन के गीतों का हिरामन के बैलों पर क्या असर होता है?
उत्तर :
उनकी चाल धीमी हो जाती है मानो सौ मन बोझ्ल लाद दिया हो किसी ने।

प्रश्न 100.
हिरामन को सूरज डूबने से पहले ही कौन-सा गाँव पहुँचना है?
उत्तर :
ननकपुर गाँव।

प्रश्न 101.
ननकपुर से फारबिसगंज की दूरी कितनी है?
उत्तर :
तीन कोस।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 102.
ननकपुर के हाट में आजकल क्या बिकने लगी है?
उत्तर :
चाय।

प्रश्न 103.
कौन-सी जगह हिरामन का घर-दुआर है?
उत्तर :
फारविसगंज।

प्रश्न 104.
हिरामन को ननकपुर में अपने गाँव के कौन-से गाड़ीवान मिलते हैं?
उत्तर :
लालमोहर, पलटदास, धुन्नीराम वगैरह।

प्रश्न 105.
हिरामन ने लालमोहर को डाँटते हुए क्या कहा?
उत्तर :
“बेसी भचर-भचर मत करो’ (अर्थात् ज्यादा बक-बक मत करो)।

प्रश्न 106.
हिरामन ने हीराबाई के पास किसे रहने को कहा?
उत्तर :
पलटदास को।

प्रश्न 107.
हिरापन की देह से किसकी खुशबू निकलती है?
उत्तर :
अतर (इञ्) गुलाब की खुशबू ।

प्रश्न 108.
गाड़ीवानों के बासा (रहने की जगह) का मीर (मालिक) का नाम क्या है?
उत्तर :
मियां जानू।

प्रश्न 109.
लहसनवां किस कहानी का पात्र है ?
उत्तर :
तीसरी कसम।

प्रश्न 110.
लहसनवां कौन है?
उत्तर :
लालमोहर का नौकर-गाड़ीवान है।

प्रश्न 111.
हीराबाई को देखकर पलटदास के मन में क्या होने लगा?
उत्तर :
सीता माता की जय-जयकार करने की इच्छा।

प्रश्न 112.
हीराबाई किस कंपनी में इस बार आई है?
उत्तर :
दि रौता संगीत कंपनी में।

प्रश्न 113.
हीराबाई का विज्ञापन सुनकर मेले के हर आदमी का दिल क्या हो गया है?
उत्तर :
नगाड़ा।

प्रश्न 114.
हिरामन का कौन-सा सवाल सुनकर कंपनी के आदमी की आँखें लाल हो गयी?
उत्तर :
“हीरा देवी किधर रहती हैं, बता सकते हैं ?”

प्रश्न 115.
नेपाली दरबान ने कंपनी के काले कोट वाले से जाकर क्या कहा?
उत्तर :
“हीराबाई का आदमी है। नहीं रोकने बोला।”

प्रश्न 116.
हीराबाई ने हिरामन को कंपनी के कितने पास दिए ?
उत्तर :
पॉँच पास।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 117.
हिरामन ने संगी-साथी को किस बात के लिए गुरु-कसम खाने की बात कही ?
उत्तर :
ताकि नौटंकी देखने की बात गाँव-घर में किसी को पता न चले।

प्रश्न 118.
हिरामन ने अपने पैसे की थैली किसके पास रखी?
उत्तर :
हीराबाई के पास।

प्रश्न 119.
हिरामन के मन का मान-अभिमान कब दूर हो गया?
उत्तर :
हीराबाई के द्वारा हिरामन के पैसे के बटुए को अपने चमड़े के बक्से में रखने से हिरामन के मन का मानअभिमान दूर हो गया।

प्रश्न 120.
हिरामन के बुद्धि की तारीफ किसने की?
उत्तर :
लालमोहर और धुन्नीराम ने हिरामन के बुद्धि की तारीफ की।

प्रश्न 121.
हिरामन के भाग्य को किसने सराहा ?
उत्तर :
लालमोहर और धुन्नीराम ने।

प्रश्न 122.
नौटंकी शुरू होने के दो घंटे पहले ही क्या बजना शुरू जो जाता है?
उत्तर :
नगाड़ा।

प्रश्न 123.
हिरामन को किस गीत की आधी कड़ी हाथ लगी है?
उत्तर :
मारे गए गुलफाम ..

प्रश्न 124.
दूसरे दिन मेले में कौन-सी बात फैल गई ?
उत्तर :
गथुरामोहन कंपनी से भागकर आई है हीराबाई।

प्रश्न 125.
पलटदास किससे दोस्ती करना चाहता है?
उत्तर :
कंपनी के जोकर से।

प्रश्न 126.
नौटंकी कंपनी के मैनेजर से लेकर परदा खींचने वाले तक सब किसको पहचानते हैं ?
उत्तर :
हिरामन को।

प्रश्न 127.
ननकपुर के मेले से लौटकर हीराबाई किस मेले में जाती है?
उत्तर :
बनैली मेला में।

प्रश्न 128.
हिरामन कौन-सी तीसरी कसम खाता है?
उत्तर :
कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेगा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 129.
हीराबाई को विदा करने के बाद हिरामन क्या गुनगुनाते हुए गाँव लौटता है?
उत्तर :
“अजी हाँ, मारे गए गुलफाम.

प्रश्न 130.
हिरामन की भाषा में बड़ों को क्या कहकर संबोधित किया जाता है ?
उत्तर :
अहां।

प्रश्न 131.
चोर बाजारी का माल नहीं लादने की कसम कान पकड़कर किसने खाई ?
उत्तर :
हिरामन ने ।

प्रश्न 132.
हीराबाई का नाम सुनते ही दरबान ने किन तीनों को छोड़ दिया ?
उत्तर :
हिरामन, पलटदास और लालमोहर को ।

प्रश्न 133.
पूलिसवाले को देखकर हिरामन ने क्या किया ?
उत्तर :
नौ-दो-गयारह हो गया ?

प्रश्न 134.
रेणु ने किस सरकार-विरोधी आंदोलन में भाग लिया था ?
उत्तर :
जयपकाश नारायण के नेतृत्व में बले आंदोलन- ‘छात्र आंदोलन’ में।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
तीसरी कसम कहानी के लेखक हैं –
(क) राम वृक्ष बेनीपुरी
(ख) दिनकर
(ग) फणीश्वरनाथ ‘रेणु’
(घ) प्रेमचन्द्
उत्तर :
(ग) फणीश्वरनाथ ‘रेणु’

प्रश्न 2.
फणीश्वरनाथ रेणु का जन्म किस राज्य में हुआ था?
(क) बिहार
(ख) बंगाल
(ग) मध्यु्रदेश
(घ) झारखंड
उत्तर :
(क) बिहार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 3.
‘मैला आँचल’ के रचनाकार कौन हैं?
(क) फणीश्वर नाथ रेणु
(ख) शेखर जोशी
(ग) ममता कालिया
(घ) मन्नू भंडारी
उत्तर :
(क) फणीश्वर नाथ रेणु।

प्रश्न 4.
‘परती परिकथा’ किस विधा की रचना है?
(क) कविता
(ख) कहानी
(ग) उपन्यास
(घ) डायरी
उत्तर :
(ग) उपन्यास।

प्रश्न 5.
‘परती परिकथा’ किसकी रचना है?
(क) ममता कालिया
(ख) फणीश्वर नाथ रेणु
(ग) मन्नू भंडारी
(घ) शेखर जोशी
उत्तर :
(ख) फणीश्वरनाथ रेणु।

प्रश्न 6.
‘परती परिकथा’ किस कोटि का उपन्यास है?
(क) आंचलिक
(ख) राजनीतिक
(ग) ऐतिहासिक
(घ) धार्मिक
उत्तर :
(क) आंचलिक।

प्रश्न 7.
‘दीर्घतपा’ किस विया की रचना है?
(क) कहानी
(ख) उपन्यास
(ग) नाटक
(घ) एकांकी
उत्तर :
(ख) उपन्यास।

प्रश्न 8.
‘कितने चौराहै’ के रचनाकार कौन हैं?
(क) शेखर जोशी
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) ममता कालिया
(घ) फणीश्वरनाथ रेणु
उत्तर :
(घ) फणीश्वर नाथ रेणु।

प्रश्न 9.
‘पल्दू बाबू रोड’ किस विधा की रचना है?
(क) ललित निबंध
(ख) कहानी
(ग) उपन्यास
(घ) नाटक
उत्तर :
(ग) उपन्यास।

प्रश्न 10.
‘मारे गए गुलफाम’ कहानी का दूसरा नाम है :
(क) ठेस
(ख) अग्निखोर
(ग) तीसरी कसम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 11.
‘मारे गए गुलफाम’ के रचनाकार हैं :
(क) फणीश्वरनाथ रेणु
(ख) ममता कालिया
(ग) मन्नू भंडारी
(घ) शेखर जोशी
उत्तर :
(क) फणीश्वरनाथ रेणु।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 12.
‘लाल पान की बेगम’ किस विधा की रचना है ?
(क) नाटक
(ख) एकांकी
(ग) निबंध
(घ) कहानी
उत्तर :
(घ) कहानी।

प्रश्न 13.
‘लाल पान की बेगम’ के रचनाकार हैं :
(क) अमरकांत
(ख) मन्नू भंडारी
(ग) शेखर जोशी
(घ) फणीश्वरनाथ रेणु
उत्तर :
(घ) फणीश्वरनाथ रेणु।

प्रश्न 14.
‘संवादिया’ किस विधा की रचना है ?
(क) कहानी
(ख) उपन्यास
(ग) नाटक
(घ) निबंध
उत्तर :
(क) कहानी।

प्रश्न 15.
‘संवादिया’ के रचनाकार हैं :
(क) शेखर जोशी
(ख) फणीश्वर नाथ रेणु
(ग) मन्नू भंडारी
(घ) अमरकांत
उत्तर :
(ख) फणीश्वर नाथ रेणु।

प्रश्न 16.
‘तबे एकला चलो रे’ कहानी के रचनाकार हैं :
(क) रवीन्द्र नाथ ठाकुर
(ख) ममता कालिया
(ग) मन्नू भंडारी
(घ) फणीश्वर नाथ रेणु
उत्तर :
(घ) फणीश्वरनाथ रेणु।

प्रश्न 17.
‘ठुमरी’ किस विधा की रचना है ?
(क) गीत
(ख) नाटक
(ग) एकांकी
(घ) कहानी
उत्तर :
(घ) कहानी।

प्रश्न 18.
‘पागल’ किस विधा की रचना है?
(क) कहानी
(ख) इतिहास
(ग) नाटक
(घ) निबंध
उत्तर :
(क) कहानी।

प्रश्न 19.
‘अग्निखोर’ किस विधा की रचना है ?
(क) उपन्यास
(ख) कहानी
(ग) नाटक
(घ) रेखाचित्र
उत्तर :
(ख) कहानी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 20.
‘आदिम रात्रि की महक’ किस विधा की रचना है?
(क) संस्मरण
(ख) रिपोतार्ज
(ग) डायरी
(घ) कहानी
उत्तर :
(घ) कहानी।

प्रश्न 21.
फणीश्वरनाथ रेणु की किस कहानी को अंतर्राष्ट्रीय स्तर की ख्याति मिली ?
(क) अग्निखोर
(ख) तीसरी कसम
(ग) ठुमरी
(घ) पागल
उत्तर :
(ख) तीसरी कसम।

प्रश्न 22.
फणीश्वरनाथ की किस कहानी पर फिल्म बनी ?
(क) ठुमरी
(ख) पागल
(ग) तौसरी कसम
(घ) ठेस
उत्तर :
(ग) तौसरी कसम।

प्रश्न 23.
फणीश्वरनाथ रेणु की कौन-सी रचना कालजयी रचना के रूप में स्वीकार की गई है ?
(क) मैला आँचल
(ख) परती परिकथा
(ग) दीर्घतपा
(घ) कितने चौराहे
उत्तर :
(क) मैला आँचल।

प्रश्न 24.
‘तीसरी कसम’ कहानी की पृष्ठभूमि में बिहार का कौन-सा जिला है ?
(क) मुंगेर
(ख) शेखपुरा
(ग) फारबिसगंज
(घ) पूर्णिया
उत्तर :
(घ) पूर्णिया।

प्रश्न 25.
फणीश्वर नाथ रेणु किस परंपरा के रचनाकार माने जाते हैं ?
(क) प्रसाद
(ख) निराला
(ग) पंत
(घ) प्रेमचंद
उत्तर :
(घ) प्रेमचंद।

प्रश्न 26.
रेणु को किस उपाधि से सम्मानित किया गया?
(क) पद्यश्री
(ख) कर्पूरी ठाकुर सम्मान
(ग) मंगला प्रसाद पारितोषिक
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) पद्यश्री।

प्रश्न 27.
हिरामन कितने साल से गाड़ी हाँकता है?
(क) पाँच
(ख) दस
(ग) पंद्रह
(घ) बीस
उत्तर :
(घ) बीस।

प्रश्न 28.
हिरामन को पक्का गाड़ीवान कौन मानता था?
(क) भाई
(ख) साधी
(ग) चोर-व्यापारी
(घ) दारोगा
उत्तर :
(ग) चोर-व्यापारी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 29.
‘तीसरी कसम’ का नायक कौन है?
(क) हीराबाई
(ख) हिरामन
(ग) पलटूदास
(घ) लालमोहर
उत्तर :
(ख) हिरामन।

प्रश्न 30.
‘चोरीबत्ती’ का अर्थ है :
(क) चोरी की बत्ती
(ख) चोर की बत्ती
(ग) टॉर्च
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) टॉर्च।

प्रश्न 31.
गाठों के बीच चुक्की-भुक्की लगाकर कौन बैठा था ?
(क) दारोगा
(ख) हिरामन
(ग) मुनीम
(घ) सेठ
उत्तर :
(ग) मुनीम।

प्रश्न 32.
हिरामन ने गाड़ी पर बैठे-बैठे किसे जुड़वाँ बाँध दिया ?
(क) सिपाही को
(ख) दारोगा को
(ग) बैलों को
(घ) गाँठों को
उत्तर :
(ग) बैलों को।

प्रश्न 33.
हिरामन ने निम्न में से कौन-सी कसम नहीं खाई?
(क) बैलगाड़ी नहीं चलाएंगे
(ख) चोर बाजारी का माल नहीं लादेंगे
(ग) बाँस नहीं लादेंगे
(घ) कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेंगे
उत्तर :
(क) बैलगाड़ी नहीं चलाएंगे।

प्रश्न 34.
घर पहुँचकर हिरामन कितने दिन तक बेसुध पड़ा रहा ?
(क) चार
(ख) तीन
(ग) दो
(घ) एक
उत्तर :
(ग) दो।

प्रश्न 35.
मुनीम दारोगा को कितने रुपये रिश्वत में दे रहा था ?
(क) दो हजार
(ख) तीन हजार
(ग) चार हजार
(घ) पाँच हजार
उत्तर :
(घ) पाँच हजार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 36.
हिरामन ने किस शहर की लदनी छोड़ दी ?
(क) शेखपुरा
(ख) वेगूसराय
(ग) खरैहिया
(घ) फारबिसगंज
उत्तर :
(ग) खरैदिया।

प्रश्न 37.
‘आधीदारी’ का अर्थ है :
(क) सबको आधा-आधा
(ख) आधा मुनीम आधा सेठ का
(ग) आधा गाड़ीवाले आधा बैलवालेका
(घ) आधा दारोगा आधा सिपाहियों का
उत्तर :
(ग) आधा गाड़ीवाले आधा बैलवाले का।

प्रश्न 38.
हीराबाई पहले किस नौटंकी कंपनी में काम करती थी ?
(क) मथुरामोहन नौटंकी कंपनी में
(ख) रौता नौटंकी कंपनी में
(ग) बनारस नौटंकी कंपनी में
(घ) इनमें से किसी में नहीं
उत्तर :
(क) मथुरामोहन नौटंकी कंपनी में।

प्रश्न 39.
‘अहां’ का क्या अर्थ है?
(क) क्या
(ख) कहाँ
(ग) आप
(घ) अहा
उत्तर :
(ग) आप।

प्रश्न 40.
“औरत है या चंपा का फूल” – पंक्ति किस पाठ से ली गई हैं ?
(क) कर्मनाशा की हार
(ख) जाँच जारी है
(ग) तीसरी कसम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 41.
किसकी आवाज ने हिरामन को अचरज में डाल दिया ?
(क) अनदेखी औरत
(ख) गामीण औरत
(ग) बाष
(घ) गीत
उत्तर :
(क) अनदेखी औरत।

प्रश्न 42.
किसकी बोली को ‘फेनूगिलासी बोली’ कहा गया है?
(क) हिरामन
(ख) हीराबाई
(ग) लाल मोहन
(घ) रेणु
उत्तर :
(ख) हीराबाई।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 43.
मधुरामोहन नौटंकी कंपनी में लैला कौन बनती थी ?
(क) सुलोचना
(ख) वहीदा रहमान
(ग) हीराबाई
(घ) छीतनबाई
उत्तर :
(ग) हीराबाई।

प्रश्न 44.
हिरामन ने कितने साल तक लगातार मेलों की लदनी लादी है?
(क) चार
(ख) पाँच
(ग) छ:
(घ) सात
उत्तर :
(घ) सात।

प्रश्न 45.
“कोई चोरी-चमारी का माल-वाल तो नहीं ?” – वक्ता कौन है?
(क) मुनौम
(ख) हिरामन
(ग) हीराबाई
(घ) दरोगा
उत्तर :
(ख) हिरामन।

प्रश्न 46.
“अहा ! मारो मत !” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) उसने कहा था
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) तीसरी कसम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 47.
“मेरा नाम भी हीरा है” – वक्ता कौन है?
(क) हिरामन
(ख) हीराबाई
(ग) हीरालाल
(घ) हीरा
उत्तर :
(ख) हीराबाई।

प्रश्न 48.
“भगवान जाने क्या लिखा है इस बार उसकी किस्मत में” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(क) उसने कहा था
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) तीसरी कसम
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 49.
“परी की आँखें खुल गई” – परी कौन है ?
(क) सरदारनी
(ख) सफ्रिया
(ग) अर्पणा
(घ) हीराबाई
उत्तर :
(घ) हीराबाई।

प्रश्न 50.
‘औरत अकेली’ – किसे कहा गया है ?
(क) अर्पणा को
(ख) सफिया को
(ग) फुलमति को
(घ) हीराबाई को
उत्तर :
(घ) हीराबाई को।

प्रश्न 51.
हिरामन को किससे पुरानी चिढ़ है?
(क) लालमोहर से
(ख) भाभी से
(ग) गाड़ीवान से
(घ) आसिन-कातिक के भोर के कुहासे से
उत्तर :
(घ) आसिन-कातिक के भोर के कुहासे से ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 52.
किसको अपनी दुलहिन का चेहरा याद नहीं ?
(क) पलटूदास को
(ख) लहना सिंह को
(ग) हिरामन को
(घ) लालमोहर को
उत्तर :
(ग) हिरामन को।

प्रश्न 53.
हिरामन ने किसका नाम कभी नहीं सुना ?
(क) हीराबाई का
(ख) पलदूदास का
(ग) लालमोहर का
(घ) फारबिसगंज का
उत्तर :
(क) हीराबाई का।

प्रश्न 54.
‘बिदागी’ का अर्थ क्या है ?
(क) विदा लेना
(ख) विदाई
(ग) बिना दाग का
(घ) नैहर या ससुराल जाती दुल्हन
उत्तर :
(ख) विदाई।

प्रश्न 55.
‘‘डस फूल में एक परी बैठी है'” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) नौरंगिया
(ख) उसने कहा था
(ग) तीसरी कसम
(घ) कर्मनाशा की हार
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 56.
“उस फूल का क्या नाम है” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) नन्हा संगीतकार
(ख) नमक
(ग) धावक
(घ) तीसरी कसम
उत्तर :
(घ) तीसरी कसम।

प्रश्न 57.
‘तेगछिया’ में तीन पेड़ हैं :
(क) तीन पीपल के
(ख) तीन वट के
(ग) तीन ताड़ के
(घ) दो जटामासी वट तथा एक चम्पा का
उत्तर :
(घ) दो जटामासी वट तथा एक चम्पा का।

प्रश्न 58.
हिरामन क्या कहकर बात में चाशानी डाल देता है?
(क) इस्स
(ख) जा रे जमाना
(ग) जा रे जवानी
(घ) डैम-फैट-लैट
उत्तर :
(ख) जा रे जमाना।

प्रश्न 59.
पर्व-पावन के दिन गाँव में कैसी गंध फैली रहती है?
(क) गोबर की गंध
(ख) पकवान की गंध
(ग) धान के पौधों की गंध
(घ) चम्पा के फूलों की गंध
उत्तर :
(ग) धान के पौधों की गंध।

प्रश्न 60.
हिरामन किससे डरता है ?
(क) हीराबाई से
(ख) भाभी से
(ग) मुनीम से
(घ) नेपाली दरवान से
उत्तर :
(ख) भाभी से।

प्रश्न 61.
हिरामन की शादी कब हुई थी ?
(क) जवानी में
(ख) बचपन में
(ग) चालीस वर्ष में
(घ) हीराबाई से मिलने के दो साल पहले
उत्तर :
(ख) बचपन में।

प्रश्न 62.
हिरामन की दुलहिन कब मरी ?
(क) गौने के बाद
(ख) गौने के पहले
(ग) पाँच साल पहले
(घ) दस साल पहले
उत्तर :
(ख) गौने के पहले।

प्रश्न 63.
हिरामन ने क्या तय कर लिया है ?
(क) दूसरी शादी करेगा
(ख) दूसरी शादी नहीं करेगा
(ग) हीराबाई से शादी करेगा
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) दूसरी शादी नहीं करेगा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 64.
हीराबाई के दाँत हिरामन को कैसे लगते हैं ?
(क) तारों की पंक्ति
(ख) हीरों की पंक्ति
(ग) मोतियों की पंक्ति
(घ) नन्हीं कौड़ियों की पंक्ति
उत्तर :
(घ) नन्हीं कौडियों की पंक्ति।

प्रश्न 65.
किसकी गंध दो कोस दूर तक जाती है?
(क) बौड़ी की
(ख) हीराबाई की इत्र की
(ग) चम्पा की
(घ) धान के पौधों की
उत्तर :
(ग) चम्पा की।

प्रश्न 66.
हिरामन शादी को क्या समझता है ?
(क) बलाय
(ख) उपहार
(ग) वरदान
(घ) नई जिंदगी
उत्तर :
(क) बलाय।

प्रश्न 67.
तेगछिया के पास से किस नदी की धारा गुजरती है ?
(क) गंगा
(ख) यमुना
(ग) दामोदार
(घ) कजरी
उत्तर :
(घ) कजरी।

प्रश्न 68.
“शायद कुमारी ही है” – किसके बारे में कहा गया है?
(क) फूलमति
(ख) अर्पणा
(ग) सरदारनी
(घ) हीराबाई
उत्तर :
(घ) हीराबाई।

प्रश्न 69.
हिरामन ने अपनी सफरी झोली से क्या निकाला ?
(क) चूड़ा-दही
(ख) बोड़ी
(ग) गंजी
(घ) पैसे
उत्तर :
(ग) गंजी।

प्रश्न 70.
खाते हुए हीराबाई की तुलना हिरामन किससे करता है ?
(क) पालतू तोते से
(ख) कबूतर से
(ग) पहाड़ी तोते से
(घ) मैने से
उत्तर :
(ग) पहाड़ी तोते से।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 71.
“बदमासी मत करो” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) उसने कहा था
(ख) चणल
(ग) तीसरी कसम
(घ) नमक
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 72.
हिरामन किसकी नज़रों से हीराबाई को बचाकर रखना चाहता है ?
(क) पलदू दास की नज़रों से
(ख) नेपाली दरवान की नजरों से
(ग) गाड़ीवानों की नज़रों से
(घ) दुनिया-भर की नज़रों से
उत्तर :
(घ) दुनिया-भर की नज़रों से।

प्रश्न 73.
हिरामन ने गाड़ीवानों को हीराबाई को किस अस्पताल की डॉक्टरनी बताया ?
(क) सिरपुर बाजार
(ख) कुड़मागाम
(ग) छत्तापुर पचीरा
(घ) ननकपुर
उत्तर :
(क) सिरपुर बाजार।

प्रश्न 74.
ननकपुर जानेवाली सड़क किस गाँव के बीच से निकलती है ?
(क) कुडामागाम
(ख) छत्तापुर-पचीरा
(ग) तेग्गिया
(घ) सिरपुर
उत्तर :
(ग) तेगछिया।

प्रश्न 75.
‘देहाती भुच्च सब’ – वक्ता कौन है ?
(क) लहना सिंह
(ख) हिरामन
(ग) हीराबाई
(घ) नेपाली दरबान
उत्तर :
(ख) हिरामन।

प्रश्न 76.
हीराबाई को किन दो चीजों का शौक है ?
(क) नाचने-गाने का
(ख) खाने-खिलाने का
(ग) गण्प मारने का
(घ) गीत और कथा सुनने का
उत्तर :
(घ) गीत और कथा सुनने का।

प्रश्न 77.
महुआ घटवारिन का वास कहाँ था ?
(क) परमान नदी के किनारे
(ख) कजरी नदी के किनारे
(ग) काशी नदी के किनारे
(घ) गंडक नदी के किनारे
उत्तर :
(क) परमान नदी के किनारे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 78.
किसकी माँ को ‘साच्छात राकसनी’ कहा गया है ?
(क) हीराबाई
(ख) फुलमती
(ग) सफ़िया
(घ) महुआ घटवारिन
उत्तर :
(घ) महुआ घटवारिन।

प्रश्न 79.
‘एक रात की बात सुनिए” – गद्यांश किस पाठ से उद्धुत है ?
(क) कर्मनाशा की हार
(ख) जाँच अभी जारी है
(ग) तीसरी कसम
(घ) नमक
उत्तर :
(ग) तौसरी कसम।

प्रश्न 80.
“खोई हुई सूरत कैसी भोली लगती है”‘ – किसकी सूरत के बारे में कहा गया है ?
(क) हीराबाई
(ख) फुलमती
(ग) सफ़िया
(घ) नौरंगिया
उत्तर :
(कं) हीराबाई।

प्रश्न 81.
“मेरा कलेजा धड़कता है” – वक्ता कौन है ?
(क) हिरामन
(ख) हीराबाई
(ग) महुआ घटवारिन
(घ) लहना सिंह
उत्तर :
(ग) महुआ घटवारिन।

प्रश्न 82.
“मेरा कलेजा धड़कता है” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) उसने कहा था
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) नमक
(घ) तीसरी कसम
उत्तर :
(घ) तीसरी कसम।

प्रश्न 83.
“सौदागर ने पूरा दाम चुका दिया था” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) नमक
(ख) तीसरी कसम
(ग) चण्पल
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(ख) तीसरी कसम।

प्रश्न 84.
“मछली भी भला थकती है पानी में” – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(क) कर्मनाशा की हार
(ख) चप्पल
(ग) तीसरी कसम
(घ) नमक
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 85.
“उसके मन को किनारा मिल गया है” – पंक्ति किस पाठ से उद्धत है ?
(क) तीसरी कसम
(ख) चमल
(ग) नमक
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) तीसरी कसम।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 86.
“लगता है सौ मन बोझ लाद दिया किसी ने'” – वक्ता कौन है?
(क) लहना सिंह
(ख) हिरामन
(ग) सफिया
(घ) रंग्या
उत्तर :
(ख) हिरामन।

प्रश्न 87.
“तुम तो उस्ताद हो मीता” – वक्ता कौन है ?
(क) धुन्नीराम
(ख) मियां जानू
(ग) हीराबाई
(घ) हिरामन
उत्तर :
(ग) हीराबाई।

प्रश्न 88.
“कुछ भी हो, जनाना आखिर जनाना है” – वक्ता कौन है ?
(क) लाल मोहर
(ख) धुन्नीराम
(ग) पलटदास
(घ) हिरामन
उत्तर :
(ग) पलटदास।

प्रश्न 89.
‘तीसरी कसम’ में किसे ‘करमसांड़’ कहा गया है ?
(क) हिरामन को
(ख) लाल मोहर को
(ग) लहसनवा को
(घ) पलटदास को
उत्तर :
(क) हिरामन को।

प्रश्न 90.
लहसनवां किसका नौकर-गाड़ीवान है ?
(क) लालमोहर का
(ख) हिरामन का
(ग) पलटदास का
(घ) धुन्नीराम का
उत्तर :
(क) लालमोहर का।

प्रश्न 91.
‘तीसरी कसम’ का कौन-सा पात्र दास-बैस्नव, कीर्तनिया है ?
(क) हिरामन
(ख) धुन्नीराम
(ग) पलटदास
(घ) लालमोहर
उत्तर :
(ग) पलटदास।

प्रश्न 92.
अरे, पागल है क्या ? – वक्ता कौन है ?
(क) नेपाली दरवान
(ख) पलटदास
(ग) हिरामन
(घ) हीराबाई
उत्तर :
(घ) हीराबाई।

प्रश्न 93.
युन्नीराम और लहसनवां किसे छोटा आदमी और कमीना कहते हैं ?
(क) हिरामन को
(ख) पलटदास को
(ग) मियांजानू को
(घ) नेपानी दरवान को
उत्तर :
(ख) पलटदास को।

प्रश्न 94.
‘बेचारी की जान खतरे में है” – ‘बेचारी’ कौन है ?
(क) सफ़िया
(ख) सरदारनी
(ग) फुलमती
(घ) हीराबाई
उत्तर :
(घ) हीराबाई।

प्रश्न 95.
“बड़ी खेलाड़ औरत है”‘ – पंक्ति किस पाठ से ली गई है ?
(क) नन्हा कलाकार
(ख) कर्मनाशा की हार
(ग) तीसरी कसम
(घ) नमक
उत्तर :
(ग) तीसरी कसम।

प्रश्न 96.
‘किधर की गाड़ी आ रही है”‘ – पंक्ति किस पाठ से ली गई है ?
(क) नमक
(ख) उसने कहा था
(ग) चफल
(घ) तौसरी कसम
उत्तर :
(घ) तीसरी कसम।

प्रश्न 97.
“मैं तो उम्मीद खो चुकी थी” – वक्ता कौन है ?
(क) फुलमती
(ख) सफ़िया
(ग) हीराबाई
(घ) सरदारनी
उत्तर :
(ग) हीराबाई।

प्रश्न 98.
“कोई संवाद देना है घर” – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) उसने कहा था
(ख) तीसरी कसम
(ग) नमक
(घ) कर्मनाशा की हार
उत्तर :
(ख) तीसरी कसम।

प्रश्न 99.
लहसनवां को नौटंकी में किसका पार्ट सबसे अच्छा लगा ?
(क) हीराबाई का
(ख) लखन का
(ग) रावण का
(घ) जोकर का
उत्तर :
(घ) जोकर का।

प्रश्न 100.
हीराबाई ने दुबारा किसे नहीं पहुचाना ?
(क) हिरामन को
(ख) लालमोहर को
(ग) लहसनवा को
(घ) पलटदास को
उत्तर :
(ख) लालमोहर को।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 101.
सीमा के पार तराई में हिरामन की गाड़ी कितनी बार पकड़ी गई ?
(क) दो बार
(ख) तीन बार
(ग) चार बार
(घ) पाँच बार
उत्तर :
(घ) पाँच बार।

प्रश्न 102.
बायगाड़ी की गाड़ीवानी की है –
(क) हिरामन ने
(ख) हीराबाई ने
(ग) लहसनवा ने
(घ) रेणु ने
उत्तर :
(क) हिरामन ने।

प्रश्न 103.
हिरामन किस जमाने को नहीं भूल सकता ?
(क) पुराने जमाने को
(ख) गुलामी के जमाने को
(ग) कंट्रोल के जमाने को
(घ) आज के जमाने को
उत्तर :
(ग) कट्रोल के जमाने को।

प्रश्न 104.
हिरामन कौन-सी गाड़ी हाँकता है ?
(क) टमटम
(ख) मोटर गाड़ी
(ग) ठेला गाड़ी
(घ) बैल गाड़ी
उत्तर :
(घ) बैल गाड़ी।

प्रश्न 105.
कचराही बोली बोलना जानता था –
(क) हिरामन
(ख) लालमोहर
(ग) हीराबाई
(घ) पलटदास
उत्तर :
(ख) लालमोहर।

प्रश्न 106.
हिरामन के बैलों ने किसकी लाज रख ली –
(क) हिरामन की
(ख) बाघ की
(ग) गाड़ीवानों की
(घ) हीराबाई की
उत्तर :
(ग) गाड़ीवानों की।

प्रश्न 107.
क्या भाव पदुआ खरीदते हो महाजन – वक्ता कौन है –
(क) हिरामन
(ख) बनिया
(ग) हीराबाई
(घ) लहसनवा
उत्तर :
(क) हिरामन।

प्रश्न 108.
‘तीसरी कसम’ किस प्रकार की कहानी है ?
(क) सामाजिक
(ख) मनोवैज्ञानिक
(ग) आंचलिक
(घ) जासूसी
उत्तर :
(ग) आंचलिक

प्रश्न 109.
हिरामन ने सीमेंट और कपड़े लादकर पहुँचाया था –
(क) पूर्णिया से बिहार
(ख) जोगबनी से विराटनगर
(ग) बिराटनगर से फारबिसगंज
(घ) फारबिसगंज से नेपाल
उत्तर :
(ख) जोगबनी से बिराटनगर।

प्रश्न 110.
दारोगा ने किसके पेट में खोंचा मारा –
(क) हिरामन के
(ख) हीराबाई के
(ग) मुनीम के
(घ) नेपाली दरबान के
उत्तर :
(ग) मुनीम के।

प्रश्न 111.
मुनीम दारोगा को रिश्वत में दे रहा था –
(क) चार हजार रुपये
(ख) पाँच हजार रुपये
(ग) छ: हजार रुपये
(घ) सात हजार रुपये
उत्तर :
(ख) पाँच हजार रुपये।

प्रश्न 112.
हिरामन को किसका डर नहीं ?
(क) दारोगा का
(ख) हीराबाई का
(ग) जेल का
(घ) लेखक का
उत्तर :
जेल का।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 113.
हिरामन ने फैसला कर लिया ?
(क) हीराबाई को छोड़ने का
(ख) लहसनवा को पीटने का
(ग) नौ-दो-ग्यारह होने का
(घ) गाड़ीवानी छोड़ देने का
उत्तर :
(ग) नौ-दो-ग्यारह होने का।

प्रश्न 114.
हिरामन को परतीतत नहीं –
(क) मर्द और औरत के नाम में फर्क होता है
(ख) लहसुनवा चोर हो सकता है
(ग) मेला खत्म हो गया
(घ) हीराबाई गाली दे सकती है
उत्तर :
(क) मर्द और औरत के नाम में फर्क होता है।

प्रश्न 115.
हीराबाई ने परख लिया –
(क) मेला दूट रहा है
(ख) हिरामन बाल-बच्चेवाला आदमी है
(ग) हिरामन सचमुच हीरा है
(घ) हिरामन गाड़ीवानी छोड़ देगा
उत्तर :
(ग) हिरामन सचमुच हीरा है।

प्रश्न 116.
अब हिरामन ने तय कर लिया –
(क) गाड़ीवानी नहीं करेगा
(ख) हीराबाई से बात नहीं करेगा
(ग) मेले में ही रहेगा
(घ) शादी नहीं करेगा
उत्तर :
(घ) शादी नहीं करेगा।

प्रश्न 117.
हिरामन भेद जानता है –
(क) गप रसाने का
(ख) हीराबाई का
(ग) नौटककी कंपनी का
(ख) बैलगाड़ी बनाने का
उत्तर :
(क) गप रसाने का।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 118.
हिरामन का मन …….,बदल रहा है –
(क) हर दिन
(ख) पल-पल
(ग) हर घंटे
(घ) हर महीने
उत्तर :
(ख) पल-पल।

प्रश्न 119.
“डठिए, नींद तोड़िए” – वक्ता कौन है ?
(क) हीराबाई
(ख) पलटदास
(ग) दारोगा
(घ) हिरामन
उत्तर :
(घ) हिरामन।

प्रश्न 120.
हीराबाई
(क) फारबिसगंज का नाम भूल गई ?
(ख) बिराटनगर
(ग) छत्तापुर-पचीरा
(घ) ननकपुर
उत्तर :
(ग) छत्तापुर-पचीरा।

प्रश्न 121.
देहाती मुच्च सब-वक्ता कौन है ?
(क) हीराबाई
(ख) नेपाली दरबान
(ग) हिरामन
(घ) मुनीम
उत्तर :
(ग) हिरामन।

प्रश्न 122.
‘तुम तो उस्ताद हो’ – कौन, किससे कहता है ?
(क) नेपाली दरबान हिरामन से
(ख) मुनीम हिरामन से
(ग) हिरामन हीराबाई से
(घ) हीराबाई हिरामन से
उत्तर :
(घ) हीराबाई हिरामन से ।

प्रश्न 123.
एक नहीं, अब चार हिरामन – चार हिरामन किसे कहा गया है ?
(क) चार नौटंकीवाले को
(ख) चार जोकरों को
(ग) लालमोहर, घुन्रीराम, पलटदास और हिरामन
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) लालमोहर, घुन्रीराम, पलटदास और हिरामन।

प्रश्न 124.
वह दास-बैस्नव है, कीर्तनिया है – ‘वह’ कौन है ?
(क) पलटदास
(ख) सूरदास
(ग) तुलसीदास
(घ) लहसनवां
उत्तर :
(क) पलटदास।

प्रश्न 125.
किसका नाम सुनते ही दारोगा ने तीनों को छोड़ दिया ?
(क) कलक्टर
(ख) मुनीम जी
(ग) हिरामन
(घ) हीराबाई
उत्तर :
(घ) हीराबाई।

प्रश्न 126.
बेचारी की जान खतरे में है – किसकी जान खतरे में है ?
(क) हीराबाई की
(ख) हिरामन की भाभी का
(ग) कंपनी की औरत की
(घ) गाय की
उत्तर :
(क) हीराबाई की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

प्रश्न 127.
नेपाली दरबान कहाँ खड़ा था –
(क) मेले में
(ख) चौराहे पर
(ग) एक रुपयावाले फाटक पर
(घ) अठन्नी वाले फाटक पर
उत्तर :
(ग) एक रुपया वाले फाटक पर।

प्रश्न 128.
‘पैंजनी’ का अर्थ है ?
(क) पायल
(ख) पाँच
(ग) पागल
(घ) पैर
उत्तर :
(क) पायल।

प्रश्न 129.
‘हिरामन की भाषा में ‘तुम’ को क्या कहा जाता है ?
(क) तू
(ख) अबे
(ग) तोहे
(घ) मोहें
उत्तर :
(ग) तोहें।

प्रश्न 130.
हिरामन का बड़ा भाई क्या करता है ?
(क) खेती करता है
(ख) माल ढोता है
(ग) बैलगाड़ी चलाता है
(घ) कुछ नहीं करता है
उत्तर :
(क) खेती करता है।

प्रश्न 131.
शायद वह तीसरी कसम खा रहा है – वह कौन-सी तीसरी कसम खा रहा है ?
(क) बॉस नहीं लादेगा
(ख) बाध नहीं लादेगा
(ग) चोरबाजारी का सामान नहीं लोदागा
(घ) कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेगा
उत्तर :
(घ) कंपनी की औरत की लदनी नहीं करेगा।

WBBSE Class 10 Hindi तीसरी कसम Summary

लेखक – परिचय

फणीश्वरनाथ रेणु का जन्म बिहार के पूर्णिया जिले के औराही हिंगना नामक गाँव में 4 मार्च, 1921 ई० को हुआ था । रेणु हिन्दी कथा साहित्य में ‘आंचलिक कथाकार’ के रूप में प्रसिद्ध हैं। इन्होंने सन् 1942 के भारतीय स्वाधीनता संग्राम में एक प्रमुख सेनानी की भूमिका निभाई । सन् 1950 में नेपाली जनता को राणाशाही के दमन और अत्याचारों से मुक्ति दिलाने के लिए वहाँ की सशस्त्र क्रांति और राजनीति में सक्रिय सहयोग दिया । इन्होंने कथा साहित्य के अतिरिक्त संस्मरण, रेखाचित्र और रिपोतार्ज तथा उपन्यास आदि विधाओं में भी लिखा। 11 अप्रैल, 1977 को इनका देहावसान हो गया ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम 1

इनकी कहानी ‘तीसरी कसम’ को अंतर्राष्ट्रीय ख्याति मिली तथा उसपर फिल्म भी बनाई गई। प्रसुख रचनाएँ –
उपन्यास : मैला आँचल, परती परिकथा, दीर्घतपा, कलंकमुक्ति, जुलूस, पल्दू बाबू रोड । कहानी-संग्रह : ठुमरी, अगिनखोर, आदिम रात्रि की महक, एक श्रावणी दोपहरी की धूप, अच्छे आदमी, मारे गए गुलफाम, लालपान की बेगम, ठेस, संवादिया, तबे एकला चलो रे, ठुमरी, पागल आदि ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions सहायक पाठ Chapter 1 तीसरी कसम

संस्भरण : श्रृणजल-धनजल, वन तुलसी की गंध, श्रुत अश्रुत पूर्व ।
रिपोतार्ज : नेपाली क्रांति-कथा ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi Solutions Chapter 1 Question Answer – दीपदान

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1 : ‘दीपदान’ एकांकी के आधार पर पन्ना धाय की प्रमुख विशेषताओं को लिखें।
अथवा
प्रश्न 2 : ‘दीपदान’ एकांकी के प्रमुख पात्र की चारित्रिक विशेषताओं को लिखें।
अथवा
प्रश्न 3 : ‘दीपदान’ एकांकी में जिस पात्र ने आपको सबसे अधिक प्रभावित किया है उसका चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 4 : “नमक से रक्त बनता है, रक्त से नमक नहीं ” – के आधार पर पत्रा का चरित्र-चि:न
अथवा
प्रश्न 5 : “यहाँ का त्योहार आत्पबलिदान है” – के आधार पर पन्ना की चारित्रिक विशेषताओं को लगकें
अथवा
प्रश्न 6 : ‘थाय माँ पन्ना’ के पुत्र का क्या नाम था ? उसने अपने पुत्र को कहाँ और क्यों सुला ‘दीपदान’ पाठ के आधार पर स्पष्ट कीजिए ।
अथवा
प्रश्न 7 : ‘मेरे महाराणा का नमक मेरे रक्त से भी महान् है’ – के आधार पर संबंधित चरित्र-चित्रण करें।
अथवा

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

प्रश्न 8 : “आज मैने भी दीप-दान किया है। दीप-दान”। – पंक्ति के आधार पर पन्ना का ‘स्त्रचित्रण करें।
अधवा
प्रश्न 9 : “अपने जीवन का दीप मैंने रक्त की धारा पर तैरा दिया है” – पंक्ति के आधार पर प क? चरित्र-चित्रण करें।
अथवा.
प्रश्न 10 : “ऐसा दीप-दान भी किसी ने किया है”! – पंक्ति के आधार पर पत्रा की चा” जाक विशेषताओं को लिखें।
अथवा
प्रश्न 11 : “सारे राजपूताने में एक ही धाय माँ है, पत्ना ! सबसे अच्छी !”- गृ्यांश के आघहर पर पब्ना का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 12 : “महल में धाय माँ अरावली पहाड़ बनकर बैठ गई है” – कथन के आधार पर संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 13 :
सिद्ध कीजिए कि पत्रा के चरित्र में माँ की ममता, राजपूतानी का रक्त, राजभक्ति और आत्म-त्याग की भावना है ।
उत्तर :
‘धाय माँ पत्ना’ के पुत्र का क्या नाम चन्दन था।
पम्ना धाय ‘दौपदान’ एकांकी की प्रतिनिधि पात्रा है। सच कहा जाय तो वही इस एकांकी की नायिका है तथा एकाकी की संपूर्ण कथा उसके इर्द-गिर्द ही घूमती है। इस एकांकी में उसका चरित्र एक वीरांगना के रूप में प्रस्तुत है जा है। यह वह भारतीय नारी नहीं है जिसके बारे में प्रसाद जी ने कहा था –

“‘नारी तुम केवल श्रद्धा हो, विश्वास रजत पग-पग तल में।
पीयूष स्रोत-सी बहा करो, जीवन के सुंदर समतल में।”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

पन्ना धाय में हमें एक साथ पृथ्वी की-सी क्षमता, सूर्य जैसा तेज, समुद्र की-सी गंभीरता, चन्द्रमा की-सी शॉंतलता तथा पर्वतों के समान मानसिक उच्चता दिखाई पड़ती है।

पत्ना धाय केवल एक आदर्श धाय ही नहीं है बल्कि उसमें सच्ची देशभक्ति तथा कर्त्तव्य परायणता भी कूटकृट कर भरी है। इन्हीं गुणों के कारण वह चित्तौड़ के उत्तराधिकारी कुंवर उदय सिंह की रक्षा बनवीर से करने के लिए अपने पुत्र को बलिदान करने से भी नहीं हिचकती। यद्यपि रणवीर उसे धन का लालच देकर खरीदना चाहता है लैकिन पत्ना उसे दो दूक जवाब देती है –

“राजपूतानी व्यापार नहीं करती, महाराज ! वह या तो रणभूमि पर चढ़ती है या चिता पर।” इस प्रकार हम कह सकते हैं कि पन्ना धाय ‘दीपदान’ एकांकी की प्रमुख पात्रा होने के साथ-साथ एक आदर्श भारतीय नारी का उदाहरण हमारे सामने प्रस्तुत करती है।

प्रश्न 14 : ‘दीपदान’ एकांकी के आघार पर बनवीर की चारित्रिक विशेषताओं पर प्रकाश डालिए।
अथवा
प्रश्न 15 : “महाराज बनवीर नहीं कहा? मेरे कहने भर से तुम देवी हो गई” !- गद्यांश के आधार पर बनवीर का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 16 : “रक्त तो तलवार की शोमा है’ – कथन के आधार पर बनवीर का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 17 : ‘विश्राम मैं करूँ ? बनवीर ! जिसे राजलक्ष्मी को पाने के लिए दूर तक की यात्रा करनी है ” – कथन के आधार पर संबेधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 18 : “यदि मेरा नाम लेना है तो जयकार के साथ नाम लो” – पंक्ति के आधार पर बनवीर का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 19 : “चुप रह घाय ! बच्चे को पालने वाली – कथन के आधार पर संबंधित पात्र का चरित्रचिन्नण करें।
अध्रवा
प्रश्न 20 : “लोरियाँ सुनानेवाली एक साधारण दासी महाराणा से बात करती है ?”-क्थन के आधार पर संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 21 : “वह दैत्य बन गया है – संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 22: “सर्प की तरह उसकी भी दो जीभें हैं जो एक से नहीं कुझेगी” – कथन के आयार पर बनवीर का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 23 : “उसे दूसरा रक्त भी चाहिए” – संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 24 : “वह पशु से भी गया-बीता है” – कथन के आधार पर संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 25 : “विलासी और अत्याचारी राजा कभी निष्केटक राज नहीं करता” – संबंयित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 26 : आज की रात में ही वह अपने को पूरा महाराणा बना लेता चाहता है – कथन के आधार पर बनवीर का चरित्र-चित्रण करें।
उत्तर :
बनवीर ‘दीपदान’ एकांकी का दूसरा प्रमुख पात्र है। वह महाराजा साँगा के भाई पृथ्वौराज का दासपुत्र है। प्रकृति से वह कूर तथा विलासी है। उसके रक्त में विश्वासधात का जहर भरा हुआ है। ऐसे ही चरित्र के कारण भारत का मध्यकालीन इतिहास का पन्ना काले अक्षरों में लिखा गया है। बनवीर के चरित्र को निम्नांकित शीषकों के अंतर्गत रखा जा सकता है –

(क) विलासी प्रकृति – बनवीर की बिलासी प्रकृति का पता इसी से चलता है उसने रावल सरूप सिंह की रूपवती, नटखट बेटी सोना को अपने प्रेम-जाल में फांस लिया है। वह बनवीर की प्रकृति से बेखबर उसके झृं प्रम में पागल हो चुकी है। बनवीर के प्रेम को वह जीवन की बहुत बड़ी उपलब्धि मानती है।

(ख) राजसत्ता का लालची – बनवीर के अंदर राजसत्ता का लालच इतना भर चुका है कि वह अपना विवेक खों बैठता है। राजसिंहासन पाने के लिए वह कुछ भी करने को तैयार है मौका देखकर वह राजदरबागियों तथा सैनके के भी लालच देकर अपनी ओर मिला लेता है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

(ग) असभ्य – बनवीर असभ्य है। सत्ता-लालच में वह यह भी भूल गया है कि जिस पन्ना को पूरा महल घाइ गा कहकर पुकारता है, वह उसके साथ अत्यंत कूर तथा असभ्यता से पेश आता है।
WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान 1

विश्वासधाती – बनवौर को महाराणा विक्रमादित्य काफी प्रेम करते हैं। इतना कि उनकी आत्मोयता में वह आभल है। इतना ही नहीं, अंत-पुर की रानियाँ भी उनसे काफी स्नेह करती हैं इसलिए वह अंत पुर में बेरोक-टोक आबा सकता है। अपने स्वार्थ के लिए वह इतने सारे लोगों के साध विश्वासघात करता है।

(द) हत्यारा – बनबौर की सत्ता लोलुपता इतनी बढ़ जाती है कि वह रातो-रात ही राजा बन जाना चाहता है। इसके लिए वहृ वड्बंत्न रचकर नगर में दौप-दान का उत्सव कराता है। उसी शोर-शराबे के बीच वह महाराणा के कक्न मे जाकर अनकी हत्या कर देता है। महाराणा का उत्तराधिकारी कुवंर उदय सिंह है। इसलिए चह उसे भी अपने रासे से हटाने के निए उम्म की हत्या करने का निश्चय कर सेता है। इसकी आशंका महल की परिचारिका सामली को पहले ही हो जाती है। वह कत्रा से कहती है –

“मर्ष की तरह उसकी भी दो जीभें हैं जो एक से नहीं दुझेंगी। उसे दूसरा रक्त भी चाहिए।”
अंतः वह कुंवर उदय सिंह के धोखे में पन्ना धाय के पुत्र चंदन को हत्या कर देता है।
हैस प्रकारह्म कह सकते हैं कि बनवीर का वरित्र एक स्वार्थलोलुज, विश्वासघाती तथा हत्यारे का चरित्र है। सेकिन अमें चरित्र का यह काला पहलू हो पज्ञा धाब के चरिज् को और भी उज्जल बना देता है।

प्रश्न 27 : ‘दीपदान’ एकांकी के सोना का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 28 : “धाय माँ, पागलपर्त कहीं कम होता है”‘ – के आधार पर सोना का चरित्र-चित्रण करें। अथवा,
प्रश्न 29 : “शायद सामंब्त की बेटी बनुँ, शायद महाराज की बेटी बनूँ” – पंक्ति के आघार पर सोना का यरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 30 : “कुछ बहुकर ही बनूनीय” – कथन के आयार पर संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें। अथवा,
प्रश्न 31 : “यहाँ आग की लपटें नाचती हैं, सोना जैसी रावल की लड़कियाँ नहीं “- कथन के आजा पर सोना का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा

प्रश्न 32 :
“में रावल की बेटी हैँ, शायद सार्मंत की बेटी बनूं” – पंक्ति के आधार पर संबंधित पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
उत्तर :
सोना ‘दीपदान’ एकांकी के प्रमुख पात्रों में से एक है। यद्यापि वह बहुत कम समय के लिए एकाकी में आती है होकित इतने समय में ही अपना प्रभाव छोड़ जाती है। म्षोता का चरित्र-वित्रण निम्नांकित शौर्षकों के अंतर्गत किया जा सकता है –

(क) रावल की पुत्री-सौना चित्तौड़ के महाराजा के अधौन रावल (सरदार) की पुत्री है। राजदरबार से गुड़े होने के कारण दछाँ के सभी लोगों से उसका संबंध परिवार की तरह हो गया है। इस बात का पता उसकी बातदीत से चलता है उनको (बनवीर) हमारा नाच बहुत अच्छा लगा। ओहो बनवीर। उन्हें श्री महाराजा बनवीर कहो।”

(ख) रुपवती एवं नटखट – सोना की उन्न सोलह वर्ष है। वह जितनी रुपवती है उतनी ही नटखट भी है। जितनी वेर वक वह एकांकी में उपस्थित रहती है उसके नटखटपन का अंदाजा हमें लगता रहता है। वह थोड़ी देर के लिए भी चुररकानहीं जानती –

“‘धाय माँ, पागलपन कहीं कम होता है? पहाड़ बढ़कर कभी छोटे हुए हैं ? नदियाँ आगे बढ़कर कभी लौटी हैं ? फूल खिलने के बाद कभी कली बने हैं ?'”

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

(ग) अपनी किस्मत पर इठलाने वाली — सोना एक साधारण सरदार की पुत्री होकर भी जिस तरह वह बनवीर की कृपापात्र बनी है उसे वह अपनी किस्मत ही मानती है। उसकी सोच है कि यह उसका भाग्य ही है जिसके कारण वह इतना कुछ पा रही है –
“भाग्य तो सबके होता है धाय माँ ! ये नूपुर मेरे पैरों में पड़े हैं, तो यह भी इनका भाग्य है। मेरे आगमन का संदेश पहले ही पहुँचा देते हैं, तो यह भी इनका भाग्य है।’

(घ) बनवीर के प्रेम में पागल – सोना बनवीर के प्रेम में पागल है। वह बनवीर की कूटनीति को समझ नहीं पाती तथा उसके प्रेम को सच्चा मानती है जबकि पन्ना उसे सावधान करते हुए कहती है-
“‘आँधी में आग की लपट तेज ही होती है, सोना ! तुम भी उसी आँधी में लड़खड़ाकर गिरोगी। तुम्हारे ये सारे नूपुर बिखर जाएंगे। न जाने किस हवा का झोंका तुम्हारे इन गीतो की लहरों को निगल जाएगा।”

(ङ) सुनहरे भविष्य का सपना देखने वाली – सोना का यह विश्वास है कि आगे चलकर शायद उसकी किस्मत भी खुल जाएगी। वह आने वाले उन दिनों को याद करती हुई पन्ना से कहती है –
“मैं रावल की बेटी हूँ, शायद सामंत की बेटी हूँ, शायद महाराज की बेटी बनूँ ! कुछ बढ़कर ही बनूँगी। और तुम धाय माँ ? सिर्फ धाय माँ ही रहोगी।” इस प्रकार हम पाते हैं कि सोना का चरित्र इस एकांकी में बनवीर के चरित्र का प्रतिबिंब बनकर आया है। उसकी बातों से बनवीर के दुष्चक्र की गंध आती है। इन्हीं कारणों से वह एकांकी के प्रमुख पात्रों में अपना स्थान बनाती है।

प्रश्न 33 : ‘दीपदान’ एकांकी का उद्देश्य स्पष्ट कीजिए।
अथवा
प्रश्न 34 : ‘दीपदान’ एकांकी के शीर्षक का औचित्य निर्धारित कीजिए।
अथवा

प्रश्न 35 :
‘दीपदान’ शीर्षक एकांकी की कथावस्तु को अपने में समेटे है – अपना विचार प्रस्तुत करें।
उत्तर :
‘दीपदान’ डॉ० रामकुमार वर्मा द्वारा रचित एक ऐतिहासिक एकांकी है। किसी भी रचना का शीर्षक उसके प्रमुख पात्र या घटना पर आधारित होता है। इस एकांकी में दीप-दान कई अर्थों में हमारे सामने आता है – पहले अर्थ में दीप-दान – जो चित्तौड़ का एक सास्कृतिक उत्सव है तथा इसमें तुलजा भवानी की अराधना कर दीप-दान किया जाता है।

दूसरे अर्थ में दीप-दान का आशय अपने कुलदीपक चंदन के बलिदान से है। एक ओर जब सारा चित्तौड़ तुलजा भवानी के लिए दीप-दान कर रहा है तो वहीं दूसरी और मातृभूमि तथा भावी राजा की रक्षा के लिए पत्ना अपने ही पुत्र चंदन को मातृभूमि की भेंट चढ़ा देती है – ” आज मैंने भी दीपदान किया है, दीपदान ! अपने जीवन का दीप मैने रक्त की धारा पर तैरा दिया है। ऐसा दीपदान भी किसी ने किया है।”

तीसरे अर्थ में जहाँ एक ओर राज्य की सुख-समृद्धि के लिए चित्तौड़ के लोग दीपदान करते हैं, पत्रा मातृभूमि के लिए अपने पुत्र का ही दीपदान करती है वहीं बनवीर भी है जो अपनी सत्ता लोलुपता के कारण अपने रास्ते के कॉंटे कुँवर उदयसिंह के धोखे में चंदन का दीप-दान करता है –

” आज मेरे नगर में स्त्रियों ने दीप-दान किया है। मैं भी यमराज को इस दीपक का दान करूँगा। यमराज ! लो इस दीपक को। यह मेरा दीप-दान है।’ इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि चाहे विषय की दृष्टि से हो, चाहे चित्तौड़ की संस्कृति की दृष्टि से हो या अपने कुल के दीप के दान करने की बात हो या फिर बनवीर द्वारा सत्ता पाने के लिए यमराज को दीपदान करने की बात हो हर दृष्टि से इस एकांकी का शौर्षक ‘दीपदान’ बिल्कुल सार्थक एवं उपयुक्त है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

प्रश्न 36 :
‘दीपदान’ एकांकी के आधार पर कीरत बारी का चरित्र-चित्रण कीजिए।
उत्तर :
कीरत बारी ‘दीपदान’ एकांकी का गौण पात्र है लेकिन अपनी कर्तन्तन्यनिष्ठा, साहस तथा राजभक्ति से वह पाठको का दिल जीत लेता है। कीरत बारी यद्याप राजमहल में जूठी पत्तलें उठाता है लेकिन वह पक्का राजभक्त है। यह सच्चाई उसके इस कथन से झलकती है – “अन्नदाता ! प्यार कहने में जबान पर कैसे आवे ? वो तो दिल की बात है। मौके पे ही देखा जाता है और कहने को तो मैं कह चुका हूँ कि उनके लिए अपनी जान तक हाजिर कर सकता हूँ।”

जब कीरत बारी को पन्ना धाय से यह पता चलता है कि कुंवर जी की जान को खतरा है तो वह पन्ना धाय के कहने के अनुसार उसे जूठी पत्तलों की टोकरी में छिपाकर बाहर निकालने को तैयार हो जाता है। उसे यह पता है कि पकड़े जाने पर उसका सिर धड़ से अलग कर दिया जाएगा पर वह अपनी जान की परवाह नहीं करता।

इस प्रकार हम पाते हैं कि कीरत बारी एक अत्यंत ही छोटा आदमी है लेकिन अपने कार्य से वह आसमान की ऊँचाइयों को छूता है। पन्ना धाय भी उसके इस उपकार तथा राजभक्ति के बारे में कहती है – “तो जाओ कीरत! आज तुम जैसे एक छोटे आदमी ने चित्तौड़ के मुकुट को संभाला है। एक तिनके ने राज-सिंहासन को सहारा दिया है । तुम धन्य हो!” इस प्रकार हम पाते हैं कि कीरत बारी ‘दीपदान’ एकांकी का आदर्श पात्र है।

प्रश्न 37 :
“बनवीर की महत्वाकाष्था ने उसे हत्यारा बना दिया है” – इस कथन की पुष्टि अपने शब्दों में कीजिए।
उत्तर :
बनवीर ‘दीपदान’ एकांकी का खलनायक है। वह महाराज साँगा के भाई पृथ्वीराज का दासपुन्त है लेकिन उसमें राजसिंहासन पाने की महत्वाकांक्षा बुरी तरह घर कर चुकी है। अपने इस महत्वाकांक्षा की पूर्ति के लिए वह बड़े से बड़े जधन्य तथा अनैसिक काम कर सकता है। उसकी इस प्रवृत्ति ने उसे प्रकृति से क्रूर तथा विलासी बना दिया है।

राजसिंहासन पाने के लिए वह मौका देखकर राजदरबारियों तथा सैनिकों को अपनी ओर मिला लेता है ताकि वह महाराजा के उत्तराधिकारी कुंबर सिंह की हत्या कर रातो-रात राजा बन जाय। लेकिन पन्नाधाय तथा कीरत बारी के बलिदान से वह कुंवर की हत्या के बदले पत्रा धाय के पुत्र की हत्या कर देता है। बनवीर का यह कार्य इस बात को सिद्ध करता है कि वह स्वार्थलोलुप, विश्वासघाती तथा हत्यारा है। उसकी महत्वाकांक्षा ने ही उसे हत्यारा बना दिया है।

WBBSE Class 10 Hindi दीपदान Summary

सुप्रसद्धि एकांकीकार डॉ०० रामकुमार वर्मा का जन्म मध्यप्रदेश के सागर जिले के गोपालगंज नामक मुहल्ले में सन् 1905 में हुआ था। इलाहाबाद विश्वविद्यालय से बी०ए०, एम० ए० तथा सन् 1940 में नागपुर विश्वविद्यालय से पी एच० डी० की उपाधि प्राप्त की। इलाहाबाद विश्वविद्यालय में ही अध्यापन कार्य किया तथा सन् 1966 में अवकाश प्राप्त किया। इस महान साहित्यकार का निधन सन् 1990 में हो गया। डॉ० रामकुमार वर्मा की प्रमुख रचनाएँ इस प्रकार हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान 2

एकांकी-संग्रह – ‘पृथ्वीराज की आँखें’, ‘रेशमी टाई’, ‘चारममित्रा’, ‘विभूति’, ‘सप्तकिरण’, रूपरंग’, ‘रजतरश्मि’, ॠतुराज’, ‘दीपदान’, ‘रिमझिम’, ‘इंद्रधनुष’, ‘पांचजन्य’, ‘कौमुद्महोत्सव’, ‘मयूर पंख’, ‘खट्टे-मीठे एकांकी’, ‘ललित-एकांकी’, ‘कैलेंडर का आखिरी पन्ना’, ‘जूही के फूल’।,

नाटक – ‘विजयपर्व’, ‘कला और कृपाण’, ‘नाना फड़नवीस’, ‘सत्य का स्वप्न’।
काव्य-संग्रह – ‘चित्ररेखा’, ‘चंद्रकिर’, ‘अंजलि’, ‘अभिशाप’, ‘रूपराशि’, ‘संकेत’, ‘एकलव्य’, ‘वीर हम्मीर’, ‘कुल ललना’, ‘चित्तौड़ की चिता’, ‘नूरजहाँ शुजा’, ‘निशीथ’, ‘जौहर’, ‘आकाश-गंगा’, ‘उत्तरायण’, ‘कृतिका’।
गद्यगीत-संग्रह – ‘हिमालय’।
आलोचना एवं साहित्य का इतिहास – ‘कबीर का रहस्यवाद’, इतिहास के स्वर’, ‘साहित्य समालोचना’, ‘साहित्य शास्त्र’, ‘अनुशीलन’, ‘समालोचना समुच्चय’, ‘हिंदी साहित्य का आलोचनात्मक इतिहास एवं हिंदी साहित्य का संक्षिप्त इतिहास’।
संपादन – कबीर ग्रंथावली’।
पुरस्कार – पद्मभूषण (सन् 1963), साहित्य वाचस्पति (सन् 1968)

हिंदी की लघु नाटय परपरा को नया मोड़ देनेवाले डॉ० रामकुमार वर्मा आधुनिक हिंदी साहित्य में एकांकी समाट के रूप में जाने जाते हैं। एकांकी साहित्य के विकास और वृद्धि में उन्होंने जो योगदान दिया इसके लिए वे हमेशा याद किए जाएंगे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

शब्दार्थ

पृष्ठ संख्या – 160

  • संरक्षण = अच्छी तरह से पालन-पोषण करना, रक्षा करना।
  • धाय = दाई माँ।
  • रूपवती = सुंदर।
  • अन्त पुर = महल का वह भीतरी भाग जहाँ रानियाँ रहती थीं।
  • परिचारिका = सेविका, सेवा करनेवाली।
  • कूर = कठोर।
  • विलासी = ऐश करने वाला, अय्याश।
  • कक्ष = कमरा।
  • पार्श्व = पीछे ।
  • शैया = बिस्तर ।
  • सिरहाने = सिर की ओर।
  • नेपथ्य = रंगमंच का पिछला हिस्सा।
  • नृत्य धन्वनि = नाचने गाने की आवाज।
  • मृदंग = ढोल की तरह का एक वाद्य।
  • कड़खे = एक प्रकार का वाद्य।
  • कंकन-बंधन = विवाह के बंधन में बँधना।
  • रण चढ़ण = युद्ध में जाना।
  • पुत्र बधाई = पुत्र प्राप्ति की
  • बधाई = चाव = इच्छा ।
  • दिहाड़ा = दिन ।
  • रंक = दरिद्र। राव = राजा।
  • घर जातां = पलायन करना।
  • श्रम पलटतां = परिश्रम से भागना।
  • त्रिया = स्त्री।
  • पडंत = पड़ना ।
  • ताव = पलायन, तीव्र बुखार।

पृष्ठ संख्या – 161

  • ऐ = ये ।
  • तीनहु = तीनों ।
  • मँरण रा = मरण के समान ।
  • तुलजा भवानी = एक देवी ।
  • राजवंश = राज का वंश।
  • कुलदीपक = वंश का दीपक।

पृष्ठ संख्या – 162

  • कुंड = तालाब।
  • उद्यत = बेचैन
  • प्रस्थान = जाना।

पृष्ठ संख्या – 163

  • नुपुर-नाद = घुंघरू के स्वर।
  • अट्टहास = भयंकर हँसी।
  • मातृत्व = ममता।
  • झूल = आवरण।
  • चीर = वस्व।

पृष्ठ संख्या – 164

  • भवसागर = संसाररूपी सागर।
  • ज्ञात = मालूम।
  • उषा = रात्रि बीतने तथा प्रात: होने के बीच का समय।
  • अनुग्रह = कृपा।
  • मल्ल-कीड़ा = कुश्ती।
  • प्रलाप = रोना।
  • स्नेह = प्रेम ।
  • राजसेवा = राजा की सेवा।

पृष्ठ संख्या =165

  • आगमन = आने ।
  • संदेश = सूचना, समाचार ।
  • मौन = चुप ।
  • आप-से-आप = खुद, स्वंय।
  • सूर्यलोक = स्वर्गलोक।
  • विद्रोह = बागावत ।
  • राग-रंग = प्रेम और मस्ती।
  • जौहर = अपनी इज्जत बचाने के लिए स्वियों का आग में कूदना।
  • आत्मबलिदान = अपने-आप को बलिदान करना।

पृष्ठ संख्या – 166

  • प्रतिध्वनि = ध्वनि की ध्वनि, गूँज।
  • जमाव = जमा होना
  • गुमसुम = चुपचाप

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

पृष्ठ संख्या – 167

  • धावा = आक्रमण।
  • दाने = मोती।
  • यकायक = अचानक।
  • धमक = आवाज।

पृष्ठ संख्या – 168

  • सर्वनाश = सब कुछ नाश।
  • कुसमय = बुरा समय।

पृष्ठ संख्या – 169

  • कांड = घटना।
  • रच देता = अंजाम दे देता।
  • निष्कंट = बिना किसी काँटे / अवरोध के।

पृष्ठ संख्या – 170

  • सिसकी = घीरे-धीरे रोने की आवाज।
  • युक्ति = उपाय।

पृष्ठ संख्या – 171

  • चरन लागों = पैर पड़ता हूँ, चरण स्सर्श करता हूँ।
  • पैड़े = महल।
  • पैसारा = प्रवेश।
  • बारी = जूठी पत्तलें उठानेवाला।
  • बेखटके = बिना रोक-टोक के ।
  • मालमता = घन-दौलत।
  • ब्यालू = भोजन ।
  • उजियार = उजियाला ।
  • हर-भजन = ईश्वर का भजन।
  • चौर-छतर = सिंहासन एवं छत्र सगर जहान = सारी दुनिया।
  • बन्दगी = वंदना।
  • तीन तिरबाचा = तीन-पाँच।

पृष्ठ संख्या – 172

  • धूर = धूलि।
  • सरीखा = तरह ।
  • तरवार = तलवार ।
  • तरकीब = उपाय।
  • हुकुम करा = आदेश किया।

पृष्ठ संख्या – 173

  • जस = यश।

पृष्ठ संख्या – 174

  • सिर पर खून चढ़ना = बदले की भावना से भरा होना।

पृष्ठ संख्या = 175

  • वज = बिजली।
  • भीषण = भयंकर ।
  • प्रहार = चोट ।
  • मयार्दा = प्रतिष्ठा ।
  • धर्म = कर्त्तव्य ।
  • झरोखे = खिड़की।

पृष्ठ संख्या – 176

  • आखेट = शिकार।

पृष्ठ संख्या – 177

  • जागीरें = भू-संपत्ति।
  • धावा = हमला।
  • स्मरण = याद।

पृष्ठ संख्या – 178

  • शूल-सी = दर्द जैसा।
  • बेरूआ = पक्षी।
  • साँझ = शाम।
  • बाटडली जोही = रास्ता देखा।
  • मेड्या = मेड़ पर, खेत की सीमा पर बना मिट्टी का घेरा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions एकांकी Chapter 1 दीपदान

पृष्ठ संख्या – 179

  • भारिया = भर गया ।
  • नैन = आँख।
  • भयी = हो गयी मुसकल = मुश्किल, कठिन।
  • घड़ी = समय ।
  • नित्रा = नौंद कपट = धोखा।
  • अंगरों = आग।
  • सेज = बिछावन ।
  • फूल-से = फूल की तरह कोमल ।
  • लाल = पुत्र।
  • मुख = चेहरा।
  • मघ्घ = शराब।

पृष्ठ संख्या – 180

  • मंगल-कामना = अच्छी भावना, इच्छा।
  • जागीर = संपत्ति।
  • रक्त = खून।

पृष्ठ संख्या – 181

  • चिता = लकड़ी का ठेर जिसपर लाश जलायी जाती है।
  • नारकी = नरक में जानेवाला।

पृष्ठ संख्या – 182

  • तीव्रता = तेजी।
  • चिर-निद्रा = हमेशा के लिए नींद में सो जाना, मृत्यु।
  • नराधम = नीच व्यक्ति।
  • कटार = एक प्रकार का चाकू ।
  • अबोध = भोला।
  • कंटक = काँटा।
  • मूच्छिंत = बेहोश।
  • मन्द = धीमी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

Students should regularly practice West Bengal Board Class 10 Hindi Book Solutions कहानी Chapter 5 धावक to reinforce their learning.

WBBSE Class 10 Hindi Solutions Chapter 5 Question Answer – धावक

लघूत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
भंबल दा की साइकिल के बारे में क्या प्रसिद्ध था?
उत्तर :
भंबल दा की साइकिल के बारे में यह बात प्रसिद्ध थी कि घंटी छोड़कर उसका सब कुछ बजता है।

प्रश्न 2.
भंबल दा अपनी विधवा बहन को कैसे सहायता देते थे ?
उत्तर :
भंबल दा अपनी विधवा बहन को 50 रु० (पचास रुपये) प्रतिमाह भेजकर उसकी सहायता किया करते थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 3.
स्पोट्र्स का मैदान कैसा था ?
उत्तर :
स्सोदर्स का मैदान ज्यामितिक अल्पना से अलंकृत था।

प्रश्न 4.
औरतों से भंबल दा को विरक्ति क्यों हो गई थी?
उत्तर :
अपनी भाभी अर्थात् अशोक दा की पत्नी के उपेक्षापूर्ण व्यवहार के कारण भंबल दा को औरतों से विरक्ति हो गई थी ।

प्रश्न 5.
भंबल दा की जीवन के प्रति क्या धारणा थी ?
उत्तर :
भंबल दा की जीवन के प्रति यह धारणा थी कि जिंदगी शान की नहीं बल्कि सम्मान की होनी चाहिए।

प्रश्न 6.
स्पोर्द्स का मैदान कैसा था?
उत्तर :
स्पोर्ट्स का मैदान ज्यामितिक अल्पना से अलंकृत (सजा) था।

प्रश्न 7.
मैदान में किसकी कमी थी?
उत्तर :
मैदान में भंबल दा की कमी थी।

प्रश्न 8.
लेखक ने हड़बड़ाकर किस पर नजर डाली?
उत्तर :
लेखक ने हड़बड़ाकर धावकों पर नजर डाली।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 9.
लेखक ने खेल प्रारम्भ कराने के लिए क्या किया?
उत्तर :
लेखक ने खेल प्रारम्भ कराने के लिए पिस्तौल का घोड़ा दबा दिया।

प्रश्न 10.
स्पोर्द्स अधिकारी से भंबल दा ने क्या पूछा?
उत्तर :
स्योर्द्स अधिकारी से भंबल ने पूछा क्या सभी खिलाड़ियों को समान सुविधा देने का कोई कानून नहीं है?

प्रश्न 11.
भंबल दा को लोग क्या कहकर ललकार रहे थे ?
उत्तर :
भंबल दा को लोग, ‘बढ़े चलिए बम भोले भैया’ ” कहकर ललकार रहे थे।

प्रश्न 12.
भंबल दा धीरे-धीरे क्यों दौड़ रहे थे?
उत्तर :
भंबल दा थकान के प्रभाव से धीरे-धीरे दौड़ रहे थे।

प्रश्न 13.
भंबल दा को लंगी मारने पर लोग क्या कह कर चिल्ला रहे थे?
उत्तर :
भंबल दा को लंगी मारने पर लोग मारो-मारो कहकर चिल्ला रहे थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 14.
भंबल दा हँसते हुए क्या कहते ?
उत्तर :
भंबल दा हँसते हुए कहते भला किसान-मजदूर को कसरत की क्या जरूरत।

प्रश्न 15.
लोग किसकी आयु को पाँच साल की कहते हैं?
उत्तर :
लोग स्सोर्ट्समैन और बीमा कम्पनी के एजेन्ट की आयु को पाँच साल का कहते हैं।

प्रश्न 16.
भंबल दा अपवाद क्यों थे?
उत्तर :
भबल दा 25 वर्षो से स्पोर्ट्स में भाग लेते आ रहे हैं, इसलिए अपवाद थे।

प्रश्न 17.
खेल अधिकारी, चाहकर भी भंबल दा को क्यों बैठा नहीं सकते थे?
उत्तर :
दर्शकों के जबर्दस्त समर्थन के कारण खेल अधिकारी चाहकर भी भंबल दा को बैठा नहीं सकते थे।

प्रश्न 18.
पिछली बार बाधा दौड़ में कितने प्रतियोगी थे?
उत्तर :
पिछली बार बाधा-दौड़ में महज चार प्रतियोगी थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 19.
भंबल दा किसलिए दौड़ते थे?
उत्तर :
भंबल दा पुरस्कारों के लिए नहीं बल्कि अपने को तौलने के लिए दौड़ते थे।

प्रश्न 20.
भंबल दा को कैसी जिन्दगी प्यारी थी?
उत्तर :
भंबल दा को शान की नहीं सम्मान की जिन्दगी प्यारी थी।

प्रश्न 21.
भंबल दा के अनुसार शान की जिन्दगी कैसी होती है?
उत्तर :
भंबल दा के अनुसार शान की जिन्दगी दूसरों से अपने को ऊँचा दिखाने, कूरता और खुदगर्जी की होती है।

प्रश्न 22.
भंबल दा सम्मान को क्या मानते थे?
उत्तर :
भंबल दा सम्मान को परस्सर सौहार्द और समता का द्योतक मानते थे।

प्रश्न 23.
चीफ पर्सनल अफसर के रूप में अशोक दा क्या करते थे?
उत्तर :
चीफ पर्सनल अफसर के रूप में अशोक दा जायज को नाजायज और नाजायज को जायज किया करते थे।

प्रश्न 24.
भंबल दा को क्यों औरतों से विरक्ति हो गयी थी?
उत्तर :
भंबल दा को अपनी भाभी के आचरणों के कारण औरतों से विरक्ति हो गयी थी।

प्रश्न 25.
माँ ने लेखक को बुलाकर क्या कहा?
उत्तर :
माँ ने लेखक को बुलाकर भंबल दा की शादी के लिए कहा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 26.
‘धावक’ कहानी के रचनाकार कौन हैं?
उत्तर :
‘धावक’ कहानी के रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न 27.
स्पोर्द्स के मैदान में किसकी कमी थी?
उत्तर :
स्पोटर्स के मैदान में भंबल दा की कमी थी।

प्रश्न 28.
‘बम भोले भैया’ के नाम से किसे जाना जाता है?
उत्तर :
भंबल दा को बम भोले भैया के नाम से जाना जाता है।

प्रश्न 29.
अजीब खब्ती आदमी है – ‘खब्ती आदमी’ किसे कहा गया है?
उत्तर :
भंबल दा को ‘खब्ती आदमी’ आदमी कहा गया है।

प्रश्न 30.
लेखक स्पोट्स के मैदान में किस बात पर चौकन्ना थे ?
उत्तर :
लेखक इस बात पर चौकन्ना थे कि कहीं सामान्य मजदूर-बाबू क्लास के लोग वी.आई.पी. की जगहों को न हधिया लें।

प्रश्न 31.
लोग भंबल दा के किस बात आश्वस्त थे?
उत्तर :
लोग भंबल दा के इस बात पर आश्वस्त थे कि खेल में दूसरे भले ही बेईमानी कर बैठें लेकिन भंबल दा कभी बेईमानी नहीं कर सकते।

प्रश्न 32.
लेखक भंबल दा की किस बात से कुढ़ते थे?
उत्तर :
अक्सर जब दौड़ समाप्त हो चुकी होती और धावक अपने प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान पर खड़े होकर दर्शंको का अभिवादन कर रहे होते उस समय भी भंबल दा अपनी दौड़ पूरी करने के लिए ट्रैक पर दौड़ रहे होते थे।

प्रश्न 33.
अशोक दा हतबुद्धि कब हो गये थे?
उत्तर :
जब भंबल दा ने पुरस्कार लेने से इन्कार कर दिया था उस समय अशोक दा हत्बुद्धि हो गये थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 34.
लेखक ने भंबल दा को अन्य धावकों की तरह क्या नहीं करते देखा ?
उत्तर :
लेखक ने भंबल दा को अन्य धावकों की तरह कभी दौड़ का अभ्यास करते नहीं देखा।

प्रश्न 35.
“भला किसान-मजदूर को कसरत की क्या जरूरत” – कथन किसका है?
उत्तर :
यह कथन भंबल दा का है।

प्रश्न 36.
लोग स्पोट्स मैन तथा बीमा कंपनी के एजेंट के बारे में क्या कहते हैं ?
उत्तर :
इनकी आयु पाँच साल होती है।

प्रश्न 37.
भंबल दा किसके अपवाद थे ?
उत्तर :
लोगों के अनुसार स्सोद्संमैन तथा बीमा कंपनी के एजेंट की आयु पाँच साल होती है – भंबल दा इस नियम के अपवाद थे।

प्रश्न 38.
किसने कभी नहीं खेलों के नियमों का उल्लंघन किया ?
उत्तर :
भंबल दा ने खेलों के नियमों का उल्लंघन कभी नहीं किया।

प्रश्न 39.
पिछली बार की बाधा दौड़ में कुल कितने प्रतियोगी थे?
उत्तर :
पिछली बार के बाधा दौड़ में कुल चार प्रतियोगी थे।

प्रश्न 40.
जब एक प्रतियोगी ने भंबल दा के बाधा दौड़ में द्वितीय आने को गलत बताकर माँ की कसम खाने को कहा तो भंबल दा ने क्या उत्तर दिया?
उत्तर :
“तुम्हारी माँ नहीं है शायद वरना तुम इस तुच्छ पुरस्कार के लिए माँ को दाँव पर नहीं लगाते मेरे भाई।”

प्रश्न 41.
भंबल दा के बड़े भाई का नाम क्या था?
उत्तर :
भंबल दा के बड़े भाई का नाम अशोक दा था।

प्रश्न 42.
भंबल दा तथा उनके भाई अशोक दा की उपलब्घियों में कितना अंतर था?
उत्तर :
भंबल दा तथा उनके भाई अशोक दा की उपलब्धियों में वर्षो का नहीं युगों का अंतर था। भंबल दा एक किरानी थे जबकि अशोक दा चीफ पर्सनल ऑफिसर थे ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 43.
भंबल दा की शिक्षा कहाँ तक हुई ?
उत्तर :
भंबल दा की शिक्षा मैट्रीक्यूलेशन तक हुई ची।

प्रश्न 44.
भंबल दा मैट्रीक्यूलेशन में कितनी बार फेल हुए थे ?
उत्तर :
भंबल दा मैट्रीक्यूलेशन में बार बार फेल हुए थे।

प्रश्न 45.
किसने काफी करीब से भंबल दा को देखा था ?
उत्तर :
लेखक ने भंबल दा को काफी करीब से देखा था।

प्रश्न 46.
“आदमी को शान से जीना चाहिए या तो इस दुनिया से कूच कर जाना चाहिए” – यह कथन किसका और किसके प्रति है?
उत्तर :
यह कथन भंबल दा के बड़े भाई अशोक दा का है तथा यह भंबल दा के प्रति है।

प्रश्न 47.
अशोक दा अक्सर भंबल दा से क्या कहा करते थे?
उत्तर :
अशोक दा अक्सर भंबल दा से यह कहा करते थे कि, ” आदमी को शान से जीना चाहिए या तो इस दुनिया से कूच कर जाना चाहिए। मेरा भाई मेरी गरिमा के अनुकूल होकर आता है तो उसका स्वागत है, वरना उसे यहाँ आने की जरूरत ही क्या है? माँ को मेरे पास छोड़ दे या उसे लेकर किसी दूसरे शहर घला जाय। मैं दूसरे को खैरात बाँटता हूँ. उन्हें भी ढाई सी भेज दिया करूँगा।

प्रश्न 48.
भंबल दा को कैसी जिंदगी चाहिए थी ?
उत्तर :
भंबल दा को शान की नहीं सम्मान की जिंदगी चाहिए थी।

प्रश्न 49.
भंबल दा के अनुसार शान क्या होती है?
उत्तर :
भंबल दा के अनुसार शान द्वारा अपने को ऊँचा दिखाने की क्रूरता तथा खुदगर्जी होती है।

प्रश्न 50.
भंबल दा के अनुसार सम्मान क्या होता है?
उत्तर :
भंबल दा के अनुसार सम्मान आपसी प्रेम तथा समता का प्रतीक होता है।

प्रश्न 51.
लेखक के सामने भंबल दा को लेकर क्या समस्या थी?
उत्तर :
लेखक के सामने भंबल दा को लेकर समस्या यह थी कि कैसे उन्हें बाकी सहकर्मियों से आगे बढ़ाकर शीर्ष पर ले जाएँ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 52.
लेखक भंबल दा को किस बात के लिए उकसा रहे थे ?
उत्तर :
लेखक भंबल दा को इस बात के लिए उकसा रहे थे कि वे ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट होकर किसी ट्रेड में विशेषता प्राप्त कर लें।

प्रश्न 53.
भंबल दा केवल परिवार ही नहीं, मुहल्ले तक में अपनी जड़ जमाए हुए थे – कैसे ?
उत्तर :
भंबल दा सबके गम, सबकी खुशी में शरीर होने वाले थे – चाहे वह बंगाली हो, गैर बंगाली हो, हिन्दू हो या फिर मुसलमान हो। जहाँ भी उनकी जरूरत होती थी- वे वहीं हाजिर हो जाते थे। अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण भिंबल दा केवल अपने परिवार में ही नहीं, मुहल्ले तक में अपनी जड़े जमाए हुए थे।

प्रश्न 54.
किसकी शादी से भंबल दा की माँ टूट गई थी?
उत्तर :
भंबल दा के भाई अर्थात् अपने बड़े बेटे अशोक की शादी से भिंबल दा की माँ टूट गई थी।

प्रश्न 55.
माँ को कौन-सी चीज बुरी तरह सालती थी ?
उत्तर :
माँ को यह बात बुरी तरह सालती थी कि उनका एक बेटा (अशोक) उनकी छाया तक से बचता चलता है।

प्रश्न 56.
भंबल दा को सोया जानकर माँ क्या करती थीं?
उत्तर :
भिंबल दा को सोया जानकर माँ अपने दिल के दरवाजे-खिड़कियाँ बंद कर तनहाइयों में डूब जाती थी।

प्रश्न 57.
अपने दर्द को झूठलाने के लिए माँ क्या करती थीं ?
उत्तर :
अपने दर्द को झूठलाने के लिए माँ अशोक दा की खूब प्रशंसा किया करती थीं।

प्रश्न 58.
परिवार का शुभचिंतक होने के नाते लेखक के सामने कौन-सा रास्ता बच रहा था?
उत्तर :
परिवार का शुभचिंतक होने के नाते लेखक के सामने एक ही रास्ता बच रहा था। वह रास्ता था – भिंबल दा तथा अशोक दा के बीच की कड़ी को जोड़ देना।

प्रश्न 59.
क्या भंबल दा का प्रमोशन हुआ ? क्यों ?
उत्तर :
नहीं, भंबल दा का प्रमोशन नहीं हो पाया क्योंकि वह गलत तरीके से प्रमोशन लेना नहीं चाहते थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 60.
भंबल दा के विवाह के बारे में क्या मुश्किल थी ?
उत्तर :
भंबल दा के विवाह के बारे में मुश्किल यह थी कि वे उम्र के उस दौर में पहुँच रहे थे जहाँ मनचाही लड़कियाँ नहीं मिलती हैं।

प्रश्न 61.
लेखक ने भंबल दा से शादी के लिए किसे राजी क्या ?
उत्तर :
लेखक ने एक मास्टरनी को भंबल दा से शादी के लिए राजी किया।

प्रश्न 62.
लेखक ने जिसके साथ भंबल दा की विवाह तय किया – क्या वह विवाह हो पाया?
उत्तर :
लेखक ने जिसे भंबल दा के साथ विवाह के लिए राजी किया था उसके साथ विवाह नहीं हो पाया ।

प्रश्न 63.
मास्टरनी के सामने पड़ने से किसकी रूह काँपती थी और क्यों ?
उत्तर :
मास्टरनी के सामने पड़ने से लेखक की रूह काँपती थी। क्योकि उसका विवाह भंबल दा के साथ नहीं हो पाया।

प्रश्न 64.
भंबल दा ने अपना मकान कैसे बनवाया था?
उत्तर :
भंबल दा ने को-आपरेटिव और पी०एफ० के लोन से अपना मकान बनवाया था।

प्रश्न 65.
भंबल दा ने विवाह क्यों नहीं किया ?
उत्तर :
भंबल दा का मासिक वेतन साढ़े तीन सौ रुपये था। माँ के इलाज के बाद इतने पैसे नहीं बचते थे कि पत्ली का भी भार वहन कर सकते। यही कारण था कि भंबल दा ने विवाह नहीं किया।

प्रश्न 66.
कौन भंबल दा की पैसे की समस्या हल कर सकता था ?
उत्तर :
भंबल दा की भावी पत्नी पैसे की समस्या हल कर सकती थी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 67.
भंबल दा को किसका अहसानमंद बनना कुबूल न था?
उत्तर :
भावी पत्नी का अहसानमंद बनना भंबल दा को कुबूल न था।

प्रश्न 68.
किसने, किससे, किसके लिए शादी करने की कोशिश करने की बात लेखक से कही?
उत्तर :
भंबल दा की माँ ने लेखक से भबल दा की शादी के लिए कोशिश करने की बात कही।

प्रश्न 69.
पचीस वर्षो में पहली बार भंबल दा को कौन-सा पुरस्कार मिलने जा रहा था?
उत्तर :
पचीस वर्षो में पहली बार भंबल दा को विदूपक का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार मिलने जा रहा था।

प्रश्न 70.
भंबल दा को पहला स्ट्रोक कब हुआ?
उत्तर :
जिस दिन भंबल दा को विदूषक का सर्वश्रेष्ठ पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई उसी रात भंबल दा को पहला स्ट्रोक हुआ।

प्रश्न 71.
भंबल दा का मकान कहाँ था ?
उत्तर :
स्टेशन के पास ही भंबल दा का मकान था।

प्रश्न 72.
भंबल दा का मकान कितने कमरे का था?
उत्तर :
भंबल दा का मकान दो कमरे का था।

प्रश्न 73.
भंबल दा के कमरे की दशा कैसी थी?
उत्तर :
भंबल दा के कमरे की दशा काफी अस्त-व्यस्त थी। माँ काली के चित्र के सामने जली हुई धूप-काठियों की ढेर थी। मकड़े के जाले लटक रहे थे। पिछ्छले तीन महीने से कैलेण्डर का पन्ना नहीं बदला गया था तथा चमगादड़ों ने वहाँ अपना घर बना लिया था।

प्रश्न 74.
भंबल दा ने जो कागज भैया (अशोक दा) के नाम छोड़ा था उसमें क्या लिखा था?
उत्तर :
भंबल दा ने अपने भाई के लिए छोड़े गए कागज में लिखा – ”भैया, दौड़ में जीत उसी की होती है जो सबसे आगे निकल जाता है, चाहे लंगी मारकर हो, या गलत ट्रैक हथिया कर हो।… मुझे खुशी है कि मैने लंगी नहीं मारी, गलत ट्रैक नहीं पकड़ा।”

प्रश्न 75.
भंबल दा के पड़ोस के दूर-दूर खड़े लोग, औरतें, बच्चे लेखक तथा अशोक दा को किस नजर से देख रहे थे ?
उत्तर :
भंबल दा के पड़ोस के दूर-दूर खड़े लोग, औरतें, बच्ये तथा लेखक अशोक दा को अजूबा-सा देख रहे थे।

प्रश्न 76.
समाज का कामुक, कूर वर्ग किसका रस लेते आघाता नहीं है ?
उत्तर :
समाज का कामुक तथा क्रूर वर्ग सांड़-युद्ध, ग्लैडियेटर्स तथा ग्यूजिकल चेयर जैसे खेल की रस लेते अघाता नहीं है।

प्रश्न 77.
कुछ दिनों से एक नया कौन-सा रुचि-संस्कार जन्मा है ?
उत्तर :
पिछले कुछ दिनों से एक नया रुचि-संस्कार जो जन्मा है, वह है – लड़कियों, युवतियों की म्यूजिकल वेयर।

प्रश्न 78.
लेखक पिछले कई सालों से रस ले-लेकर क्या देख रहे हैं?
उत्तर :
लेखक पिछले कई सालों से रस ले-लेकर कामुक तथा क्रूर वर्ग की मानसिकता को देख रहे हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 79.
अपनी असमय मृत्यु के बारे में भंबल दा ने अशोक दा को पत्र में क्या लिखा ?
उत्तर :
अपनी असमय मृत्यु के बारे में भंबल दा ने अशोक दा को पत्र में लिखा कि, “मैं भी तुम्हारी तरह होता तो दीर्घायु होता। लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, आठ साल ज्यादा जो लोगे यही न? जिस जुनून में जिया, उसकी तासीर का एक क्षम भी तुम्हारे ताम-झाम के सालों से उम्दी है।’

प्रश्न 80.
कौन भंबल दा की मृत्यु के विरोध का प्रदर्शन कर रहा था ?
उत्तर :
लोको का काला धुआँ काले पताके की तरह भंबल दा की मृत्यु का विरोध कर रहा था।

प्रश्न 81.
आर्थिक अभाव के बावजूद भंबल दा ने विधवा बहन के लिए क्या किया?
उत्तर :
आर्थिक अभाव के बावजूद प्रत्येक महीने पचास रुपये विधवा बहन को भेज देते थे।

प्रश्न 82.
भंबल दा कैसी जिंदगी जीना चाहते थे?
उत्तर :
भंबल दा ईमानदारी तथा सम्मान की जिंदगी जीना चाहते थे।

प्रश्न 83.
भंबल दा क्या थे?
उत्तर :
भंबल दा लोको में एक सामान्य किरानी थे।

प्रश्न 84.
भंबल दा के बड़े भाई क्या थे?
उत्तर :
भंबल दा के बड़े भाई लोको में चीफ पर्सनल मैनेजर थे।

प्रश्न 85.
खेल प्रतियोगिताओं से भंबल दा क्यों बहिष्कृत होते चले गए?
उत्तर :
बढ़ती उम्र के कारण भंबल दा खेल प्रतियोगिताओं से बहिष्कृत (बाहर) होते चले गए क्योंकि खेल के भी अपने नियम-कानून होते हैं, जिनका पालन करना आवश्यक होता है।

प्रश्न 86.
अशोक दा द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार को अस्वीकार करते समय भंबल दा ने क्या कहा था?
उत्तर :
अशोक दा द्वारा दिए जाने वाले पुरस्कार को अस्वीकार करते समय भंबल दा ने कहा था – “गलत पुरस्कार मैं नहीं लेता दादा ! इसे मेरी ओर से तुम रख लो, खानदान का नाम रौशन करने के लिए।”

प्रश्न 87.
भंबल दा द्वारा पुरस्कार अस्वीकार करने पर अशोक दा ने क्या कहा?
उत्तर :
भंबल दा द्वारा पुरस्कार अस्वीकार करने पर अशोक दा ने गुस्से से भरकर कहा- ‘“ अपनी करनी का पुरस्कार ले जाओ -शर्म काहे की ? खानदान में एक जोकर तो निकला।”

प्रश्न 88.
भंबल दा की साइकिल कैसी थी?
उत्तर :
भंबल दा की साइकिल खटारा थी।

प्रश्न 89.
अगर आप बगल वाली मेरी ट्रैक पर होते तो प्रथम आते …. के जवाब में भंबल दा ने क्या कहा?
उत्तर :
प्रस्तुत पंक्ति के जवाब में भंबल दा ने कहा कि, “यदि मैं दो साल पहले पैदा हुआ होता तो चीफ पर्सनल मैनेजर होता और दो साल बाद पैदा हुआ होता तो विधवा।”

प्रश्न 90.
जब भंबल दा के लिए पुरस्कार की घोषणा हुई तो लोगों ने क्या सोचा?
उत्तर :
जब भंबल दा के लिए पुरस्कार की घोषणा हुई तो लोगों ने सोचा कि शायद उन्हें बाघा-दौड़ के दूसरे स्थान या तीसरे स्थान का विशेष पुरस्कार दिया जा रहा होगा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 91.
खानदान में एक जोकर तो निकला – ‘जोकर’ शब्द का प्रयोग यहाँ किसके लिए किया गया है?
उत्तर :
‘जोकर’ शब्द का प्रयोग यहाँ भंबल दा के लिए किया गया है।

प्रश्न 92.
अपने प्रमोशन के बारे में भंबल दा ने अशोक दा से क्या कहा ?
उत्तर :
अपने प्रमोशन के बारे में भंबल दा ने अशोक दा से यह कहा कि मुझे केवल अपनी योग्यता का रिटर्न चाहिए कोई अवाई नहीं।

प्रश्न 93.
पीठ पर तुम्हारा छोड़ा हुआ बोझ था – किसकी पीठ पर किसका छोड़ा हुआ बोझ था?
उत्तर :
भंबल दा की पीठ पर अशोक दा का छोड़ा हुआ बोझ था क्योंकि वे परिवार को किसी प्रकार की आर्थिक सहायता नहीं देते थे।

प्रश्न 94.
ग्लैडियेटर्स किसे कहा जाता था?
उत्तर :
रोमन साम्राज्य में उन गुलामों को ग्लैडियेटर्स कहा जाता था जिन्हें अपनी मुक्ति के लिए हिंसक जानवरों से युद्ध करना होता था। जीत जाने पर उन्हें कैद से मुक्ति तथा हार जाने पर जीवन से मुक्ति मिल जाती थी। रोमन राजा तथा जनता के लिए यह मनोरंजन का एक प्रमुख साधन था।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 95.
अशोक दा स्वस्थ रहने के लिए क्या करते थे?
उत्तर :
अशोक दा स्वस्थ रहने के लिए बुलबर्कर का अभ्यास करते, आसन तथा योगा करते थे।

प्रश्न 96.
भंबल दा किसलिए दौड़ते थे ?
उत्तर :
अपनी प्रकृति से धावक होने के कारण भंबल दा दौड़ते थे ।

प्रश्न 97.
लोग भंबल दा को किस बात पर आश्वस्त थे ?
उत्तर :
लोग भंबल दा की इस बात्तर आश्वस्त थे किस वे दौड़ में अवश्य भाग लेंगे ।

प्रश्न 98.
भंबल दा की पढ़ाई क्यों बाधित हो गयी थी ?
उत्तर :
मैट्रीक्युलेशन में बार बार फेल होने तथा घर-खर्च का बोझ सिर पर आ पड़ने के कारण।

प्रश्न 99.
भंबल दा किसमें भाग लेते थे ?
उत्तर :
दौड़ में ।

प्रश्न 100.
भंबल दा के अनुसार ‘सम्मान’ क्या होता है ?
उत्तर :
परस्सर सौहार्द और समता (बराबरी) का भाव ही सम्मान होता है।

प्रश्न 101.
भंबल दा की साइकिल के बारे में क्या प्रसिद्ध था ?
उत्तर :
उसकी घंटी छोड़कर सबकुछ बजता है ।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 102.
भंबल दा किसके अपवाद थे ?
उत्तर :
भंबल दा अपने भाई अशोक दा के अपवाद थे ।

प्रश्न 103.
भंबल दा किन बातों पर हैसा करते थे?
उत्तर :
भंबल दा, अशोक दा के स्वस्थ रहने के लिए आसन तथा योगाभ्यास करने की बात पर हँसा करते थे

दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1: ‘धावक’ कहानी का सारांश अपने शब्दों में लिखें।
अथवा
प्रश्न 2 : ‘धावक’ कहानी में निहित संदेश को लिखें।
अथवा
प्रश्न 3 : ‘धाबक’ कहानी के माध्यम से लेखक ने हमें क्या संदेश देना चाहा है?
अथवा
प्रश्न 4: ‘धावक’ कहानी का मूल भाव लिखते हुए उसके उद्देश्य पर प्रकाश डालें।
अथवा
प्रश्न 5 : ‘धावक’ कहानी का मूल भाव लिखते हुए इसके शीर्षक की सार्थकता पर प्रकाश डालें।
अथवा
प्रश्न 6 : ‘थावक’ कहानी की समीक्षा करें।
अथवा
प्रश्न 7: ‘धावक कहानी की कथावस्तु को संक्षेप में लिखें।
उत्तर :
‘धावक’ कहानी के रचनाकार संजीव हैं। इनकी कहानियाँ अनुभवों तथा अपने आस-पास के जीते-जागते पात्रों की कहानियाँ हैं न कि किसी कल्पनालोक की उपज। कथाकार संजीव ने ‘धावक’ कहानी में एक ऐसे ही व्यक्ति भंबल दा की स्मृतियों को पिरोया है।

भंबल दा ‘धावक’ कहानी के नायक हैं। वे सच्चे अर्थों में खिलाड़ी है। कंपनी की ओर से आयोजित कोई भी क्रीड़ा प्रतियोगिता भंबल दा के बिना अधूरी है। भले ही भंबल दा किसी प्रतियोगिता में स्थान न बना पाते हों लेकिन वे खेल के नियमों का पूरा-पूरा पालन करते हैं। पुरस्कार पाने के लिए अन्य खिलाड़ियों की तरह उन्होंने कभी बेइमानी का सहारा नहीं लिया। अपनी इमानदारी, समाज-सेवा तथा पारिवारिक बोझ के कारण ही वे जिदगी की दौड़ में भी पिछड गये। लेकिन उन्हें इसका ज़रा-सा भी मलाल नहीं है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

भंबल दा के विपरीत उनके बड़े भाई ने अपने साहब की लड़की से विवाह कर तथा पारिवारिक दायित्वों की उपेक्षा कर जीवन में काफी आगे निकल गए। भंबल दा केवल किरानी बनकर ही रह गए लेकिन अशोक दा चीफ पर्सनल मैनेजर तक पहुँच गए।

कम आय होने के कारण भंबल दा कभी विवाह के लिए राजी नहीं हुए। इस स्थिति में भी उन्होंने बहन को प्रतिमाह रूपये भेजने में कभी कोताही नहीं की।

धीरे – धीरे यह बोझ असहनीय हो गया तथा एक दिन भंबल दा इस दुनिया से उसी तरह चल बसे जिस प्रकार भारत में खिलाड़ी उम्र निकल जाने के बाद गुमनामी के अंधेरे में खो जाते है।

इस प्रकार कथाकार संजीव ने धावक भंबल दा के माध्यम से उन खिलाड़ियों की ओर ध्यान आकर्षित करना चाहा है जो सुविधा के अभाव में असमय ही जीवन के दौड़ से निकल जाते हैं। ऐसे खिलाड़ियों के प्रति समाज तथा देश की कुछ जिम्मेवारी होनी चाहिए यही संदेश इस कहानी में छिपा है।

जहाँ तक कहानी के शीर्षक की बात है – यह शीर्षक ही भंबल दा के सम्पूर्ण जीवन की कहानी कह देता है। एक ऐसे धावक की कहानी जो बेइमानी, दुनिया की चालाकी और अपने ही बोझ से जीवन में पीछे ही रह गया। सम्पूर्ण कहानी की पृष्ठभूमि में धावक ही छाया हुआ है। इसलिए हम ऐसा कह सकते हैं कि कहानी का शीर्षक अपने-आप में सर्वथा उपयुक्त है।

प्रश्न 8 : ‘धावक’ कहानी के आधार पर भम्बल दा का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 9 : ‘धावक’ कहानी के प्रमुख पात्र का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 10 : ‘धावक’ कहानी के जिस पात्र ने आपको सबसे अधिक प्रभावित किया है, उसका चरित्न-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 11 : ‘चावक’ पाठ के प्रमुख पात्र की चारित्रिक विशेषताओं का वर्णन करें।
अथवा
प्रश्न 12 : पठित कहानी के आधार पर भंबल दा का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 13 : “भंबल ऐसे पुरस्कारों के लिए नहीं दौड़ता” – के आधार पर भंबल दा का चरित्रचित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 14 : ‘गलत पुरस्कार मै नहीं लेता दादा” – के आधार पर भंबल दा का चरित्र-चित्रण करें। अथवा
प्रश्न 15 : मगर मुझे खुशी और संतोष है कि मैंने लंगी नहीं मारी, गलत ट्रैक नहीं पकड़ा – के आधार पर भंबल दा का चरित्र-चित्रण करें।
अथवा
प्रश्न 16 : जिस जुनून में जिया, उसकी तासीर का एक क्षण भी तुम्हारे तमाम ताम-झाम के सालों से उम्दा है। – के आधार पर भबल दा का चरित्र-चित्रण करें।
उत्तर :
भम्बल दा ‘धावक’ कहानी के मुख्य पात्र हैं। पूरी कहानी में उनके चरित्र का ताना-बाना लेखक संजीव ने कुछ इस तरह से बुना है कि पाठक चाहकर भी उनके व्यक्तित्व से अपने आपको अलग नहीं कर पाता।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

भम्बल दा का चरित्र-चित्रण निम्नांकित शीर्षको के अंतर्गत किया जा सकता है –

(क) आदतन खिलाड़ी – भम्बल दा की पहचान धावक के रूप में है। कोई भी दौड़ प्रतियोगिता हो, वह उनके बिना अधूरी लगती है। भले ही वे कभी अव्यल नहीं आ पाते लेकिन प्रतियोगिता में भाग लेना मानो उनकी आदत में शामिल थी। दौड़ में सबसे पीछे रह जाने पर भी वे अपनी दौड़ पूरा करके ही दम लेते। इतना ही नहीं, बाषा दौड़ और साइकिल रेस में भी वे अवश्य भाग लेते थे।

(ख) भावुक एवं माँ से अत्यंत प्रेम करने वाले – भम्बल दा भावुक होने के साथ-साथ माँ से अत्यंत प्रेम करने वाले हैं। एक बार बाधा दौड़ में बेईमानी होने पर किसी ने विश्वास दिलाने के लिए भम्बल दा को माँ की कसम खाने को कहा। जवाब में उन्होने जो कहा, वह उनके मातृप्रेम को दर्शाता है – “तुम्हारी माँ नहीं है शायद वरना तुम इस तुच्छ पुरस्कार के लिए माँ को दाँव पर नहीं लगाते मेरे भाई।”

(ग) समाज-सेवक – आर्थिक स्थिति से विपन्न होने के बावजूद भम्बल दा सबके दुःख-सुख में शरीक होते थे। अगर किसी को अस्पताल पहुँचाना है तो उनके कंधे एंबुलेंस की तरह हाजिर, श्रशान जाना हो तो उनके कंधे अर्थी के लिए हाजिर, कब्बिस्तान जाना हो या फिर किसी के लिए सामान का जुगाड़ करना हो- भम्बल दा हर जगह मौजूद रहते थे।

(घ) पारिवारिक जिम्मेवारियों को उठाने वाले – यद्धपि भम्बल दा की स्वयं की आर्थिक स्थिति काफी नाजुक है फिर भी वे शक्ति भर पारिवारिक जिम्मेवारियों को निभाने की कोशिश करते हैं। भाई अशोक से किसी प्रकार की सहायता न पाने पर भी वे बहन की शादी करते हैं। जब वह विधवा हो जाती है और उसे बड़े भाई के यहाँ भी शरण नहीं मिलती, तब वे उसे प्रतिमाह पचास रुपये मदद के तौर पर भेजते हैं।

(ङ) स्वाभिमानी : भम्बल दा किसी भी स्थिति में अपने स्वाभिमान से समझौता नहीं करते। यदि वे चाहते तो अपनी भावी पत्नी से आर्थिक सहायता ले सकते थे लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। इतना हीं नहीं, मरने के पहले उन्होने अपने स्वार्थी भाई के लिए एक संदेश भी छोड़ दिया, ” जिस जुनून में जिया, उसकी तासीर का एक क्षण भी तुम्हारे तमाम तामझाम के सालों से उम्दा है। हो सके तो चखकर कभी देखना।” इस प्रकार हम यह कह सकते हैं कि भम्बल दा का चरित्र एक स्वाभिमानी आदमी का चरित्र है जो टूटकर बिखर जाता है लेकिन पंगु व्यवस्था के सामने घुटने नहीं टेकता।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
भंबल दा के भाई का क्या नाम था?
(क) अशोक
(ख) सुरेश
(ग) दिनेश
उत्तर :
(क) अशोक

प्रश्न 2.
माँ किसके साथ रहती थी ?
(क) अशोक दा के साथ
(ख) भंबल दा के साथ
(घ) राकेश
(ग) अपनी बेटी के साथ
उत्तर :
(ख) भंबल दा के साथ

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 3.
‘भम्बल दा को मैने काफी करीब से देखा है।’ – यह कौन-सा वाक्य है ?
(क) सरल वाक्य
(ख) मिश्र वाक्य
(ग) संयुक्त वाक्य
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) सरल वावय

प्रश्न 4.
‘धावक’ कहानी के रचनाकार कौन हैं ?
(क) कृष्णा सेबती
(ख) संजीव
(ग) शिवमूर्ति
(घ) चन्द्रधर शर्मा ‘गुलेरी’
उत्तर :
(ख) संजीव।

प्रश्न 5.
‘तीस साल का सफरनामा’ (कहानी-संग्रह) किसकी रचना है?
(क) गुलेरी की
(ख) प्रेमचंद की
(ग) संजीव की
(घ) शिवमूर्ति की
उत्तर :
(ग) संजीव की।

प्रश्न 6.
‘प्रेतमुक्ति’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
(क) संजीव
(ख) कृष्णा सोबती
(ग) जयशंकर प्रसाद
(घ) शिवमूर्ति
उत्तर :
(क) संजीव।

प्रश्न 7.
‘प्रेरणास्रोत और अन्य कहानियाँ’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
(क) प्रेमचंद
(ख) संजीव
(ग) गुलेरी
(घ) जयशंकर प्रसाद
उत्तर :
(ख) संजीव।

प्रश्न 8.
‘ब्लैकहोल’ (कहानी-संग्रह) के लेखक कौन हैं ?
(क) कृष्णा सोबती
(ख) गुलेरी
(ग) शिवमूर्ति
(घ) संजीव
उत्तर :
(घ) संजीव।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 9.
‘खोज’ (कहानी-संग्रह) किसकी रचना है?
(क) शैल रस्तोगी की
(ख) महादेवी वर्मा की
(ग) संजीव की
(घ) पंत की
उत्तर :
(ग) संजीव की।

प्रश्न 10.
‘दस कहानियाँ’ के रचनाकार कौन हैं ?
(क) संजीव
(ख) निराला
(ग) डॉ० रामकुमार वर्मा
(घ) कृष्णा सोबती
उत्तर :
(क) संजीव।

प्रश्न 11.
‘गति का पहला सिद्धांत’ किसकी कृति है ?
(क) निराला की
(ख) प्रसाद् की
(ग) पंत की
(घ) संजीव की
उत्तर :
(घ) संजीव की।

प्रश्न 12.
‘गुफा का आदमी’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
(क) शिवमूर्ति
(ख) संजीव
(ग) अनामिका
(घ) महादेवी वर्मा
उत्तर :
(ख) संजीव।

प्रश्न 13.
‘आरोहण’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं ?
(क) अनामिका
(ख) संजीव
(ग) कृष्णा सोबती
(घ) शैल रस्तोगी
उत्तर :
(ख) संजीव।

प्रश्न 14.
‘किशनगढ़ के अहेरी’ (उपन्यास) के रचनाकार कौन हैं ?
(क) प्रेमचंद
(ख) महादेवी वर्मा
(ग) संजीव
(घ) निराला
उत्तर :
(ग) संजीव।

प्रश्न 15.
‘सावधान! नीचे आग है’ के उपन्यासकार कौन हैं?
(क) प्रेमचंद
(ख) संजीव
(ग) जयशंकर प्रसाद
(घ) निराला
उत्तर :
(ख) संजीव।

प्रश्न 16.
‘धार’ (उपन्यास) के लेखक कौन हैं ?
(क) जयशंकर प्रसाद
(ख) (निराला)
(ग) अनामिका
(घ) संजीव
उत्तर :
(घ) संजीव।

प्रश्न 17.
‘रानी की सराय’ (किशोर उपन्यास) किसकी रचना है ?
(क) बंग महिला की
(ख) महादेवी वर्मा की
(ग) संजीव की
(घ) निराला की
उत्तर :
(ग) संजीव की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 18.
‘डायन और अन्य कहानियाँ’ (बाल-साहित्य) के रचनाकार कौन हैं?
(क) संजीव
(ख) जयशंकर प्रसाद
(ग) निराला
(घ) प्रेमचंद
उत्तर :
(क) संजीव।

प्रश्न 19.
निम्नलिखित में से कौन-सा सम्मान कथाकार संजीव को प्राप्त नहीं हुआ है?
(क) प्रथम कथाक्रम सम्मान
(ख) अन्तर्रोश्टीय इन्दु शर्मा सम्मान
(ग) सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार
(घ) भिखारी ठाकुर सम्मान
उत्तर :
(ग) सोवियत भूमि नेहरू पुरस्कार।

प्रश्न 20.
निम्नलिखित में से कौन-सा सम्मान कथाकार संजीव को प्राप्त नहीं हुआ है ?
(क) भिखारी ठाकुर सम्मान
(ख) अकादमी अवार्ड
(ग) पहला सम्मान
(घ) श्री लाल शुक्ल स्मृति सम्मान
उत्तर :
(ख) अकादमी अवार्ई।

प्रश्न 21.
कथाकार संजीव का जन्म किस प्रदेश में हुआ था?
(क) उत्तर प्रदेश
(ख) मध्य पदेशे
(ग) हिमाचल प्रदेश
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(क) उत्तर प्रदेश।

प्रश्न 22.
भंबल दा की कमी कहाँ खलती थी?
(क) घर में
(ख) स्पोट्स्स के मैदान में
(ग) आंफिस में
(घ) कवि सम्मेलन में
उत्तर :
(ख) स्पोर्स्स के मैदान में।

प्रश्न 23.
भंबल दा को लोग अन्य किस नाम से पुकारते थे?
(क) गोबर गणेश भैया
(ख) खिलाड़ी भैया
(ग) बम भोले भैया
(घ) धावक भैया
उत्तर :
(ग) बम भोले भैया।

प्रश्न 24.
“अजीब खब्ती आदमी है” – खब्ती किसे कहा गया है ?
(क) अशोक दा को
(ख) भंबल दा को
(ग) लेखक को
(घ) प्रबीण को
उत्तर :
(ख) भंबल दा को।

प्रश्न 25.
भंबल दा कोथाय – का अर्थ है ?
(क) भंबल दा मर गए
(ख) भंबल दा हार गए
(ग) भंबल दा कहाँ हैं
(घ) भंबल दा चले गए ?
उत्तर :
(ग) भंबल दा कहाँ हैं ?

प्रश्न 26.
‘नगणय प्राणी’ किसे कहा गया है ?
(क) भंबल दा को
(ख) प्रवीण को
(ग) लेखक को
(घ) अशोक दा का
उत्तर:
(क) भंबल दा को।

प्रश्न 27.
लेखक भंबल दा को कितने वर्षों से जानते हैं ?
(क) बीस
(ख) पच्चीस
(ग) तीस
(घ) पैंतीस
उत्तर :
(ख) पच्चीस।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 28.
भंबल दा ने निम्नलिखित में से किस खेल में भाग नहीं लिया?
(क) कार-रेस
(ख) लौंग जम्प
(ग) हाई जम्य
(घ) हर्डल्स रेस
उत्तर :
(क) कार रेस।

प्रश्न 29.
भंबल दा ने निम्लिखित में से किस खेल में भाग नहीं लिया ?
(क) डिस्क शो
(ख) साइकिल रेस
(ग) म्यूजिकल चेयर
(घ) मील भर की दौड़
उत्तर :
(ग) म्यूजिकल चेयर।

प्रश्न 30.
मायूसी का भंबल दा पर क्या असर होता था?
(क) गुस्सा हो जाते थे
(ख) रूँआसे हो जाते थे
(ग) चेहरा लाल हो जाता
(घ) चेहरा सूज आता
उत्तर :
(घ) चेहरा सूज आता।

प्रश्न 31.
टका-सा भोथरा जवाब – क्या था?
(क) भाग जाओ
(ख) बाद में आना
(ग) नहीं बोलो
(घ) ठीक है, मत पार्टिसिपेट करो
उत्तर :
(घ) ठीक है, मत पार्टिसिपेट करो।

प्रश्न 32.
भंबल दा क्या नहीं कर सकते?
(क) बेईमानी
(ख) चोरी
(ग) साइकिल चलाना
(घ) सच बोलना
उत्तर :
(क) बेईमानी।

प्रश्न 33.
साइकिल-रेस में भंबल दा की चाल कैसी रहती?
(क) तेज
(ख) बहुत तेज
(ग) भोली
(घ) कम तेज
उत्तर :
(ख) भोली।

प्रश्न 34.
लोगों के अनुसार स्पोट्समैन और बीमा कं० के एजेण्ट की आयु कितनी होती है?
(क) पाँच साल
(ख) सात साल
(ग) दस साल
(घ) पंद्रह साल
उत्तर :
(क) पाँच साल।

प्रश्न 35.
‘आप यहाँ हैं’ (कहानी-संग्रह) के रचनाकार कौन हैं?
(क) संजीव
(ख) जयशंकर प्रसाद
(ग) कृष्णा सोबती
(घ) बंग महिला
उत्तर :
(क) संजीव।

प्रश्न 36.
लेखक ने किसे काफी करीब से देखा है?
(क) अशोक दा को
(ख) भंबल दा की माँ को
(ग) भबल दा को
(घ) जोगन मुण्डा को
उत्तर :
(ग) भंबल दा को।

प्रश्न 37.
अशोक दा भंबल दा से कितने वर्ष बड़े थे?
(क) एक
(ख) दो
(ग) तीन
(घ) चार
उत्तर :
(ख) दो

प्रश्न 38.
भंबल दा मैट्रीक्युलेशन में कितनी बार फेल हुए?
(क) एक बार
(ख) दो बार
(ग) तीन बार
(घ) चार बार
उत्तर :
(घ) चार बार।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 39.
भंबल दा को कैसी जिंदगी चाहिए थी?
(क) शान की
(ख) गरीबी की
(ग) सम्मान की
(घ) अमीरी की
उत्तर :
(ग) सम्मान की।

प्रश्न 40.
किसने लेखक को बुलाकर कसकर डाँटा था?
(क) यशराज ने
(ख) अशोक दा ने
(ग) माँ ने
(घ) विधवा बहन ने
उत्तर :
(ख) अशोक दा ने।

प्रश्न 41.
भंबल दा की जवान बहन किस पर आश्रित थी?
(क) माँ, पर
(ख) अशोक दा पर
(ग) भंबल दा पर
(घ) किसी पर नहीं
उत्तर :
(ग) भंबल दा पर।

प्रश्न 42.
किसकी शादी से माँ पूरी तरह टूट गई थीं?
(क) अशोक दा की
(ख) बेटी की
(ग) भंबल दा की
(घ) लेखक की
उत्तर :
(क) अशोक दा की।

प्रश्न 43.
“माँ के लिए बेटा-बेटा ही होता है”‘ – गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) नन्हा संगीतकार
(ख) धावक
(ग) चपल
(घ) नमक
उत्तर :
(ख) धावक।

प्रश्न 44.
“अपने दिल के दरवाजे-खिड़कियाँ बंद कर फिर उन्हीं तनहाइयों में डूब जाती” – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) चप्पल
(ख) नन्हा संगीतकार
(ग) धावक
(घ) नमक
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 45.
“बात पानी में फेंके गए मुर्दे की तरह ही उतरा आयी” – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से लिया गया है ?
(क) धावक
(ख) चपल
(ग) नन्हा संगीतकार
(घ) नमक
उत्तर :
(क) धावक।

प्रश्न 46.
“तुम्हें दूसरे के काम में दखल नही देना चाहिए” – वक्ता कौन है ?
(क) अशोक दा
(ख) भवस दा
(ग) माँ
(घ) सफिया
उत्तर :
(ख) भंबल दा।

प्रश्न 47.
“क्यों क्या किया है मैने’ = वक्ता कौन है ?
(क) सकिया
(ख) भंबल दा
(ग) अशोक दा
(घ) जेनको
उच्चर :
(ग) अशोक दा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 48.
“मास्टरनी के सामने पड़ने से तो अब्ष घेरी रुह ही काँपती है” – वक्ता कौन है ?
(क) गाँ
(ख) भंबल दा
(ग) अशोक दा
(घ) लेखक
उत्षर :
(घ) लेखक।

प्रश्न 49.
‘डन्हें औरतों से विरक्ति हो गई” – ‘उन्हें से कौन संकेतित है?
(क) मास्टर साहब
(ख) कस्टम आंकिसर
(ग) भंबल दा
(घ) रंगख्या
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

प्रश्न 50.
भंबल दा का वेत्रन कितना था?
(क) दो सौ रुपये
(ख) ढाई सौ रुपये
(ग) तौन सौ रुपये
(घ) सढेतीन सौ रुपये
उत्तर :
(घ) साढे तीन सौ रुषये।

प्रश्न 51.
‘हमारा कलेजा घक-सा रह जाता है”‘- प्रस्तुत पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) चामल
(ख) नमक
(ग) नन्हा संगीतकार
(घ) धावक
उत्तर :
(घ) घावक।

प्रश्न 52.
“आज सुबह ही वे गुजर गए” – पंक्ति किस पाठ से उद्दृत है ?
(क) जावक
(ब) चमल
(ग) इनमें से कोई नहीं
(घ) नमक
उच्चर :
(क) धावक।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 53.
“कल रात ही उन्हें दूसरा दौरा पड़ा था” – उन्हें से कौन संकेतित है?
(क) रंगख्या
(ख) सिल्ध बीवी
(ग) भंबल दा
(घ) अशोक दा
उत्तर :
(ग) अंबल दा।

प्रश्न 54.
‘आज सुबह ही वे गुज्रा गए'” – ‘वे’ कौन हैं?
(क) रंगख्या
(ख) सक्रिया
(ग) अशोक दा
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा।

प्रश्न 55.
“लड़का लौट आता है”‘ = पंक्ति किस पाठ से ली गई है ?
(क) धावक
(ख) नमक
(ग) वणस
(घ) नन्हा सोगीतकार
उत्तर :
(क) हावक।

प्रश्न 56.
‘”मगर मुझे खुशी और संतोष है” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) धावक
(ख) नमक
(ग) चण्पल
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(क) धावक ।

प्रश्न 57.
‘एक छोटी-सी आयताकार जर्द-सी उठान’ – पंक्ति किस पाठ से उद्धत है?
(क) चप्पल
(ख) धावक
(ग) उसने कहा था
(घ) नमक
उत्तर :
(ख) धावक।

प्रश्न 58.
“माँ की मौत के समय विदेश में थे'” – यहाँ किसके बारे में कहा गया है?
(क) रंगय्या
(ख) सफिया
(ग) अशोक दा
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(ग) अशोक दा।

प्रश्न 59.
‘”मैं तुम्हारी तरह होता” – ‘मै’ कौन है?
(क) रमण
(ख) सफिया का भाई
(ग) अशोक दा
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा

प्रश्न 60.
“आठ साल ज्यादा जी लोगे यही न?” – वक्ता कौन हैं?
(क) अशोक दा
(ख) लेखक
(ग) भंबल दा
(घ) रंगय्या
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

प्रश्न 61.
“हो सके तो चखकर कभी देखना” – वक्ता कौन है ?
(क) सफिया
(ख) मास्टर साहब
(ग) लेखक
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा।

प्रश्न 62.
“रूहें पनाह माँगती फिरेंगी” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) नमक
(ख) उसने कहा था
(ग) चपल
(घ) धावक
उत्तर :
(घ) धावक।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 63.
“फिर गये कहाँ” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) नमक
(ख) चण्पल
(ग) धावक
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 64.
“पता नहीं कितना कुछ हो सकता था”‘ – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) धावक
(ख) उसने कहा था
(ग) नमक
(घ) चप्यल
उत्तर :
(क) धावक।

प्रश्न 65.
“इतना सोचने का भी वक्त नहीं था मेरे लिए?” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) नमक
(ख) धावक
(ग) चप्पल
(घ) नन्ही संगीतकार
उत्तर :
(ध) धावक।

प्रश्न 66.
“मुझे जो भुगतना पड़ा उसे बताना मुनासिब नहीं?” – प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से लिया गया है?
(क) धावक
(ख) नमक
(ग) चपल
(घ) नौबतखाने में इबादत
उत्तर :
(क) धावक।

प्रश्न 67.
“अभी भी माँ को बचाया जा सकता है”‘ – पंक्ति किस पाठ से उद्दुत है ?
(क) नमक
(ख) चपल
(ग) धावक
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 68.
“इस बात को वे भूल न पाते’ – ‘वे’ से कौन संकेतित है?
(क) भंबल दा
(ख) लेखक
(ग) अशोक दा
(घ) बिस्मिल्ला खाँ
उत्तर :
(ग) अशोक दा।

प्रश्न 69.
‘इस बात को वे भूल न पाते” – पंक्ति के रचनाकार कौन हैं?
(क) यतीद्र मिश्र
(ख) संजीव
(ग) प्रसाद
(घ) प्रेमघंद
उत्तर :
(घ) संजीव।

प्रश्न 70.
‘इसका अंजाम अच्छा होगा या बुरा” – पंक्ति किस पाठ से उद्धतत है?
(क) उसने कहा था
(ख) नौबतखाने में इबादत
(ग) धावक
(घ) चपल
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 71.
“गलत पुरस्कार मैं नहीं लेता दादा” – वक्ता कौन है?
(क) लेखक
(ख) रंगय्या
(ग) भंबल दा
(घ) अशोक दा
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

प्रश्न 72.
‘गलत पुरस्कार मैं नहीं लेता'” – पंक्ति के रचनाकार कौन हैं?
(क) संजीव
(ख) यतींद्र मिश्र
(ग) गुलेरी
(घ) रजिया सज्जाद जहीर
उत्तर :
(क) संजीव।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 73.
‘तुप्हारी पुरस्कार-लिप्सा तुप्हीं को मुबारक” – ‘तुम्हीं’ से कौन संकेतित है?
(क) लेखक
(ख) भंबल दा
(ग) अशोक दा
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ग) अशोक दा।

प्रश्न 74.
“इसे मेरी ओर से तुम रख लो” – वक्ता कौन है?
(क) लहना सिंह
(ख) जेन
(ग) सफिया
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा।

प्रश्न 75.
‘इसे मेरी ओर से तुम रख लो” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) चण्पल
(ख) नमक
(ग) धावक
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 76.
‘कोई बोलता नहीं कुछ’ – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) धावक
(ख) नमक
(ग) चप्पल
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(ग) धावक।

प्रश्न 77.
“मगर हम जैसों का क्या कसूर” -वक्ता कौन है?
(क) सफिया
(ख) लहना सिंह
(ग) रंग्या
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा।

प्रश्न 78.
“वह चुपचाप देखता आया है” = ‘वह’ कौन है?
(क) लेखक
(ख) रंगख्या
(ग) कामुक क्रूर वर्ग
(घ) कस्टम ऑफिसर
उत्तर :
(ग) कामुक क्रूर वर्ग।

प्रश्न 79.
”कुछ दिनों से एक नया रुचि-संस्कार जन्मा है'” – नया रुचि संस्कार क्या है?
(क) साँड़-युद्ध
(ख) ग्लैडियेटर्स-युद्ध
(ग) मुर्गे की लड़ाई
(घ) म्यूजिकल चेयर
उत्तर :
(घ) म्यूजिकल चेयर।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 80.
“हम बच-बचकर निकल रहे थे” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
(क) नमक
(ख) उसने कहा था
(ग) चफल
(घ) धावक
उत्तर :
(घ) धावक।

प्रश्न 81.
“तुम्हें तो शुक्रुजार होना चाहिए” – वक्ता कौन है?
(क) सफिया
(ख) सिख बीबी
(ग) भंबल दा
(घ) लेखक
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

प्रश्न 82.
“तुम्हें तो शुक्रगुजार होना चाहिए” – पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है ?
(क) धावक
(ख) चप्पल
(ग) नमक
(घ) उसने कहा था
उत्तर :
(क) घावक।

प्रश्न 83.
“जिसमें कुछ वर्षो पहले भाभी प्रथम आई थी” = भाभी कौन है ?
(क) सफिया की भाभी
(ख) सिख बीबी
(ग) अशोक दा की पत्नी
(घ) भंबल दा की माँ
उत्तर :
(ग) अशोक दा की पत्नी।

प्रश्न 84.
“शर्म काहे की” – वक्ता कौन है?
(क) सरदारनी
(ख) सफिया
(ग) सिख बीबी
(घ) अशोक दा
उत्तर :
(घ) अशोक दा।

प्रश्न 85.
“चाहे कुछ भी हो, कहीं भी पहुँच जाए” – वक्ता कौन है?
(क) लहना सिंह
(ख) कस्टम ऑफिसर
(ग) भंबल दा की माँ
(घ) लेखक
उत्तर :
(ग) भंबल दा की माँ।

प्रश्न 86.
‘बस एक ही चिंता थी” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) धूमकेतु
(ख) उसने कहा था
(ग) नमक
(घ) धावक
उत्तर :
(घ) धावक।

प्रश्न 87.
”खून हरहरा आया था'” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) उसने कहा था
(ख) नमक
(ग) चणल
(घ) धावक
उत्तर :
(घ) धावक।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 88.
‘मगर वह होती कैसे'” – पंक्ति किस पाठ से ली गई है?
(क) धावक
(ख) नमक
(ग) चणल
(घ) धूमकेतु
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

प्रश्न 89.
संजीव का जन्म हुआ था –
(क) 6 जुलाई 1947
(ख) 6 अगस्त 1950
(ग) 10 जुलाई 1958
(घ) 15 अगस्त 1957
उत्तर :
(क) 6 जुलाई 1947

प्रश्न 90.
संजीव विद्यार्थी थे –
(क) इतिहास के
(ख) साहित्य के
(ग) विज्ञान के
(घ) अंग्रेजी के
उत्तर :
(ग) विज्ञान के ।

प्रश्न 91.
संजीव ने किस रूप में कार्य किया –
(क) प्रोफेसर
(ख) डॉक्टर
(ग) वैज्ञानिक
(घ) रसायनज्ञ
उत्तर :
(घ) रसायनज्ञ।

प्रश्न 92.
संजीव किस प्रदेश में कार्यरत् थे ?
(क) उत्तर प्रदेश में
(ख) पश्चिम बंगाल में
(ग) उड़ीसा में
(घ) महाराष्ट्र में
उत्तर :
(ख) पश्चिम बंगाल में।

प्रश्न 93.
संजीव ने कितने उपन्यासों की रचना की ?
(क) चार
(ख) आठ
(ग) बारह
(घ) बीस
उत्तर :
(ख) आठ।

प्रश्न 94.
भंबल दा को लोग क्या कहते थे ?
(क) बड़े भइया
(ख) बमभोले भइया
(ग) मझले भइया
(घ) छोटे भइया
उत्तर :
(ख) बमभोले भइया।

प्रश्न 95.
“खब्ती आदमी” का अर्थ है –
(क) ईमानदारी
(ख) बेइमान
(ग) सनकी
(घ) चालाक
उत्तर :
(ग) सनकी।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 96.
लेखक ने सोचना छोड़कर क्या किया?
(क) खेल शुरू किया
(ख) घोड़ा दबा दिया
(ग) चिल्लाना शुरू किया
(घ) समझाना शुरु किया
उत्तर :
(ख) घोड़ा दबा दिया।

प्रश्न 97.
भंबल दा खेलों से –
(क) सन्यास ले लिए
(ख) बहिष्कृत किये गये
(ग) शामिल किये गये
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) बहिष्कृत किये गये।

प्रश्न 98.
टका-सा भोथरा जवाब किसने दिया ?
(क) लेखक ने
(ख) खेल अधिकारी ने
(ग) भंबल दा ने
(घ) अशोक दा ने
उत्तर :
(ख) खेल अधिकारी ने।

प्रश्न 99.
बिना सारे चक्र पूरा किये कौन नहीं बैठता था ?
(क) अशोक दा
(ख) भंबल दा
(ग) लेखक
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) भंबल दा।

प्रश्न 100.
भीड़ क्या कहकर चीख पड़ी ?
(क) बाहर निकालो
(ख) मारो-मारो
(ग) उसे बुलाओ
(घ) आगे बढ़ो
उत्तर :
(ख) मारो-मारो।

प्रश्न 101.
स्पोर्ट्समैन की आयु होती है ?
(क) चार वर्ष की
(ख) पाँच वर्ष की
(ग) तीन वर्ष की
(घ) दस वर्ष की
उत्तर :
(ख) पाँच वर्ष की।

प्रश्न 102.
भंबल दा के प्रति दर्शकों का समर्थन था –
(क) मामूली
(ख) जबर्दस्त
(ग) हल्का
(घ) एकदम नहीं
उत्तर :
(ख) जबर्दस्त।

प्रश्न 103.
भंबल दा को जिन्दगी चाहिए –
(क) शान की
(ख) सम्मान की
(ग) अपमान की
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर :
(ख) सम्मान की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 104.
भंबल दा अशोक से कितने छोटे थे ?
(क) दो वर्ष
(ख) चार वर्ष
(ग) दस वर्ष
(घ) आठ वर्ष
उत्तर :
(क) दो वर्ष।

प्रश्न 105.
‘आदमी को शान से जीना चाहिए’ -किस का कथन है?
(क) अशोक दा का
(ख) भंबल दा का
(ग) लेखक का
(घ) लोगों का
उत्तर :
(क) अशोक दा का।

प्रश्न 106.
‘भूमिका और अन्य कहानियाँ’ किसकी कृति है ?
(क) गुलेरी की
(ख) प्रेमचंद की
(ग) यतीन्द्र मिश्र की
(घ) संजीव की
उत्तर :
(घ) संजीव की।

प्रश्न 107.
भंबल दा ड्यूटी के बाद पार्ट टाइम क्या करते थे ?
(क) समाज सेवा
(ख) मुनीमी
(ग) खेती
(घ) व्यवसाय
उत्तर :
(ख) मुनीमी।

प्रश्न 108.
‘कोल्हू के बैल की तरहे किसे कहा गया है ?
(क) अशोक दा को
(ख) भंबल दा को
(ग) शांति दा को
(घ) किसी को नहीं
उत्तर :
(ख) भंबल दा को।

प्रश्न 109.
माँ के लिए बेटा होता है ?
(क) पराया ही
(ख) बेटा ही
(ग) अपना ही
(घ) कुछ नहीं
उत्तर :
(ख) बेटा ही।

प्रश्न 110.
किसको एक ही चिंता थी ?
(क) लेखक को
(ख) भंबल दा को
(ग) अशोक दा को
(घ) माँ को
उत्तर :
(क) लेखक को।

प्रश्न 111.
लेखक को एक ही चिंता क्या थी?
(क) भंबल को जिताने की
(ख) अशोक दा से मेल की
(ग) माँ को बचाने की
(घ) कुछ भी नही
उत्तर :
(ग) माँ को बचाने की।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 112.
भंबल दा को औरतों से क्या थी ?
(क) अनुरक्ति
(ख) विरक्ति
(ग) टकराव
(घ) इनमें से कुछ नहीं
उत्तर :
(ख) विरक्ति।

प्रश्न 113.
अशोक दा ने भंबल दा को क्या कहा ?
(क) पागल
(ख) जोकर
(ग) मूख
(घ) बेइमान
उत्तर :
(ख) जोकर।

प्रश्न 114.
“आप भंबल दा के भाई हैं” – किसका कथन है ?
(क) लेखक का
(ख) अधिकारी का
(ग) लड़के का
(घ) किसी का नहीं
उत्तर :
(ग) लड़के का।

प्रश्न  115.
भंबल दा का मकान था ?
(क) एक कमरे का
(ख) दो कमरे का
(ग) तीन कमरे का
(घ) चार कमरे का
उत्तर :
(ख) दो कमरे का।

प्रश्न 116.
भंबल दा का मकान था ?
(क) शहर के बीचों-बीच
(ख) स्टेशन के बगल में
(ग) धियेटर के सामने
(घ) नदी किनारे
उत्तर :
(ख) स्टेशन के बगल में।

प्रश्न 117.
“आदमी को शान से जीना चाहिए” – किसका कथन है ?
(क) अशोक दा
(ख) भंबल दा
(ग) लेखक
(घ) लोगों का
उत्तर :
(क) अशोक दा।

प्रश्न 118.
पिछली बार बाधा-दौड़ में कितने प्रतियोगी थे ?
(क) पाँच
(ख) चार
(ग) तीन
(घ) दो
उत्तर :
(ख) चार।

प्रश्न 119.
‘दुनिया की सबसे हसीन औरत’ (कहानी-संग्रह) किसकी रचना है ?
(क) संजीव की
(ख) यतीन्द्र मिश्र की
(ग) महादेवी वर्मा की
(घ) प्रेमचंद की
उत्तर :
(क) संजीव की

प्रश्न 120.
बिना सारे चक्र (चक्कर) पूरा किए कौन नहीं बैठता था
(क) अशोक
(ख) लेखक
(ग) भंबल दा
(घ) रामदास
उत्तर :
(ग) भंबल दा।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न 121.
“हम दोनों टग ऑफ वार’ के दोनों ओर आजमाइश करते रहे हैं” – यह किसका कथन है ?
(क) कधाकार संजीव का
(ख) भंबल दा का
(ग) अशोक दा का
(घ) सफ़िया का
उत्तर :
भंबल दा का।

प्रश्न 122.
“गलत पुरस्कार मैं नहीं लेता” – यह किसका कथन है ?
(क) भंबल दा
(ख) संजीव
(ग) रमण
(घ) रंगस्या
उत्तर :
(क) भंबल दा।

प्रश्न 123.
भंबल दा की बहन उनसे कितनी छोटी या बड़ी थी ?
(क) 2 वर्ष छोटी
(ख) 4 वर्ष बड़ी
(ग) 1 वर्ष छोटी
(घ) चार वर्ष बड़ी
उत्तर :
(क) 2 वर्ष छोटी।

प्रश्न 124.
भंबल दा को किससे विरक्ति हो गई थी ?
(क) चाची से
(ख) भाभी से
(ग) नानी से
(घ) मामी से
उत्तर :
(ख) भाभी से।

प्रश्न 125.
‘धावक’ कहानी का मुख्य पात्र कौन है ?
(क) संजीव
(ख) अशोक
(ग) कुणाल
(घ) भंबल दा
उत्तर :
(घ) भंबल दा।

प्रश्न 126.
भंबल दा थे —
(क) धावक
(ख) गायक
(ग) कलाकार
(घ) साहित्यकार
उत्तर :
(क) धावक।

वस्तुनिष्ठ सह व्याख्यामूलक प्रश्नोत्तर

1. “आदमी को शान से जीना चाहिए या तो इस दुनियाँ से कूच कर जाना चाहिए”

प्रश्न :
प्रस्तुत कथन का वक्ता कौन है?
उत्तर :
प्रस्तुत कथन का वक्ता भंबल दा के भाई अशोक दा हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
कथन की सप्रसंग व्याख्या कीजिए।
उत्तर :
भंबल दा काफी संघर्ष करके केवल अप्रेष्टिससिप पा सके थे। बड़े ऑफिसार थे और भंबल दा उनकी गरिमा के अनुकूल नहीं थे । यह बात अशोक दा को नागवार गुज़रती थी इसलिए वे अक्सर कहा करते थे कि आदमी को शान से जीना चाहिए या तो इस दुनिया से कूच कर जाना चाहिए।

2. ‘इसे मेरी ओर से तुम्हीं रख लो।’

प्रश्न :
प्रस्तुत अंश किस पाठ से उद्युत है ?
उत्तर :
प्रस्तुत अंश ‘धावक’ पाठ से उद्तृत है ।

प्रश्न :
वक्ता का नाम लिखते हुए प्रस्तुत अंश का स्रसंग आशय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
पच्चीसवीं वर्ष गांठ पर भंबल दा को सर्वश्रेष्ठ धावक का नहीं बल्कि उनको सर्वश्रेष्ठ विदूषक का पुरस्कार दिया जा रहा था। इतना ही नहीं, पुरस्कार देते समय अशोक दा ने व्यंग्य किया – “अपनी करनी का पुरस्कार ले जाओ – शर्म काहे की ? खानदान में एक जोकर तो निकला।” इस अपमान को न सह पाने के कारण भंबल दा ने अशोक दा से कहा कि इसे मेरी ओर से तुम्हीं रख लो।

3. बमभोले भैया कहाँ हैं ?
अथवा
4. सचमुच भंबल दा या बमभोले भैया का कहीं अता-पता नहीं था।
अथवा
5. फिर गये कहाँ?
अथवा
6. अजीब खब्ती आदमी है।
अथवा
7. सूची में तो उनका नाम था।
अथवा

8. आज उन्हीं की कमी यूँ अखर रही थी मानो सारा मैदान सूना है।

प्रश्न :
रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
भंबल दा का कहाँ अता-पता नहीं था?
उत्तर :
स्पोट्स मैदान में भंबल का कहीं अता-पता नहीं था।

प्रश्न :
‘अजीब खब्ती आदमी’ किसे कहा गया है?
उत्तर :
भंबल दा को अजीब खब्ती आदमी कहा गया है।

प्रश्न :
किस सूची में किसका नाम था?
उत्तर :
धावकों की सूची में भंबल दा का नाम था।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पप्ट करें।
उत्तर :
भबल दा को उनके भोलेपन के कारण लोग बमभोले भैया भी कहा करते थे। एक बार लेखक स्पोट्स के मैदान में एक मील की दौड़ को शुरू करने वाले थे। सारे घाबक मैदान में आ चुके थे। स्टेडियम में लाउडसीकर से धावकों के नाम पुकारे जा रहे थे, दौड़ से संबंधित सारे निर्देश दुहराये जा रहे थे, लेकिन भंबल दा का कोई अता-पता नहीं था। उनके बगैर मैदान सूना लग रहा था क्योंकि वे लोगों के हीरो थे।

लेखक भी परेशान था क्योंकि धावकों की सूची में उनका नाम तो था लेकिन अभी तक वे मैदान में नजर नहीं आ रहे थे। लेखक घुंझलाहट में उन्हें खब्ती आदमी तक कह डालते हैं। कारण यह है कि उनका कोई ठिकाना नहीं। हो सकता है कि निकले हों स्पोर्स के मैदान के लिए और कहीं समाज-सेवा के काम में लग गए हों। भंबल दा के इस रवैये पर कबीर की यह उक्ति बिल्कुल सटीक बैठती है – “आए थे हरि भजन को ओटन लगे कपास।”

9. धीरे-धीरे अधिकांश खेलों से बहिष्कृत होते गए भंबल दा।
अथवा
10. जब भी ऐसा होता मायूसी में उनका चेहरा और भी सूज आता।
अथवा
11. खेल का एक न्यूनतम मानक होता है।
अथवा
12. क्या सभी खिलाड़ियों-धावकों को समान सुविधा देने का कोई कानून नहीं है।
अथवा
13. साहबों के एक बर्बर मनोरंजन से अधिक इस स्पोट्स का कोई महत्व है?

प्रश्न :
रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचनाकार संजीव हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
हरेक खेल के अपने कुछ नियम होते हैं जो उम्म, वजन आदि से जुड़े होते हैं। इन नियमों के अनुसार ही खिलाड़ियों का चयन किया जाता है। उम्र बढ़ते जाने के कारण भंबल दा धीरे-धीरे कई खेलों से बाहर होते जा रहे थे। लेकिन उनका भोला खिलाड़ी मन इन नियमों को मानने से इन्कार कर देता था। उनका यह कहना था कि खिलाड़ीखिलाड़ी में कोई किसी आधार पर कोई भेद-भाव नहीं किया जाना चाहिए। अगर ऐसा किया जाता है तो यह केवल साहबों के एक बर्बर मनोरंजन से अधिक कुछ नहीं है।

14. लोग उन्हें ललकार रहे होते।
अथवा
15. चलिए, चलिए जान।
अथवा
16. बढ़े चलिए, बढ़े चलिए।
अथवा
17. कभी-कभी तो हमें भी उनकी वास्तविक स्थिति का भ्रम हो जाता।
अथवा
18. दूसरे भले ही बेईमानी कर बैठें, भंबल दा नहीं कर सकते।
अथवा
19. बिना सारे चक्र पूरे किए वे बैठते कैसे?
अथवा
20. यह स्पोट्समैन के रुतबे के खिलाफ हो जाता न!

प्रश्न :
रचना एवं रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा इसके रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
‘स्पोद्सम्समेन’ किसे कहा गया है?
उत्तर :
भंबल दा को स्योट्समैन कहा गया है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
पंक्ति का भाव स्पष्ट करें।
उत्तर :
हालाँकि भंबल दा अपनी सुस्त चाल से सभी खेलों में अंतिम स्थान पर ही आते थे फिर भी वे लोगों के आकर्षण के केंद्र थे। उनकी कहुआ चाल के बावजूद दर्शंक चिल्ला-चिल्ला उनका हौसला बढ़ाते रहते थे। जब दौड़ समाप्त हो चुकी होती, प्रथम, द्वितीय एवं तीसरे स्थान पर आने वाले के नामों की घोषणा हो रही होती – फिर भी भंबल द अपना चक्र पूरा करने मे लगे रहते थे। दौड़ को पूरा किए ही बीच में छोड़ देना उनके स्पोर्टमैन के रुतबे के खिलाफ था। फिर भी भंबल दा में एक बड़ी खूबी थी कि उन्होंने बेईमानी कर कभी कोई स्थान पाने की कोशिश नहीं की।

21. घंटी छोड़कर उसका सब कुछ बजता है।

प्रश्न :
रचना एवं रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा इसके रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
प्रस्तुत कथन का अभिप्राय स्पष्ट कीजिए।
उत्तर :
भंबल दा साइकिल रेस में भाग लेने से नहीं चूकते थे। साइकिल रेस के लिए खिलाड़ी अच्छी-अच्छी तथा कम वजन की साइकिलें लेकर आते थे। लेकिन भंबल दा इस अवसर पर भी अपनी खटारा साइकिल ही लेकर आते थे जिसके बारे में लोगों के बीच में यह प्रसिद्ध था कि उनकी साइकिल का घंटी छोड़कर सबकुछु बजता है। साइकिल रेस के लिए किसी से साइकिल उधार लेना उनके स्वाभिमान के खिलाफ था।

22. कभी अन्य धावकों की तरह रियाज करते नहीं देखा।
अथवा
23. पति-पत्नी दोनों ही ‘योगा’ करते।
अथवा
24. भला किसान-मजदूर को कसरत की क्या जरूरत?

प्रश्न :
रचना एवं रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
पति-पत्नी से कौन संकेतिक है?
उत्तर :
अशोक दा और उनकी पत्नी संकेतित हैं।

प्रश्न :
कौन अपने को किसान-मजदूर कह रहा है?
उत्तर :
भंबल दा अपने को किसान-मजदूर कह रहे हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
पंक्ति का अभिप्राय स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा खिलाड़ी थे फिर भी वे अन्य खिलाडियों की तरह कोई अभ्यास नहीं करते थे। उनका कहना था कि श्रम करके जीने वाले किसी किसान-मजदूर को कसरत या अभ्यास करने की कोई जरूरत नहीं है। इसके विपरीत उनके भाई अशोक दा का खेल से कोई लेना-देना नहीं था, फिर भी दोनों पति-पत्नी अपने-आपको चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए योगा किया करते थे।

25. हम उन्हें चाहकर भी बैठा न पाते।

प्रश्न :
प्रस्तुत गद्यांश किस पाठ से उद्धत है?
उत्तर :
प्रस्तु गद्यांश ‘धावक’ पाठ से उद्धृत है।

प्रश्न :
पंक्ति का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
खेलों में अपनी सुस्त-चाल तथा ट्रैक जाम रखने के कारण भंबल दा को कई बार लोगों के व्यंग्यवाण तथा अफसरों की घुड़कियों को भी सहना पड़ता था। इसके बावजूद उन्होंने न तो कभी खेल के नियमों का उल्लंघन किया, न किसी का विरोध किया और सबसे बड़ी बात यह कि खेलों में भाग लेना भी नहीं छोड़ा। भंबल दा को दर्शकों का इतना जबर्दस्त समर्थन प्राप्त था कि खेल के अधिकारी उन्हें चाहकर भी कभी खेल से बिठाना तो दूर, उसके बारे में सोच भी नहीं पाए।

26. यूँ भंबल दा उसकी मुखरता की तुलना में मौन थे।
अथवा
27. आप माँ की कसम खा लीजिए।
अथवा
28. मैं अपना दावा छोड़ देता हूँ।
अथवा
29. तुम्हारी माँ नहीं है शायद।
अथवा
30. इस तुच्छ पुरस्कार के लिए माँ को दाँव पर नहीं लगाते मेरे भाई।
अथवा
31. तुम्हें शायद मालूम नहीं।
अथवा
32. भंबल ऐसे पुरस्कारों के लिए नहीं दौड़ता।
अथवा
33. मुझे तो सिर्फ अपने को तौलना था।
अथवा
34. और वह मैं कर चुका…..।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
वक्ता के कथन का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
एक बार भंबल दा बाधा दौड़ में दूसरे स्थान पर आए लेकिन दूसरे प्रतियोगी ने उन्हें गलत बताया था। कहा कि वह दूसरे स्थान पर आया है। इतना ही नहीं, उसने कहा कि अगर भंबल दा माँ की कसम खाकर बोलें कि वे दूसरे स्थान पर आए हैं तो वे मान लेंगे। माँ की कसम की बात सुनते ही भंबल दा भावुक हो आए। उन्होने कहा कि शायद तुम्हारी माँ नहीं है वरना इस तुच्छ पुरस्कार के लिए तुम माँ को दाँव पर नही लगाते। इस तुच्छ पुरस्कार का मूल्य माँ से बढ़कर नहीं हो सकता।

35. आज दोनों की उपलब्धियों में वर्षों का नहीं, युगों का फासला था।

प्रश्न :
रचना एवं रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा इसके रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
‘दोनों’ से कौन संकेतित है ?
उत्तर :
दोनों से भंबल दा तथा अशोक दा संकेतित हैं।

प्रश्न :
पंक्ति का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा तथा अशोक दा सगे भाई थे। लेकिन दोनों की उपलब्धियों में काफी अंतर था। अशोक दा सहीगलत तरीके को अपना कर चीफ पर्सनल आंफिसर के पद तक पहुँच गए थे। जीवन की सारी सुख-सुविधाओं के साथसाथ रुतबा भी था। इसके विपरीत भंबल दा के जीवन की उपलब्धि केवल किरानी के पद तक सिमट कर रह गयी थी। पारिवारिक बोझ्न का वहन करने में ही वे जिंदगी की दौड़ में पीछे रह गए।

36. फिर तो देश-देशान्तर घूमने का एक क्रम ही चल पड़ा।

प्रश्न :
रचना एवं रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना का नाम ‘धावक’ है तथा रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
अशोक दा की शादी बड़े साहब की बेटी से हुई थी। स्कॉलरशिप पाने के कारण वे बड़े साहब को पसंद आ गए थे। शादी होते ही वे बड़े साहब के बंगले में रहने को आ गए थे। फिर बड़े साहब के पैसों से ही उन्होंने देश-विदेश की कई यात्रा भी कर डाली।

37. खैर उस बार फेल नहीं हुए।

प्रश्न :
प्रस्तुत पंक्ति किस पाठ से उद्धुत है?
उत्तर :
प्रस्तुत पंक्ति ‘धावक’ पाठ से उद्दुत है।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
पंक्ति का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा मैट्रिक की परीक्षा में चार बार फेल हो चुके थे, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। उन्होंने पाँचवीं बार परीक्षा दी और पास हो गए। अगर पाँचवीं बार भी वे पास नहीं हो पाते तो शायद फिर कभी पास नहीं कर पाते क्योंकि बढ़ते घर-खर्च के कारण वे अपनी पढ़ाई जारी नहीं रख पाते।

38. आदमी को शान से जीना चाहिए या तो इस दुनिया से कूच कर जाना चाहिए।
अथवा
39. मेरा भाई मेरी गरिमा के अनुकूल होकर आता है तो उसका स्वागत है।
अथवा
40. उसे यहाँ आने की जरूरत ही क्या है?
अथवा
41. उसे लेकर किसी दूसरे शहर चला जाय।
अथवा
42. उन्हें भी ढाई सौ भेज दिया करूँगा।

प्रश्न :
वक्ता कौन है?
उत्तर :
वक्ता भंबल दा के भाई अशोक दा हैं।

प्रश्न :
वक्ता के कथन का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा तथा अशोक दा के पद, प्रतिष्ठा तथा हैसियत में जमीन-आसमान का अंतर था। वे चाहते थे कि उनका भाई भी ऊँचाइयों को छुए क्योंकि भंबल दा को इस फटेहाल में अपना भाई स्वीकार करने में उन्हें लज्जा आती थी। वे साफ-साफ शब्दों में कहते थे कि अगर जिंदगी शानदार न हो तो उससे अच्छा मर जाना है।

मेरा भाई भी अगर मेरी तरह की हैसियत लेकर मेरे पास आए तो मैं उसका स्वागत करूँगा। इस फटेहाली में उसे मेरे पास आने की जरूरत नहीं है। वह माँ को मेरे पास छोड़कर या उसे लेकर दूसरे शहर चला जाय। उसके खाना-खर्ची के लिए मैं उसे ढाई सौ रुपये हरेक महीने भेज दिया करूँगा।

43. भंबल दा को शान की नहीं, सम्मान की जिंदगी चाहिए थी।
अथवा
44. उनके अनुसार शान में दूसरे से अपने को ऊँचा दिखाने की कूरता और खुदगर्जी होती है।
अथवा
45. सम्मान उनके लिए परस्पर सौहार्द और समता का द्योतक था।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
भंबल दा कैसा जीवन जीना चाहते थे?
उत्तर :
भंबल दा सीधे-सरल व्यक्ति थे। वे चाहते थे कि वे शान की नहीं, सम्मान की जिंदगी जिएँ। जो शान की जिंदगी जीते हैं उनमें स्वार्थ की भावना होती है। दूसरों से अपने को ऊँचा दिखाने के लिए वे सही-गलत की परवाह भी नहीं करते हैं। जबकि सम्मान का जीवन इससे बिल्कुल अलग होता है। सम्मान में आपसी प्रेम तथा समानता की भावना होती है – उसमें खुदगर्जी नहीं होती है।

46. बंगाली हो या गैर-बंगाली, हिन्दू या दूसरे मजहबों को मानने वाला भंबल दा या बमभोले भैया सबकी खुशी-गमी में शरीक।
अथवा
47. किसी को अस्पताल पहुँचाना है, तो एंबुलेंस बनकर उनके कंधे हाजिर।
अथवा
48. कब्रिस्तान में जा रही मौन भीड़ में कंधे झुकाए चले जा रहे हैं।
अथवा
49. शादी का सामान जुगाड़ करना है तो कंधे सामान के लिए हाजिर।
अथवा
50. घूम-फिर कर सुस्त कोल्नू के बैल की तरह वहीं रह गए।

प्रश्न :
प्रस्तुत कथन किसके बारे में है?
उत्तर :
प्रस्तुत कथन ‘धावक’ कहानी के भंबल दा के बारे में है

प्रश्न :
संदर्भित व्यक्ति की विशेषताओं को लिखें।
उत्तर :
भंबल दा में मानवता तथा भाइचारे की भावना कूट-कूट कर भरी थी। वे जाति, धर्म या भाषा के आधार पर किसी के साथ भेद्भाव नहीं करते थे। वे सबकी खुशी, सबके गम में शामिल होते थे। किसी को अस्पताल पहुँचाना हो तो एंबुलेंस का इतजार न कर अपने कंधे हाजिर कर देते थे।

किसी मुसलमान भाई की मौत पर उन्हें कंधे झुकाए जनाजे मे शामिल देखा जा सकता था। अगर किसी के घर में शादी हो तो सामानों की व्यवस्था का जिम्मा स्वयं ले लेते थे मानो उनके अपने सगे की शादी हो। उनका जीवन ऐसा था कि वे सबके लिए थे और सब उनके लिए थे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

51. माँ के लिए बेटा-बेटा ही होता है।
अथवा
52. यह चीज बुरी तरह सालती कि उनका एक बेटा उनकी छाया तक से बचता चलता है।
अथवा
53. चाहे कुछ भी हो, कहीं भी पहुँच जाए, कहायेगा तो मेरा बेटा और तेरा भाई ही न!
अथवा
54. थ्रोड़ी देर बाद उनकी नाक ही माँ की बातों का उत्तर देने के लिए बची रहती।
अथवा
55. अपने दिल के दरवाजे-खिड़कियाँ बंद कर फिर उन्हीं तनहाइयों में डूब जातीं।

प्रश्न :
रचना तथा रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
प्रस्तुत गद्यांश का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
शादी के बाद अशोक दा ने परिवार की परवाह करना विल्कुल छोड़ दी थी। यहाँ तक कि वे माँ का भी ख्याल नहीं रखते थे। माँ को भी यह दर्द हमेशा टीसता रहता था कि उनका ही एक बेटा उनकी छाया से भी दूर भागता फिरता है। फिर भी उन्होंने कभी भी अशोक दा की निंदा नहीं की। उल्टे अपने मन तथा भंबल दा को दिलासा देने के लिए वह उसकी तारीफ ही करती थी।

चाहे कुछ भी हो वह तो उनका बेटा ही है और भंबल के लिए उसका बड़ा भाई। भंबल दा भी वास्तविकता जानते थे इसलिए वे माँ की हाँ में हाँ मिलाते हुए सो जाते। माँ की बातों का उत्तर केवल उनकी वजती नाक ही देती थी। भंबल दा को सोया जानकर माँ फिर अपने अकेलेपन में डूब जाती थी।

56. इसका अंजाम अच्छा होगा या बुरा, इतना सोचने का भी वक्त नहीं था मेरे लिए।
अथवा
57. बात पानी में फेंके गए मुरदे की तरह उतरा आई।
अथवा
58. तुम्हें दूसरे के काम में दखल नहीं देना चाहिए।
अथवा
59. क्यो क्या किया है मैने?
अथवा
60. मुझे जो भुगतना पड़ा। उसे बताना मुनासिब नहीं।
अथवा
61. मैने उनके मामले में रुचि लेना छोड़ देने में ही अपनी भलाई समझी।

प्रश्न :
रचना तथा रचनाकार का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना ‘धावक’ है तथा रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
प्रस्तुत पंक्ति का अशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
लेखक ने सोचा कि किसी तरह भंबल दा का प्रमोशन कराकर ऑफिस सुपरिटेंडेंट बना दिया जाय। चाहे इसके लिए अच्छा या बुरा जो भी क्षेलना पड़े। लेकिन यह छिपी नहीं रह गई और उसी तरह उजागर हो गई जैसे मुर्दा पानी में उतरा जाता है। भबल ने इसके बारे में अशोक दा को फटकारते हुए कहा कि जैसे वे दूसरों के काम में दखल नहीं देते उसी प्रकार उन्हें भी नहीं देना चाहिए। इन सबके कारण लेखक को काफी कुछ भुगतना पड़ा वयोंकि यह सोच उन्हीं की थी। इतना सब कुछ भुगत लेने के बाद लेखक ने मन ही मन यह तय कर लिया कि अब वे कभी भंबल दा के किसी मामले में टांग नहीं अड़ाएँगे।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

60. मुझे आशा की नयी किरण दिखने लगी।
अथवा
61. उप्र उस दौर में पहुँच रही थी जहाँ वांछित लड़कियाँ नहीं मिल सकती थीं।
अथवा
62. हमने बूँढ़-ढाँढ़ कर एक मास्टरनी को राजी कर ही लिया।
अथवा
63. मास्टरनी के सामने पड़ने से अब मेरी तो रुह की काँपती है।

प्रश्न :
वक्ता कौन है ?
उत्तर :
वक्ता लेखक हैं।

प्रश्न :
वक्ता के कथन का अभिप्राय स्पष्ट करें।
उत्तर :
एक बार भंबल दा की भाँ ने लेखक को बुलाकर उनकी शादी के बारे में कोशिश करने को कहा। लेखक को लगा कि यदि ऐसा हो पाया तो भंबल दा की जिंदगी दरे पर आ जाएगी। लेकिन ऐसा होना आसान नहीं था क्योंकि भंबल उम की उस सीमा को छू रहे थे जहाँ मनचाही लड़की नहीं मिल सकती थी।

आखिरकार लेखक ने शादी के लिए एक मास्टरनी को राजी कर ही लिया। लेकिन किसी कारणवश यह शादी भी नहीं हो पाई। इसका खामियाजा भी लेखक को भुगतना पड़ा तथा वे उस मास्टरनी को अपना मुँह दिखाने के लायक भी नहीं रह गए। वे उसका सामना करने से कतराने लगे।

64. हमें तो लगा उनकी जवानी आयी ही नहीं और वे बुढ़ा भी गये।
अथवा
65. वे वहीं के वहीं ठहरे पड़े रहे।
अथवा
66. वक्त उनके कदमों के तले-तले तेजी से सरकता गया।
अथवा

67. उनका किशोर मन पच्चीस सालों से लगातार दौड़ता ही रहा।
प्रश्न :
प्रस्तुत पंक्ति किसके बारे में कही गई है?
उत्तर :
प्रस्तुत पंक्ति भंबल दा के बारे में कही गई है।

प्रश्न :
कथन का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा के जौवन के वर्ष इतनी तेजी से सरकते गए कि लगा किशोरावस्था के बाद सीधे बुढ़ापा ही आ गया। वे अपनी जगह पर ही बने रहे और समय कब उनके कदमों से नीचे सरक गया- यह पता ही न चला। कहने का भाव यह है कि बड़े भाई की उपेक्षा, घर-परिवार की जिम्मेवारियों के बोझ के नीचे उनका जीवन इस तरह गुजर गया कि जवानी के आने-जाने का पता ही न चला।

66. यदि मैं दो साल पहले पैदा हुआ होता तो चीफ पर्सनल पैदा हुआ होता।
अथवा
69. दो साल बाद पैदा होता तो विधवा।

प्रश्न :
वक्ता का नाम लिखें।
उत्तर :
वक्ता ‘धावक’ कहानी के नायक भंबल दा हैं।

प्रश्न :
वक्ता के कथन का उद्देश्य लिखें।
उत्तर :
भंबल दा नियतिवादी थे। वे भाग्य में लिखे पर विश्षास करते थे। इसलिए प्रथम आने वाले धावक के यह कहने पर कि यदि वे उसके ट्रैक पर रहते तो प्रथम आ जाते । इसी के जवाब में उन्होंने कहा कि किस्मत से ज्यादा कुछ मिलने वाला नहीं है। यदि वे दो साल पहले जन्म लेते तो भाई की जगह पर्सनल ऑंकिसर होते और अगर दो वर्ष बाद पैदा होते तो अपनी बहन की तरह विधवा। उनका जन्म ही गलत समय में हुआ अन्यथा उन्हें यह सब क्यों भोगना पड़ता।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

70. क्यों न रजत-जयंती मना भी ली जाये आपकी?

प्रश्न :
वक्ता कौन है ?
उत्तर :
वक्ता लेखक हैं।

प्रश्न :
किसकी रजत जयंती मनाने की बात कही जा रही है?
उत्तर :
भंबल दा की रजत जयंती मनाने की बात कही जा रही है।

प्रश्न :
पंक्ति का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
पच्चीस वर्षो तक लगातार खेलों में हिस्सा लेने के कारण एक बार लेखक ने कहा कि क्यों न पच्चीस वर्ष बीत जाने के उपलक्ष में आपकी रजत जयंती मना ली जाय। अब जाकर भंबल दा को पच्चीस वर्ष बीत जाने का अहसास हुआ। जब उन्होंने आइने में अपना चेहरा देखा तो चेहरों की झाइयाँ तथा अधपके बाल उनके उम्र की चुगली कर रहे थे।

71. मानो सबकुछ एकाएक उसी दिन हो गया था।

प्रश्न :
रचना का नाम लिखें।
उत्तर :
रचना का नाम ‘धावक’ है।

प्रश्न :
पंक्ति का आशय स्पष्ट करें।
उत्तर :
लेखक के यह याद दिलाने पर कि भंबल का खिलाड़ी-जीवन पच्चीस वर्षों का हो गया है- उन्हे अपनी उम्म के बीत जाने का अहसास हुआ। आइने में चेहरा देखने पर उन्हें लगा कि आज अचाजक ही चेहरों पर झाइयाँ आ गई हैं, बाल पकने शुरू हो गए हैं। आज तक उन्होंने इस ओर कभी ध्यान न दिया था कि इतनी उम बीत चुकी है और उसका असर चेहरे पर दिखाई पड़ने लगा है।

72. भंबल दा अचकचाकर बढ़े मंच की ओर।

प्रश्न :
रचनाकार कौन हैं ?
उत्तर :
रचनाकार संजीव हैं।

प्रश्न :
भंबल दा अचकचाकर मंच की ओर क्यों बढ़े?
उत्तर :
एक बार भंबल दा का नाम पुरस्कार के लिए घोषित किया गया तो अचानक उन्हें विश्धास नहीं हुआ। आज तक ऐसा नहीं हुआ था। अपना नाम सुनते ही वे अचकचाकर मंच की ओर बढ़े क्योंक घोषणा में केवल उनका नाम ही पुरस्कार के लिए पुकारा गया था। यह पुरस्कार किसके लिए दिया जा रहा है इसकी घोषणा नहीं की गयी थी।

73. अपनी करनी का पुरस्कार ले जाओ।
अथवा
72. शर्म काहे की?
अथवा
75. खानदान में एक जोकर तो निकला।

प्रश्न :
वक्ता तथा श्रोता का नाम लिखें।
उत्तर :
वक्ता अशोक दा तथा श्रोता भंबल दा हैं।

WBBSE Class 10 Hindi Solutions कहानी Chapter 5 धावक

प्रश्न :
पंक्ति का भाव स्पष्ट करें।
उत्तर :
भंबल दा कभी किसी प्रतियोगिता में पुरस्कार नहीं पा सके। खेल के आयोजकों ने उन्हें विशेष पुरस्कार देने के बारे में सोचा क्योंकि उन्होंने कम से कम लोगों का मनोरंजन तो किया था। पुरस्कार देने का भार भंबल दा के बड़े भाई अशोक दा को सौंपा। जब भंबल दा ने पुरस्कार लेने से इनकार किया तो अशोक दा का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने भंबल दा पर व्यंग्य करते हुए कहा- ‘ अपनी करनी का पुरस्कार ले जाओ-शर्म काहे की? खानदान में एक जोकर तो निकला।”

76. गलत पुरस्कार मैं नहीं लेता दादा !
अथवा
77. तुम्हारी पुरस्कार-लिप्सा तुम्हीं को मुबारक!
अथवा
78. इसे मेरी ओर से तुम रख लो, खानदान का नाम रोशन करने के लिए।
अथवा

79. सारी कड़वाहट मवाद की तकरह शिष्ट लहजे में बह निकली थी।

प्रश्न :
वक्ता कौन है ?
उत्तर :
वक्ता भब